370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

'कारण कार्य व प्रभाव गीत'------ कितने इन्द्रधनुष // डॉ. श्याम गुप्त


           मेरे द्वारा सृजित, गीत की  एक नवीन -रचना-विधा -कृति में ..जिसे मैं ....'कारण कार्य व प्रभाव गीत' कहता हूँ ....इसमें कथ्य -विशेष का विभिन्न भावों से... कारण उस पर कार्य व उसका प्रभाव वर्णित किया जाता है …. इस छः पंक्तियों के प्रत्येक पद या बंद के गीत में प्रथम दो पंक्तियों में मूल विषय-भाव के कार्य या कारण को दिया जाता है तत्पश्चात अन्य चार पंक्तियों में उसके प्रभाव का वर्णन किया जाता है | अंतिम पंक्ति प्रत्येक बंद में वही रहती है गीत की टेक की भांति | गीत के पदों या बन्दों की संख्या का कोई बंधन नहीं होता | प्रायः गीत के उसी मूल-भाव-कथ्य को विभिन्न बन्दों में पृथक-पृथक रस-निष्पत्ति द्वारा वर्णित किया जा सकता है | .....प्रस्तुत है ...एक रचना..... कितने इन्द्रधनुष

 
पत्थर पर सिर पटक पटक कर,
धुंध धुंध जल हो जाता है |

        जब रवि-रश्मि विविध रंगों के,
         ताने बाने बुन देती हैं |
         किसी जलपरी के आँचल सा,
         इन्द्रधनुष शोभा बिखराता ||

पंख लगा उड़ता घन जल बन,
आसमान पर छाजाता है |

      स्वर्ण परी सी रवि की किरणें,
       देह दीप्ति जब बिखराती हैं |
       सप्तवर्ण घूंघट से छनकर,
       इन्द्रधनुष नभ पर छा जाता ||

दीपशिखा सम्मुख प्रेयसि का,
कर्णफूल शोभा पाता है |

      दीप रश्मियाँ झिलमिल झिलमिल,
       कर्णफूल संग नर्तन करतीं |
       विविध रंग के रत्नहार सा,
       इन्द्रधनुष आनन् महकाता ||

                                  -------------


कानों में आकर के प्रियतम,
वह सुमधुर स्वर कह जाता है |
      प्रेम प्रीति औ बिरह अनल सी,
      तन मन में दीपित होजाती |
      नयनों में सुन्दर सपनों का,
      इन्द्रधनुष आकर बस जाता ||

मादक नयनों का आकर्षण,
तन मन बेवश कर जाता है|

      कितने रूप रंग के पंछी,
       मन बगिया में कुंजन करते |
       हर्षित ह्रदय पटल पर, अनुपम,
       मादक इन्द्रधनुष सज जाता ||

भक्ति-प्रीति का नाद अनाहत,
हृद-तंत्री में सज जाता है |

     सकल ज्योति की ज्योतिदीप्ति, वह,
      परमतत्व मन ज्योति जलाता |
      आत्मतत्व में परम सुरभि का,
      इन्द्रधनुष झंकृत होजाता ||

कविता 9097983462918818090

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव