रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

महशिवरात्रि पर विशेष – समरथ कहुं नहि दोष गोंसाईं / हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन

साझा करें:

हिंदू पंचांगके अनुसार प्रतिवर्ष 24 शिवरात्रि मनाया जाता है ! फाल्गुन मास की कृष्णपक्ष की त्रयोदशी को महाशिवरात्रि के रूप में उत्साह/उमंग के...

हिंदू पंचांगके अनुसार प्रतिवर्ष 24 शिवरात्रि मनाया जाता है ! फाल्गुन मास की कृष्णपक्ष की त्रयोदशी को महाशिवरात्रि के रूप में उत्साह/उमंग के साथ मनाए जाने की परम्परा सृष्टि के आरम्भ से ही चली आ रही है ! महाशिवरात्रि अर्थात कल्याण की रात्रि , आत्मकल्याण की रात्रि ,लोककल्याण की रात्रि ! यह दिन कल्याणकारी कार्यों का संकल्प लेने का होता है ! पुराने कार्यों/संकल्पों का लेखा जोखा , उसका विष्लेषण एवम नए कार्यों की योजना , उसके क्रियांन्वयन और सम्पादन की व्यवस्था आज के ही दिन से प्रारम्भ की जाती रही है प्राय: , और यह परम्परा सदियों पुरानी है हमारे देश में ! और शायद इसी के परिपालन स्वरूप आम बजट की प्रस्तुति इस तिथि के आसपास आज भी की जाती है ! यह महज संयोग नही है , वास्तव मे पौराणिक शासकों द्वारा ऋषि मुनियों के सुझाव या आदेश से संचालित परम्परा है !इस दिन भगवान शिव अपने कल्याण्कारी योजनओं को शासकों के मुख से उगलवाते हैं ताकि शासनाधीन प्रजा सुख और शांति का अनुभव कर सके !

महाशिवरात्रि के ही दिन भगवान शिव का दर्शन होता है – यह मान्यता सही नही है ! उनका दर्शन तो हरेक पीडित व्यक्ति तन मन से गुहार लगाकर कभी भी कर सकता है ! परंतु यह दिन विशेष इसलिए होता है क्योंकि भगवान शिव ने इसी दिन को अपना जनदर्शन घोषित किया हुआ है ! बिना किसी विशेष प्रयास से लोग उनके स्वरूप को ज्योति रूप में अपने आसपास स्थापित शिव मंदिरों मे या अपने भीतर भी महसूस सकते हैं , जिसे वेद ने स्वयं कहा है ‌-

अंतज्योर्ति बर्हिज्योति: प्रत्यग ज्योति परात्परम ! ज्योर्तिज्योति: परमज्योति सत्यं ज्योति शिवोड्स्महम ! महशिवरात्रि की रात्रि को ही दिव्यज्योति का प्राकट्य महाकाल के रूप मे पृथ्वी पर हुआ था कभी ! उस अछोर,अपार , अनंत ज्योति के लिए शिवपुराण लिखता है -

आकाशे तारकं लिगं ,पाताले हाटकेश्वरम ! मृत्युलोके महाकालं , लिंगत्रय नमोस्तुते !

इसी ज्योतिपिण्ड से बारह प्रकाश किरणें निकलीं , जिसे द्वादश ज्योर्तिलिंगानि कहते हैं – सौराष्टे सोम्नाथं, श्री शैले मल्लिकार्जुनम ! उज्जैन्या महाकालं,ओंकारं ममलेश्वरम !

परल्या वैद्यनाथं ,च डाकिन्या भीमशंकरम !सेतुबंधे तु रामेश्वरम , नागेश दारूकावने !

वाराणस्या तु विश्वेशं ,त्र्यम्बके गौतमीतटे ! हिमालये तु केदारं ,पुरमेशं च शिवालये !

सृष्टि का आरम्भ – शून्य, नीरवता एवम भयावह पिंड से हुआ ! पुराण और आधुनिक विज्ञान की मान्यताओं के अनुसार अखिल ब्रम्हाण्ड कभी आग उगलते गोले का स्वरूप थी , जो शनै: शनै: टूट कर इधर उधर बिखरती रही – भटकती रही ! इन्ही टूटे पिंडों पर सृष्टि विस्तार कर खेल खेलने का मन बनाया त्रिदेवों ने ! चिंतन की अविराम यात्रा के बीच निष्कर्ष निकला कि, सृष्टि की रचना ब्रम्हाजी करेंगे ,विष्णुजी रचना को सुंदरता प्रदान करेंगे एवम शिवजी वापस समेटकर कल्याण करेंगे ! खेल प्रारंभ हो गया , सृष्टि का निर्माण होने लगा ! पेड़ , पौधे , पशु , पक्षी ,जीव , जंतु , मानव सभी की रचना होने लगी ! उनको सुंदर बनाने के लिये बिष्णुजी व्यवस्था करते , अंत में शंकरजी इन्हे घर-घुंदिया की तरह समेट देते ! खेल बडा नीरस था ,क्योंकि ब्रम्हा जी बनाते, बिष्णुजी जैसे ही सुंदरता प्रदान करते वैसे ही शंकरजी उजाड़ देते ! पुन: एक साथ बैठे चिंतन मनन के लिये ! खेल को सरस बनाने का उपाय ढूढ़ने लगे ! ब्रम्हाजी ने कहा – मै इससे अधिक कुछ नही कर सकता, बिष्णुजी ने भी हाथ खड़े कर दिया और कहा – ज्यादा से ज्यादा भौतिक विलासिता प्रदान कर सकता हूं , पर खेल में मजा नही आयेगा , क्योंकि केवल खिलाड़ी कसरत कर रहे है ! ब्रम्हाजी ने सुझाव दिया –यदि हमारे प्यादे भी इस खेल मे मजा लेना शुरू कर देंगे तो खेल मे सरसता ऐसे ही आ जाएगी ! परंतु इसके लिए प्यादों को सजीव बनाना पड़ेगा और यह काम केवल शिव ही कर सकता है , क्योंकि वही इतना सामर्थ्यवान है जो अपनी आत्मा को किसी भी रूप में कहीं भी स्थापित कर सकता है , तब से शिवजी ने अपनी आत्मा को ज्योति का रूप देकर ,निर्जीवों में प्राण फूंक दिया, इसलिये बेद पुराण जीव को शिव का अंश मानते हैं !

महाराज हिमालय और माता मैंना अपनी पुत्री गिरिजा के विवाह योग्य हो जाने पर चिंतित थे ! नारदजी द्वारा हस्तरेखा देखने के बाद , नारदजी के हाव भाव को देख, मां पिता की हैरानी स्वाभाविक थी ! उन्होने बताया –पूरी दुनिया मे तुम्हारी पुत्री के योग्य वर मिल पाना असम्भव तो नही है , पर मुश्किल जरूर है – अगुन ,अमान ,मातु पितु हीना ! उदासीन सब संशय छीना !! और

जोगी, जटिल , काम, मन, नगन अमंगल दोष ! अस स्वामी एहि कंह मिलहि ,परी हस्त असि देख !!

अर्थात गुणहीन, मानहीन, माता पिता विहीन ,उदासीन, लापरवाह ,योगी ,जटाधारी ,निष्काम हृदय ,नंगा और अमंगलवेषधारी पति इसके भाग्य में लिखा है , पर इसके बावजूद ‌-

समरथ कहि नहि दोष गोसाईं ! रवि , पावक , सुरसरि की नाईं !

वह समर्थ व्यक्ति होगा , जिसकी इच्छा से रवि ,अग्नि , और गंगा सामर्थ्यवान बन पाते हैं ,ऐसे समर्थ व्यक्ति/देव को उक्त दोष कुछ नही बिगाड़ सकते ! प्रश्न अब यह उठता है कि समर्थ कौन होता है ? क्या वह, जिसके पास सत्ता की कुंजी है, या वह जिसके पास अकूत धन दौलत है, या वह जिसके पास बुद्धि या ताकत है ?लोग गलत व्याख्या कर कहते हैं – समर्थ वह जिसमें कोई दोष नही , कुछ यह भी कहते है - समर्थ जो करता है , उसे गलत नही ठहराया जा सकता !

यह क्षणिक सामर्थ्यता है , जो बुद्धि, बल, अन्यथा किसी अन्य तरीके के प्रभाव से हासिल की गई होती है , परंतु उसका प्रभाव नष्ट होते ही सामर्थ्यता कहां गुम हो जाती है ,पता तक नही चलता ! पर देवों के महादेव सामर्थ्यवान इसलिये हैं क्योंकि उनके पास देने के लिए कुछ दिखता नही परंतु सारे जग को अपना सर्वस्व दे देते हैं , सारे जग की बाधाए हर लेते हैं ! अपना प्राण देकर निर्जीव को सजीव बना देने वाले महादेवशिव ही समर्थ हैं !

शिव को समर्थ इसलिए भी कहा गया है क्योंकि वही हैं जो सारे विश्व मे वास करते हैं ! तभी तो शिव की उपासना आराधना श्मशान घाट तक में की जाती रही है ! सम्भवत: विश्व में वास करने के कारण विश्वास के रूप में माना व जाना जाता है ! कुछ मानस व्याख्याकार रवि ,गंगा और अग्नि को शिव की तरह समर्थ मानते हैं ! पर वास्तव में ये शिव के अभिन्न अंग हैं , उससे अधिक कुछ नही ! इनका नियंत्रक और स्वामी है शिव ! वास्तविकता तो यह है कि शिव को छोड़कर इनको धारण करने की सामर्थ्यता किसी मे भी नही ! शिव को शंकर इसलिये भी कहा गया है क्योंकि सृष्टि के सारे प्रमुख तत्व इन्ही में समाया हुआ है ! शंकर अर्थात मिला हुआ ! सृष्टि के रूप में मिली पार्वती शिव को शंकर बना , उन्हे समर्थ बनाने में अपना नाम जोड़ लेती है –

शंकर जगत वंद्य जगदीशा ,सुर नर मुनि सब नावत शीशा !

वास्तव में विश्व का सृष्टि क्रम अनवरत है ! हम सभी महसूसते हैं ईशान अर्थात शासनकर्ता के रूप मे एक शक्ति को ! अनादिकाल से ऋषिमुनियों ने आत्मरूप शिव की साधना , विश्वरूप शिव की आराधना और मूर्त अमूर्त रूप में शिव की उपासना का क्रम निर्धारित किया हुआ है और तभी से एको ब्रम्ह द्वितीयोनास्ति का सिद्धांत चलता रहा जो कलांतर में एक सत्यं , विप्रा बहुधा वदंति ..... के रूप में मान्यताएं बदलती रही !

शिव को समर्थ कहने का आधार सिर्फ इतना ही नही है ! सभी विधाओं और सभी विद्याओं के ईशान अर्थात स्वामी हैं भगवान शिव ! वे ही पंचमहाभूतों के नियंता भी हैं जिनका अनुशासन विश्व की सम्पूर्ण चेतना स्वीकारती रही हैं , प्रमाण स्वरूप -

ईशान सर्वविधानामीश्वर: सर्वभूतानाम (वेद)

ईश्वर: सर्व ईशान: शंकर चंद्रशेखर: (उपनिषद)

ईश्वर: सर्वभूतानां हृदयेशेडर्जुन तिष्ठति ( गीता) !

शिव पुराण के अनुसार ईशता सर्वभूतानां ईश्वर:, स्वयं सिद्ध और सर्वमान्य सत्य है ! तुलसी के शिव –

भवानी शंकर वंदे , श्रद्धा विश्वास रूपिणौ ! याभ्यां बिना न पश्यंति,सिद्धा: स्वांत स्थामेश्व्र: !!

सागर मंथन से निकले चौदह रत्नों में एक विष भी था , जिसके ताप से लोग जले जा रहे थे ! प्राणीमात्र घुटन महसूस रहे थे , सभी तरफ हाहाकार मच गया था ! कौन है जो इसे धारण कर सकता है ? ब्रम्हा और बिष्णुजी जानते थे , शिव के अलावा इसका पान किसी के लिए सम्भव नही ! सभी ने मिलकर भगवान शिव को याद किया ! कल्याणकारी महादेव ने प्रगट होकर विषम गरल को अपने कण्ठ में धारण किया ! वेदों ने यश गाया ! तुलसी लिखतें हैं -

जरत सकल सुर वृन्द , विषम गरल जिन्ह पान किया! तेहि न भजसि मतिमंद,को कृपालु संकर सरिस !

रहीम के अनुसार – मान रहित विष पान करि, सम्भु भये जगदीश !

शिव की डमरू से स्वर और व्यंजनों का जन्म हुआ ! डमरू के प्रथम घात से ,,,,लृ, और द्वितीय घात से सामवेद के सात स्वर सा,रे,,,,द्य,नि ध्वनित हुए !

एकोडहम बहुस्याम सृजनेच्छा से लेकर कालोडस्मि लोकक्षय कृत प्रवृद्दौ तक के मूल कारक होने के कारण इन्हे नटेश्वर कहते हैं , तथा सृष्टि को क्रीड़ा के रूप में विसर्जित करने की कला में निपुण ये ताण्डवरूपी महारास करने वाले रासराशेश्वर भी हैं !

राक्षसों के गुरू शुक्राचार्य , देवों के गुरू बृहस्पति और मानवों के गुरू वेदव्यास हैं ! इन तीनों के गुरू का दायित्व निर्वहन भी महाकाल ही करते आ रहे हैं अनादिकाल से !

राक्षसों के वैद्य सुखेन , देवताओं के वैद्य अश्वनीकुमार और मनुष्यों के वैद्य धन्वंतरि भी इन्हे महावैद्य के नाम से पुकारते रहे हैं , एवम संकटकालीन परिस्थिति में ये भी शिव का सहारा लेते हैं ! तभी तो इन्हे परल्या वैद्यनाथं कहा गया है !

शिव की उपासना सृष्टि के प्रारम्भ से ही होती आ रही है ! गांवों मे आज भी गोबर से घर द्वार की लिपाई करने वाली गृहणी के मुख से शिव शिव की ध्वनि सुनी जा सकती है ! घट पर कपड़ा धोता धोबी शिव शिव की रट लगाए रहता है , हल चलाता किसान तथा बर्तन धोता सेवक अपने काम में मग्न शिव का अस्पष्ट उच्चारण आज भी करते /देखे/सुने जा सकते हैं ! वास्तव में सभी जन यह जानते हैं कि शिव के ही सबसे करीब जीव होता है ! उस ज्योतिपिण्ड का ही हिस्सा है हमारा जीव, जिसका नास नही होता – ईश्वर अंश जीव अविनाशी ! जीव इसलिए न पैदा होता , न ही मरता , यह केवल प्रगट होता है और उसी शिव में विलीन हो जाता है !

जाने अनजाने में नाम लेने अथवा दर्शन पा लेने वाले को भी शिव मुक्ति प्रदान करते हैं ! भगवान शिव स्वयं कहते हैं – काशी मरत जंतु अवलोकी, करउ नाम बल जीव बिसोकी !

संतों के अनुसार काशी का अर्थ हमारा शरीर है – मन मथुरा , दिल द्वारिका , काया काशी जान ! दसवां द्वार देहुरा , तामें ज्योति पिछान ! पाप ताप और आवेश से छुटकारा पाने के लिए – जपहु जाई सत संकर नामा , होइहि हृदय तुरत विश्रामा ! शिव की महिमा का बखान मानस में – शिव सेवा पर फल सुत सोई , अविरल भगति राम पद होई ! और- शिव पद कमल जिन्हहि रति नाही , रामहि ते सपनेहु न सुहाही ! वेदों मे शिव महिमा –

असिति गिरि सम्स्यात कज्जलं सिंधु पात्रे ! तरूवरं शाखां , लेखनी पत्र मुर्वीम !

लिखिति यदि गृहित्वा ,शारदा सर्वकालं ! तदपि तव गुणाणाम ईशं,पारं न याति !!

शि अर्थात पापनाशक और अर्थात मुक्तिदाता ! जो हमारे पाप का नाश कर हमारी आत्मा को मुक्ति प्रदान करता है , वही तो शिव है -

शि कहते अद्य नाशक ,व कहते ही मुक्ति ! गजानंद शिव शिव कहु , प्रेम ज्ञानयुक्त भक्ति !

सृष्टि को सृष्टा से , इडा को पिंगला से ,मैं को तू से, अहम को परम से, त्व को स्वयं से, पर को अपर से, अलख को लख से, चर को अचर से, जड़ को चेतन से मिलाकर जीव को शिवत्व का बोध कराने वाले स्वयंसिद्ध समर्थ ही योगेश्वर शिव हैं !

निश्चित ही ऐसे कल्याणकारी महादेव ही समर्थ हैं , जो आज भी विराजित हैं, न केवल मंदिरों में बल्कि हमारे , आपके सभी के दिलों में ! प्रणम्य है इस महाशिवरात्रि की शुभ बेला में और कामना है विश्व के हर छोटी बड़ी कार्यों/ घटनाओं पर आपकी ज्योति की छाया पड़ती रहे ताकि, न केवल मानव जाति का, बल्कि पूरी सृष्टि का स्वमेव कल्याण होता रहे ! वैसे भी शिव जो करेंगे वह सही ही होगा क्योंकि – समरथ कहुं नहि दोष गोसाईं !!

 

 

लेखक –

हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन

उप मुख्य नियंत्रक , द.पू.म. रे. रायपुर

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3830,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2771,कहानी,2097,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,820,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,307,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1908,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,644,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,685,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: महशिवरात्रि पर विशेष – समरथ कहुं नहि दोष गोंसाईं / हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन
महशिवरात्रि पर विशेष – समरथ कहुं नहि दोष गोंसाईं / हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन
https://lh3.googleusercontent.com/-0Y-GWMx5K4c/VtnKQpAM9oI/AAAAAAAAr_Q/EMmHpnB5ajA/image_thumb%25255B5%25255D.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-0Y-GWMx5K4c/VtnKQpAM9oI/AAAAAAAAr_Q/EMmHpnB5ajA/s72-c/image_thumb%25255B5%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2016/03/blog-post_91.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/03/blog-post_91.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ