विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

भारतीय शिक्षा व्यवस्था का आलोचनात्मक अध्ययन / मनीष कुमार सिंह

कहानी में हमेशा तीन पक्ष होते है – पक्ष , विपक्ष और सत्य ! इतिहास मनाव को अतीत की वास्तविकताओं का दर्शन कराता है , वैसे भी इतिहास का शाब्दिक अर्थ भी है – “ऐसा ही था ” या “ऐसा ही हुआ ”! भारतीय शिक्षा के इतिहास को मुख्यतः हम पांच भागों में बाँट सकते है !

1- वैदिक काल/Vedic Period - छह सौ ईसा पूर्व

2- बुद्ध काल/Buddhist Period  - सन 600 से 1200 तक

3- मुस्लिम काल/Muslim Period – सन 1200 से 1800 तक

4- ब्रिटिश काल/British Period – सन 1800 से 1947 तक

5- स्वतंत्रोतर काल/After Independence Period – सन 1947 से अबतक

वैदिक काल की शिक्षा व्यवस्था की बात करें तो इसमें व्यक्ति के अध्यात्मिक उन्नति पर ज्यादा जोर दिया जाता था ! शिक्षण काल में छात्र को  सामाजिकता , विनम्रता , भद्रता , सहन-शीलता , सहकारिता आदि का पाठ काफी बेहतर ढंग से सिखाया जाता था ! “भिक्षाटन द्वारा छात्रों को विनय का पाठ पढ़ाना” , संभवतः विश्व इतिहास का एकमात्र दुर्लभतम उदहारण है !  

उसके बाद आयी बुद्ध काल की शिक्षा प्रणाली वैदिक काल से मात्र इतना भिन्न थी कि इसमें अध्यात्मिक उन्नति पर ज्यादा जोर न देकर नैतिकता तथा शील पर ज्यादा जोर दिया गया ! नैतिक चरित्र के साथ दैनिक जीवन में मधुर व्यवहार , अच्छा आचरण , निष्ठा छात्रों को ढंग से सिखया जाता था ! नालंदा (सन 425  से सन 1205 ) बुद्ध काल की शिक्षा का गौरव रहा !

फिर उसके बाद मुस्लिम काल में मुस्लिम संस्कृति के आधार पर अरबी , फारसी और बाद में उर्दू की शिक्षा दी गयी ! यह काल medieval period के नाम से भी जाना गया !

मुग़ल वंश का अंत होते – होते अंग्रेजी हुकूमत चलने लगी ! और भारतीय शिक्षा अब अंग्रेजो के हाथ में चली गयी ! 1835 में लार्ड टी . बी . मैकाले साहब आये और उन्होंने कहा की – 

"A single shelf of a good European library was worth of the whole native literature of India & Arabia ”

अब चूंकि हम भारतीयों के लिए अंग्रेजी में लिखा परचून की दूकान का हिसाब भी बड़ा साहित्य होता है ! अच्छा अंग्रेजी से हम सबका रिश्ता भी हमेशा सौतेली माँ वाला रहा ! प्यार पाना चाहा तो बहुत , मगर मिला नहीं ! लेकिन फिर भी मैकाले साहब का स्टेटमेंट सुनते ही हम सब , अपने भारतीय ज्ञान को गंवार , निष्कृष्ट और विज्ञान विहीन बताकर/समझकर हम वैज्ञानिक बनने चल पड़े !

साफ़ शब्दों में कहूँ तो उनकी फैक्ट्री में मजदूर बनने भर की शिक्षा लेने लगे ! और यही से एक अजीब सी मानसिक गुलामी का दौर शुरू हो गया ! खैर , काफी संघर्षों के बाद 1947 में हमें अंग्रेजों की हुकूमत से तो आजादी मिली , पर मानसिक गुलामी से आजादी नहीं मिली !

शिक्षा व्यवस्था में ताबड़तोड़ बदलाव किये गए ! जहाँ लिखना था  –  

नवगति , नवलय , ताल छन्द नव

नवल कंठ , नव जलद मंद्र रव

नव नभ के नव विहंग वृन्द को

नव पर , नव स्वर दे ! ( - महाप्राण निराला )

वहां – jhony – jhony ! yes papa , eating sugar no papa !” लिखा गया ! यह आँख मूंदकर दूसरों को ही सही मानने और अपने / अपनों पर भरोसा न होने का नायाब नमूना था (है) !

नतीजा , यह हुआ की शिक्षा व्यवस्था जन-मानस से कटती गयी ! नकली ज्ञान केंद्र (कोचिंग – सेण्टर ) , हरेक नुक्कड़ पर पान की ढाबली की तरह खुले निजी पब्लिक/कान्वेंट स्कूल , जिनमे न अच्छे अध्यापक है न अच्छी सुविधाएँ शिक्षा व्यवस्था का बेडा-गर्क करने  पर तुलें है ! एक बात यह भी है की जो लोग “हाई-मोस्ट” फीस लेने के बाद अपने ही नन्हें बच्चों के यूनिफार्म सेलेकर कॉपी-पेंसिल में भी कमीशन खाते हो ! वह भला कौन सी शिक्षा देंगे आप बेहतर समझ सकतें है (?)!

सरकारी विद्यालयों की दुर्दशा किसी से छिपी नहीं है ! मध्यान्ह भोजन , फंडामेंटल राईट ऑफ़ एजुकेशन , फ्री एजुकेशन , छात्रवृत्ति  जैसी सुविधाएँ यहाँ बस मजाक बनकर रह गयी है ! और सही भी प्रत्येक छात्र को सिर्फ चार रुपयें में कोई अध्यापक कैसे २०० मिली . मिल्क और तहरी उपलब्ध कराएँ ? अध्यापक को सरकार हमेशा गैर – शैक्षणिक कार्यों में ही जोते रहेगी तो वह पढ़ाएंगे कब ? महिला अध्यापिकाओं की जरूरतें और सुरक्षा पूरी करने में प्रदेश / देश की सरकार बिलकुल ही असमर्थ है ! महिला अध्यापिका की कमी के कारण ही 11 वर्ष से 17 वर्ष की अधिकांश लड़कियां घर पर रोक ली जाती है ! इस तरह सेकेंडरी/हायर एजुकेशन में बहुत कम लड़कियां ही पहुच पाती है , खासकर , गाँव की बच्चियों की शिक्षा तो रुक ही जाती है ! तो कुल मिलकर टोटल गेन यहाँ भी  “निल-बटे-सन्नाटा” ही है !

देश में लगभग 16000 अध्यापक प्रशिक्षण संस्थान है जिनकी स्थिति दयनीय है ! सरकारी विद्यालयों में 25% से भी अधिक अध्यापक प्रतिदिन अनुपस्थित रहते है ! यह भी ख़राब शिक्षा का एक प्रमुख कारण है ! शिक्षक को भी अपना मूल्यांकन करने की जरुरत है ! महाभारत में कहा गया है कि –“गुरुगुर्रुत्मो धाम:” यानी गुरु मनुष्यत्व से देवत्व की ओर ले जाता है ! तो महज ‘छात्र सुनते ही नहीं’ कहने से आपके कर्तव्यों की इतिश्री नहीं हो जाएगी ! हमारी संस्कृति में सम्मान किराना की दुकान पर नहीं मिलता , उसे कमाना पड़ता है ! शिक्षक को छात्र से सम्मान चाहिए तो पहले उसे अपनी आचरण की शुद्धता का उदहारण रखना होगा ! समय के पाबंद , विद्वान , विनम्र और अनुशासित शिक्षक की अवहेलना छात्र कर ही नहीं सकता है !

चिली(96.2% लिटरेसी-रेट),मलेशिया (95%),श्रीलंका (91%) जैसे छोटे विकासशील देश जब अपने शिक्षा बजट को बढ़ाकर अपनी शिक्षा व्यवस्था सुधार सकतें है ! तो आखिर हमारी सरकारें क्यूँ इसके लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाती है ? और समाज भी जो हरेक मुद्दें पर सड़क पर उतर आता है ! आखिर कब गुणवत्ता वाली शिक्षा , समान शिक्षा के लिए एकजूट और जागरूक होकर आवाज उठाएगा ! हमें(समाज) खुद भी अपने चरित्र पर सोचने की जरुरत है ! एक छोटा सा ईमानदारी से किया गया प्रयास (टीचर + गवर्नमेंट + पेरेंट्स द्वारा ) प्राइमरी / सेकेंडरी एजुकेशन सिस्टम को सुधार सकता है ! हायर एजुकेशन में तो कॉलेज अपने बलबूते पर ही बहुत कुछ अच्छा कर सकता है ! बस इनके प्रोफेसर को डिपार्टमेंटल पॉलिटिक्स और स्टूडेंट्स को क्लास पॉलिटिक्स कम करना होगा ! लेकिन इनके लिए बस इतना ही कहना चाहूँगा –“खुद को जख्मी कर रहें है , गैर के धोखे में लोग .....!”

यहाँ हमें शिक्षा में भौतिक उन्नति के साथ – साथ अध्यात्मिक उन्नति पर भी बल देना होगा ! जिससे छात्र चरित्रवान , स्वस्थ्य और धैर्यवान बने ! छात्र नफरत , घृणा , बैर , अहंकार , और आत्महत्या की तरफ जाने के बजाय प्रेम , सृजन , कल्याण का चयन करें !

एक ऐसी शिक्षा प्रणाली जिसमे छात्र को टारगेट अचीव करने वाला निर्जीव रोबोट न बनाकर ! मेहनत , प्रेम और करुणा रखने वाली मानवीय आत्मा समझा जाये ! जहां केवल उनकी उपलब्धियों से नहीं , उनकी मानवता से भी उनकी क़द्र हो !

आँख मूंदकर विदेशी विचारों को छात्रों पर आरोपित न किया जाये ! हमें अपनी आंतरिक स्थिथि का ठीक से जायजा लेकर अपनी पुस्तकों को समाज से जोड़ना होगा ! कुछ याथार्थ चिंतन शामिल करने होंगे अपने पाठ्यक्रम में ! जिससे छात्र अपने अतीत , वर्तमान और भविष्य से जुड़ सकें उनको जान सकें ! बापू ने कहा है - “संवेदना विहीन विज्ञान सामाजिक पाप है !” और विनोवा ने भी कहा है की –“वह ज्ञान जिसमे आप अपनों के साथ हंस न सकें , उनके दुखों को न महसूस न कर पाए ! अज्ञान से भी बदतर होता है !”

बिना तर्क की कसौटी पर कसे ही अपने भारतीय ज्ञान ,विचार ,पद्धति को नकार देना कोई होशियारी नहीं है ! एनसीआर  में रह रहे आपके भाई के बच्चें या आपका ही बेटा / बेटी  आपको गाँव से आया आश्रित और पुराने ख्यालात का आदमी समझे ! पोस्ट – ग्रेजुएशन कर रहे लोग एक-दुसरें के लिए अथाह नफरत लेकर जीते हों ! और जब प्यार , सवेंदानाएं , अपनापन  सब कुछ “सेलेक्टिव ” हो जाये , साधारण शब्दों में कहूं तो बनावटी और फर्जी हो जाये !  तो शिक्षा का फायदा क्या है ? और आप लोग ज्ञान के विकास का दंभ पाले बैठे रहो !

कथा है की – एक बार , एक शिष्य ने अपने गुरु से पूंछा की – गुरुवर आप सारे संसार को मेहनत का सन्देश देते है ! करुणा का सन्देश देते है ! प्रेम का सन्देश देते है ! इससे क्या लाभ है ?  गुरु ने शिष्य के प्रश्न का उत्तर नहीं दिया ,बल्कि शिष्य का हाथ थामा और एक ऐसी जगह ले गया जहा दूर – दूर तक केवल रेत ही रेत बिखरी पड़ी थी !

गुरु ने शिष्य से कहा – पुत्र , आज शाम तक तुम इस रेत से एक प्रतिमा (मूर्ति) बनाकर आश्रम ले आना फिर मै बताऊंगा की मै पूरी दुनिया को मेहनत , प्रेम और करुणा का सन्देश क्यूँ देता हूँ ?  शिष्य प्रतिमा बनाने में जुट गया ! वह बार – बार रेत को इक्कठा करके प्रतिमा बनाने की कोशिश करता पर रेत बार – बार बिखर जाती ! ऐसा करते – करते उसके माथे पर पसीने की कुछ बूंदे आ गयी ! आज्ञाकारी शिष्य था , सोचा की गुरुवर के आदेश का पालन नहीं कर पाया हूँ ! तो आँखों में आँसू  भी आ गये ! पसीने की बूँद और आँखों के आँसू जब हथेली पर गिरे तो हाथों में लगी रेत कुछ गीली हो गयी !

शिष्य समझदार था वह गुरु के पास अपने प्रश्न का उत्तर जानने नहीं गया , बल्कि दुनिया वालों के पास गया और कहा की – हमारा जीवन एक सूखी मिट्टी की तरह है ! अगर इसमें माथे पर मेहनत के पसीने की बूंदे नहीं , आँखों में करुणा के आँसू नहीं , ह्रदय में प्यार की छलकन नहीं तो बाकी सब कुछ होते हुए भी यह बेकार है ! आप भी इस कथा का मर्म समझिये और अपने बच्चो को भी समझिए ! यही असली शिक्षा के मायने है और शिक्षित-जीवन का सत्य !

आखिर में –

लोहे का स्वाद !

लोहार से मत पूछो !

उस घोड़े से पूछो !

जिसके मुँह में लगाम है !(धूमिल)

--

 

लेख़क परिचय :

मनीष कुमार सिंह

जन्मस्थली बहराइच,उत्तर-प्रदेश ! कंप्यूटर साइंस परास्नातक में अध्यनरत ! शिक्षा,साहित्य,दर्शन और तकनीकी में रूचि ! संपर्क-8115343011

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget