रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

सीताराम पटेल की रचना - पचास धन

 

पचास धन

1:-

मुस्‍कान तेरी

दिल में उतर गई

सद्‌यःस्‍नात अभिनेत्री

सुनयना मुस्‍कुराई

2:-

मीनाबाजार

प्रणय में मंहगाई

आवाज खड़खड़ाई

प्रीत तुमने निभाई।

3:-

पचास धन

सपना में समा गई

एक बहाना है काफी

हमारे जीने के लिए

4:-

पाटल पुष्‍प

अंग अंग लगे तेरे

अधर अमृत पीउंॅ

बस इतनी चाहत

5:-

मधुर योग

पल पल हठ योग

न समझे इसे रोग

प्रकृति पुरूष योग

6:-

भंवर गीत

रात सरोज में सोए

प्रातःकाल उड़ चले

भंवर को चैन कहांॅ

7:-

बारह बजा

मिलन की घड़ी आई

तन मन करे योग

मेघ जल बरसाई

8:-

मन मोहिनी

तरस रहे हैं कान

सुनने आवाज तेरी

एक बार कहो प्रेम

9:-

पाली की प्‍यारी

अंॅगनियांॅ की दुलारी

मुखिया का अपमान

मत कर तू गुमान

10:-

मधु यामिनी

खनखनाती चूड़ियांॅ

महमहाती बदन

नव विवाहिता वधु

11:-

अक्षर ज्ञान

प्राथमिक पाठशाला

नव सृजन का शाला

हंॅसमुख मतवाला

12:-

तुलसीदास

रामचरित मानस

समन्‍वयक सहारा

सत्‍य हरदम जीता

13:-

रोग की दवा

तुम ही हो राधारानी

मरते प्राणी की सुधा

मेरी जागृत कल्‍पना

14:-

मेरी आराध्‍या

तुमने रचाई रास

और हुआ नाम मेरा

अद्‌भुत तेरी साहस

15:-

निर्दयी विश्‍व

देती है सिर्फ यातना

दुनिया मत बांॅधना

अपनी मोटी जंजीर

16:-

प्‍यासा क्‍या देख्‍ो

कहीं भी मुंॅह मारता

कुपथ पथ मानता

सभी को एक जानता

17:-

निंदिया लागी

आओ सो ले साथ साथ

प्रिये बाकी रहा बात

जाने को है अब रात

18:-

गायत्री माता

बस तेरा ही सहारा

स्‍ंासार में मैं हूंॅ हारा

तेरे बिन हूंॅ आवारा

19:-

आह वेदना

साहित्‍य सृजनकर्ता

सबमें लाता एकता

मिलाता है मानवता

20:-

गड़गड़ाना

प्रकृति का नगाड़ा

गड़गड़ गड़गड़

वसुधा गगन योग

21:-

कर्म का फल

विपरीत प्रतिक्रिया

सत्‍कर्म होता शहद

हमेशा कर सत्‍कर्म

22:-

म्‍ोरी गोमाता

देती है गोबर धन

करें हम गोवर्धन

गो का वध करें बंद

23:-

मांॅ की ममता

बड़ी होती अनमोल

संसार में नहीं तोल

मांॅ से तू मधुर बोल

24:-

सावन भादों

हरा भरा वसुन्‍धरा

झर झर जल झरा

नदी नाले सब भरा

25:-

क्‍वांर कार्तिक

छिटके श्‍वेत चांदनी

फसल लहलहाती

सबका मन है लुभाती

26:-

काला अंगूर

पीकर हैं सभी बढ़े

नारी का रूप सौन्‍दर्य

आकर्षण है अनोखा

27:-

हमसफर

तो सुहाना है सफर

हम सभी हैं जानते

परमेश्‍वर मानते

28:-

राधिका रानी

अनुराग बरसाती

प्रेम पथ पर आती

कनुप्रिया कहलाती

29:-

प्रणय योग

रसधर चक्रधर

बंशीधर गीतेश्‍वर

रूपधर विश्‍वेश्‍वर सीताराम पटेल

--

उॅं भूर्भुवः स्‍वः तत्‍सवितुर्वरेण्‍यं भर्गो देवस्‍य धीमहि धियो योनः प्रचोदयात्‌।

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget