बुधवार, 26 सितंबर 2012

कुंवर प्रीतम की कविता : सपना एक सुनहरा देखो

image

सपना एक सुनहरा देखो
जिसमें सब कुछ अपना देखो
खुद ही खुद के ख्वाब में आओ
ऐसा प्यारा सपना देखो
ख्वाब पराए जब देखोगे
नींद कोई ले जाएगा
जब्त करेगा दिल तेरा औ
दर्द तुम्हें दे जाएगा

तुम झांसे में पढ़ जाओगे
प्रेम-पथिक बन बढ़ जाओगे
मेरा अनुभव बोल रहा है
जख्मी होकर रह जाओगे
रात गिनोगे तारे सारे
तारे सभी लगेंगे प्यारे
लेकिन जब तारा टूटेगा
कौन तुम्हारा दुख पूछेगा
विरह -अग्नि में जलना प्यारे
बहुत कठिन है, बहुत कठिन है
टूट चुके तारों का जुड़ना
नामुमकिन है, नामुमकिन है
प्रेम-पथिक कल रात ख्वाब में
एक नयी लय, ताल बनाना
खुद से करना प्रेम बारहा
खुद ही गाना, खुद को सुनाना
हौले-हौले रात चांदनी
प्रेम सुधा रस बरसाएगी
खुद से खुद जब प्रेम करोगे
दुनिया अपनी हो जाएगी


- कुंवर प्रीतम

(चित्र - मोहन सिंह श्याम की कलाकृति)

1 blogger-facebook:

  1. जटिल रचनाअों के जंगल में सरल सुंदर रचना - फिर भी प्रभावशाली ढंग से पाठक तक आपकी बात पहुँचाती है.
    आपकी बात अपनी जगह, पर एक बात तो है. अपने पर गुमान न हो, पर किसी और से प्यार होने से पहले, खुद से प्यार होना ज़रूरी है.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------