रविवार, 9 अप्रैल 2017

बालकथा / मनाओ ऐसे जन्म दिवस / शशांक मिश्र भारती

परसों मिलन का जन्म दिवस है। ऐसा जानकर उसके सभी मित्र प्रसन्न थे। उनको इन्तजार था कब जन्म दिन आए और हम सब बड़ी धूम-धाम से मनाएं। लेकिन चिन्ता की बात यह थी, कि इन दिनों स्कूल के बाद मिलन न जाने कहां गायब रहती थी।

आखिर वह दिन भी आ गया जिसका सभी को इन्तजार था। मिलन ने अपने सभी मित्रों को विशेष आग्रह कर बुलाया था।

सभी मिलन के जन्म दिन पर उसके घर पहुंच गए। सभी कुछ न कुछ उपहार अवश्य लाये थे। कोई खिलौना, कोई किताबें, तो कोई अन्य सुन्दर सा उपहार।

[ads-post]

मित्रों को अपने घर आया देखकर मिलन बहुत प्रसन्न थी, किन्तु अभी उसकी निगाहें अपने एक मित्र को तलाश रही थीं। शायद जो अभी तक नहीं आया था।

-देर होती देखकर मिलन की मम्मी ने कहा-‘बेटी आओ केक काटकर जन्म दिन की रस्म पूर्ण करो।’

-नहीं, मम्मी अभी मोनू नहीं आया। कुछ देर और इन्तजार कर लो मिलन ने कहा,

तभी सामने से मोनू आता दिखायी दिया; जिसके दोनों हाथों में पौधे थे। मिलन ने आगे बढ़कर उन पौधों को ले लिया और अपने माता-पिता व मित्रों से बोली - सब लोग मेरे पीछे आओ,

-मिलन की ऐसी बातें सुनकर उसके पिताजी बोले-‘ कहां बेटी, केक तो यहां रखा है।

-नहीं पिताजी, आज से मेरा जन्म दिन केक से नहीं ; बल्कि इन नन्हें पौधों के रोपने से मनेगा ( अपने हाथ में लिए पौधों की ओर संकेत करते हुए कहा) । मैं प्रत्येक वर्ष अपने जन्म दिन पर कुछ पौधे अवश्य रोपा करूंगी। फिर अपने घर के पीछे बहुत बड़ा सा मैदान खाली पड़ा है। जहां पर सभी लोग कुड़ा-करकट डालते हैं। उसी को हरा-भरा बनाऊँगी।

-मिलन की बातें सुनकर उसके पिताजी बोले- ’बेटी यह तो बहुत अच्छी बात है। तेरा जन्म दिन तो मनेगा ही, पिछवाड़े पेड़ों के लग जाने से हरियाली भी हो जायेगी। हो सकता है। और बच्चे भी तेरी ही भांति जन्म दिन मनाना प्रारम्भ कर दें ।

अच्छा! सब लोग वहीं चलते हैं । शुभ कार्य में देर किसलिए!!

माता-पिता और अपने मित्रों के साथ मिलन घर के पिछवाड़े गई। जहां उसने पिछले कई दिनों स्कूल से आकर सफाई की थी। वहां पहले से

ही मिट्टी खोदने के लिए फावड़ा और पानी डालने के लिए बाल्टी रखी हुई थी।

मिलन ने पूरे उत्साह से गड्ढे खोदे। उनमें पौधों को लगाया। फिर सभी को सम्बोधित करते हुए कहा-

-‘अब आप सभी लोग इनमें थोड़ा-थोड़ा पानी डाल दो।’

ऐसा सुनकर सभी ने उनमें पानी डाला और वापस मिलन के घर आ गए। मिठाई खायी और खुशी -खुशी अपने -अपने घर चले गये।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------