रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे हो - विवेक मणि त्रिपाठी

clip_image002

सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे हो...........
लेकिन सुना है कि,
याद आने के लिए भूलना जरुरी होता है ,
तो क्या मैं तुम्हें भुला भी था ?
सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे हो...........


सुना है कि याद आने के लिए मिलना जरुरी होता है,
तो क्या हम मिले भी थे ?
हमारा मन मिला था या तन ......
या दोनों मिले थे ?
सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे  हो...........


सुना है कि याद आने के लिए बिछड़ना भी जरुरी होता है,
तो क्या हम एक दुसरे से बिछड़े भी थे ?
हमारा शरीर हीं बिछड़ा था या दिल भी ?
सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे  हो...........


सुनो ! ना मैं तुम्हें कभी भुला था,
ना हीं कभी भुला पाउँगा
मेरे जीवन में तुम उतना हीं महत्वपूर्ण हो
जितना जीवन के लिए साँस
जितना रोगी के लिए दवा
जितना भक्त के लिए भगवान्
सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे  हो...........


सुनो ! हम मिले थे,
और फिर मिलेंगे,
वैसे हीं,
जैसे बादल से पानी,
जैसे सागर में नदी,
सुनो ! हम कभी नहीं बिछड़ सकते.......
हम साथ रहेंगे
एक दुसरे की
यादों में ...सासों में .....
हम सपनों में मिला करेंगे
वैसे हीं, जैसे सबसे नज़रें बचा के,
चोरी –चुपके मिला करते थे,
सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे  हो...........


सुनो ! हम एक दुसरे की यादों में,
वैसे हीं साथ बने रहेंगे,
जैसे प्रकृति और मानव,
जैसे कमल और भंवरा,
जैसे गीत और संगीत,
जैसे शहद और मिठास,
सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे  हो...........


सुनो ! प्रेम शाश्वत होता है,
और हमारा प्रेम भी शाश्वत है,
राधा और कृष्ण के प्रेम की तरह,
सुनो ! आज तुम बहुत याद आ रहे हो........

 

 

कवि परिचय – सम्प्रति चीन के कुआन्ग्तोंग विदेशी भाषा विश्वविद्यालय, कुआन्ग्चौ  में हिंदी भाषा विशेषज्ञ के रूप में कार्यरत. पूर्व में भारत के गुजरात केन्द्रीय विश्वविद्यालय, गांधीनगर एवं मगध विश्वविद्यालय, बोधगया में चीनी भाषा एवं साहित्य के अध्यापन कार्य में कार्यरत.
संपर्क – 2294414833@qq.com 

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget