सोमवार, 19 मई 2014

सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा की लघुकथा - नया जमाना

clip_image002लघु - कथा

नया जमाना

सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा .

“ माँ ! यह आदमी क्या शोर मचा रहा है ?”

“ पागल हो गया है ? ”

“ यह ऐसे क्यों कह रहा है की तुमने इसे धोखा दिया ?”

“ मैंने कहा न यह आदमी पागल हो गया है ?”

“ पागल तो नहीं लगता . इसके हाथ में तो एक कागज भी है जिसे यह तुम्हारा प्रेम - पत्र कहता है !”

“ झूठ बोलता है , यह कोई तगड़ा पागल है .”

“ माँ , उस कागज पर तुम्हारे दस्तखत भी हैं ,सच - सच बताओ न यह ऐसा क्यों कह रहा है ?”

“ बेटी , मेरी मानो यह आदमी कोई ,पागल है , मैंने इसे कोई धोखा नहीं दिया !”

“ माँ ! यह आदमी पागल नहीं लगता , इसके पास तो कोई तस्वीर भी है !”

“ तू मुझसे कहलवाना क्या चाहती है , मैंने कहा न यह आदमी पागल है .”

“ माँ , मेरी नजर में तुमने इसे नहीं , मेरे डैडी को धोखा दिया है , यह पागल तो उस सच का पोस्टर है ! बस.”

“ तो क्या इसे अंदर बुला लूँ .”

“ नहीं माँ ! भले ही यह पोस्टर- नुमा आदमी सच बोलता हो पर यह पोस्टर तुम्हारी बदसूरती का जरिया बन रहा है , तुम मेरी माँ हो , मैं तुम्हारी बदसूरती बर्दाश्त नहीं कर सकती . मैं इसे फाड़ दूँगी .”

“ यह तो मजबूत दिखता है , कैसे फाड़ोगी ?”

“ तुम चिंता न करो माँ. मेरे पास बहुत सारे हथियार हैं.”

“ मतलब ? “

“ अरे मेरे दोस्त , वे किस दिन काम आएंगे .”

“ वो तो ठीक है बेटी , पर जो कुछ तुम करने जा रही हो , वह खतरनाक है ."

" माँ ! अभी मेरे पास यह सोचने का समय नहीं है , डैडी तो मरने के बाद मिटटी में मिले हैं ,इस पागल के पागलपन के कारण तो तुम जीते जी मिट्टी में मिल जाओगी ! क्या इसे हम सहन कर पायेंगे ? "

“ जरा सावधानी से , कहीं बात बिगड़ न जाये !”

“ चिंता न करो माँ , तुम सुंदर बनी रहो बिना किसी कालिख के , यह मेरी मजबूरी है .”

सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा .

डी-184, श्याम आर्क एक्सटेंशन साहिबाबाद, उत्तरप्रदेश

2 blogger-facebook:

  1. सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा9:04 pm

    धन्यवाद , सुशील जी : सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------