---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

सप्ताह की कविताएँ

साझा करें:

  राजीव आनंद ऐतिहासिक अपराध व्‍यवस्‍था के कुर्सी के पीछे गांधी जी की तस्‍वीर है फिर भी व्‍यवस्‍था करती प्रतिहिंसा की तकरीर है व्‍यवस्‍था ...

 

राजीव आनंद

ऐतिहासिक अपराध

व्‍यवस्‍था के कुर्सी के पीछे

गांधी जी की तस्‍वीर है

फिर भी व्‍यवस्‍था करती

प्रतिहिंसा की तकरीर है

व्‍यवस्‍था उन मूल्‍यों से

चिढ़ा क्‍यों करती है

मनुष्‍य होने की जो

एकमात्र शर्त हुआ करती है

मारा जाता है जब सिपाही

झांकने तक नहीं नेता जाते

मारे जाते है जब नेता

संप्रभुता पर खतरा बता देते

व्‍यवस्‍था की ऐशगाह में

खलल उन्‍हें पसंद नहीं

सत्‍ता के शीशमहल में

सरगोशियां भी पसंद नहीं

कोई पूछेगा व्‍यवस्‍था से

संविधान गर पूर्णत होता लागू

फैले लाल गलियारे में भी

फल रहा होता धान और आलू

व्‍यवस्‍था व्‍यस्‍त है बांटने में

कोयला खदानें रिश्‍तेदारों को

बुनियादी सुविधा तक पहुंचा नहीं

देश के लाखों-करोंड़ों आदिवासियों को

असहमति प्रतिरोध के तरीकों पर

लाजमी है जताया जाना

पर क्‍या न्‍यायसंगत होगा

प्रतिरोध को खारिज कर देना ?

व्‍यवस्‍था पहले आदिवासियों को

विश्‍व के बड़े लोकतंत्र में होने से बचाए बर्बाद

लोकतंत्र में लोक का तंत्र करे ख्‍याल

वरन्‌ होगा यह एक ऐतिहासिक अपराध !

राजीव आनंद

मोबाइल 9471765417

 

संजय कुमार ”शिल्‍प“

image

 

ठूंठ

ठूंठ तो ठूंठ होते हैं, ठूंठ किसी काम के नहीं।

ना प्राणवायु देते हैं, ना छाया

ना फूल, ना फल

फिर भी खड़े रहते ठूंठ,

ठूंठ' बनकर, ठूंठ किसी काम के नहीं।

ना पतझड़ में गिरते हैं पत्‍ते इनसे,

ना बसंत में बहार आती है,

बस कई बार पीठ रगड. खुजा लेते है पशु इनसे

या औरतें उतार लेती हैं छाल

चुल्‍हा सुलगाने के लिए,

किसी ठूंठ की खोखर में, मिल जाता है घर उल्‍लू का भी

कोई पपीहा गाता नहीं ठूंठ पर बैठकर,

ठूंठ किसी काम के नहीं।

बस काम आ जाता है ठूंठ

जब किसी की चिता जलानी हो

काट लेते है ठूंठ को लोग

और लिटा देते है शव पे शव

और पा जाते हैं दोनों गति

मिल जाते हैं एक दूजे में खाक बनकर

जो किसी काम की नहीं

क्‍योंकि ठूंठ तो ठूंठ होते हैं, ठूंठ किसी काम के नहीं।

 

 

मीनाक्षी भालेराव

image

समुद्र
हजारों ख्वाहिशों के समुद्र
ह्रदय में उफान मारते हैं
कुछ सपने किनारों से
भटक जाते हैं
कुछ को किनारे
मिल जाते हैं !
उमड़ते-घुमड़ते
ख्याल कब स्नेह से
लबालब रहते हैं
कब नफरतों के सैलाब
बहा ले  जाते है !
जहां मैं कभी नहीं
जाना चाहती हूँ
उबलते हुए लावे के पास
वहाँ  सब कुछ
गल-सड़ जाता है
और उस बदबू से
आत्मा आहत हो उठती है !
 
 
 
 
 
 
 
गोद
पुरानी बहुत पुरानी दीवारें
जर्जर अवस्था में फिर भी
दरारों को भर कर
रंग कर  नया सा
घर बना लिया
घर पत्थर मिट्टी का
घर नया
आराम दायक हो गया
पर क्या रिश्तों में पड़ी
दीवारें हम फिर से
भर सकते हैं
रिश्ते जो अहसास की
साँसों से बंधे हैं
जो माँ की कोख की
खुशबू से बंधे है
वही जिन्दगी भर
दर्द देते रहते हैं तो
पत्थर से बनी दीवारों
पर भरोसा कर सकते है
उन से लिपट कर
सो सकते हैं
माँ की गोद सा
 
 
 
तुम तक
यह अलग बात है के
में तुम तक नहीं पहुंच पाई
पर तुम मेरे ख्वाबों से
दूर भी नहीं हो
 
  

------------------------------------------------

 

संजीव शर्मा

सत्य

रास्ता फिर उसी पत्थर में सिमट आया है

जिसने ये रास्ता बनाया है

तंग गलियों में घुटी जाती है बसंती हवा

हर कोई हवा ने सताया है

बन्द अलमारियों में सील गई सत्य की बू

वक्त ने हर सफा मिटाया है

आस्मां चीरकर उस तरफ भी पहुंचें सदा़

धूल ने गिर नया बनाया है

चन्द टुकड़ों ने कल सड़क पर बनाये घर

आज उन घरों का सफाया है

कल उठे गैर की बांहों का सहारा लेकर

आज उस गै़र को रुलाया है

बन्द कलियां भी कभी फटेंगी कज़ा बनके

जिन्हें दुनियां ने अब सताया है ।

 

खण्डहर

खण्डहरों देखों

कितने लोग बेघर

हैं तपस्यालीन

और तुम ठाठ से

सुनसान घेरे

खड़े हो मातम मनाते

बीती यादों के सफे़

फिर से पलटते

वो जिन्हें हम

भूल जाना चाहते हैं

तुम वही नास़ूर बनकर

रास्ते में

आ खड़े होते हो अक्सर

खण्डहरों

क्यों न तुमको तोड़ दूं

और कर समतल जमीं

मैं बनाऊं घर

कि बेघर को मिले घर

और दीनों का

हो हितसाधन

हो संतोष तुमको भी

कि टुकड़ों से

हैं आबाद सूने पथ

नये परिवेश में

नये आवेग से

चले बासन्ती हवा

नयी किलकारियां

नयी आशाओं का

आलिंगन कर

नये इतिहास को रच दें

नये हरफों से

नये किस्सों को

मिले एक नव उजाला भी ।

 

मनोवेदना

अब नहीं इस दिल में बाकी

कोई भी उम्मीद शै

जो मेरे सपनों की चिन्ता

जो मेरे देखे की पीड़ा

अपने कोमल नर्म सुरों में

अपने मन की आशाओं में

घेर सहेज हृदय बसा ले

अब नहीं कोई जो मेरे

इन खिलौनों को

टूटने से बचा ले

या कि टूटे हुए टुकड़े उठाकर

सहेजे घर बना ले

अब नहीं बाकी रहा

इन्साफ भी कि मैं

अधूरी आह अधूरी चाह लेकर

मांग लूं अपने ठिकाने

जो करूण आवाज से

न्याय के पट झकझोर डाले

अब तो इस दिल के वीराने

हमसे और संभाले नहीं जाते

हम बने मिटटी के पुतले

हो गए टुकड़ों के बन्धन

टूट-टूटकर भी न रुके

खून को पानी समझकर

नींद आंखों की उड़ाकर भी

हवा के साथ उड़ते गए हम

दूर जहां हम हम न रहे

 

रामनगर शाहदरा

दिल्‍ली

---------------------------------------------

 

जय प्रकाश भाटिया

image

काँच के खिलौने
हम काँच के खिलौने नहीं हैं, जो गिरते ही टूट जायेंगें ,
जोर से चट्खेगें और टुकड़े टुकड़े बिखर जायेंगें,
और फिर कभी जुड़ न पायेंगें  ...नहीं,
हम तो दोस्त हैं मेरे यार, दोस्त..
पहले एक दूसरे की नज़रों से गिरेंगें,
धीरे से फिर बीच में एक दरार आएगी,
जो किसी दूसरे को नज़र नहीं आएगी,
यारों की महफ़िल में हम इसे छिपायेंगें,
थोडा सा एक दूसरे को देख कर बस मुस्करायेगें,
पर दिल ही दिल कडवाहट अपना रंग दिखाएगी,
हमारी दोस्ती सिर्फ औपचारिकता निभाएगी,
बस फिर ख़ामोशी का आलम यू हीं चलता रहेगा,
दिल का दामन गिले शिकवों की आग में सुलगता ही रहेगा,
बीती यारी की बातें पीछे छूट जाएँगी, और हमारी दोस्ती टूट जाएगी,
पर हम काँच के खिलौने नहीं हैं....
यह ख़ामोशी का आलम यूं ही चलता रहेगा, चलता रहेगा--
फिर एक दिन तुम्हें एक समाचार मिलेगा ,
तेरा यह दोस्त कई दिनों से है बहुत बीमार है
बिस्तर पर पड़ा है, बहुत ही लाचार है,
तब तुम्हें मेरे कुछ अहसान याद आयेंगें..
और यही पल तुम्हें मेरे पास खींच लायेंगे...
तेरे हाथों में मेरा हाथ होगा और भीगी पलकों से बात होगी,
समय के साथ साथ सब घाव भर जाते हैं,
और बिछड़े यार फिर से जुड़ जाते हैं,
क्योंकि ---
हम काँच के खिलौने नहीं हैं,जो गिरते ही टूट जायेंगें ,
और फिर कभी जुड़ न पायेंगें….

--

काश की दुनिया ऐसी हो 
इंसानों की बस्ती हो,
हर आँगन खुशियाँ बसती हो,
हर हृदय विशाल उपकारी हो ,
हर जन प्रभु का आभारी हो ,
यारों की महफ़िल सजती हो,
काश की दुनिया ऐसी हो
सोने की चिड़ियाँ उडती हों ,
दूध दही की नदियाँ बहती हों,
हर तरफ छाई हरियाली हो ,
हर डाल पे कोयल काली हो ,
सुख चैन की बंसी बजती हो,
काश की दुनिया ऐसी हो
हर नेता सच का प्रेरक हो ,
जनता का सच्चा सेवक हो ,
भ्रष्ट का कोई स्थान न हो ,
किसी सभा में उसका मान न हो ,
झूठे की ऐसी तैसी हो ,
काश की दुनिया ऐसी हो
हर आँगन महके खुशबू से,
हर उपवन सदा बहार रहे,
हर चेहरे पे मुस्कान सजे ,
हर दिल में सच्चा प्यार पले,
स्वाभिमान से गर्दन ऊंचीं हो ,
काश की दुनिया ऐसी हो
बच्चों को सच्चा ज्ञान मिले,
हर गुरु जन को सम्मान मिले,
घर मात-पिता का आदर हो,
मन प्रेम प्यार का सागर हो,
स्वर्ग से सुंदर धरती हो ,
काश की दुनिया ऐसी हो
कभी भूखे पेट कोई सोये न,
कोई ममता की मारी रोये ना,
हर और छाई खुशहाली हो,
हर रात यहाँ दीवाली हो,
दीपों की माला जलती हो,
काश की दुनिया ऐसी हो
ईश्वर भक्ति में हर श्वास रहे,
प्रभु में सबका विश्वास रहे,
संस्कार भरा हर जीवन हो,
प्रभु नाम यहाँ संजीवन हो,
दिव्य ज्ञान की ज्योति जलती हो ,
" काश की दुनिया ऐसी हो "

--

बचपन का साथ
बीते हुए बचपन का साथ, ज़िन्दगी भर नहीं छूटता . 
बचपन की यादों का सिलसिला, ता उम्र  नहीं टूटता ,
अब भी दिल मचल उठता है, उस चाँद को पा  लेने को,
बचपन की छुपा छुपी में जो बादलों में जाकर था छिपता।
यही एक ऐसा प्यार का खज़ाना है, जिसे समय भी नहीं लूटता 
जीवा के हर मोड़ पर यह साथ रहता है, कभी उम्र से नहीं रूठता 
 
पाठशाला की यादें छूट जाती हैं,  विद्यालय में, 
हाई स्कूल की यादें भूल जाती हैं, कॉलेज में,
कॉलेज के दिन रह जाते हैं पीछे, यूनिवर्सिटी में  
कुछ उलझ जाते है एम् बी ऐ ,कुछ पी एच् डी मे। 
पर नहीं भूलता ताउम्र तो बस वह माँ का पहला पाठ ,
एक दूनी दो, दो दूनी चार, तीन दूनी छह ,चार दूनी आठ ,
 
जवानी के दिन बीत ने लगे प्यार में तकरार में,
कुछ सिनेमा हाल , कुछ माल में, कुछ बाज़ार में,
कुछ नूड्ल्स, कुछ बरगर, कुछ आईस क्रीम खाने में,
कुछ यार दोस्तों की गपशप में कुछ आपसी छेड़खानी में। 
पर नहीं भूलती  ताउम्र तो बस, स्कूल की आधी  छुट्टी,
जब हम चूसते थे लाल पीली गोली, कुछ मीठी कुछ खट्टी .
 
सच बीते हुए बचपन का साथ, ज़िन्दगी भर नहीं छूटता 
बचपन की यादों का सिलसिला, ता उम्र  नहीं टूटता , 


      --जय प्रकाश भाटिया

J. P. BHATIA (CELL No.98550 22670)
KOHINOOR WOOLLEN MILLS
238, INDUSTRIAL AREA - A
LUDHIANA - PUNJAB - INDIA-141003

-------------------------------------------------

 

राम नरेश ‘उज्‍ज्‍वल'

गजल

clip_image002

कच्‍चे घर की इंर्ट पुरानी� तू भी जाने मैं भी जानूँ।

कैसे टूटे छप्‍पर-छानी तू भी जाने मैं भी जानूँ॥

मन्‍दिर में वो रहने वाला� पत्‍थर की मूरत है केवल,

दुनिया फिर भी है दीवानी तू भी जाने मैं भी जानूँ।

अपनी-अपनी किस्‍मत में जो लिखा-बदा वह सब होता है

बात अंत में सबने मानी तू भी जाने मैं भी जानूँ।

रोज रात में रंग-बिरंगे ख्‍वाबों का मेला सजता है ,

सुबह-सबेरे सब बेमानी तू भी जाने मैं भी जानूँ।

लोकतंत्र की ये चादर भी फट-फुट कर बेकार हो गयी ,

मची हुई है खींचा-तानी तू भी जाने मैं भी जानूँ।

सत्‍ता की ऊँची कुर्सी पर कौन हमेशा रह पाया है ,

चार दिनों की है सुलतानी तू भी जाने मैं भी जानूँ।

राम नरेश ‘उज्‍ज्‍वल'

उप सम्‍पादक-‘पैदावार' मासिक

मुंशी खेड़ा,

अमौसी हवाई अड्‌डा,

लखनऊ-226009

ई-मेल %ujjwal226009@gmail.com

 ----------------------------
 
छाया अग्रवाल
वेदना 

प्रण
साझं जब छत पर पहुचीं
ठिठक गर्इ मैं, सिसक गर्इ
घुटन ने सांस उखाड़ दी
एक परिन्दे की,
हांफ रहा था बैठा, जाने कब से
प्रदूषण और तपिश का मारा
सूखा कंठ, नयनों में आशा
कराह रहा था, या पुकार रहा ,
भरा दिल मेरा, उसकी हालत से
सकोरा पानी से भर दिया
और रख दिया मुंडेर पर
राह तकती रही,
प्यास बुझाले तू पानी के सकोरे से
या आसूं भरे मेरे नयनों से,
दिन भर जाने कहां फिरता रहा
सोच कर तड़प रही हूं मैं
तेरे र्दद भरे चहचहाने से,
पीडा़ कम कर पाउं तेरी
शायद, पता नही?
पर तुझे यूं मरने न दूंगी
ये प्रण कर लिया मैंने दिल से़ ...........


                      



------------------------------

 

मनोज 'आजिज़'

गहरी याद

खिड़कियों से दस्तक दी 

तुम्हारी याद 

चूँकि चाँद नज़र में उतर आया 

और अपनी रौशनी से 

मेरा दिल जीतना चाहता था 

पर, ग़लतफ़हमी थी उसे 

लाख कोशिशों के बाद भी 

हासिल न कर सका कोई जगह 

मेरे दिल में 

धीरे-धीरे मुंह छिपाकर 

मेरी नज़रों से 

ओझल होता गया । 

कुछ पल छीन जरुर लिया 

ज़ख्मों को कुरेद जरुर दिया 

रात और तुम्हारी याद ही 

साथ तो थे 

एक और साथी दे गया ---

तुम्हारी गहरी याद !

(शायर बहु भाषीय साहित्यसेवी हैं , अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रिका ''द चैलेन्ज'' के संपादक हैं और अंग्रेजी भाषा-साहित्य के अध्यापक हैं । इनका ७ कविताघज़ल संग्रह प्रकाशित हो चुका है । )

पता -- इच्छापुर, ग्वालापाड़ा , पोस्ट- आर. आई टी 

         जमशेदपुर - १४ , झारखण्ड 

फोन- 09973680146

 

 -------------------------------
अखिलेश चन्द्र श्रीवास्तव

इधर भी तैनात सैनिक टैंक ...

उधर भी तैनात सैनिक टैंक

बंदूकें ....तोपें

बंदूकें .....तोपें

मिसाइलें ........परमाणु बम

मिसाइलें ...परमाणु बम

इधर भी तेवर तीखे तेज

उधर भी तेवर तीखे तेज ....

इधर जोश मारो मारो

उधर भी जोश मारो मारो

इधर धडकते दिल ..

उधर भी धडकते दिल

आशंका से खौफ से

आशंका से खौफ से

इधर ममता का आँसू भरा

उधर ममता का आँसू भरा ...

 

आँचल .......

आँचल

इधर सिसकता यौवन ...

उधर भी सिसकता यौवन ....

इधर भी बालसुलभ चंचलता

उधर भी बाल सुलभ चंचलता

इधर शक्ल सूरतों से सभी एक

उधर भी शक्ल सूरतों से सभी एक

इधर भी बहादुर वफादार देशभक्त

 

मेरा बाप...
मेरा बाप ....मेरे अंदर अभी जिंदा है .....
वोह मुझे बताता है ....सिखाता है ....
क्या उचित है और क्या अनुचित ....?
वोह मुझे नियंत्रित करता है ......

मै उसके सिद्धांतों का पालन करता हूँ .....
उसके आदर्शो पर ..चलता हूँ
मेरे बाप का दुश्मन मेरा दुश्मन है ...
और ...उसका दोस्त ...मेरा दोस्त ...


मैं बाप के बनाये मकान में रहता हूँ ..
उसके खेतों में ...काम कारता हूँ ...
उसके बताये देवताओं को पूजता हूँ
उसके सिखाये त्यौहार मनाता हूँ


मेरे बाप ने मुझे बताया था ...कि
" अपन हिन्दू हैं ........"
यह भी बताया था कि ...कि ..
हिन्दू क्या होता है ....उसे ...
क्या करना चाहिये ...और क्या नहीं ..


उसने बहुत कुछ सिखाया था ...
न सीखने पर ...
या आज्ञा के उन्लनघन करने पर ..
बेरहमी से ..मारा भी था ..


आज मैं भी वही सब करता हूँ
अपनी संतानों के साथ ...
इसीलिये ...तो कहता हूँ ..
कि ..मेरा बाप मेरे अंदर ..
पूरी तरह से जिन्दा है ...


वोह मेरी आँखों से देखता है ...
मेरे कानों से सुनता है .....
मेरे दिमाग से सोंचता है
पर ..फिर भी सबपर नियंत्रण उसी का है ....

और मैं इस नियंत्रण को ...........
सहर्ष स्वीकार करता हूँ .....
मेरा बाप महान था ....
तहे दिल से यह मानता हूँ ...


मैं उसके आदर्शो का ...शिक्षाओं का ..
पालन करता हूँ ..
और अपनी संतानों को ...
उचित ..उनुचित का भेद बताता हूँ ...
उन्हें बताता हूँ क्या करना है ...
और क्या नहीं ....


यह बताना मेरा कर्त्तव्य भी है ..
और ...हक़ भी .....
क्योंकि मैं भी अपनी संतानों में ......
सदा ...सदा ...जिंदा रहूँगा ...
उन्हें नियंत्रित करूँगा ...


उन्हें बताऊंगा ..उचित उनुचित का भेद ...
उन्हें अच्छा इन्सान बनाऊंगा ...
उन्हें तमाम बुराइयों से बचाऊंगा ...
तब मेरी संताने भी कहेंगी ....
हाँ हमारा बाप हमारे अंदर" अभीतक"
जिंदा है. .......जिंदा है ......


और यह सिलसिला चलेगा ..क़यामत तक……
हाँ हमारे पूर्वज सच कहते थे ...
आत्मा ..कभी नहीं मरती केवल .....
चोले बदल लिया करती है ...
जैसे हम कपड़े बदलते हैं ...


और इसी प्रकार हमारे पूर्वज .....
ऋषि मुनि ,महान आत्माएँ ..
राम ....कृष्ण ..जीसिस ...मोहम्मद ..
सभी हम सब में जिंदा हैं ...


और हमें उपदेश देते रहतें हैं
बुराइयों से ..मोड़ते रहते हैं ...
काश ये समझने का ..दिलोदिमाग ...
हमारे पास होता ....
काश ऐसा होता ......
काश ऐसा होता ...
तो धरती पर स्वर्ग होता



(समाप्त )
नोट : १ ) कविता जीन्स सिधांत पर विश्वास पर आधारित है जिसके अनुसार
गुण दोष संतानों में पीदियों से चलती रहती है

  -----------------------------------------------

 

नितेश जैन

ये यादें ..........

बहुत ही खूबसूरत सोच हैं ये यादें

बीते लम्‍हों का एहसास दिलाती हैं ये यादें

गुजरे कल को फिर से जीना सिखाती हैं ये यादें

दोस्‍ती को और भी गहरा बनाती हैं ये यादें

जज़्बातों को बयान करती हैं ये यादें

तनहाईयो में अकसर साथ रहती हैं ये यादें

सपनों को सच कर जाती हैं ये यादें

अपनों को पास लाती हैं ये यादें

किताबों के पन्‍नों सी होती है ये यादें

कभी कमजोर तो कभी कठोर बना देती हैं ये यादें

चेहरे पे मुस्‍कुराहट लाती हैं ये यादें

आंसुओं को पनाह देती हैं ये यादें

गम की एक हल्‍की सी आहट हैं ये यादें

दिल की गहराईयों में बसती हैं ये यादें

आखिरी सांस तक साथ रहती हैं ये यादें

फूलों सी कोमल होती हैं ये यादें

कहानियों की खुली किताब हैं ये यादें

दूरियों को कम करती हैं ये यादें

हवाओं सा महका देती हैं ये यादें

झरनों सा बहा देती हैं ये यादें

बहुत ही मीठा एहसास हैं ये यादें

हमारी अपनी दोस्‍त होती हैं ये यादें ..........



--------------------------------------------


 


      सीताराम पटेल


ऊंॅ भूर्भुवः स्‍वः तत्‍सवितुर्वरेण्‍यं भर्गो देवस्‍य धीमहि धियो योनः प्रचोदयात्‌।
आत्‍मा शक्‍ति
1-
कर्म का लेख
अपने हाथ लिख
उपर कोई
नहीं है बैठा
कठिन श्रम कर
2-
आत्‍मा की शक्‍ति
सबसे बड़ी शक्‍ति
जागृत कर
मेहनत से
हल फावड़ा धर 



3-
बंजर भूमि
का सीना फाड़ डाल
धर कुदाल
मार हथौड़ा
भाग्‍य बदल भाल 
4-
नन्‍हीं चींटियां
उठाती भार दूना
तो क्‍या मानव
उससे कम
चाहे उठा ले धरा 
5-
आतंकवाद
असम का आतंक
उठा बंदूक
अहं को मार
शांति का पाठ पढ़ा
6-
युवा की शक्‍ति
भारत का गौरव
मत बनाना
इसे रौरव
खुशहाल जिन्‍दगी
7-
नंदकुमार
यशोदा का लाडला
किसान पुत्र 
भूमि पर सोया
जरा के हाथों हत्‍या
8-
तांडव कर
एक और तांडव
समता सिखा
विश्‍व शांति ला
उमेश नाच नचा
9-
दीदार कर
आस्‍तीन में है सांप
हार बना ले
दांत तोड़ दे
पांवों से दे कुचल
10-
स्‍वर्ग अंबर
उतार धरा पर
मस्‍तिष्‍क शक्‍ति
मानस शक्‍ति
शक्‍तियां योग कर
11-
तांडव मचा
पिनाकी नाच नचा
नक्‍सलवाद
नस्‍ल मिटा दे
धूम मचा दे धूम
12-
सती सावित्री
कर्क से लड़ रही
प्रेमिका लाई
पाटलावती
सूर्यमुखी के फूल
13-
मृगनयनी
तुम आंख मिलाई
मुस्‍कुरा चली
पीछे बुलाई
तुम गोली चलाई
14-
नारी के हाथ
चूल्‍हा नहीं बंदूक
अनोखी शक्‍ति
अद्‌भुत लीला
कायर मत बन
15-
भ्रष्‍ट आचार
सिर रहा है नाच
नौकरशाही
सब कुराही
शासन प्रशासन
16-
अंतस्‌ की अग्‍नि
जला दे धरा सारा
तमस हर
मिटा अज्ञान
आत्‍म सुधार कर
17-
सोन चिरई
भारत को बनाएं
एकता लाएं
प्रेम बढ़ाएं
जगद्‌गुरू कहाएं
18ः-
असंतोष कर
मत जलन कर
असीम बल
पहचान तू
कर्मयोगी बन जा
19-
शिखर चढ़
प्रौद्यागिक उन्‍नति
गांव की ओर
प्रकृति प्रेम
सर्वनाश न कर
20-
असफलता
मेहनत की कमी
सफलताएं
श्रम लगन
असफल सफल
21-
सपना देख
सपना मत मार
सपना घना
अस्‍तित्‍व वाद
सौन्‍दर्य विश्‍व बना
22-
क्रूर नियति
हाथों हम खिलौना
क्‍या रच रही
किसे है पता
पल पल जी खुशी
23-
स्‍वतंत्र प्रेम
मजदूर किसान
आम आदमी
हाशिये जन
एक आजादी और
24-
तुलसीदास
युग का प्रवर्तक
काम मोहित
अनन्‍य प्रेमी
रामचरित लिखा
25-
राम का राज्‍य
तुलसी का सपना
बहुत अच्‍छा
एकता प्रेम
प्रकृति बैर मिटा
26-
घर मुखिया
हुआ सात आकार
दें पूरा प्‍यार
जी का आधार
विधाता का विधान
27-
मीठे वचन
हरदम तू बोल
अबोला है क्‍यों
पड़ोसी प्रेम
अनमोल जीवन
28-
मानव मीत
मन का जीते जीत
नैराश्‍य पन
एकाकीपन
मन का हारे हार
29-
भोर का तारा
बन उगता सूर्य
जलता रह
जलाता रह
सबका तम हर

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 3
  1. susheel yadav ji vyang ,rajeev aanand,sanjaya kumar shilp,meenakshi bhalerav sanjeev sharma,evm jay praksh bhatiya ji ki kavitae padhi achchi hai ,loktantra se sarokar rkhne bali rachnaye bhi prakshit kare achcha hoga

    उत्तर देंहटाएं
  2. akhileshchandra srivastava8:15 am

    Sabhi kavitayen achchi hain lekhkon ko pratishthit rachanakar men prakashit hone ke liye badhaiee evm shubhkamanaye

    उत्तर देंहटाएं
  3. meenakshi bhalerao11:50 am

    dhanyvaad kmlesh ji utsah bdhane ke liye

    उत्तर देंहटाएं

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

रचनाकार - हिंदी साहित्य का असीमित आनंद लें

---प्रायोजक---

---***---

|कथा-कहानी_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|संस्मरण_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

आपके लिए हिंदी में सैकड़ों वर्ग पहेलियाँ

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|उपन्यास_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|लोककथा_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=complex$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3996,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,110,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2968,कहानी,2228,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,529,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,339,बाल कलम,25,बाल दिवस,3,बालकथा,62,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,10,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,26,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,240,लघुकथा,1217,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1995,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,700,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,782,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,75,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,196,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: सप्ताह की कविताएँ
सप्ताह की कविताएँ
http://lh3.ggpht.com/-Ob72AAueCro/UbRQ2IA6kxI/AAAAAAAAU-c/io2eOtEWU3k/image%25255B8%25255D.png?imgmax=800
http://lh3.ggpht.com/-Ob72AAueCro/UbRQ2IA6kxI/AAAAAAAAU-c/io2eOtEWU3k/s72-c/image%25255B8%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2013/06/blog-post_6273.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2013/06/blog-post_6273.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ