गुरुवार, 22 जनवरी 2015

मनोज कुमार श्रीवास्तव का आलेख - राष्ट्रीय पर्व और हम

राष्ट्रीय पर्व और हम
मित्रों हम देश का 65 वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे हैं, यह निश्चित रूप से हमारे लिये अत्यंत गौरव की बात है परंतु यह भी चिंतन का विषय है कि हम अपने देश के लिये क्या सोच रहे हैं तथा क्या कर रहे हैं। आज हमारे देश को आजाद हुए 68 वर्ष हो गये किंतु हमने इतने वर्षों में कितना विकास किया, हमारे विचारों में कितनी व्यापकता आयी, यह भी चिंतन का विषय है। आज हम हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं, इसमें काई संदेह नहीं है किंतु आगे बढ़ने के साथ हम अपने घर-परिवार, समाज, कार्यक्षेत्र में कितना संतुलन बना रहे हैं और सबसे बड़ी बात यह कि हम अपने संस्कारों में कितना संतुलन बना पा रहे हैं, यह विचारणीय है


    हर वर्ष स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस मनाते हुए केवल परिसरों की साफ-सफाई, महापुरूषों की मूर्तियों की साफ-सफाई, विद्यालय की रैलियों, देशभक्ति के नारों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों से हमारी पहचान नहीं होगी बल्कि आज हमें आधुनिकता की चकाचौंध को सकारात्मक दिशा देने की आवश्यकता है।


    आज की हमारी पीढ़ी अत्याधुनिक है किंतु उन्हें सही दिशा देने की आवश्यकता है। आज युवा पीढ़ी मार्ग भटकने की दिशा की ओर अग्रसर हैं जो हमारे देश के भविष्य हैं, इनकी ऊर्जा को सही दिशा देना अति आवश्यक है। जरा हम चिंतन करें कि हम अपने दायित्व का निर्वहन कितना करते हैं।


    आज विचारणीय यह है कि स्वच्छता का हम कितना ध्यान रखते हैं? राह चलते जरूरत मंदों की हम कितनी सहायता करते हैं? अपशब्दों का प्रयोग करने वालों का कितना विरोध करते हैं? अपने बच्चों की पढ़ाई और संस्कारों पर ईमानदारी से हम कितना ध्यान देते ह और उनके गल्तियों को कितना सुधारते हैं? कितने लोगों को हम सही सलाह देते हैं। सार्वजनिक हित के विषयों पर हम कितना सोचते हैं?


    मैं मानता हूं कि सर्वप्रथम हमें अपने विचारों को और बड़ा करने की आवश्यकता है क्योंकि बड़ी जगह में सब कुछ समाहित हो जाता है, संकीर्ण विचारधारा में ही समस्याएं खड़ी होती हैं। इन बातों में से किसी एक पर भी हम अपनी जिम्मेदारी निभाते हैं तो हम अपने देश के साथ ईमानदारी से पेश आ रहे हैं और यदि हमें इनमें से किसी भी बात के लिए समय नहीं है तो हम अपने देश के साथ बेईमानी कर रहे हैं। वास्तविक देशभक्ति यही होगी कि हम 26 जनवरी और 15 अगस्त को झंडा फहराने के अलावा अपने देशहित के लिए एक भी अच्छा कार्य कर सकें।


                                    मनोज कुमार श्रीवास्तव
                                    शंकर नगर नवागढ़, जि. बेमेतरा,
                                    छ.ग. पिन-491337

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------