रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

कान्ता रॉय की लघुकथाएँ

साझा करें:

लघुकथाएँ कान्ता रॉय बैकग्राउंड "ये कहाँ लेकर आये हो मुझे।" "अपने गाँव, और कहाँ!" "क्या, ये है तुम्हारा गाँव?"...

लघुकथाएँ

कान्ता रॉय

image

बैकग्राउंड


"ये कहाँ लेकर आये हो मुझे।"

"अपने गाँव, और कहाँ!"

"क्या, ये है तुम्हारा गाँव?"

"हाँ, यही है, ये देखो हमारी बकरी और वो मेरा भतीजा "

"ओह नो, तुम इस बस्ती से बिलाँग करते हो?"

"हाँ, तो?"

"सुनो, मुझे अभी वापिस लौटना है!"

"ऐसे कैसे वापस जाओगी? तुम इस घर की बहू हो, बस माँ अभी खेत से आती ही होगी"

"मै वापस जा रही हूँ! सॉरी, मुझसे भूल हो गई। तुम डॉक्टर थे इसलिए ...."

"तो ....? इसलिए क्या?"

"इसलिए तुम्हारा बैकग्राउंड नहीं देखा मैंने।"

--------------------------------------------------------------

विलुप्तता

"जोगनिया नदी वाले रास्ते से ही चलना। मुझे नदी देखते हुए जाना है।" रिक्शे पर बैठते ही कौतूहल जगा था ।

"अरे,जोगनिया नदी ! कितनी साल बाद आई हो बीबी जी? ऊ तो, कब का मिट गई।"

"क्या? नदी कैसे मिट सकती है भला?" वो तड़प गई।

गाँव की कितनी यादें थी जोगनिया नदी से जुड़ी हुई। बचपन, स्कूल, कुसुमा और गणेशिया। नदी के हिलोर में खेलने पहुँच जाते जब भी मौका मिलता और पानी के रेले में कागज की कश्ती चलाना। आखिरी बार खेलने तब गई थी जब गणेशिया को जोंक ने धर लिया था। मार भी बहुत पड़ी थी।

फिर तो माई ही स्कूल लेने और छोड़ने जाने लगी थी।

रिक्शा अचानक चरमरा कर रूक गया। तन्द्रा टूटी।

"हाँ,बहुत साल बाद अबकी लौटी हूँ। कैसी सूखी ये नदी,कुछ बताओगे?"

"अरे, का बताये, भराव होते-होते उथली तो पहले ही हो चुकी थी और फैक्ट्री वालों को भी वहीं बसना था। वो देखो, आपकी जोगनिया नदी पर से उठता धुँआ।"

चिमनी से उठता गहरा काला धुआँ उसकी छाती में आकर जैसे बैठ गया।

"गाँव तो बचा है ना?" घुट कर बस इतना ही पूछ पाई।

-----------------------------------------

विलासिता

डोर बेल बजी। रामदीन की नजर दरवाजे की ओर उठती हुई फिर सामने दीवार पर टंगी आलीशान घड़ी पर जा टिकी। रात के दो बजे थे।

"जरूर रोमिला बिटिया होगी।"

दरवाजे से अंदर आते ही वह लडखडाती हुई बूढे रामदीन की बाँहों में झूल गई। उसका आना इस तरह से अटपटा लगता था। उसे बचपन से बाँहों में झूलाना जो शुरू किया तो अब तक बाँहों में ही संभाल रहा है।

मेम साहब पार्टी से लौट कर कमरे में जाकर सोई ,सो होश में अभी तक नहीं आई है। यहाँ उसके सिवाय किसी की भी नींद नहीं खुलती है।

वह फिर से फर्श पर बिछी दरी पर जाकर लेट गया। जैसे ही जरा आँखों में नींद आई कि फिर से डोर बेल बजी। नजर फिर घड़ी की ओर .... सुबह के साढ़े तीन बजे थे।

"जरूर साहब होंगे।"

दरवाजे से अंदर आते हुए साहब के नथुने से भभक आई । मन कसैला हो गया।अजीब -सा मुंह बनाया। उनकी कलाई में मोगरे की माला बंधी हुई ,आँखों में रंगीनी अब तक समाई हुई थी।

साहब को सलाम करके बाहर अपने क्वार्टर में वह सोने चला आया।

नींद नहीं आई ,सुबह होने ही वाली थी। कुछ देर बाद वह बिस्तर से उठ, बगीचे की ओर निकल गया। स्वस्थ गुलाब महक रही थी। रात की रानी की खुशबू कामिनी के गुच्छों में दिन होते ही मानो उतर गयी। महंगे सुसज्जित बेल बूटों से आच्छादित वातावरण में लाखों रुपये की तरावट थी। क्यों ना हो , शहर का सबसे अच्छा माली जो तराशता है इसे। इस बगीचे का बागवान अच्छा था जो इसे सुसज्जित बना गया।

सुबह के बारह बजे सब नाश्ते के टेबल पर हाय हैलो करते हुए फिर दूसरे दिन के भेंट के लिए विदा लेकर बागबान सहित एक-एक कर घर के बगीचे के अनदेखे फूल, धुल से उड़ते हुए चलते बने,आधी रात को फिर से बेहोशी में लौटने के लिए।

इधर हर महीने की तरह आज भी रामदीन अपनी छोटी-सी पगार घर के मंदिर में रख,अपनी बेटी और पत्नी को देख संतुष्ट हो दुआ कर रहा था कि --"हे ईश्वर, इससे अधिक मुझे कभी मत देना।"

--------------------------------------------------------------------

चेहरा

आधी रात को रोज की ही तरह आज भी नशे में धुत वो गली की तरफ मुड़ा। पोस्ट लाईट के मध्यम उजाले में सहमी-सी लड़की पर जैसे ही नजर पड़ी, वह ठिठका। लड़की शायद उजाले की चाह में पोस्ट लाईट के खंभे से लगभग चिपकी हुई सी थी। करीब जाकर कुछ पूछने ही वाला था कि उसने अंगुली से अपने दाहिने तरफ इशारा किया। उसकी नजर वहां घूमी। चार लडके घूर रहे थे उसे। उनमें से एक को वो जानता था। लड़का झेंप गया नजरें मिलते ही। अब चारों जा चुके थे। लड़की अब उससे भी सशंकित हो उठी थी, लेकिन उसकी अधेड़ावस्था के कारण विश्वास ....या अविश्वास ..... शायद!

"तुम इतनी रात को यहाँ कैसे और क्यों?"

"मैं अनाथाश्रम से भाग आई हूँ। वो लोग मुझे आज रात के लिए कही भेजने वाले थे।" दबी जुबान से वो बडी़ मुश्किल से कह पायी।

"क्या..... ! अब कहाँ जाओगी?"

"नहीं मालूम!"

"मेरे घर चलोगी?"

".........!"

"अब आखिरी बार पुछता हूँ, मेरे घर चलोगी हमेशा के लिए?"

"जी!" ....मोतियों सी लड़ी गालों पर ढुलक आयी। गहन घुप्प अंधेरे से घबराई हुई थी। उसने झट लड़की का हाथ कसकर थामा और तेज कदमों से लगभग उसे घसीटते हुए घर की तरफ बढ़ चला। नशा हिरण हो चुका था। कुंडी खड़काने की भी जरूरत नहीं पडीं थी। उसके आने भर की आहट से दरवाजा खुल चुका था। वो भौंचक्की-सी खड़ी रही।

"ये लो, सम्भालो इसे! बेटी लेकर आया हूँ हमारे लिए। अब हम बाँझ नहीं कहलायेंगे।"

------------------------------------------------------

पथ का चुनाव

आज फिर किसी विधुर का प्रस्ताव आया है। जवान बच्चों की माँ बनने के ख्याल से ही मन सिहर उठा। इस रिश्ते को ना कह कर अपने धनहीन दुर्बल पिता को संताप दूँ, या बन जाऊँ हमउम्र बच्चों की माँ। सुना है तहसीलदार है। शायद पिता की वे मदद भी करें उनकी दूसरी बेटियों के निर्वाह में। आज कॉलेज में भी मन नहीं लगा था। घर की तरफ जाते हुए पैरों में कम्पन महसूस की थी उसने।

घंटे की टनकार, मंदिर से उठता हवन का धुँआ, कदम वहीं को मुड़ गये। ऊपर २५० सीढ़ियाँ, ऐसे चढ़ गई जैसे सारी साँसें आज इन्हीं को सुपुर्द करनी है। पहाड़ पर ऊपर मंदिर के, चारों ओर खाई। बिलकुल किनारे मुंडेर पर जाकर खड़ी हो गई। क्या करें, नीचे खाई में कूद जाये, या वापस घर जाकर तहसीलदार के बच्चों की माँ बने, या अपनी बी. ए. की पढ़ाई पूरी कर कोई ट्यूशन, या नौकरी।

हथेलियों में पसीना भर आया और आँखों में आँसू। वह मरना नहीं चाहती।

उसने महसूस किया कि वह किसी भी हाल में जिंदा रहना चाहती है। मंदिर की घंटी अब शांत हो चुकी थी। चढ़ाई से दुगुना जोश उसका अब सीढ़ियों से उतरने में था। साँसें काबू में थी।

"पापा, मै तब तक शादी नहीं करूँगी जब तक कोई नौकरी ना मिले मुझे।" अस्तित्व के प्रति धर्माचरण का पालन करते हुए, अब दृढ़ता से अपने पथ का चुनाव कर चुकी थी।

---------------------------------------------

प्यार

पति को ऑफिस के लिये विदा करके ,सुबह की भाग-दौड़ निपटा पढ़ने को अखबार उठाया, कि डोर बेल बज उठी।

"इस वक्त कौन हो सकता है!" सोचते हुए दरवाजा खोला। उसे मानों साँप सूँघ गया। पल भर के लिये जैसे पूरी धरती ही हिल गई थी। सामने प्रतीक खड़ा था।

"यहाँ कैसे?" खुद को संयत करते हुए बस इतने ही शब्द उसके काँपते हुए होंठों पर आकर ठहरे थे।

"बनारस से हैदराबाद तुमको ढूँढते हुए बमुश्किल पहुँचा हूँ।" वह बेतरतीब सा हो रहा था। सजीला-सा प्रतीक जैसे कहीं खो गया था।

"आओ अंदर, बैठो ,मैं पानी लाती हूँ।"

"नहीं, मुझे पानी नहीं चाहिए, मैं तुम्हें लेने आया हूँ, चलो मेरे साथ।"

"मैं कहाँ, मैं अब नहीं चल सकती हूँ कहीं भी।"

"क्यों, तुम तो मुझसे प्यार करती हो ना!"

"प्यार! शायद दोस्ती के लिहाज़ से करती हूँ।"

"तुम्हारी शादी जबरदस्ती हुई है। हमें अलग किया गया है। तुम सिर्फ मुझे प्यार करती हो।" "नहीं, तुम गलत सोच रहे हो प्रतीक। मैं उस वक्त भी तुमसे अधिक अपने मम्मी-पापा से प्यार करती थी, इसलिए तो उनके प्यार के आगे तुम्हारे प्यार का वजूद कमजोर पड़ गया।"

"लेकिन जिस इंसान से तुम्हारी शादी हुई उससे प्यार ......"

"बस, अब आगे कुछ ना कहना, वो मेरे पति है और मै सबसे अधिक उन्हीं से प्यार करती हूँ। उनसे मेरा जन्मों का नाता है।"

"और मैं, मैं कहाँ हूँ?"

"तुम दोस्त हो,तुम परिकथाओं के राजकुमार रहे हो मेरे लिए, जो महज कथाओं तक ही सिमटे रहते है हकीकत से कहीं कोसों दूर।"

"अच्छा, तो मैं अब चलता हूँ। तुमसे एकबार मिलना था सो मिल लिया।"

बाहर आकर जेब में हाथ डाल टिकट फाड़ कर वहीं फेंक बिना पलटे वो निकल गया और वह जाते हुए उसे अपलक, उसके ओझल होने तक,यूँ ही, वहीं ठिठकी निहारती रही।

-----------------------------------------

तमाशबीन

वह अपने सीधेपन से असंतुष्ट होकर , करवट बदल , नया चेहरा अख्तियार कर रहा है । जब नॉर्मल आदमी था तब वह भीड़ का हिस्सा हुआ करता था , लेकिन अब भीड़ का हिस्सा नहीं है ।

चरित्र में उग आये टेढ़ेपन की वजह से भीड़ में अलग, अपनी तरह का वह अकेला व्यक्ति है।

पिछले कई दिनों से वह कूड़े-करकट का एक पहाड़ खड़ा करने में लगा हुआ था जो आज पूरा हो गया।

उसके मुताबिक पहाड़ बहुत ऊँचा बना था। हाथ में एक झंडा लेकर उस पर चढ़ गया।

कुछ लोग उसकी तरफ ताकने लगे। उसे देख कर लोगों के चेहरे पर सवालिया निशान उभरने लगे। धीरे-धीरे लोग सवाल बन गये।

शलाका पुरूष .... मिथक पुरूष, ढोंगी इत्यादि अलग-अलग तरह के नामों से सम्बोधित कर, कुछ-कुछ कह, सवाल बने लोग अब अपने-अपने भीतर की तमाम गन्दगी उलीच रहे थे।

---------------------.

सावन की झड़ी

"भाभी, निबंध लिखवा दो!" चीनू ने उसका ध्यान खींचा।
"किस विषय पर?" चीनू की स्कूल डायरी उठा, फिर से नजर बरामदे की ओर लग गयी।

जब से सुषमा बरामदे में खड़ी हुई है और उधर वो गुजराती लड़का, उसका ध्यान वहीं है।
कितनी बार मना कर चुकी थी इसे लेकिन.....!

बाऊजी नजीराबाद वाले से रिश्ता जोड़ना चाहतें हैं और ये है कि इस गुजराती में अटकी है!

ननद के चेहरे पर छाई मायूसी उसे बार-बार हिमाकत करने को उकसा जाती थी इसलिये कल रात आखिरी बार फिर से हिम्मत करी थी।
"बाऊजी, वो पड़ोस में गुजराती है ना....!"

"हाँ, सो?"

"अपनी सुषमा को पसंद करता है, उसकी नौकरी भी वेयर हाऊस में है।"

"वो....? शक्ल देखी है उसकी, काला-कलूटा, जानवर है पूरा का पूरा! ऊपर से दूसरी जात!" बाऊजी की आवाज़ इतनी सर्द ...., उसकी हड्डियों तक में सिहरन उठी थी।

पति ने उसकी ओर खा जाने वाली नजरों से देखा था।

चीनू ने हाथ से डायरी छीन ली और जोर से आँचल खींच कर फिर से पूछा, "बताओ ना, जानवरों की क्रिया कलापों पर क्या लिखूँ?"

सुषमा और चीनू के लिए वह भाभी कम माँ अधिक थी।

"भाभी, मोर क्यों नाचता है?" चीनू ने इस बार सबसे सरल प्रश्न पूछा था।
वैसे चीनू के प्रश्नों के जवाब उसे ढूँढ-ढूँढकर तलाशने होते हैं। आज कल के बच्चे कम्पयूटर से भी तेज, और चीनू, उन सबमें भी अव्वल!

"मोरनी को रिझाने के लिए ही मोर नाचता है।" उसने स्नेह से कहा।

"और जुगनू क्यों चमकता है?

"अपने साथी को आकर्षित करने के लिए।"

सुनते ही क्षण भर को वह चुप हो गया।

"आप हमारे भैया की साथी हो?"

"हाँ!" उसके ओर आँखें तरेरती हुई बोली।

"भैया ने आपको कल रात मारा क्यों?"

"चीनू!" वह एकदम से सकपका गयी।
"क्योंकि मैं उन पर ध्यान नहीं देती हूँ?" भर्राये स्वर में धीरे से कहा।

"तो उनको भी आपको रिझाने के लिए जुगनू की तरह चमकना चाहिये, मोर की तरह नाचना चाहिये था ना?"

"धत्! वे क्यों रिझायेंगे, जानवर थोड़ी ना हैं!"

"भैया जानवर नहीं हैं,लेकिन गुजराती तो जानवर है ना, इसलिये तो सुषमा जीजी को रिझाता रहता है।" कह कर चीनू जोर-जोर से हँसता रहा लेकिन वह सुनकर सुन्न पड़ गयी।

"ये क्या ऊटपटाँग बातें कर रहा है तू?"

"भाभी, मैं खुद ही निबंध लिख लूँगा, बस सुषमा जीजी को उसका मोर दिला दो! फिर वो कभी आपकी तरह छुप-छुपकर नहीं रोयेगी।" कहते हुए चीनू की नजर भी बरामदे में जाकर टिक गयी।


                                        ***

कतरे हुए पंख

वह किशोरी थी या युवती, कहना मुश्किल था। लड़की थी, बड़ी हो रही थी, पर मुझे तो प्रौढ़ा लगती थी। सुबह के ठीक नौ बजे गेट खड़काती और बिना मालिक के अनुमति के इंतजार किए धड़ाधड़ घोड़े पर सवार अंदर घुस आती।

वर्गभेद की मिसाल, एक तरफ अपने स्कूल के साधन-सम्पन्न बच्चों को देखूं और दूसरी तरफ ये नवजात प्रौढ़ा कम्मो!

"आज क्या बनाऊं?" फिर से सीधे एक कठिन सवाल दागती सामने आकर तोप-सी खड़ी हो जाती है।

टिक-टिक सरकती हुई घड़ी की सुई, चढ़ते दिन, वक्त से अनजान, लिखते हुए मैं चौंक उठती हूँ और अकबकाई-सी उसकी ओर देखती हुई पूछती, "क्या बनाऊं आज?"

सच कहूं तो मैं खुद में ही अब तक बचपने को जी रही थी, ऐसे में झड़बेरियों सी अस्त-व्यस्त यह उगती, झड़ती-सी लड़की/प्रौढ़ा या......!

"आप जो कहोगी, बना लूँगी!" अचानक वह प्रौढ़ा से नन्हीं बालिका में परिवर्तित हो जाती है। वह बुद्धिमती है, इसलिए मेरी आंखों की उदासी पढ़ लेती है।

"आज राजमा-चावल बना ले, तेरा काम जल्दी निपट जाएगा।" मैंने बचपने को स्थिर रखना चाहा।

"मुझे जल्दी नहीं है, आप सोच लो, और जो कहोगी,बना लूँगी।" वह धुन की पक्की, कर्मठ थी।

"फिर ऐसा कर, चार परांठे भी बना ले।"

"ठीक है!" आँखें मटकाती रसोई में घुस गई। मैंने भी मन की उदासीनता को वहीं किताबों में दबाकर, अपनी पढ़ाई-लिखाई समेट, नहाने की तैयारी में जुट गई।

केमिस्ट्री के लिए नए शिक्षकों की भर्ती के लिए साक्षात्कार लेने के लिए जल्दी जाना था। मैं स्वयं स्कूल की प्रिंसिपल ही वक्त पर ना पहुंचूँ तो बाकियों को अनुशासित रखना कैसे सम्भव होगा!

"कम्मो, इधर आ, जरा उधर रैक से शैम्पू लाकर दे तो!"

"अभी लाई!"

"लीजिए! आज बाल धोएंगी?" वह फिर से प्रौढ़ावस्था में पहुंच गई थी।

"हाँ!"

"मत धोइए, आज शनिवार है!"

"शनिवार से बाल धोने का क्या संबंध है?"

"शनिवार को बाल नहीं धोते हैं!" फिर बड़ों सी बातें।

"बाल क्यों नहीं धोते शनिवार को?" मैंने उस पर नजर टिकाए हुए पूछा।

"वो तो नहीं मालूम, बस नहीं धोना चाहिए, माँ-दादी सब ऐसा ही कहती हैं।" कहते कहते फिर से उसके चेहरे पर मासूमियत उभर आई।

"माँ-दादी से पूछा नहीं कि क्यों शनिवार को बाल नहीं धोते?"

उसने आँखें चौड़ी की। और ठुनक भरे स्वर में बोली,

"पूछा था, उनको भी नहीं मालूम। उन्होंने कहा कि बड़े बूढ़े जब कहते हैं तो कुछ तो होता ही होगा।"

"सब कहते हैं बस इसलिए मान लेती हो? यानी कि भेड़चाल! कल से तुम यहाँ काम करने मत आना।" मैंने रोष भरे स्वर में कहा।

"मुझे माफ कर दीजिए, अबसे ऐसा नहीं कहूँगी!" वह गिड़गिड़ाई, अब वह न बालिका थी ना ही प्रौढ़ा...!

"नहीं, कोई माफी नहीं मिलेगी, अब तुम्हें मेरे स्कूल में पढ़ने की सजा काटनी होगी। घर से सीधे-सीधे मेरे स्कूल पहुँचना, अब तुम्हें रोटी बनाने की नहीं, पढ़ाई करने की पगार मिलेगी, समझी कि नहीं!" वह फिर से प्रौढ़ा न बन जाए, मैं घबरा गई थी।

संक्षिप्त परिचय

कान्ता रॉय

जन्म दिनांक- २० जूलाई, १९६९ जन्म स्थान- कोलकाता
शिक्षा- बी. ए.
लेखन की विधाएँ-लघुकथा, कहानी, गीत-गज़ल-कविता और आलोचना
सचिव: लघुकथा शोध-केंद्र भोपाल, मध्यप्रदेश
हिंदी लेखिका संघ, मध्यप्रदेश (वेवसाईट विभाग की जिम्मेदारी)
ट्रस्टी- श्री कृष्णकृपा मालती महावर बसंत परमार्थ न्यास।
सामाचार सम्पादक: सत्य की मशाल (राष्ट्रीय मासिक पत्रिका)
संस्थापक : अपना प्रकाशन


पुस्तक प्रकाशन :
घाट पर ठहराव कहाँ (एकल लघुकथा संग्रह),
पथ का चुनाव (एकल लघुकथा संग्रह),
आस्तित्व की यात्रा (प्रेस में)
सम्पादक:
चलें नीड़ की ओर (लघुकथा संकलन)
सोपान-4 (काव्य संकलन),
सहोदरी लघुकथा-(लघुकथा संकलन)
सीप में समुद्र-(लघुकथा संकलन)
बालमन की लघुकथा (लघुकथा संकलन)

भारत की प्रतिनिधि महिला लघुकथाकार(प्रकाशाधीन)
अतिथि संपादक-दृष्टि, लघुकथा पत्रिका, महिला लघुकथाकारों का अंक।

अतिथि संपादक -साहित्य कलश
एकल लघुकथा-पाठ : निराला सृजन पीठ, भारत भवन, भोपाल।
आकाशवाणी भोपाल से कहानी, लघुकथाएँ प्रसारित, दूरदर्शन से कविताओं का प्रसारण.
लघुकथा कार्यशाला :
1. ग्लोबल लिटरेरी फेस्टिवल फिल्म सिटी नोयडा, उ.प्र. में लघुकथा वर्कशॉप का आयोजन किया।
2. हिन्दी लेखिका संघ मध्यप्रदेश भोपाल में 2016 में
दून फिल्म फेस्टिवल कहानी सत्र में अतिथि वक्ता के तौर पर सहभगिता।


उपलब्धियाँ :
साहित्य शिरोमणि सम्मान, भोपाल।
इमिनेंट राईटर एंड सोशल एक्टिविस्ट, दिल्ली।
श्रीमती धनवती देवी पूरनचन्द्र स्मृति सम्मान,भोपाल।
लघुकथा-सम्मान (अखिल भारतीय प्रगतिशील मंच,पटना)
तथागत सृजन सम्मान, सिद्धार्थ नगर, उ.प्र.
वागवाधीश सम्मान, अशोक नगर,गुना।
गणेश शंकर पत्रकारिता सम्मान.भोपाल।
शब्द-शक्ति सम्मान,भोपाल।
श्रीमती महादेवी कौशिक सम्मान (पथ का चुनाव, एकल लघुकथा संग्रह) प्रथम पुरस्कार सिरसा,
राष्ट्रीय गौरव सम्मान चित्तौरगढ़,
श्री आशीष चन्द्र शुल्क (हिंदी मित्र) सम्मान, गहमर, तेजस्विनी सम्मान,गहमर.
लघुकथा के लेखन के
'लघुकथा के परिंदे' मंच की संचालिका।
कोलकाता में अपने छात्र जीवन के दौरान कई सांस्कृतिक संस्था से जुडी रही। महाजाति सदन, रविन्द्र भारती, श्री शिक्षा यतन हॉल में मैंने कई स्टेज शो किये हैं।


संपर्क- कान्ता राय
मकान नम्बर-21
सेक्टर-सी सुभाष कालोनी ,
नियर हाई टेंशन
गोविंदपूरा
भोपाल- 462023
ई मेल - roy.kanta69@gmail.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 2
Loading...

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3844,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2787,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,834,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,7,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1921,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,649,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कान्ता रॉय की लघुकथाएँ
कान्ता रॉय की लघुकथाएँ
https://lh3.googleusercontent.com/-bETfKFnZ-ec/WzXLjgcGFgI/AAAAAAABDLI/Hj4dBXoHeWY91P3cS-Lxs_nJpCIhGdBPgCHMYCw/image_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-bETfKFnZ-ec/WzXLjgcGFgI/AAAAAAABDLI/Hj4dBXoHeWY91P3cS-Lxs_nJpCIhGdBPgCHMYCw/s72-c/image_thumb?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2018/06/blog-post_95.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/06/blog-post_95.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ