विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

देशवासियों के नाम खुला खत / शालिनी तिवारी

 

खुला खत

देशवासियों के नाम एक ऐसा खुला खत, जो प्रत्येक भारतीय को अपनी भारतीयता से रूबरू कराकर गौरवान्वित कर देगा और साथ ही साथ गर्त की ओर बढ़ रहे कदम पर भी विराम लगाने को मजबूर कर देगा ।

मेरे प्रिय देशवासियों,

हम सबको पता है कि हममें से अधिकतर लोग या तो पाश्चात्य संस्कृति को पूर्णरूपेण अपना चुके हैं या फिर अपनाने की प्रक्रिया में गतिशील हैं । मुझे भली भाँति यह भी पता है कि आप हमारे इस खुले खत को पढ़कर या तो मेरा मजाक उड़ाएगे, गालियाँ देंगे या फिर पुराने विचारों वाली कहेंगे, परन्तु इसका ड़र हमें कतई नहीं है । शायद हम सब यह भूल चुके हैं कि सदियों पहले भारत अपनी भारतीय सभ्यता एवं श्री संस्कृति के बदौलत ही विश्व गुरू था और यही भारत समूचे विश्व में अपने ज्ञान, कौशल और अध्यात्म के लिए एक नज़ीर भी था । किसी ने बिल्कुल ठीक कहा था कि "नष्टे मूले नैव फलं न पुष्पम्" यानी जिस देश को मिटाना हो तो उस देश की सभ्यता, संस्कृति एवं साहित्य को मिटा दो। साहित्य तथा उसकी वास्तविक संपत्ति- चरित्र को मिटा दो। धीरे धीरे वह देश स्वतः मिट जाएगा ।

हम सब भारतीय संस्कृति से भली भाँति परिचित हैं । भारतीय संस्कृति विश्व में सबसे प्राचीन और सभ्य मानी जाती है और यह सभी संस्कृतियों की जननी भी कही जाती है । भारतीय संस्कृति में वेदों, उपनिषदों तथा पुराणों का विपुल भण्ड़ार है, जरूरत है तो सिर्फ इसे आत्मसात् करने की । यदि हमारे छात्र एवं युवा वर्ग इस ज्ञान का कुछ अंश भी ग्रहण कर लें तो उनके चरित्र का सर्वांगीण विकास स्वतः ही हो जाएगा फिर पाश्चात्य संस्कृति हम सबका चरित्र निर्माण क्या करेगी ?

मै पूछना चाहूँगी कि क्या पाश्चात्य संस्कृति आने से पहले हमारे यहाँ अच्छे विद्वान नहीं थे ? हमारे देश ने तो आर्यभट्ट, चरक जैसे महान वैज्ञानिक दिए हैं । भारतीय संस्कृति जिसमें कहा गया है - "अभिवादन शीलस्य नित्यं वृद्धोपसेविनः, चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्यायशोबलम् " अर्थात जो नित्य प्रति माता पिता का आदर सम्मान एवं बड़े बुजुर्गों की सेवा करते हैं उनकी आयु, विद्या, यश और बल में वृद्धि होती है परन्तु पाश्चात्य संस्कृति में तो यह दूर दूर तक नहीं दिखता ।

पाश्चात्य सभ्यता साइबेरिया से आने वाली उन ठण्ड़ी हवाओं के समान हैं, जो चलती तो हैं परन्तु हिमालय जैसे व्यक्तित्व से टकराकर घुटने टेक देती हैं या फिर यूँ कहें कि पाश्चात्य संस्कृति उस चमकती हुई वस्तु के समान है जो दूर से तो सोना दिखती है परन्तु पास आने से भ्रम दूर हो जाता है । तो ऐसी संस्कृति हमारे छात्रों का चरित्र निर्माण क्या करेगी जिसका स्वयं का कोई आधार ही न हो ?

हमारी श्री संस्कृति में शादी-विवाह को एक पवित्र बन्धन माना जाता है । यहाँ जो स्त्री एक बार इस बन्धन में बँध जाती है, वह जीवन भर अपने पति का साथ निभाती है या फिर यूँ कहें कि भारतीय स्त्री मिट्टी के उस प्याले के समान है जो सिर्फ एक व्यक्ति के होंठो में समाती है और फिर टूटकर उसी मिट्टी में वापस मिल जाती है, जबकि पाश्चात्य संस्कृति में महिलाएँ होटल के उस काँच के गिलास के समान हैं, जो आज किसी के होंठों में तो कल किसी और के होंठो में । वे अपने जीवन साथी उसी प्रकार बदलती है जिस प्रकार लोग अपना कपड़ा बदलते हैं । मगर अफ़सोस है कि आज हमारे छात्र, छात्राएँ भी इस सभ्यता को अपनाकर पवित्र बन्धन को तोड़ ड़ालने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं । इस प्रकार की संस्कृति छात्रों का चरित्र निर्माण नहीं बल्कि उनके चरित्र का विनाश कर रही है ।

भारतीय संस्कृति में कहा गया है कि " यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते, रमन्ते तत्र देवता " अर्थात जहाँ नारियों की पूजा होती है वहाँ देवता निवास करते हैं परन्तु आज उसी नारी के साथ बलात्कार, दहेज प्रताड़ना जैसी घिनौनी घटनाएँ आम हो चुकी हैं । यह उस पाश्चात्य संस्कृति की ही देन है जहाँ ये रंग-रलियाँ खुले आम होती हैं । आज गर्भ से ही पता लगा लिया जाता है कि पैदा होने वाली संतान लड़का है या लड़की । यदि लड़की है तो उसे इस दुनियॉ में कदम तक नहीं रखने दिया जाता है ।

यदि हम इतिहास के पन्ने को पलटकर देखें तो हम सीता, सावित्री, अहिल्याबाई, कुन्ती, अपाला, गार्गी, पन्नाधाय, झाँसी की रानी लझ्मी बाई एवं इंदिरा गाँधी जैसी वीरांगनाओं के चरित्र से रूबरू होंगे, जिनका लोग आज भी उदाहरण दिया करते हैं और आज उसी नारी को अपमानित होना पड़ रहा है । इसकी वजह सिर्फ पाश्चात्य संस्कृति ही है, जिसका अनुसरण करके भारतीय नारी भी अंग प्रदर्शन, वेश्यावृत्ति जैसे दलदल की ओर अपने कदम बढ़ा रहीं हैं ।

आज बात करें भारतीय रहन- सहन, खान-पान, व वेशभूषा की तो यहाँ लोग सादगी पूर्ण जीवन जीने में खुश थे, लेकिन आज हालत ये बन गई है कि अगर पहनने को जीन्स-टीशर्ट न मिले तो अपने आपको हीन महशूस करने लगते हैं ।

लोग बार बार यही कहते हैं कि पाश्चात्य संस्कृति ने हमें अंग्रेजी दी, जिसके सहारे हम अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाने में कामयाब हुए हैं और उन्नति की ओर अग्रसर हुए हैं । हम उन्नति की ओर अग्रसर तो हो सकते है लेकिन जरूरी नहीं कि चरित्रवान ही हों, क्योंकि उन्नति एक चरित्रवान भी कर सकता है और चरित्रहीन भी । यह जरूरी नहीं कि अंग्रेजी बोलने वाला हर व्यक्ति चरित्रवान ही हो, क्योंकि हमारा चरित्र वही रहता है जो हमारे माता पिता और समाज से मिला है । अगर हम गौर करें तो पाएंगे कि पाश्चात्य संस्कृति हमारा चरित्र निर्माण कर ही नहीं सकती । जब हमारी संस्कृति खुद उन्नति साधक एवं चरित्र निर्णायक है तो पाश्चात्य संस्कृति अपनाने की कोई आवश्यकता ही नहीं हैं ।

बीते जमाने में पाश्चात्य देशों के मैगस्थनीज, ह्वेनसांग जैसे महान दार्शनिकों ने भी भारतीय संस्कृति को श्रेष्ठ बताया था । तो भी क्यों आज भारतीय ही पाश्चात्य संस्कृति को अपनाने में अड़े हुए हैं ? सच तो यह है कि हमें अतीत को कभी भूलना ही नहीं चाहिए ।

अन्त में समूचे देशवासियों से हमारी यही विनती है कि पाश्चात्य उद्दाम भोगवादी संस्कृति से ऊपर उठकर हम सब अपने भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता के गौरव को समझकर इसे अपने चरित्र, कर्म और अन्तःस्थल में उतारें । ताकि एक बार पुनः हमारा राष्ट्र सोने की चिड़िया बने और विश्व गुरू बनकर समूचे विश्व में भारतीयता का परचम लहराए ।
धन्यवाद्

जय भारत, जय संस्कृति

आपकी
शालिनी तिवारी
shalinitiwari1129@gmail.com

--

लेखिका परिचय -

"अन्तू, प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश की निवासिनी शालिनी तिवारी स्वतंत्र लेखिका हैं । पानी, प्रकृति एवं समसामयिक मसलों पर स्वतंत्र लेखन के साथ साथ वर्षो से मूल्यपरक शिक्षा हेतु विशेष अभियान का संचालन भी करती है । लेखिका द्वारा समाज के अन्तिम जन के बेहतरीकरण एवं जन जागरूकता के लिए हर सम्भव प्रयास सतत् जारी है ।

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

बेनामी

बहुत ही सुन्दर खत है , निश्चित रूप से देशवासियों को इस पर अमल करना चाहिए और भारतीय संस्कृति को अपनाना चाहिए

रूची
मुम्बई

बेनामी

Too intellactual writting , disturvence make in our society only bcz of lack of values, culture & indian system..so we should to fallow our indian culture.

Thx

Dr sk ray
Kanpur

बेनामी

Rajeswar

भारतीय संस्कृति की खूबसूरत झलक दिखाता लाजवाब खत

आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति आचार्य परशुराम चतुर्वेदी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget