विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

शेख चिल्ली की कहानियाँ - 4 : तरबूज चोर

शेख चिल्ली की कहानियाँ

अनूपा लाल

 

अनुवाद - अरविन्द गुप्ता

 

तरबूज चोर

शेख चिल्ली को नींद नहीं आई। फातिमा बीबी ने उस शाम शेख की अम्मी को एक तरबूज दिया था जो वो इत्तफाक से घर लाना भूल गयीं। बस शेख उसी तरबूज के बारे में ही सोचता रहा। पूरे पिछले हफ्ते अम्मी रोजाना कई घंटों के लिए फातिमा बीबी के यहां उनकी बड़ी लड़की की शादी की तैयारियों में मदद करने को जाती थीं। और हर शाम अम्मी शेख के लिए फातिमा बीबी द्वारा दी गई चीजें लाती थीं। पहले दिन वो रसीले गुलाब जामुन लायीं थीं। उसके बाद में खीर और फिर केले। आज अम्मी को एक बड़ा तरबूज मिला था। शेख के मुंह में तरबूज के बारे में सिर्फ सोच कर ही पानी आने लगा! अम्मी को तरबूज का वजन बहुत भारी लगा इसलिए वो उसे फातिमा बीबी के घर के आँगन में ही छोड़ आयीं। शेख सुबह जाकर तरबूज को ला सकता था। परंतु वो तो तरबूज अभी खाना चाहता था। अभी! तुरंत! उसका भूखा पेट उसे आदेश दे रहा था।

शेख उठा। अम्मी अभी गहरी नींद में सोईं थीं। उसने चुपचाप रात के अंधेरे में और गांव की सुनसान गलियों में फातिमा बीबी के घर की ओर चलना शुरू किया। जैसे ही वो आंगन की चारदीवारी पर से कूदा उसे सामने अपना तरबूज पड़ा हुआ दिखाई दिया। तरबूज कोयले के एक ढेर के ऊपर पड़ा हुआ था। वो बस तरबूज को उठा कर चलने वाला ही था कि उसे घर के अंदर से आती कुछ आवाजें सुनाई पड़ी। वहां कौन हो सकता है? घर तो खाली था। पूरा परिवार तो पास के गांव में रिश्तेदारी में गया हुआ था। क्या वे सब जल्दी लौटकर वापिस आ गए थे? फिर उनके घर के बाहर ताला क्यों लगा हुआ था? शेख इन सब बातों के बारे में सोच रहा था तभी उसे अपनी ओर आते कुछ कदम सुनाई पड़े।

'' हाय राम '' कराहने की आवाज आई। वो आवाज लल्लन की थी। उसे पहचानने में शेख को कोई दिक्कत नहीं हुई। '' मैं उस बेवकूफ शेख चिल्ली को मार डालूंगा! उसकी वजह से ही मेरे पिता ने मुझे इतनी बुरी तरह मारा है कि मेरी हडडी-हडडी दुख रही है! और अब खिड़की से घुसते हुए टूटे हुए कांच से मेरा हाथ कट गया है। ''

'' अब कराहना बंद भी करो!'' एक दबी सी आवाज आई। शेख इस आवाज को नहीं पहचान सका। जैसे ही वो दोनों लोग सामने आए शेख कोयले के बोरों के पीछे छिप गया। वो कोयलों के बोरों के बीच की झिरी में से उन्हें देखता रहा। लल्लन के साथ कोई बुरी नियत वाला अजनबी था जिसे शेख ने बाजार में घूमते हुए देखा था। लल्लन एक थैले में कछ भर कर ले जा रहा था।

'' जल्दी करो अजनबी ने कहा। '' चलो फटाफट माल को बांट लेते हैं। ''

जब अजनबी ठीक बोरों के सामने अपनी पीठ करके बैठ गया तो शेख बेचारा बहुत घबराया। अजनबी ने थैले को लल्लन से छीना और उसके अंदर के सारे माल को जमीन पर उंडेल दिया। गले के हार सोने और चांदी की चूड़ियां चांदी के गिलास और सोने के सिक्के हल्की चांदनी में झिलमिलाने लगे। शेख उन सब गहनों को ताकता रहा। उसे मालूम था कि फातिमा बीबी ने उन्हें अपनी लड़की की शादी के लिए इकट्‌ठा किया था। अम्मी ने शेख को उनमें से हर एक के बारे में बताया था। और अब यह दोनों लोग उन गहनों को चुरा रहे थे! '' तुमने आधे से ज्यादा हिस्सा ले लिया है!'' लल्लन ने कमजोर आवाज में अपना विरोध दर्शाया। उसके बाद उस अजनबी ने लूट का थोड़ा सा और माल उसकी ओर बढ़ा दिया।

'' गनीमत है कि तुम्हें इतना भी माल मिल रहा है!'' अजनबी घुर्राया। '' मेरे बिना तो तुम्हारी घर में चोरी करने की हिम्मत ही नहीं होती! ''

'' यह घर भुतहा है लल्लन ने फुसफुसाते हुए इधर-उधर बेचैनी से देखते हुए कहा। '' कुछ लोग अब भी इस घर को भुतहा मानते हैं। '' '' तो चलो इससे पहले कि भूत हमें पकड़े हम यहां से भाग लेते हैं!'' अजनबी हंसा। उसकी हंसी में चालाकी छिपी थी। '' अगर तुम लूट का कुछ और माल चाहते हो तो अपने साथ उस तरबूज को भी ले जाओ!

अजनबी ने कोई तीन-चौथाई सोने और चांदी को थैले में भरा। बाकी को अपनी जेबों में भरते समय वो कुछ बुदबुदा रहा था। लल्लन ने खड़े होकर तरबूज को उठाने की कोशिश की। परंतु बारी के पीछे से शेख चिल्ली भी तब तक खड़ा हो गया था ओर तरबूज को अपनी पूरी ताकत से पकड़े हुए था! जेसे ही शेख की उंगलियां लल्लन की उंगलियों से टकरायीं वैसे ही लल्लन कों अपनी जिंदगी का सबसे बड़ा धक्का लगा!

भूत!'' वो बुदबुदाया। '' भू.. भूत!

शेख बोरा से टिककर तरबूज को कसकर पकड़े रहा। कोयले के दो बारे अचानक लुढ़के और लल्लन और उस अजनबी के ऊपर जाकर गिर। अब लल्लन ने सारी सावधानी को ताक पर रख दिया।

'' भूत?'' वो जोर से चिल्लाया।

'' भूत!'' डरा हुआ शेख चिल्ली भी जोर से चिल्लाया। '' भूत! चार भूत!''

इससे पहले कि दोनों चोर भाग पाते भीड़ जमा हो गई। कोयलें की धूल में सन दोनों चोरों को कोतवाली ले जाया गया। लल्लन अभी भी बुदबुदा रहा था '' भूत! भूत!''

एक पड़ोसी फातिमा बीबी के परिवार के वापिस आने तक लूट के गहनों की पहरेदारी करता रहा। शेख को लोग हीरो जैसे उसके प्यारे तरबूज के साथ घर वापिस पहुंचाने गए।

शेख चिल्ली की अन्य मजेदार कहानियाँ पढ़ें - एक, दो, तीन

(अनुमति से साभार प्रकाशित)

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget