गुरुवार, 27 दिसंबर 2012

राजीव आनंद की कविताएँ


image

रात भारी थी


हमने एक रात तेरे दर पे गुजारी थी
तमाम हयात-ए-रात पे वो रात भारी थी
याद आती है आज भी वो रातें
जो हमने तुम्‍हारी यादों में गुजारी थी
आज भी दिल-ए-अजीज है वो नुक्‍कड़ की दुकान
सिगरेट लेने जहां मैं आता था चीनी लेने तुम आ जाती थी
दूर तक भागा था सितार को घर पर देख कर
धक्‍का सा लगा था जब तुम सितार लौटा गयी थी
तुम्‍हारी वो आदत आज भी याद बहुत आती है
वादा कर नहीं आना क्‍या खूब तुमने प्रीत निभायी थी
वो रूमाल आज भी सहेज कर रखा है
जिसे मेरे कमरे में तुम एक बार छोड़ आयी थी
याद आती है आंसुओं से डबडबायी तुम्‍हारी आंखें
छलक-छलक के मुझे भिगाती चली गयी थी


मैं, मैं हूँ या तू


कोई प्‍यार ऐसा भी कौन करेगा ?
मुझमें आज तक तुम नजर आती हो !
जब मैं रोता हॅूं, मेरी आंखों में
तुम्‍हारे आंसू नजर आती है !
कभी तुम्‍हें याद कर गर हंस देता हूँ
गालों पर तुम्‍हारी तरह गडढे नजर आती है !
उजाड़ चांदनी रातों में तन्‍हा जब भटकता हॅूं
मेरी परछाई में तुम्‍हारी अक्स नजर आती है !
गुलमोहर के फूल जब हाथ पर उठाता हॅूं
आपने हाथ के शक्‍ल में तुम्‍हारे हाथ को पाता हूँ !
मैं, मैं हॅूं या तू मुझमें घर कर गयी
तुझसे एकाकार का खुद में एक मिसाल सा पाता हॅूं !
 

राजीव आनंद
प्रोफेसर कॉलोनी, न्‍यू बरगंड़ा
गिरिडीह, झारखंड़ 815301
मो. 9471765417                

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.