मंगलवार, 5 दिसंबर 2017

देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–8 : 5 दो समुद्री सौदागर // सुषमा गुप्ता

clip_image008

5 दो समुद्री सौदागर[1]

एक बार की बात है कि दो दोस्त थे। वे दोनों ही समुद्री सौदागर थे और बहुत बड़े सौदागर थे जिन्होंने सातों समुद्रों में अपने जहाज़ चला रखे थे।

उनमें से एक सौदागर के एक बेटा था पर दूसरे के कोई बच्चा नहीं था पर वे दोनों ही उस लड़के को बहुत प्यार करते थे।

एक दिन बिना बच्चे वाले सौदागर को अपना सामान बेचने के लिये जहाज. पर जाना था। जब वह जाने के लिये तैयार हुआ तो उसके दोस्त के बेटे ने उससे बहुत जिद की कि वह उसको भी साथ ले ले। क्योंकि इस तरह उसको भी जहाज़ चलाने और सामान बेचने का कुछ अनुभव हो जायेगा।

फिर उसने अपने पिता से भी बहुत कहा कि वह उसको उसके गौडफादर के साथ जहाज़ पर भेज दे। पर न तो उसका पिता और न ही उसका गौडफादर यह चाहता था कि वह अभी समुद्री यात्रा पर जाये।

पर जब वह लड़का नहीं माना तो दोनों को उसकी बात मानने के लिये राजी होना पड़ा सो वह अपने गौडफादर के जहाज़ के साथ वाले जहाज़ पर चल पड़ा।

चलते चलते वे गहरे समुद्र में आ गये। समय की बात कि वहाँ एक तूफान आ गया। वह तूफान इतना भयानक था कि दोनों जहाज़ एक दूसरे से अलग हो गये।

गौडफादर का जहाज़ तो उस तूफान में से बच कर बाहर आ गया पर उस नौजवान का जहाज़ समुद्र की तली में बैठ गया। जहाज़ पर जितने भी लोग थे सब डूब गये।

किस्मत से इस नौजवान को एक तख्ता मिल गया तो वह उसके सहारे तैर कर एक टापू के किनारे लग गया।

वहाँ वह नाउम्मीद सा इधर उधर घूमता रहा। घूमते घूमते वह एक ऐसे जंगल में आ गया जहाँ जंगली जानवर घूम रहे थे। उन जानवरों से डर कर उसने रात एक ओक के पेड़ के ऊपर गुजारी।

सुबह को जब उसने देख लिया कि उसके आस पास कोई जंगली जानवर नहीं है तो वह पेड़ से नीचे उतरा और उसने फिर उसी जंगल में घूमना शुरू कर दिया।

घूमते घूमते वह एक ऐसी ऊँची दीवार के पास आ गया जिसका तो उसको कोई ओर छोर ही दिखायी नहीं दे रहा था। वह पास के एक पेड़ पर चढ़ गया और फिर वहाँ से उस दीवार पर कूद गया।

वहाँ से उसने अन्दर झाँक कर देखा तो देखा कि उस दीवार के दूसरी तरफ तो पूरा का पूरा एक शहर बसा हुआ था। ऐसा लगता था कि जैसे वह दीवार उस शहर को जंगली जानवरों से बचाने के लिये बनायी गयी थी।

किसी तरह से वह नौजवान उस दीवार से शहर की तरफ नीचे की तरफ उतर गया और शहर में घुसा। उसने सोचा कि सबसे पहले वह कुछ खाने के लिये खरीदेगा फिर वह कुछ और करेगा सो वह एक सड़क पर चला जिसके दोनों तरफ दूकानें थीं।

clip_image002वहाँ वह एक बेकरी[2] की दूकान में घुस गया और उससे डबल रोटी माँगी पर दूकान वाले ने उसको कोई जवाब ही नहीं दिया।

clip_image004फिर वह एक सूअर का माँस बेचने वाले की दूकान पर गया और वहाँ पर उसने उससे सलामी माँगी पर उस दूकान वाले ने भी उसको कोई जवाब नहीं दिया।

इस तरह वह कई दूकानों पर गया पर किसी ने उसको कोई जवाब नहीं दिया।

नौजवान ने सोचा कि उसको उस जगह के राजा के पास जाना चाहिये और उससे बात करनी चाहिये कि यह सब क्या मामला है सो वह सीधे राजा के महल की तरफ चल दिया।

महल के दरवाजे पर पहुँच कर उसने चौकीदार से कहा कि वह राजा से बात करना चाहता था वह उसको राजा के पास ले चले पर चौकीदार भी कुछ नहीं बोला वह भी चुप ही रहा।

यह सब देख कर वह नौजवान बहुत परेशान हुआ क्योंकि वह किसी से बात ही नहीं कर पा रहा था। फिर वह खुद ही महल में चला गया और वहाँ के कमरों में घूमने लगा।

clip_image006घूमते घूमते वह एक बहुत ही सुन्दर कमरे में आ गया जिसमें एक शाही पलंग पड़ा हुआ था। उसके पास ही एक शाही मेज रखी थी जिसके ऊपर एक शाही हाथ धोने का बरतन रखा हुआ था।

उसने सोचा कि यहाँ तो मुझसे कोई कुछ कह ही नहीं रहा है सो मैं इस पलंग पर थोड़ी देर के लिये सो जाता हूँ। तभी दो नौजवान लड़कियाँ वहाँ आयीं और बिना कुछ बोले उन्होंने एक मेज पर रात का खाना लगाया। उसने पेट भर कर खाना खाया और फिर उसी पलंग पर सो गया।

इस तरह से उसने इस शान्त शहर से अपनी नयी ज़िन्दगी शुरू की। एक रात जब वह अपने इस शाही बिस्तर में सो रहा था तो वहाँ एक स्त्री अपनी दो दासियों के साथ आयी।

वह सिर से पाँव तक ढकी हुई थी। उसने उस नौजवान से पूछा — “क्या तुम साहसी हो?”

“हाँ हूँ।”

“अगर ऐसा है तो मैं तुमको अपना भेद बताती हूँ। मैं सम्राट स्कौरज़ोन[3] की बेटी हूँ। उन्होंने मरने से पहले एक जादूगर[4] से इस सारे शहर पर जादू डलवा दिया था। उस जादू में इस शहर में सारे रहने वाले, नौकर, सेना और मैं खुद भी शामिल थे।

पर अगर तुम मेरे साथ मुझको बिना देखे एक साल तक यहाँ रहोगे और मेरा यह भेद भी किसी के ऊपर भी नहीं खोलोगे तभी यह जादू टूटेगा। फिर तुम यहाँ के सम्राट हो जाओगे और मैं रानी और फिर सभी तुम्हारी तारीफ करेंगे।

नौजवान बोला — “मैं साहसी भी हूँ और ताकतवर भी।”

पर कुछ दिन बाद ही उसने उस लड़की से कहा कि वहाँ उसके साथ सारे साल शान्ति से रहने के लिये उसको अपने पिता के पास जा कर उनसे, अपनी माँ से और अपने गौडफादर सबसे इजाज़त लेनी पड़ेगी। लेकिन उन सबसे इजाज़त ले कर वह जल्दी ही वहाँ वापस लौट आयेगा।

हालँकि उस लड़की को उस पर पूरा यकीन नहीं था कि वह वहाँ से जा कर फिर वापस आ जायेगा पर फिर भी जब उस नौजवान ने उससे बार बार यही कहा तो उसने उसके लिये एक जहाज़ तैयार करा दिया और अपनी कुछ कीमती चीज़ें भी उसके जहाज़ पर रखवा दीं।

फिर उसने उसको एक छड़ी दी और कहा — “तुम यह छड़ी रखो। तुम जहाँ भी जाना चाहो इसको बोल देना यह तुमको उसी पल वहाँ पहुँचा देगी। पर एक बात तुम हमेशा याद रखना कि तुम मेरा यह भेद किसी पर खोलना नहीं।”

“ठीक है” कह कर वह नौजवान जहाज़ पर चढ़ा और उस छड़ी पर हाथ मारा तो उसने अपने आपको अपने पिता के शहर के बन्दरगाह पर पाया। उसने वे कीमती चीज़ें वहाँ की सबसे अच्छी सराय में ले जाने का हुकुम दिया और वह भी उसी सराय में जा कर ठहर गया।

उसने वहाँ के लोगों से पूछा — “क्या तुम लोग यहाँ किसी समुद्री सौदागर को जानते हो?”

लोगों ने बताया कि उस शहर में दो यात्री समुद्री सौदागर थे। वे दोनों आपस में बहुत अच्छे दोस्त थे और वहाँ के बहुत ही जाने माने सौदागर थे पर हाल ही में वे दोनों ही बहुत गरीब हो गये हैं।

उनमें से एक सौदागर के एक बेटा था जो एक बार दूसरे सौदागर के साथ उसके जहाज़ पर गया और वहाँ समुद्र में खो गया।

लोगों ने उसको बताया कि वह एक ऐक्सीडैन्ट था पर उसके पिता ने यह मानने से इनकार कर दिया कि वह एक ऐक्सीडैन्ट था।

पर उसने इसके लिये अपने दोस्त को जिम्मेदार ठहराया और उस पर मुकदमा चला दिया। उसी मुकदमे में दोनों अपना अपना पैसा गँवा बैठे।

यह सुन कर उस नौजवान ने अपने पिता को बुलवाया तो उसके पिता ने उसको पहचाना ही नहीं।

लड़का बोला — “मैं आपके और आपके साथी के साथ एक व्यापारिक रिश्ता जोड़ना चाहता हूँ क्योंकि आपको समुद्री सौदागर होने का अच्छा अनुभव है।”

पिता बोला — “यह नामुमकिन है। मैं और मेरा साथी दोनों ही दिवालिया हो चुके हैं क्योंकि हम लोग अपने बेटे के ऊपर मुकदमा लड़ रहे थे और उसी में हमारा सारा पैसा खत्म हो गया है। ऐसा इस लिये हुआ क्योंकि मेरे साथी की वजह से मेरा बेटा मर गया।”

नौजवान बोला — “इस बात का इससे कोई मतलब नहीं है कि आपके पास पैसा है या नहीं है। व्यापार के लिये पैसा मैं लगाऊँगा।”

फिर उसने अपने पिता के लिये बहुत बढ़िया खाना लाने का आर्डर दिया और पिता के दोस्त को भी बुलवा लिया। उन दोनों की पत्नियों को भी बुलवा लिया गया। किसी ने भी उसको नहीं पहचाना।

जब उस सराय में सबने एक दूसरे को देखा तो दोनों आदमी और उनकी पत्नियाँ एक दूसरे पर चिल्ला पड़े और लड़ने लगे क्योंकि अब तो वे एक दूसरे के दुश्मन थे।

उन्होंने साथ खाने की कोशिश तो की पर क्योंकि अब वे एक दूसरे के दुश्मन हो चुके थे इसलिये उनके गले से खाना नीचे ही नहीं उतर पा रहा था।

तब उस नौजवान ने अपनी प्लेट से एक चम्मच भर कर खाना उठाया और अपने पिता की तरफ यह कहते हुए बढ़ाया — “पिता जी, अपने बेटे के हाथ से यह कौर स्वीकार कीजिये। आपका बेटा ज़िन्दा है सुरक्षित है और आपके सामने बैठा है।”

यह सुन कर वे सब खुशी से उछल पड़े। खुशी से पागल हो कर सब एक दूसरे से गले मिले और रो पड़े। लड़के ने अपनी लायी कीमती चीज़ें अपने पिता और गौडफादर में बाँट दीं ताकि वे फिर से अपना काम शुरू कर सकें।

फिर वह बोला — “पिता जी, अभी मुझे जाना है इसलिये अभी तो मैं चलूँगा। फिर मिलते हैं, अच्छा विदा।”

माँ ने पूछा — “पर तू जा कहाँ रहा है बेटा?”

लड़का बोला — “यह मैं आपको अभी नहीं बता सकता।”

पर जब उसकी माँ उससे बार बार पूछती ही रही तो आखिर उसे सम्राट स्कोरज़ोन की बेटी के बारे में बताना ही पड़ा जिसको उसने किसी भी हालत में किसी को भी बताने से मना कर रखा था। और अगर उसने बता दिया तो फिर वह उसको कभी नहीं देख पायेगा – और वह तो बहुत सुन्दर थी।

यह सुन कर माँ बोली — “सुन, मैं तुझे एक टैनब्रे[5] मोमबत्ती देती हूँ। जब वह लड़की सो जाये तो इस मोमबत्ती को जला देना। तब तू इस मोमबत्ती की रोशनी में उसे देखना कि वह कैसी लगती है।”

लड़के ने माँ से वह मोमबत्ती ले ली और अपने जहाज़ पर चढ़ गया। उसने अपनी छड़ी पर फिर हाथ मारा तो वह सम्राट स्कोरज़ोन के शहर के बन्दरगाह पर था। वहाँ से वह शाही महल गया जहाँ सम्राट की बेटी उसका इन्तजार कर रही थी। रात को वे लोग सोने चले गये।

वह लड़का तो रात होने का और उस राजकुमारी के सोने का ही इन्तजार कर रहा था कि कब वह सोये और कब वह मोमबत्ती जला कर उसकी सुन्दरता को देखे।

सो जब वह सो गयी तो उसने अपनी माँ की दी हुई मोमबत्ती उठायी, उसको जलाया और उसके चेहरे से उसका परदा उठाना शुरू किया।

पर तभी मोमबत्ती के पिघलते हुए मोम की एक बूँद उस लड़की के चेहरे के ऊपर गिर पड़ी जिससे वह जाग गयी और चिल्लायी — “दगाबाज, तुमने मेरा भेद खोल दिया अब तुम मुझे कभी आजाद नहीं करा पाओगे। उफ़ बहुत मुश्किल है।”

लड़का बोला — “मुझे बहुत अफसोस है पर फिर भी मैं तुमको आजाद कराने की पूरी कोशिश करूँगा। क्या कोई और रास्ता नहीं है?”

राजकुमारी बोली — “है, मगर बहुत कठिन है। तुम जंगल जाओ और उस जादूगर से जा कर लड़ो जिसने हम सबके ऊपर यह जादू कर रखा है और उसे मार दो। तभी हम सब आजाद हो सकते हैं।”

“और उसको मारने के बाद?”

“उसको मारने के बाद तुम उस जादूगर का पेट खोलोगे तो उसमें तुमको एक खरगोश मिलेगा। उस खरगोश को भी काट दोगे तो उसमें तुमको एक फाख्ता[6] मिलेगी।

फाख्ता को भी काट दोगे तो उसके अन्दर तुमको तीन अंडे मिलेंगे। उन अंडों की तुम अपनी जान की तरह से हिफाजत करना और उनको यहाँ ले आना। बस ध्यान रखना कि वे टूटें नहीं।

तभी सारा शहर और हम सब इस जादू से आजाद हो पायेंगे नहीं तो हम सब इस जादू के असर में हमेशा के लिये पड़े सड़ते रहेंगे और हमारे साथ साथ तुम भी। यह छड़ी लो और जा कर उससे लड़ो।”

लड़के ने उससे वह छड़ी ली और वहाँ से चल दिया। रास्ते में उसको गायों का एक झुंड मिला। वह उन गायों के मालिक से मिला और बोला — “जनाब क्या आप मुझे थोड़ी सी डबल रोटी देंगे? मैं यहाँ खो गया हूँ और बहुत भूखा हूँ।”

गायों के मालिक ने उसे खाना खिलाया और उसको अपने पास गाय चराने के लिये चरवाहा रख लिया। उसके पास कई और चरवाहे भी थे।

एक दिन गायों के मालिक ने उन सब चरवाहों से कहा — “इन गायों को घास के मैदान में चराने के लिये ले जाओ पर जो कुछ भी तुम करो सो करो पर तुम उनको जंगल में भटकने मत देना। क्योंकि वहाँ एक जादूगर रहता है जो आदमियों को ही नहीं मारता बल्कि गायों को भी मार देता है।”

वह लड़का गायों का एक झुंड ले कर चला गया और जब गायें जंगल के पास पहुँचीं तो उसने उनको चिल्ला कर उसी जंगल में भेज दिया जिसमें गायों के मालिक ने उनको भेजने के लिये मना किया था।

मालिक को जब यह पता चला तो उसने पूछा कि अब उनको उस जंगल में से निकाल कर लायेगा कौन। उधर कोई भी चरवाहा जाने के लिये तैयार नहीं था सो मालिक ने उसी नये चरवाहे को उस जंगल में उन गायों को लाने के लिये भेज दिया।

साथ में उसने उसके साथ एक लड़का और भी भेज दिया। वे जंगल में घुसे तो उस साथ में गये लड़के को बहुत डर लगा।

उधर जादूगर ने जब गायों को अपने जंगल में देखा तो वह गुस्से के मारे आग बबूला हो गया। उसने लोहे की एक छड़ निकाली और उसको ले कर बाहर आया। उस छड़ में छह काँटे लगे हुए थे।

वह लड़का तो उस जादूगर को देख कर इतना डर गया कि वह एक बड़ी सी झाड़ी में छिप गया। पर वह नया चरवाहा वहीं खड़ा रहा और उस जादूगर के अपने पास तक आने का इन्तजार करता रहा।

वह जादूगर उस लड़के के पास आ कर बोला — “ओ गद्दार, तेरी यह हिम्मत कैसे हुई कि यहाँ आ कर तू मेरा जंगल बरबाद करे?”

नया चरवाहा बोला — “मैं यहाँ तुम्हारा केवल जंगल ही बरबाद करने नहीं आया बल्कि उसको बरबाद करने के साथ साथ तुमको भी मारने आया हूँ।”

और फिर दोनों में लड़ाई शुरू हो गयी। वे दोनों काफी देर तक लड़ते रहे। सारा दिन लड़ते लड़ते वे थक तो गये पर इस लड़ाई में किसी को खरोंच तक नहीं आयी।

तब वह जादूगर बोला — “अगर मैंने डबल रोटी के साथ सूप और शराब पी ली होती तो मैंने तुझे सूअर की तरह काट डाला होता।”

इस पर नये चरवाहे ने जवाब दिया — “अगर मैंने दूध और डबल रोटी खा ली होती तो मैंने तो तेरा सिर ही काट डाला होता।”

फिर दोनों ने एक दूसरे को विदा कहा और अगले दिन अपनी लड़ाई फिर से जारी रखने का वायदा करके वहाँ से चले गये।

अगले दिन नये चरवाहे ने अपनी गायें इकठ्ठी कीं, अपने साथ आये लड़के को लिया और बाड़े में आ गया। उन सबको ज़िन्दा देख कर किसी के मुँह से एक शब्द भी नहीं निकला।

लड़के ने उन सबको नये चरवाहे और जादूगर के बीच हुई लड़ाई का पूरा हाल सुनाया। उसने उन लोगों के सामने उनमें आपस में कहे गये शब्द भी बार बार दोहराये।

उसने जादूगर की इच्छा भी बतायी कि अगर उसने डबल रोटी का सूप और शराब पी ली होती तो वह नये चरवाहे को सूअर की तरह काट डालता। और नये चरवाहे की इच्छा भी बतायी कि अगर नये चरवाहे ने दूध और डबल रोटी खा ली होती तो वह उसका सिर काट डालता।

यह सुन कर गायों के मालिक ने अपने एक नौकर को नये चरवाहे के लिये डबल रोटी और दूध लाने का हुकुम दिया और उसको उनको अपने साथ जंगल ले जाने के लिये कहा।

सो अगले दिन उस नये चरवाहे ने डबल रोटी और दूध लिया और अपनी गायें चराने जंगल चल दिया। उधर वह जादूगर भी आ गया। दोनों की लड़ाई फिर से शुरू हो गयी।

जब उनकी लड़ाई अपने पूरे ज़ोर पर थी तो जादूगर बोला — “अगर मैंने डबल रोटी के साथ सूप और शराब पी ली होती तो मैं तुमको सूअर की तरह काट डालता।” पर वहाँ डबल रोटी सूप और शराब तो थी ही नहीं।

इस पर नया चरवाहा बोला — “अगर मैंने दूध और डबल रोटी खा ली होती तो मैं तेरा सिर काट डालता।”

और उसी समय उसके साथ आये लड़के ने उसको एक बालटी भर दूध और डबल रोटी दे दी। नये चरवाहे ने एक डबल रोटी खायी और उस बालटी में से एक बड़ा सा घूँट दूध पिया और फिर तुरन्त ही उस जादूगर के सिर पर एक ज़ोर का घूँसा मारा। घूँसा खा कर जादूगर नीचे गिर पड़ा और मर गया।

clip_image010उसने तुरन्त ही जादूगर का पेट खोला तो उसमें उसे एक खरगोश मिला। खरगोश को काटा तो फाख्ता मिली और फाख्ता को खोला तो उसमें उसके तीन अंडे मिले।

उसने वे तीनों अंडे निकाले और उनको सँभाल कर दूर रख दिया। अपनी गायों को हाँक कर वह बाड़े में ले गया। वहाँ उसका खूब ज़ोर शोर से स्वागत हुआ।

गायों का मालिक उसको अपने खेत पर रखना चाहता था पर उस नौजवान ने मना कर दिया। उसने जादूगर का जंगल गायों के मालिक को भेंट कर दिया और खुद उसको विदा कह कर वहाँ से चला गया।

उसने जंगल में रखे फाख्ता के वे तीनों अंडे उठाये और अपने शहर चल दिया। जब वह अपने शान्त शहर में वापस आया तो वह तुरन्त ही शाही महल में गया।

वह राजकुमारी उससे मिलने के लिये बाहर तक दौड़ी आयी और उसका हाथ पकड़ कर उसको अन्दर ले गयी। वह उसको सम्राट के छिपे हुए कमरे में ले गयी।

वहाँ उसने अपने पिता का ताज उठाया और उस नौजवान के सिर पर रख दिया और बोली — “आज से तुम इस शहर के बादशाह हो और मैं तुम्हारी रानी।”

फिर वह उसको महल के छज्जे पर ले गयी वहाँ जा कर उसने वे तीनों अंडे अपने हाथ में लिये और बोली — “लो, इसमें से एक अंडा अपने दाँये हाथ की तरफ फेंक दो, दूसरा अंडा अपने बाँये हाथ की तरफ फेंक दो और तीसरा अंडा बिल्कुल अपने सामने की तरफ फेंक दो।”

जैसे ही उसने वे तीनों अंडे फेंके शहर के सारे लोगों ने बात करना शुरू कर दिया। सारा शहर शोर शराबे से गूँज उठा। लगता था जैसे सोया शहर जाग गया हो। बच्चे शोर मचाने लगे, गाड़ियाँ सड़क पर दौड़ने लगीं, सेना अपने आपको सँभालने लगी, चौकीदार बदलने लगे और सब एक साथ चिल्लाये “सम्राट की जय हो। सम्राट ज़िन्दाबाद”।

राजकुमारी ने उस नौजवान से शादी कर ली और वे ज़िन्दगी भर राजा और रानी रहे – पर हम लोग तो अभी भी गरीब हैं।

clip_image012


[1] The Two Sea Merchants (Story No 171) – a folktale from Italy from its Palermo area.

Adapted from the book : “Italian Folktales”, by Italo Calvino. Translated by George Martin in 1980.

[2] Bakery is a place where the things are made by the process of baking, such as bread, biscuits, cakes, buns etc.

[3] Scorzone

[4] Translated for the word “Sorcerer”.

[5] Tanbrae

[6] Translated for the word “Dove”. See its picture above.

------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------