गुरुवार, 26 जनवरी 2017

गणतंत्र दिवस विशेष : चलो कहीं ओर चलें / राम कृष्ण खुराना

चलो कहीं ओर चलें

CHALO KAHIN AUR CHALEN

राम कृष्ण खुराना

एक और गणतंत्र दिवस मनाने का दिन आ गया ! वो गणतंत्र जो हमें देश के लाखों वीरों की कुर्बानी देकर आज़ादी हासिल होने के बाद मिला ! आज़ादी के बाद देश को सुचारु रुप से चलाने के लिए हमने एक संविधान बनाया ! जिससे देश में व्यवस्था स्थापित हो और देश का शासन, जन-जीवन और सारा प्रबंध चल सके ! हमारे कार्यों को एक दिशा मिल सके ! सभी कार्य एक मर्यादा में एक मानदण्ड के अनुसार संचालित हों ! किसी प्रकार की अव्यवस्था, किसी प्रकार का कोई असंतुलन अथवा कोई दुराचार न रहे ! अच्छे और ऊंचे आदर्शों का पालन हो जिससे देश व देश की जनता तरक्की करे ! देश आगे बढे, दुनिया में हमारे देश का डंका बजे ! हमेशा से ही राम राज्य का सपना और उच्च आदर्श ही हमारा लक्ष्य रहा है ! देश में सभी एक दूसरे से प्यार करें ! सुख-शान्ति हो ! सभी को रोज़गार मिले, रहने के लिए घर हो, भर पेट भोजन मिले ! क्योंकि बिना भोजन के तो भजन भी सम्भव नहीं होता ! नीरज की यह पंक्तिया भी कुछ इसी प्रकार की बात कहती हैं !

तन की हवस मन को गुनाहगार बना देती है,

बाग के बाग को बीमार बना देती है !

भूखे पेट को देशभक्ति सिखाने वालों,

भूख इंसान को गद्दार बना देती है !

[ads-post]

यथा राजा तथा प्रजा ! अर्थात जैसा राजा होगा वैसी ही प्रजा होगी ! यदि शासक ईमानदार और अच्छा होगा तो जनता भी ईमानदार और अच्छी होगी ! राजा के संस्कार प्रजा में स्वाभाविक रुप से आ जाते हैं ! राजा के धर्मनिष्ठ होने पर प्रजा भी चरित्रवान हो जाती है ! परंतु आज का माहौल बदल गया है ! आज हमने जिन नेताओं पर भरोसा करके सत्ता पर बिठाया था उनकी नज़रे बदल गई लगती हैं ! जैसे कि :

न आंसू अलग हैं न आहें अलग हैं !

किसी धर्म की न राहें अलग हैं !

मगर सोचता हूं कुछ सिरफिरों की,

वतन के लिए क्यों निगाहें अलग हैं !!

सत्ता की छत पर तो कुत्ता भी बडा लगता है ! परंतु वह तो छत की ऊंचाई है, कुत्ते की नहीं ! हमें सत्ता पर खडे कुत्ते की सेवा नहीं करनी चाहिए ! दुनिया में कुछ न बिकने वाले और कुछ न खरीदने वाले लोग भी होने चाहिए ! शासन पर बने रहने या आने का मोह और बिना परिश्रम के जल्द से जल्द धन बटोर लेने की भावना देश को बरबाद कर रही है ! आज देश मे चतुरता की राजनीति का बोलबाला है ! चरित्र की राजनीति समाप्त हो चुकी है ! आज समय और परिस्थियों को राजनीति में अस्त्र की तरह इस्तेमाल किया जाता है ! लोग अपने आप को खुदा समझने लग गए हैं ! इंसान नदारद हो गया है ! किसी ने सही कहा है :

तेरे बन्दों को क्या हो गया है !

जिसे देखो खुदा हो गया है !

मुल्क में सब मयस्सर है लेकिन,

सिर्फ इंसा हवा हो गया है !

भारत में सिर्फ दो जातियां हैं ! एक जाति में गरीब और निम्न वर्गीय लोग हैं ! इन लोगों के लिए दो वक्त की रोटी जुटाना भी बहुत कठिन है ! दूसरी जाति के लोग वो है  जिसमें वे अमीर, नेता, अधिकारी लोग आते हैं, जो जनता की गाढ़ी कमाई को हडप कर अपने पेट की गोलाई को बढा रहे हैं ! जिनके खाते  स्विस बैंकों में हैं और करोड़ों-अरबों के वारे-न्यारे हो रहे हैं । आम जनता की मेहनत  की गाढ़ी कमाई से सिर्फ नेता लोग ही अपना घर  नहीं भर रहे हैं  बल्कि बडे अधिकारी भी इस खेल में पूरी तरह से शामिल हैं ! गरीब और गरीब होता जा रहा है ! अमीरों के खज़ाने की कोई सीमा नहीं है ! मंहगाई ने खाद्य-पदार्थों और आम जरूरत की वस्तुओं को दुर्लभ बना दिया है ! एकाएक उनकी कीमत आसमान छूने लगी है ! लोगो के लिए अपना पेट पालना भी मुश्किल हो गया है !

यहां तन ढकने की खातिर खुद तन ही बिकने लगता है !

कोई पेट पालने निकला तो कोई पेट में पलने लगता है !!

विदेशी कहते हैं कि हमने हिन्दुस्तान देखा है ! परंतु हमें गांधी का हिन्दुस्तान कहीं भी नज़र नहीं आया ! स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात स्वंतत्रता को बनाये रखने के लिए भी बलिदान की आवश्यकता होती है ! अच्छी व्यवस्था के लिए कोई छोटा रास्ता नहीं होता ! कोई शार्ट-कट नहीं होता ! हमें उसी प्रकार ईमानदार बने रह कर संघर्ष करना पडता है ! कार खरीदने के बाद कार की सवारी करने के लिए उसे चुस्त व दुरस्त रखना पडता है ! उसके तेल-पानी का पूरा ख्याल रखना पडता है ! घर बनाने के बाद उसकी साफ-सफाई और साज़-सज़्ज़ा बनाए रखने के लिए मेहनत जरूरी होती है ! परंतु हमारी सोच को पता नहीं क्या हो गया है ! देश में कानून व्यवस्था की हालत बद से बदत्तर होती जा रही है ! लगता है कि हम कानून बनाते ही तोडने के लिए हैं ! तभी सतीश कुमार कहते हैं कि :

जाने क्यों हमें नियम रास नहीं आते,

अनुशासन, संयम हमारे पास नहीं आते !

इसी बात को सुश्री आशा खत्री अपने शब्दों में कहती हैं :

नियमों की अवहेलना आदत हुई हमारी,

जहां थी मनाही, चप्पल वहीं उतारी !

आज देश में भ्रष्टाचार, मंह्गाई, बेईमानी, बलात्कार की घटनायें बढती जा रही हैं ! हमारा देश इन बुराईयों का पर्याय बनता जा रहा है ! जब नेताओं से इस बारे में पूछा जाता है कि यह बुराईयां कब समाप्त होंगीं तो वे ज्योतिषी न होने का रोना रोने लगते हैं ! जनता इन नेताओं से ज्योतिषी होने की उम्मीद भी नहीं करती ! क्या देश की मंहगाई को रोकने का काम ज्योतिषियों का है ? देश के मतदाताओं ने नेताओं को इसलिए देश की सत्ता के शिखर पर बैठाया है  ताकि वे आम आदमी की मुश्किलों को समझें और उन्हें सुलझांयें ! जनता की आशाओं पर खरे उतरें ! जनता की तकलीफों को समझें ! आज जनता त्राहि-त्राहि कर रही है ! उसका दुख-दर्द सुनने के लिए, उसकी तकलीफ को जानने के लिए, उसकी मुश्किल हल करने के लिए किसी के पास समय ही नहीं है ! नेताओं ने आज़ादी को अपना घर भरने का लाईसेंस मान लिया है ! उनको कोई रोकने वाला नहीं है और जनता की कोई सुनने वाला नहीं है ! अब तो इस दर्द को इन शब्दों में कहने का मन करता है :

कहां तो तय था चिराग हर घर के लिए,

कहां चिराग मयस्सर नहीं शहर के लिए !

यहां दरखतों के साये में धूप लगती है,

चलो कहीं ओर चलें उम्र भर के लिए !!

khuranarkk@yahoo.in

राम कृष्ण खुराना

9988927450

R K KHURANA

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------