शुक्रवार, 9 जनवरी 2015

ईबुक - साहित्यिक पत्रिका मंतव्य 2

हरे प्रकाश उपाध्याय के कसे हुए संपादन में सद्यः प्रकाशित मंतव्य का दूसरा अंक नीचे दिए विंडो में क्लिक टू रीड बटन पर क्लिक कर पढ़ें. बटन को प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

मंतव्य के अब तक केवल 2 अंक ही प्रकाशित हुए हैं, मगर तेवर तीन दशक पूर्व की साहित्यिक पत्रिका 'सारिका' नुमा है. मंतव्य अधिकांश हिंदी साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं को उनके कम्फर्टज़ोन से बाहर आने के लिए न केवल चुनौती देती हुई प्रतीत हो रही है, बल्कि एक नया सोपान गढ़ने को उद्यत भी है.

image

.

1 blogger-facebook:

  1. मंतव्य पत्रिका का भाग दो श्री रवि जी के रचनाकार के सहयोग से पढ़ा ,अनोखी रचनाएँ और विशुद्ध कवितायेँ ..निडर..बिंदास ..सत्य की अभिव्यक्ति बिना किसी लाग लपेट या आडम्बर
    ऐसी रचनाएँ जिन्हें बार बार पढने को दिल करे इस अनोखी पत्रिका के प्रस्तुतिकरण के लिए
    इसके संपादक श्री हरे प्रकाश उपाध्याय जी को हार्दिक बधाई और शुभ कामना

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------