रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

कविताएं - वेणी शंकर पटेल ‘ब्रज’

1. माटी का दिया
गगनचुंबी इमारतों पर
जलने बाली दीपमालायें
कितना ही प्रकाष
क्यों न विखेर दें
अंतस के कलुष को
नही हटा पाती
प्रेम और सद्भाव के बजाय
ईष्या ही बढाती हैं
इन दीपमालाओं के सामने
भले ही बौना लगता हो दिया
परन्तु
झोपड़ी के अंधकार को
बेशक दूर भगाता है
और अंतर्मन को भी
आलोकित करता है
माटी का दिया


2. हरियाली
सूखी धरती के आंचल में
जब समाती हैं
वर्षा की बूंदे
तब तृप्त धरती की कोख से
उपजी हरियाली
करती है
बसुधा का श्रृंगार
नव वधु सी
सकुचाती शर्माती प्रकृति
झंकृत कर देती है
मन वीणा के तारों को
हवा के झोंको के साथ
जब हरियाली की चुनरी
उड़ती है
तो अंतर्मन में प्रवाहित
झरने का
कल कल बहता नीर
किसी सरिता की
अथाह जल राशि में
हो जाता है समाहित


3. यात्रा
तेज रफ्तार
दौड़ती टेन में
खिड़की के पास बैठे हुये
जब बाहर की ओर
दिखाई देते हैं
हमसे दूर भागते पेड़
और हरी भरी फसलों से लहलहाते खेत
तब कल्पनाओं के
निकलते हैं पंख
और प्रारंभ होती है
मन की यात्रा


4. बचपन
खलिहान में लगा
नीम का पेड़
जिसकी घनी छॉव में
गर्मियों की
न जाने कितनी दुपहरी
विताई हैें मैंने
मुहल्ले के बच्चों के साथ
खेला है गेंद गड़ा
ते कभी गिल्ली डंडा
खपडे से बनी सात ढिपरियों को
गेंद मारकर जमाया है कई बार
बचपन में खेले गये
इन खेलों से अंजान हैं
आज की नई पीढी
बस्तों के बोझ तले
गुम हो गया है
जिनका बचपन
जो धूल मिट्टी से दूर
खेलते हैं
स्मार्ट फोन पर गेम
तब बहुत याद आता है
नीम का वही पेड़
और अपना
बीता हुआ बचपन

5. लड़कियां
गॉव से शहर जाती
सायकिल पर सवार लड़कियां
केवल स्कूल ही नही जाती
बल्कि
सायकिल के कैरियर पर
अपने बीमार पिता को बिठाकर
ले जाती हैं अस्पताल
छोटे भाई को
पहुॅचा देती हैं स्कूल
खेत में काम कर रही अम्मा को
ले जाती हैं रोटियां
और तो और
गाय के लिये
चारे का गठ्ठर लानें में
पीछे नही हैं लड़कियां
और अपने मां बाप की
आंखों पर चढी उस घूल को
साफ कर रही हैं लड़कियां
जो समझते हैं
लड़कियों को दीन हीन
• वेणी शंकर पटेल ‘ब्रज’
साईंखेड़ा गाडरवार
विषय:

एक टिप्पणी भेजें

बहुत बढ़िया

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget