शुक्रवार, 16 जनवरी 2015

पुस्तक समीक्षा : ज़मीं से आसमां त​क (ग़ज़ल संग्रह)

image

पुस्तक समीक्षा
जमीं की प्यास में नदी की तलाश
कुमार कृष्णन


हिन्दी कविता का यह इतिहास रहा है कि वह समय—समय पर अपनी परिधियों को तोड़ती रही है। अपने शिल्प के साथ कथ्य का भी समय—समय पर इसने परित्याग किया है। इसके पुराने इतिहास को देखने पर यह सहज ही सोचा और अनुमान लगाया जा सकता है। इसी परिवर्तन के क्रम में इसकी यात्रा गीत, नवगीत तथा मुक्तछंद कविता से होते हुए ग़ज़ल पर आकर ठहरती है। वैसे तो ग़ज़ल के बारे में यह घोषणा की जाती है कि हिन्दी में इसका प्रवेश उर्दू के रास्ते से हुआ है। खैर यह अलग विषय है। आज जो हिन्दी में ग़ज़लें लिखीं जा र रहीं हैं,वह कहीं से आरोपित नहीं है कि वह अन्य भाषा की उपज है। यह हिन्दी साहित्य में पूरी तरह से रच—बस चुकी है। हाल ही में अशोक आलोक का ग़ज़ल संग्रह 'ज़मीं से आसमां त​क' की ग़ज़लों की पाठ से पता चलता है। संग्रह में नब्बे ग़ज़लें हैं जो सीधे—सीधे यथार्थ और समकालीन पृष्ठभूमि पर जाकर खड़ी होती हैं। अशोक आलोक एक सधे हुए ग़ज़लकार हैं। इसलिए उनकी ग़ज़लों में कथ्य और सौंदर्य का मिला—जुला भाव मिलता है। उनकी ग़ज़लें समकालीनता की शर्तें पूरी करती हैं और उन्हें हम मुक्त कंठ से समकालीन ग़ज़लें कह सकते हैं | अच्छी ग़ज़ल कहने के लिए ‘अरूज’ के स्तर पर जिस तरह की तैयारी होनी चाहिए वह अशोक आलोक के पास है |


सचमुच में आज हम जिस परिवेश और यथार्थ में सांसें ले रहे हैं,वह पूरी तरह से कष्टदायी है। एक प्रबुद्ध ग़ज़लकार के नाते अशोक आलोक इस पीड़ा को अच्छी तरह समझते हैं और अपनी ग़ज़लों में व्यक्त करते हैं अगर उनके शेर वर्तमान राजनीति के गिरते स्तर पर कटाक्ष करते हैं , तो हमारे घर आ घुसे बाज़ार पर भी उनकी नज़र है । मिसाल के तौर पर—


मुस्कुराता है अॅंधेरा जिन्दगी में इस तरह
कातिलों का बसेरा रोशनी में इस तरह


इसी सत्य को संग्रह की भूमिका में अनिरूद्ध सिन्हा भी उद्घाटित करते हैं। उनका कहना है कि—'' यथार्थ और कल्पना के स्तर पर दोनों तरह के विकास स्वप्नों का बीज अशोक आलोक की ग़ज़लों में मौजूद है। अशोक आलोक जिस प्रकार अपने भविष्य कल्पना के प्रति प्रतिबद्ध हैं, उससे तो साफ जाहिर होता है कि इन्होंने कटु यथार्थ की यात्रा पूरी शिद्दत के साथ की है। यह उनके लेखन की विशेषता है कि आवेग और आवेश को औजार नहीं बनाया। ऐसा भी नहीं है कि समकालीन यथार्थ के प्रति इनके भीतर गुस्सा है,काफी गुस्सा है लेकिन वह गुस्सा विध्वंस की ओर नहीं जाता है, बल्कि कल्पना और बेहतर भविष्य की ओर जाता है। उन्होंने अपनी ग़ज़लों को नारा नहीं बनाया है। ग़ज़लों में प्यार का मद्धिम—मद्धिम स्वर पिरोया है।''
समकालीन कटु यथार्थ को संबोधित करते हुए संग्रह के कुछ और शेर—


जिस्म जाता है सुलग देख के मंज़र अब भी
कैसे कोई शख्स खुद ओठ को सिलता होगा


***************************


है हवा के होंठ पर चिनगारियों का सिलसिला
कुछ भी नहीं बाकी बचा आंसू बहाने को सिवा


***************************


बेवफ़ा परछाइयां हैं जिन्दगी में इस तरह
चीखती तन्हाइयां हैं जिन्दगी में इस तरह


लेकिन यह भी सच है कि संग्रह की ग़ज़लें सिर्फ यथार्थ की विसंगतियों की उबड़—खाबड़ जमीन ही तैयार नहीं करती, बल्कि कल्पना और सौन्दर्य का एक बड़ा आसमान भी तैयार करती है। उस आसमान में हम खुशियों को तलाश कर सकते हैं। मिसाल के तौर पर—


फूल खुशबू तितलियां थीं और हम
याद की कुछ बदलियॉं थीं और हम


***************************


किसी सवाल का उत्तर करीब तो आए
कहीं सुकून का मंजर करीब तो आए


कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि अशोक आलोक ने अपनी ग़ज़लों में यथार्थ संम्प्रेषण के साथ— साथ कल्पना और सौन्दर्य को प्रमुखता से विवेचन किया है


                                        संपर्क—  कुमार कृष्णन,स्वतंत्र पत्रकार
                                     दशभूजी स्थान रोड, मोगलबाजार, मुंगेर
                                         बिहार— 811201


पुस्तक: ज़मीं से आसमां त​क (ग़ज़ल संग्रह)
ग़ज़लकार: अशोक आलोक
मूल्य: 150रुपये
प्रकाशन: मीनाक्षी प्रकाशन,दिल्ली—110092

kumar krishnan (journalist)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------