नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

'कारण कार्य व प्रभाव गीत'------ कितने इन्द्रधनुष // डॉ. श्याम गुप्त


           मेरे द्वारा सृजित, गीत की  एक नवीन -रचना-विधा -कृति में ..जिसे मैं ....'कारण कार्य व प्रभाव गीत' कहता हूँ ....इसमें कथ्य -विशेष का विभिन्न भावों से... कारण उस पर कार्य व उसका प्रभाव वर्णित किया जाता है …. इस छः पंक्तियों के प्रत्येक पद या बंद के गीत में प्रथम दो पंक्तियों में मूल विषय-भाव के कार्य या कारण को दिया जाता है तत्पश्चात अन्य चार पंक्तियों में उसके प्रभाव का वर्णन किया जाता है | अंतिम पंक्ति प्रत्येक बंद में वही रहती है गीत की टेक की भांति | गीत के पदों या बन्दों की संख्या का कोई बंधन नहीं होता | प्रायः गीत के उसी मूल-भाव-कथ्य को विभिन्न बन्दों में पृथक-पृथक रस-निष्पत्ति द्वारा वर्णित किया जा सकता है | .....प्रस्तुत है ...एक रचना..... कितने इन्द्रधनुष

 
पत्थर पर सिर पटक पटक कर,
धुंध धुंध जल हो जाता है |

        जब रवि-रश्मि विविध रंगों के,
         ताने बाने बुन देती हैं |
         किसी जलपरी के आँचल सा,
         इन्द्रधनुष शोभा बिखराता ||

पंख लगा उड़ता घन जल बन,
आसमान पर छाजाता है |

      स्वर्ण परी सी रवि की किरणें,
       देह दीप्ति जब बिखराती हैं |
       सप्तवर्ण घूंघट से छनकर,
       इन्द्रधनुष नभ पर छा जाता ||

दीपशिखा सम्मुख प्रेयसि का,
कर्णफूल शोभा पाता है |

      दीप रश्मियाँ झिलमिल झिलमिल,
       कर्णफूल संग नर्तन करतीं |
       विविध रंग के रत्नहार सा,
       इन्द्रधनुष आनन् महकाता ||

                                  -------------


कानों में आकर के प्रियतम,
वह सुमधुर स्वर कह जाता है |
      प्रेम प्रीति औ बिरह अनल सी,
      तन मन में दीपित होजाती |
      नयनों में सुन्दर सपनों का,
      इन्द्रधनुष आकर बस जाता ||

मादक नयनों का आकर्षण,
तन मन बेवश कर जाता है|

      कितने रूप रंग के पंछी,
       मन बगिया में कुंजन करते |
       हर्षित ह्रदय पटल पर, अनुपम,
       मादक इन्द्रधनुष सज जाता ||

भक्ति-प्रीति का नाद अनाहत,
हृद-तंत्री में सज जाता है |

     सकल ज्योति की ज्योतिदीप्ति, वह,
      परमतत्व मन ज्योति जलाता |
      आत्मतत्व में परम सुरभि का,
      इन्द्रधनुष झंकृत होजाता ||

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.