सोमवार, 21 अक्तूबर 2013

राजीव राणा का लघु व्यंग्य - ''कवि का पत्नी को प्रेमपत्र

व्यंग्य-    ''कवि का पत्नी को प्रेमपत्र"
        प्रिय 'कविता,                
                प्यार की एक मीठी शायरी,
        जब से तुम मेरे 'साहित्य रूपी दिल में प्रवेश करके  अपने मायके गर्इ हो तब से, मैं तुम्हारी जुदार्इ का ग़म' कागज़ पर लिख-लिखकर घर में कागज़ के पहाड़ बना रहा हूँ, मैं जानता हूँ कि तुम मेरी 'ग़ज़ल का 'मिसरा बनकर किसी अन्य शायर के दिल (मायके) में इस समय रह रही हो, लेकिन,मेरे दिल से पूछो कि मेरी हर ग़ज़ल तुम्हारी याद में बिना 'काफिये के तड़प रही है,और एक तुम हो कि अभी आने का नाम ही नहीं ले रही हो. मैं जानता हूँ कि तुम 'विलंब से किसी 'संपादक की 'खेद सहित रचना की तरह ही आओगी, लेकिन तुम मेरे दिल की धड़कन को 'उपन्यास के पन्नों की तरह क्यों बढ़ा रही हो ?


        हे,मेरी 'शायरी  की सुन्दर सी 'ग़ज़ल तुम शीघ्र ही वापस आ जाओ. मैं तुम्हें किसी 'संपादक की तरह बार-बार पत्र डालकर थक गया हूँ. कभी तो तुम मेरी 'रचना की स्वीकृति भेज दिया करो ताकि मुझे थोड़ी सी तसल्ली हो जाया करे.


        ओ, मेरी प्यारी 'पत्रिका रूपी प्रिया,,मुझे तुम्हारा 'पेन की तरह कद,'कहानी की तरह बोलना और 'अक्षर की तरह सलोना रूप बहुत याद आ रहा है. मैं जानता हूँ कि तुम मायके में खा-खाकर 'ग़ज़ल से कोर्इ मोटी 'उपन्यास बनकर ही मेरी नयी विधा के रूप में वापस आओगी,इसलिए तुम मेरी ग़ज़ल ही बनी रहो और हो सके तो अपना वज़न कम करके मेरी 'लघु कविता या 'क्षणिका ही बन जाओ तो मुझे बहुत खुशी होगी.


        हे,मेरे 'साहित्य की जननी, मुझे विश्वास है कि तुम मेरे पत्र को 'संपादक की नज़र से न देखकर अपने प्यारे पति के रूप में ही देखोगी और ठीक उसी तरह वापिस आ जाओगी जैसे 'संपादक मेरी रचना को शीघ्र ही वापिस लौटा देते है. मुझे उम्मीद हैं कि तुम मेरी पत्र रूपी रचना को अपने दिल रूपी 'पुस्तक में अवश्य ही 'प्रकाशित करोगी


        हे, मेरे 'काव्य की अनमोल कृति प्रिया, तुम शीघ्र ही वापिस आ जाओ. जाने कब तुम्हारे पिता रूपी 'प्रकाशक मेरी इस 'ग़ज़ल को अपने रखेंगे. वहाँ तुम्हारे मायके में तुम्हारी माँ और सहेलियाँ न जाने क्या-क्या सिखा कर अपनी 'समीक्षा रूपी सलाह देकर तुम्हें कब ससुराल भेजेगी. तुम उनकी 'आलोचना पर ध्यान न देकर सीधे मेरे पास चली आओ. मैंने तुम्हारी याद में 108 नयी रचनाएँ लिखी है, यदि तुम शीघ्र नहीं आयी तो, मैं प्रत्येक रचना को 108 बार सुनाऊँगा,फिर मत कहना कि हमें पहले से बताया ही नहीं था.इसलिए भलार्इ इसी में है कि तुम यहाँ पर मेरे पास रह कर ही रोज़ एक-एक रचना ही सुनो. आगे तुम्हारी मर्जी.


        का्रेर्इ ग़लती हो गयी हो तो सौरी।
        तेरे प्यार में पागल' राना लिधौरी।।
            ााा   
                                    राजीव नामदेव'राना लिधौरी
                                    नर्इ चर्च के पीछे,शिवनगर कालोनी,
                                    टीकमगढ़ (म.प्र.) पिन-472001 भारत
                                        फोन न. 07683-242529

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------