बुधवार, 13 फ़रवरी 2013

आशीष त्रिवेदी की लघुकथा - कैसे कैसे रंग

कैसे कैसे रंग

दरवाज़ा खोला तो सामने जो शख्स खड़ा था कुछ पहचाना सा लगा। याद करने का प्रयास कर ही रहा था की वही बोल पड़ा " क्या हुआ पहचाना नहीं मैं विशाल।" पहचान में नहीं आ रहा था। सूखे हुए पपड़ाये होंठ , बिखरे बाल। पहले से कुछ दुबला हो गया था। " ओह  तुम " भीतर आओ कहकर मैं एक ओर हट गया। तकरीबन 7 साल के बाद हम मिल रहे थे। पहले तो क्या रौनक थी चेहरे पर।  क्या हो गया इसे।

वो आकर सोफे पर बैठ गया। " घर में और कोई नहीं है क्या।" उसने पूछा। "हाँ पत्नी बच्चों के साथ अपने मायके गई है।" "तुम बताओ यह क्या हाल बना रखा है तुमने।" मैंने पूछा।

"बताऊँगा सब बताऊँगा पहले यदि कुछ खाने को हो तो ले आओ। सुबह से कुछ नहीं खाया।"

मैंने ब्रेड और जैम लाकर उसके सामने रख दिया। "आज कल तो बस यही है।"

वह ब्रेड  पर जैम लगा कर खाने लगा. उसे खाते देख कर लगा जैसे वह कई दिनों का भूखा हो। मेरे मन में उसके प्रति करुणा जाग गई।

विशाल मेरे बचपन का साथी था। बचपन में हमने कई शरारतें कीं। साथ साथ स्कूल गए फिर कॉलेज में भी साथ पढ़े। कॉलेज ख़त्म कर मैं एमबीए करने चला गया। उसने वहीँ रह कर बिजनेस शुरू कर दिया। जब पिछली दफ़ा मिला था तो बेहद खुश था। व्यापार अच्छा चल रहा था। शादी भी कर ली थी। फिर जाने क्या हुआ।

जब वह खा चुका  तो मैंने अपना सवाल दोहराया। एक ठंडी साँस लेकर वह बोला " जब मुसीबत आती है तो चारों तरफ से घेर लेती है। अच्छे खासे कारोबार को न जाने किस की नज़र लग गयी। अचानक घाटा होने लगा। उसी समय पत्नी को भी कैंसर हो गया। उसके इलाज ने कमर तोड़ दी। कारोबार बंद हो गया। पत्नी भी चल बसी। मैं तो पूरी तरह से टूट गया।" यह कह कर वह रोने लगा। मैंने उसे सांत्वना देने का प्रयास किया। खुद को सँभालते हुए बोला " माफ़ करना खुद पर काबू नहीं कर सका।" उसकी इस दशा को देख कर मन द्रवित हो गया।

उसका मन बहलाने के लिए मैं हमारे बचपन के किस्से बताने लगा। कुछ देर में वह भी सामान्य हो गया। अब वह भी बचपन की कई मजेदार बातें बताने लगा। इस तरह बातें करते करते बहुत समय बीत गया। अचानक घड़ी देखते हुए वह बोला " अरे इतना वक़्त बीत गया पता ही नहीं चला। अब चलता हूँ।" यह कह कर वह उठाने को हुआ पर कुछ सोच कर बैठ गया। किन्तु बोला कुछ नहीं। मुझे लगा वह कुछ कहना चाहता है पर संकोचवश कह नहीं पा रहा है। "कुछ बात है तो कहो।" मैंने उसे तसल्ली देते हुए कहा। "अब तुमसे क्या संकोच" वह कुछ झिझकते हुए बोला " दरअसल जेब एक दम खाली है। यदि तुम कुछ पैसे दे पाते हज़ार पाँच सौ जितने हो सकें।"  "देखता हूँ"  कह कर मैं उसे वहां बिठा कर भीतर चला गया। मैंने अलमारी से हज़ार का नोट निकाला। फिर कुछ सोच कर उसे वापस रख कर पाँच सौ रुपये का नोट लाकर उसे दे दिया। उसने जेब में रखते हुए कहा   " बहुत धन्यवाद, जैसे ही मेरे पास पैसे होंगे वापस कर दूँगा। " यह कह कर वह तेज़ी से निकल गया।

उसके जाने के बाद मन कुछ उदास हो गया था। मैं  टीवी देख कर मन बहलाने की कोशिश करने लगा। एक बार फिर दरवाज़े की घंटी बजी। इस बार मेरा मित्र विपिन था। विपिन मुझे और विशाल दोनों को कॉलेज से जानता  था। मुझे उदास देख कर बोला " क्या बात है, भाभी और बच्चों की बहुत याद आ रही है।"  " नहीं यार, वो अपना विशाल याद है। आज वो आया था।"  "तो वो यहाँ भी आया था। कुछ दिन पहले मेरे पास भी आया था। कितने का  चूना लगाया।" विपिन ने कुछ कटु स्वर में कहा। मुझे उसका इस तरह बोलना अखर गया "ऐसा मत कहो बेचारा मुसीबत में है।"   "काहे की मुसीबत एक नंबर का ड्रामेबाज़ है। अच्छा खासा कारोबार था। अपने जुए और शराब की लत के चलते सब चौपट कर दिया। बेचारी इस की बीवी बिना इलाज के मर गयी। वो मेरे साले की ससुराल से इस की पत्नी का सम्बध था. उसने मुझे इस की सारी करतूतें बताईं।"

विपिन के शब्द नश्तर बन कर सीने में उतर गए। इंसान इतना बदल जाता है। मेरे साथ बचपन में खेलने वाला मेरा मित्र आज कुछ पैसों के लिए मेरी भावनाओं से खेल गया।

4 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------