शनिवार, 9 अगस्त 2014

रक्षाबंधन - राखी - विशेष : बहन का भाई के नाम दो ‘असली’ पत्र

अब जहाँ ई-राखी का प्रचलन बढ़ रहा है, और जनता वाट्स एप्प और फ़ेसबुक के जरिए राखी का त्यौहार मना रही है, प्रस्तुत है एक बहन का अपने दो भाइयों के नाम असली, मूल स्वरूप में राखी पत्र. ताकि सनद रहे.

 

पहला पत्र :

 

image

 

एक और पत्र -

image

 

टीप : आप चाहें तो इस असली पत्र को वाट्सएप्प और फ़ेसबुक के माध्यम से वायरल कर सकते हैं. यह कॉपीराइट मुक्त सामग्री है. मुस्‍कान

4 blogger-facebook:

  1. बहुत सुंदर ..रक्षाबंधन की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की रविवार १० अगस्त २०१४ की बुलेटिन -- रक्षाबंधन विशेष – ब्लॉग बुलेटिन -- में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ...
    एक निवेदन--- यदि आप फेसबुक पर हैं तो कृपया ब्लॉग बुलेटिन ग्रुप से जुड़कर अपनी पोस्ट की जानकारी सबके साथ साझा करें.
    सादर आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर पत्रो से पुरानी यादें ताजा हो गईं।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------