'कारण कार्य व प्रभाव गीत' - कितने जीवन मिल जाते हैं // डॉ. श्याम गुप्त

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

    

मेरे द्वारा सृजित, गीत की  एक नवीन -रचना-विधा -कृति में ..जिसे मैं ....'कारण कार्य व प्रभाव गीत' कहता हूँ ....इसमें कथ्य -विशेष का विभिन्न भावों से... कारण उस पर कार्य व उसका प्रभाव वर्णित किया जाता है …. इस छः पंक्तियों के प्रत्येक पद या बंद के गीत में प्रथम दो पंक्तियों में मूल विषय-भाव के कार्य या कारण को दिया जाता है तत्पश्चात अन्य चार पंक्तियों में उसके प्रभाव का वर्णन किया जाता है | अंतिम पंक्ति प्रत्येक बंद में वही रहती है गीत की टेक की भांति | गीत के पदों या बन्दों की संख्या का कोई बंधन नहीं होता | प्रायः गीत के उसी मूल-भाव-कथ्य को विभिन्न बन्दों में पृथक-पृथक रस-निष्पत्ति द्वारा वर्णित किया जा सकता है | .....प्रस्तुत है ...एक रचना.....कितने जीवन मिल जाते हैं ||
              (  पिता की सुहानी छत्र -छाया जीवन भर उम्र के, जीवन के  प्रत्येक मोड़ पर,  हमारा मार्ग दर्शन करती है....प्रेरणा देती है और जीवन को रस-सिक्त व गतिमय रखती है और उस अनुभवों के खजाने की छत्र-छाया में  हम न जाने कितने  विविध ...ज्ञान-भाव-कर्म युक्त  जीवन जी लेते हैं...)

     कितने जीवन मिल जाते हैं |

 
पिता की छत्र-छाया वो ,
हमारे  सिर  पै होती है  |
           उंगली पकड़ हाथ में चलना ,
           खेलना-खाना, सुनी कहानी |
       बचपन के सपनों की गलियाँ ,
            कितने जीवन मिल जाते हैं


वो  अनुशासन की जंजीरें ,
सुहाने  खट्टे-मीठे  दिन |
            ऊब  कर  तानाशाही  से,
             रूठ जाना औ  हठ  करना |
       लाड प्यार श्रद्धा के पल छिन,
             कितने जीवन मिल जाते हैं ||

सिर पर वरद-हस्त होता है ,
नव- जीवन की राह सुझाने |
              मग की कंटकीर्ण उलझन में,
              अनुभव ज्ञान का संबल मिलता|
        गौरव आदर भक्ति-भाव युत,
                कितने जीवन मिल जाते हैं ||



स्मृतियाँ बीते पल-छिन की,
मानस में बिम्बित होती हैं |
               कथा उदाहरण कथ्यों -तथ्यों ,
               और जीवन के आदर्शों की |
        चलचित्रों की मणिमाला में ,
                कितने जीवन मिल जाते हैं ||

श्रद्धा -भक्ति के ज्ञान-भाव जब ,
तन-मन में रच-बस जाते हैं |
                जग के द्वंदों को सुलझाने,
                कितने भाव स्फुरित  रहते |
                ज्ञान-कर्म और नीति-धर्म युत,
                कितने  जीवन मिल जाते हैं ।।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "'कारण कार्य व प्रभाव गीत' - कितने जीवन मिल जाते हैं // डॉ. श्याम गुप्त"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.