रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

एस के पाण्डेय का आलेख : परीक्षा की तैयारी कबसे और कैसे करें

 

जैसे सोने को आग में तपाकर उसके असली अथवा नकली होने का प्रमाण प्राप्त किया जाता है । वैसे ही प्रत्येक विद्यार्थी को परीक्षा रुपी आग में तपकर अपने खरे होने का प्रमाण देना पड़ता है । एक अच्छे और सच्चे विद्यार्थी को बिना किसी भय के हौसले के साथ एक वीर सिपाही की तरह परीक्षा रुपी युद्ध का सामना करना चाहिये । और हमेशा अच्छी और सच्ची विजय की कामना करनी चाहिये तथा इसके लिए दृढ़ इच्छाशक्ति और कड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है ।

कुछ बातों का ध्यान रखा जाय तो परीक्षा में बहुत अच्छा परिणाम लाया जा सकता है । बहुत अच्छा या सबसे अच्छा परिणाम केवल परीक्षा में अथवा परीक्षा से एक-दो महीने पढ़कर नहीं लाया जा सकता है । ऐसे विद्यार्थी जो जीवन में पढ़ाई के बल पर कुछ करना चाहते हैं । उन्हें किसी शार्टकट तरीके से अथवा नकल करके मार्क लाने का खयाल मन से बिल्कुल निकाल देना चाहिए । परीक्षा में मार्क भले ही कम आये । परन्तु नकल का आश्रय नहीं लेना चाहिये ।

नकल के बल पर अथवा शार्टकट तरीके से अधिक मार्क हथियाने वाले आगे चलकर मात खा जाते हैं । वहीं अपनी मेहनत से पढ़ने वाले भले ही कम मार्क पाए हों । आगे चलकर इनसे अच्छा करते हैं । लेकिन यदि आप मेहनती हैं और योजनाबद्ध तरीके से परीक्षा की तैयारी करते हैं । तो निश्चित रूप से परीक्षा में आप अच्छा प्रदर्शन करेंगे और आपको कम अंक मिलेगा ही नहीं ।

यह लेख उन विद्यार्थियों के लिए ज्यादा लाभदायक होगा । जो अपनी मेहनत और पढ़ाई के बल पर जीवन में कुछ हासिल करना चाहते हैं । आप चाहे जिस कक्षा के विद्यार्थी हों । जब आप एडमीशन ले लें और आपकी पढ़ाई आरम्भ हो जाय तभी आपको यह सोचना चाहिये कि कुछ महीने बाद आप को परीक्षा देनी है । अतः आप उसी दिन से ही परीक्षा की तैयारी शुरू कर दीजिए ।

प्रत्येक विषय का नोट बनाना चाहिये । किसी पुराने नोट को उतार लेना अच्छा नहीं होता । आपके शिक्षक जो आपको पढ़ाए उसी के आधार पर आप अपना नोट तैयार कीजिए । आप इसमें किताब की मदद भी अवश्य लें । किसी के नोट की मदद भी ले सकते हैं । लेकिन जो भी आपको लिखना हो । उसे समझकर लिखें । ऐसा करने से बहुत सी चीजें अपने आप तैयार हो जाती हैं तथा बाद में समय बर्बाद नहीं होता । नोट थोड़ा-थोड़ा बनाना चाहिए । नोट बनाने और कहीं से उतारने में अंतर होता है । नोट तैयार करते समय अपने पाठ्यक्रम का विशेष खयाल रखना चाहिये । अन्यथा ऐसा भी हो सकता है कि आप से कुछ आवश्यक टॉपिक छूट जाय तथा जो आवश्यक न हो आप उसे पढ़ लें ।

जब आप पढ़कर व समझकर नोट बनाएंगे तो आपको नोट तैयार हो जाने के बाद सिर्फ दुहराने की, साथ ही थोड़ा और बारीकी से समझने की जरूरत ही शेष रहेगी । साथ ही पुस्तक भी देखते रहिये । पुस्तक में दिए गए उदाहरणों व प्रश्नों के उत्तर, जिन्हें आपने अपने नोट में सम्मिलित नहीं किया है, सोचने व लिखने का प्रयास करें । समझ में न आने पर अपने मित्रों और शिक्षकों की भी मदद ले सकते हैं ।

इतना सदा ध्यान रखें कि जो भी पढ़ना है ठीक से पढ़ना है । आधा अधूरा न पढ़ें । जो भी टॉपिक शुरू करें उसे आदि से अंत तक पढ़ कर समझ लें । अधिक पढ़ने के चक्कर में ऐसा कदापि न करें कि थोड़ा यहाँ से थोड़ा वहाँ और थोड़ा कहीं और से देख लिया अथवा पढ़ लिया । कहावत है कि “आधी छोड़ पूरी को धावै, न आधी रहै न पूरी पावै” ।

आप पिछले साल के प्रश्न-पत्रों का भी अवलोकन अवश्य करें । इससे परीक्षा में पूछे जाने वाले सम्भावित प्रश्नों के बारे में आप थोड़ा-बहुत अनुमान कर सकेंगे । साथ ही आपको कुछ ऐसे प्रश्नों को तैयार करने की प्रेरणा मिलेगी, जिन्हें शायद आप ने पढ़ा ही नहीं था । लेकिन कभी भी केवल इम्पोर्टेंट पढ़ने के चक्कर में न पड़े । एक अच्छे विद्यार्थी को सम्बन्धित विषय की तैयारी करनी चाहिए न कि उन चंद प्रश्नों की जिन्हें कुछ लोग इम्पोर्टेंट समझते हैं ।

इस तरह की लम्बी तैयारी करने वाले एक्जामफोबिया के शिकार नहीं होते तथा परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करते हैं । परीक्षा की रात ठीक से नींद लेना चाहिये । बहुत से विद्यार्थी पूरी रात जागकर परीक्षा देने जाते हैं । यह बहुत ही गलत तरीका है । इससे ऐसा भी हो सकता है कि जिस प्रश्न का उत्तर आपको पता हो आप उसका भी ठीक से उत्तर न दे पाएँ ।

परीक्षा में प्रश्न-पत्र मिलने के बाद सबसे पहले प्रश्नों को ध्यान से पढ़ना चाहिये । इसके बाद जिस प्रश्न का उत्तर ठीक से आता हो उसे पहले करना चाहिये । इसके बाद जिस प्रश्न का जितना उत्तर आपको पता हो लिख सकते हैं । कुल मिलाकर उतने ही प्रश्नों का उत्तर देना चाहिये, जितने के लिए निर्देश दिया गया हो । लेकिन कुछ भी न आने पर उटपटांग बांते लिख कर कापी भरने का प्रयास नहीं करना चाहिये । साथ ही जहाँ तक हो सके काट-पीट करने से भी बचना चाहिये ।

जिस तरह आप क्लास अटेंड करने जाते हैं । ठीक उसी तरह शांतचित्त व तनावमुक्त होकर परीक्षा देने जाइए । और इस तरह आप तभी जा पाएंगे, जब आपकी तैयारी लगभग पूर्ण होगी तथा आपको विषय का ज्ञान होगा । यह लम्बी तैयारी से, जैसा कि उपर बताया गया है, सम्भव है । सिर्फ परीक्षा के दौरान तथा परीक्षा सिर पर आ जाने पर अथवा परीक्षा के एक-दो महीने पूर्व पढ़ने वालों के लिए यह बहुत ही मुश्किल या यूँ कहिये कि लगभग असम्भव है ।

अगर आप उपरोक्त तरीके से तैयारी करेंगे तो अपने आप, आपमें ऐसा आत्मविश्वास आ जायेगा कि आप परीक्षा को बहुत ही सहज तरीके से दे सकेंगे साथ ही अच्छा प्रदर्शन करेंगे । इस तरह की पढ़ाई से आप बड़ी से बड़ी प्रतियोगी परीक्षा में बैठने के लिए अपने को आसानी से तैयार कर सकेंगे तथा आसानी से उसे पास भी कर सकेंगे ।

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.) ।
ब्लॉग: श्रीराम प्रभु कृपा: मानो या न मानो

URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

*********

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget