विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका। प्रकाशनार्थ रचनाएँ इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी इस पेज पर [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

कैलाश बनवासी की कहानी

साझा करें:

. बाज़ार में रामधन -कैलाश बनवासी यह बालोद का बुधवारी बाज़ार है. बालोद इस ज़िले की एक तहसील है. कुछ साल पहले तक यह सिर्फ़ एक छोटा-सा गांव...

.

बाज़ार में रामधन







-कैलाश बनवासी


यह बालोद का बुधवारी बाज़ार है.

बालोद इस ज़िले की एक तहसील है. कुछ साल पहले तक यह सिर्फ़ एक छोटा-सा गांव हुआ करता था. जहां किसान थे, उनके खेत थे, हल-बक्खर थे, उनके गाय-बैल थे, कुएं और तालाब थे, उनके बरगद, नीम और पीपल थे. पर अब यह एक छोटा शहर है. शहर की सारी खूबियां लिए हुए. आसपास के गांव-देहातों को शहर का सुख और स्वाद देने वाला. इसी बालोद के हफ्तावार भरने वाले बुधवारी बाज़ार की बात है. रामधन अपने एक जोड़ी बैल लेकर यहां बेचने पहुंचा था.

रामधन और उसकी पत्नी मेहनत-मजूरी करके ही अपना पेट पाल सकते हैं और पाल रहे हैं. लेकिन मुन्ना क्या करे? वह तो यहां गांव का पढ़ा-लिखा नौजवान है, जिसे स्कूली भाषा में कहें तो देश को आगे बढ़ानेवालों में से एक है. वह पिछले दो सालों से नौकरी करने के या खोजने के नाम पर इधर-उधर घूम रहा है. परंतु अब वह इनसे भी ऊब चुका है और कोई छोटा-मोटा धंधा करने का इच्छुक है. लेकिन धंधा करने के लिए पैसा चाहिए. और पैसा?

''भइया, बैलों को बेच दो!''
मुन्ना ने यह बात किसी खलनायक वाले अंदाज़ में नहीं कही थी. उसने जैसे बहुत सोच-समझकर कहा था. इसके बावजूद रामधन को गुस्सा आ गया, ''ये क्या कह रहा है तू?''
''ठीक ही तो कह रहा हूं मैं! बेच दो इनको. मैं धंधा करूंगा!''
रामधन को एक गहरा धक्का लगा था, अब यह भी मुंह उठाकर बोलना सीख गया है मुझसे. लेकिन इससे भी ज्यादा दु:ख इस बात का हुआ कि मुन्ना उसे बेचने को कह रहा है जो उनकी खेती का आधार है. रामधन ने बात गुस्से में टाल दी, ''अगर कुछ बनना है, कुछ करना है तो पहले उतना कमाओ! इसके लिए घर की चीज़ क्यों ख़राब करता है? पहले कमा, इसके बाद बात करना! हम तेरे लिए घर की चीज़ नहीं बेचेंगे. समझे?''

लेकिन बात वहीं ख़त्म नहीं हुई. झंझट था कि दिन-पर-दिन बढ़ता जा रहा था.
''आख़िर ये दिन भर यहां बेकार में बंधे ही तो रहते हैं. खेती-किसानी के दिन छोड़कर कब काम आते हैं? यहां खा-खाकर मुटा रहे हैं ये!'' मुन्ना अपने तर्क रखता.
''अच्छा, तो हमारा काम कैसे चलेगा?''
''अरे, यहां तो कितने ही ट्रैक्टर वाले हैं, उसे किराए से ले आएंगे. खेत जुतवाओ, मिंजवाओ और किराया देकर छुट्टी पाओ!''

''वाह! इसके लिए तो जैसे पइसा-कौड़ी नहीं लगेगा? दाऊ क्या हमारा ससुर है जो फोकट में ट्रैक्टर दे देगा?''
''लगेगा क्यों नहीं? क्या इनकी देखभाल में खरचा नहीं लगता?''
''लगता है, मगर तेरे ट्रैक्टर से कम! समझे? बात तो ट्रैक्टर की कर रहा है तू, मालूम भी है उसका किराया?''
''मालूम है इसीलिए तो कह रहा हूं. यहां जब बैल बीमार पड़ते हैं तो कितना ही रुपया उनके इलाज-पानी में चला जाता है, तुम इसका हिसाब किए हो? साला पैसा अलग और झंझट अलग!''

''मगर किसी की बीमारी को कौन मानता है?''
''तभी तो मैं कहता हूं, बेचो और सुभीता पाओ!''
बातचीत हर बार अपनी पिछली सीमा लांघ रही थी. कहने को तो मुन्ना यहां तक कह गया था कि इन बैलों पर सिर्फ़ तुम्हारा ही नहीं, मेरा भी हक़ है.
इस बात ने लाजवाब कर दिया था रामधन को. और अवाक्! कभी नहीं सोचा था उसने कि मुन्ना उसके जैसे सीधे-सादे आदमी से हक़ की बात करेगा. मुन्ना को क्या लगता है, मैं उसका हिस्सा हड़पने के लिए तैयार बैठा हूं? रामधन खूब रोया था इस बात पर...अकेले में.
बैल उसके पिता के ख़रीदे हुए हैं, यह बात सच है. जाने किस गांव से भागकर इस गांव में आ गए थे बैल, तब ये बछड़े ही थे और साथ में बंधे हुए थे. किसी ने पकड़कर कांजी हाउस के हवाले कर दिया था उन्हें. नियम के मुताबिक़ कुछ दिनों तक उनके मालिक का रास्ता देखा गया ताकि जुर्माना लेकर छोड़ सकें. लेकिन जब इन्तज़ार करते-करते ऊब गए और कोई उन्हें छुड़ाने नहीं पहुंचा तो सरपंच ने इनकी नीलामी करने का फ़ैसला किया था. यह संयोग ही था कि रामधन के गंजेड़ी बाप के हाथ में कुछ रुपए थे. और सनकी तो वह था ही. जाने क्या जी में आया जो दोनों बछड़े वहां से ख़रीद लाया. तब से ये घर में बंध गए और रामधन की निगरानी में पलने लगे. खेत जोतना, बैलगाड़ी में फांदना, उनसे काम लेना और उनके दाना-भूसा का ख़याल रखना, उनको नहलाना-धुलाना और उनके बीमार पड़ने पर इलाज के लिए दौड़-भाग करना. सब रामधन का काम था. तब से ये बैल रामधन से जुड़े हुए हैं. इनके जुड़ने के बाद रामधन इतना ज़रूर जान गया कि भले ही बेचारों के पास बोलने के लिए मुंह और भाषा नहीं है, लेकिन अपने मालिक के लिए भरपूर दया-माया रखते हैं. इनकी गहरी काली तरल आंखों को देखकर रामधन को यह भी लगता है, ये हमारे सुख-दु:ख को खूब अच्छी तरह समझते हैं. बिल्कुल अपने किसी सगे की तरह. तभी तो वह उन्हें इतना चाहता है. इतना लगाव रखता है.

इन्हें बेचने की बात उठी, तबसे ही उसे लग रहा है, जैसे उसकी सारी ताक़त जाने लगी है.
रामधन मुन्ना को समझा नहीं पा रहा था. वह समझा भी नहीं सकता था. अब कैसे समझाता इस बात को कि बैल हमारे घर की इज्ज़त है...घर की शोभा है. और इससे बढ़कर हमारे पिता की धरोहर है. उस किसान का भी कोई मान है समाज में, जिसके घर एक जोड़ी बैल नहीं हैं! कैसे समझाता कि हमारे साथ रहते-रहते ये भी घर के सदस्य हो गए हैं. जो भी रुखा-सूखा, पेज-पसिया मिलता है, उसी में खुश रहते हैं. वह मुन्ना से कहना चाहता था, तुमको इनका बेकार बंधा रहना दिखता है मगर इनकी सेवा नहीं दिखती? इनकी दया-मया नहीं दिखती?

और सचमुच मुन्ना को कुछ दिखाई नहीं देता. उसके सिर पर तो जैसे भूत सवार है धन्धा करने का. रोज़-रोज़ की झिक-झिक से उसकी पत्नी भी तंग आ चुकी है_रोज़ के झंझट से तो अच्छा है कि चुपचाप बेच दो. न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी!
मुन्ना कहने लगा है - अगर तुम नहीं बेच सकते तो मुझसे कहो. मैं बेच दूंगा उन्हें बढ़िया दाम में!
...बाज़ार की भीड़ अब बढ़ रही है. चारों तरफ़ शोरगुल और भीड़भाड़. यहां की रौनक देखकर रामधन को महादेव घाट के मेले की याद आई. हर साल माघी पुन्नी के दिन भरने वाला मेला. वहां भी ऐसी ही भीड़ और रौनक होती है. पिछले साल ही तो गया था उसका परिवार. और पास-पड़ोस के लोग भी गए थे. जितने उसकी बैलगाड़ी में समा जाएं. सब चलो! पूरी रात भर का सफ़र था. और जाड़े की रात. फिर भी मेले के नाम पर इतना उत्साह कि सब अपना कथरी-कंबल संभाले आ गए थे. रामधन को आज भी वह रात याद है_अंजोरी रात का उजाला इतना था कि हर चीज़ चांदनी में नहा-नहा गई थी, खेत, मेंड़, नहर, पेड़, तालाब...जैसे दिन की ही बात हो.

उनके हँसने-खिलखिलाने से जैसे बैलों को भी इसका पता चल गया था, रात भर पूरे उत्साह और आनंद से दौड़ते रहे...खन्-खन् खन्-खन्...!
...गाय-बैलों का एक मेला-सा लग गया है यहां. हर क़िस्म के बैल. काले-सफेद, लाल, भूरे और चितकबरे और अलग-अलग काठी के बैल_नाटे, दुबले, मोटे...ग्राहकों की आवाजाही और पूछताछ शुरू हो चुकी है. बैलों के बाज़ार में धोती-पटका वाले किसान हैं. सौदेबाजी चल रही है.

रामधन के बैलों को भुलऊ महाराज परख रहे हैं. आस-पास के गांवों में उनकी पण्डिताई ख़ूब जमी है. चाहे ब्याह करना हो, सत्यनारायण की कथा कराना हो, मरनी-हरनी पर गरुड़-पुराण बांचना हो_सब भुलऊ महाराज ही करते हैं. कुछ साल पहले तक तो कुछ नहीं था इनके पास. अब पुरोहिती जम गई तो सब कुछ हो गया. खेती-बाड़ी भी जमा चुके हैं अच्छी-खासी.
महाराज बैलों के पुट्ठों को ठीक तरह से ठोंक-बजाकर देखने के बाद बोले,
''अच्छा रामधन, ज़रा इनको रेंगाकर दिखाओ. चाल देख लूं.''

रामधन ने बीड़ी का धुआं उगलकर कहा, ''अरे, देख लो महाराज...तुमको जैसे देखना है, देख लो! हम कोई परदेसी हैं जो तुम्हारे संग धोखाधड़ी करेंगे.''
रामधन ने बैलों को कोंचकर हकाला, ''हो...रे...रे...च्चल!'' दोनों बैल आठ-दस डग चले फिर वापस अपनी जगह पर.

भुलऊ महाराज बगुला भगत बने बड़े मनोयोग से बैलों का चलना देख रहे थे. कहीं कोई खोट तो नहीं है! कहने लगे, ''देखो भइया, मैं तो कुछ भी चीज़ लेता हूं तो जांच-परखकर लेता हूं.''
''देखो न महाराज, रोकता कौन है? न मैं कहीं भाग रहा हूं न मेरे बैल. अच्छे-से देख लो. धोखाधड़ी की कोई बात नहीं है. फिर बाम्हन को दगा देकर हमको नरक में जाना है क्या?''
भुलऊ महराज, के चेहरे से लगा, रामधन के उत्तार से संतुष्ट हुए. बोले, ''अच्छा, अब ज़रा इनका मुंह खोलकर दिखाओ. मैं इनके दांत गिनूंगा.''

''अभी लो. ये कौन बड़ी बात है.'' रामधन ने बीड़ी फेंककर अपने बैलों के मुंह खोल दिए. भुलऊ महाराज अपनी धोती-कुरता संभालते हुए नजदीक आए और बैलों के दांत गिनते लगे.
दांत गिरने हुए महाराज ने पूछा, ''तुम्हारे बैल कोढ़िया तो नहीं हैं?''
''तुम भी अच्छी बात करते हो महाराज! विश्वास नहीं है तो गांव में पुछवा लो पांच-परगट. सब पंच गवाही देंगे!''
''ठीक है भई, ठीक है. मान लिया. अब तुम कहते हो तो मान लेते हैं.'' महाराज व्यर्थ ही हँसे, फिर अपने बंद छाते की नोक को कसकर ज़मीन में धांसा. मानो अब सौदे की बात हो जाए. महाराज ने अपने को थोड़ा खांस-खंखारकर व्यवस्थित किया, फिर पूछा, ''तो बताना भाई, कितने में दोगे?''

रामधन विनम्र हो गया, ''मैं तो पहले ही बता चुका हूं मालिक...''
नाराजगी से भुलऊ महाराज का चंदन और रोली का तिलक लगा माथा सिकुड़ गया, ''फिर वही बात! वाजिब दाम लगाओ, रामधन.''
''बिल्कुल वाजिब लगा रहा हूं महाराज. भला आपसे क्या फ़ायदा लेना.'' रामधन ने उसी नम्रता से कहा.

ज़ाफ़रानी ज़र्दा वाले पान का स्वाद महाराज के मुंह में बिगड़ गया. पीक थूककर खीजकर बोले, ''क्या यार रामधन! जान-पहचान के आदमी से तो कुछ कम करो. आख़िर एक गांव-घर होने का कोई मतलब है कि नहीं? आंय!''
रामधन का जी हुआ कह दे, 'तुम तो लगन पढ़ने के बाद एक पाई कम नहीं करते. आधा-अधूरा बिहाव छोड़कर जाने की धमकी देते हो अगर दक्षिणा तनिक भी कम हो जाए. गांव-घर जब तुम नहीं देखते तो भला मैं क्यों देखूं?' लेकिन लगा इससे बात बिगड़ जाएगी. उसने सिर्फ़ इतना ही कहा, ''नहीं पड़ेगा महाराज, मेरी बात मानो. अगर पड़ता तो मैं दे नहीं देता.''

भुलऊ महाराज अब बुरी तरह बमक गए और गुस्से से उनके पतले लम्बूतरे चेहरे की नरम झुर्रियां लहरा उठीं, ''तो साले, एक तुम्हीं हो जैसे दुनिया में बैल बेचने वाले? बाक़ी ये सब तो मुंह देखने वाले हैं! इतना गुमान ठीक नहीं है, रामधन!''
महाराज की तेज़ आवाज़ से आसपास के लोगों का ध्यान इधर ही खिंच गया. रामधन ने इस समय ग़ज़ब की शांति से काम लिया, ''मैं कब कह रहा हूं महाराज. तुमको नहीं पोसाता तो झन खरीदो, दूसरा देख लो. यहां तो कमी नहीं है जानवरों की.'' इतना तो रामधन भी जानता था कि ग्राहक भले ही गुस्सा हो जाए, बेचने वाले को शान्त रहना चाहिए.

.

.

महाराज गुस्से से थरथराते खड़े रहे. कुछ लोग आसपास घेरा बनाकर जमा हो गए, गोया कोई तमाशा हो रहा हो.
इधर-उधर घूमकर सहदेव फिर वापस आकर खड़ा हो गया था और सारा माजरा देखता रहा था चुपचाप. बोला, ''देखो रामधन, तुमको पोसा रहा है तो बोलो, मैं अभी खड़े-खड़े ख़रीद लेता हूं.''

रामधन जानता है सहदेव को. यह गांव-गांव के बाज़ार-बाज़ार घूमकर गाय-बैलों की ख़रीदारी में दलाली करता है. ख़रीदार के लिए विक्रेता को पटाता है और विक्रेता के लिए ग्राहक. ये बैल के पारखी होते हैं. सहदेव कुथरेल गांव के भुनेश्वर दाऊ के लिए दलाली कर रहा है.
रामधन अपने बैलों की तरफ़ पुआल बढ़ाता हुआ बोला, ''नहीं भाई, इतने कम में नहीं पोसाता सहदेव.''

रामधन का वही सधा हुआ और ठहरा हुआ टका-सा जवाब सुनकर जैसे महाराज की देह में आग लग गई, ''देख...देख...इसको! कैसा जवाब देता है? मैं कहता हूं, अरे, कैसे नहीं पोसाएगा यार? सब पोसाएगा! देख सब जगे सौदा पट रहा है...'' झल्लाहट में महाराज के कत्था से बुरी तरह रचे काले-भूरे दांत झलक गए.
''मैं तो कह रहा हूं महाराज. हाथ जोड़कर कह रहा हूं.'' रामधन ने सचमुच हाथ जोड़ लिए. ''आप वहीं ख़रीद लो!''
अब सहदेव भी बिदक गया, हालांकि वह शांत स्वभाव का आदमी है. बोला, ''ले रे स्साले! ज्यादा नखरा झन मार! तेरे बैल बढ़िया दाम में बिक जाएंगे. देख, तेरे बैल ख़रीदने भुनेसर दाऊ ख़ुद आए हैं.''

रामधन ने कुथरेल के भुनेश्वर दाऊ को देखा, जो सामने खड़े थे, सौदेबाजी देखते. अधेड़ दाऊ की आंखों में धूप का रंगीन चश्मा है, सुनहरी फ्रेम का. वे बड़े इत्मीनान और बेहद सलीके से पान चबाते खड़े हैं. भुलऊ महाराज की तरह गंवारूपन के साथ नहीं, जिनके होंठों से पान की पीक लगातार लार की तरह चू रही है.
रामधन को बहुत असहज लग रहा था...इस भीड़ के केंद्र में वही है. और ऐसा बहुत कम हुआ है. सब पीछे पड़े हैं. एक क्षण को गर्व भी हुआ उसे अपने बैलों पर. उसने बैलों को पुचकार दिया और बैलों की गले की घंटियां टुनटुना उठीं.

अब दाऊ ने अपना मुंह खोला, ''देखो भाई, मुझको तो हल-बैल का कुछ नहीं मालूम. मैं तो नौकरों के भरोसे खेती करने वाला आदमी हूं. बस, हमको बैल बढ़िया चाहिए. ख़ूब कमाने वाला. कोढ़िया नहीं होना चाहिए बैल...''
रामधन ने अपने बैलों को दुलारा, ''शक-सुबो की कोई बात नहीं है दाऊ. मैं अपने मुंह से इनके बारे में क्या कहूं, गांव के किसी भी आदमी से पूछ लो, वह बता देगा आपको. आप चाहो तो इनको दिन भर दौड़ा लो, पानी छोड़कर कुछ और नहीं चाहिए इनको.''

वहां खड़े-खड़े भुलऊ महाराज का धैर्य और संयम अब चुकने लगा था. बोले, ''तीन हज़ार दो सौ दे रहा हूं! नगद! और कितना दूंगा?...साले दो-टके के बैल!...आदमी और कितना देगा?''
रामधन अटल है, ''नहीं पड़ेगा महाराज! चार हज़ार माने चार हज़ार!''
अब महाराज के चेहरे पर गुस्सा, क्षोभ, तिलमिलाहट और पराजय का भाव देखने लायक़ था. लगता था भीतर ही भीतर क्रोध से दहक रहे हों और उनका बस चले तो रामधन को भस्म करके रख दें.

अब सहदेव ने कहा, ''देखो भाई, तुमको तुम्हारी आमदनी मिल जाए, तुमको और क्या चाहिए फिर?''
''अरे आमदनी की ऐसी की तैसी! मेरा तो मुद्दस नहीं निकलता मेरे बाप.'' रामधन भी चिल्ला उठा.
भुलऊ महाराज को इस बीच जैसे फिर मौक़ा मिल गया. अपना क्रोध निगलकर बोले, ''ले यार, मैं नगद दे रहा हूं तीन हज़ार तीन सौ! एक सौ और ले लो. ले चल. तुम्हीं खुश रहो. चल अब क़िस्सा ख़तम कर...'' भुलऊ महाराज अपनी रौ में रस्सी पकड़कर बैलों को खींचने लगे, ज़बरदस्ती...

महाराज की इस हरक़त पर जमा लोग हँस पड़े. सहदेव तो ठठाकर हँस पड़ा, ''महाराज, ये दान-पुन्न का काम नहीं है. मैं इनके भाव जानता हूं. जितना तुम कह रहे हो उतने में तो कभी नहीं देगा! अरे घंटा भर पहले मैं साढ़े तीन हज़ार बोला था. एक घंटा तक इसके कुला में लेवना (मक्खन) लगाया. मुझको नहीं दिया तो तुमको कैसे दे देगा तीन हज़ार तीन सौ में?''

जमा लोग फिर हँस पड़े. भुलऊ महाराज अपमानित महसूस करके क्षण भर घूरते रहे. फिर गुस्से से अपना गड़ा हुआ छाता उठाया और चलते बने.
महाराज के खिसकते ही भीड़ के कुछ लोगों को लगा, अब मज़ा नहीं आएगा. सो कुछ सरकने को हुए. लेकिन अधिकांश अभी डटे हुए थे, किसी नए ग्राहक और तमाशे की उम्मीद में, उन तगड़े सफेद और भूरे बैलों को मुग्ध होकर निहारते हुए.

तभी भीड़ को चीरता हुआ चइता प्रकट हो गया. चइता इधर का जाना-माना दलाल है. विकट ज़िद्दी और सनकहा. अपने इस ज़िद्दी स्वभाव के भरोसे ही वह जीतता आया है. ऐसे सौदे कराने की कला में वह माहिर माना जाता है. सौदेबाजी में सफलता के लिए वह साम-दाम-दंड-भेद, हर विधि अपना सकता है. पैर पड़ने से लेकर गाली बकने तक की क्रिया वह उसी सहज भाव से निपटाता है.

उसके आते ही ठर्रे का तीखा भभका आसपास भर गया. वह सिर में लाल गमछा बांधे हुए था. अधेड़, काला किंतु गठीले शरीर का मालिक चइता.
आते ही दाऊ को देखकर कहेगा, ''राम-राम दाऊ, का बात है?'' वह अपनी आदत के मुताबिक़ जल्दी-जल्दी बात कहता है.
दाऊ ने अपनी शिकायत चइता के सामने रखी, ''अरे देख ना चइता, साढ़े तीन हज़ार दे रहा हूं, तब भी नहीं मान रहा है.''

''तुम हटो तो सहदेव, मैं देखता हूं.'' सहदेव को एक किनारे करता हुआ चइता आगे बढ़ गया. उसने बैलों को देखा और उनके माथे को छूकर प्रणाम किया. और बोला, ''ठीक है दाऊ. मैं पटा देता हूं सौदा. अब चिंता की कोई बात नहीं है, मैं आ गया हूं.''
रामधन ने कहना चाहा कि इतने में नहीं पोसाएगा. लेकिन चइता इससे बेख़बर था. उसे जैसे रामधन के हां अथवा ना की कोई परवाह ही नहीं थी. वह अपनी रौ में इस समय सिर्फ़ दाऊ से मुखातिब था, ''दाऊ...तुम दस रुपया दो...बयाना...मैं सब बना लूंगा, तुम देखते भर रहो.''
दाऊ ने दूसरे ही पल अपने पर्स से सौ का एक नोट निकाल लिया, ''अरे दस क्या लेते हो, सौ रखो.''

रुपए लेकर चइता अब रामधन की तरफ़ बढ़ा. उसे ज़बरदस्ती रुपया पकड़ाने लगा, ''अच्छा भाई, चल जा. बैलों के पैर छू ले. ये बयाना रख और सौदा मंजूर कर...''
''कितने में?'' रामधन ने गहरे संशय से पूछा.
''साढ़े तीन हज़ार में.''
''ऊं हूं...नहीं जमेगा.'' रामधन ने स्पष्ट कहा.

अब चइता अपने वास्तविक फ़ार्म में उतर आया, ज़िद करने लगा, ''अरे, रख मेरे भाई और मान जा.''
रामधन ने विनम्र होने की कोशिश की, ''नहीं भाई, नहीं पोसाता. देख, मेरी बात मान और ज़िद छोड़...मैं तुम्हारे पैर पड़ता हूं.''
लेकिन चइता भभक गया, ''अरे ले ले साले! कितने ही देखे हैं तेरे जैसे! चल रख और बात खतम कर!''

''नहीं नहीं. चार हज़ार से एक पाई कम नहीं.'' रामधन अपनी बात पर अटल था.
रामधन को परेशानी में फंसा देखकर सहदेव बचाव के लिए आया और चइता को समझाने लगा, ''चइता, जब उसको नहीं पोसाता तो कैसे दे देगा. कुछ समझाकर!''
''देगा! ये देगा और तेरे सामने देगा! तुम देखते तो रहो.'' चइता ने जमी हुई नज़रों से सहदेव को देखा. वह फिर अपनी ज़िद पर उतर आया, ''ले रख यार और मान जा! जा बैलों के पैर छू ले.'' कोई प्रतिक्रिया रामधन के चेहरे पर नहीं देखकर वह फिर शुरू हो गया, ''अच्छा, चल ठीक है! तुम मुझको एक पैसा भी दलाली मत देना. ये लो! तेरे बैलों की कसम! बस्स! एक पैसा मत देना मेरे को! और जो कोई तेरे से पैसा मांगेगा उसकी महतारी के संग सोना! मंजूर? चल...''

अब रामधन को भी गुस्सा आ गया, ''मैं तुम्हारे को कितने बार समझाऊंगा, स्साले! तुमको समझ नहीं आता क्या? नहीं माने नहीं. तू जा यार यहां से...जा...!''
लेकिन चइता भी पूरा बेशरम आदमी ठहरा. वह इतनी जल्दी हार मानने वाला नहीं था, ''अच्छा, आख़िर मुझको सौ-दो सौ रुपया देगा कि नहीं? आंय? मत देना मेरे को! मैं समझूंगा जुए में हार गया या दारू में फूंक दिया. अरे, मैं पिया हुआ हूं इसका ये मतलब थोड़ी है कि ग़लत-सलत भाव करने लगूंगा. मेरी बात मान, इससे बढ़िया रेट तेरे को और कोई नहीं देगा, मां क़सम! धरती दाई की क़सम! कोई नहीं देगा!'' उसने ज़मीन की मुट्ठी भर धूल उठाकर माथे पर लगा ली.

लेकिन चइता के इतने हथियार आज़माने के बावजूद वह बेअसर रहा. अपनी ज़िद पर क़ायम रहा, चार हज़ार बस्स...
अब चइता ने हार मान ली. वह गुस्से में फुंफकारता और रामधन को अंड-बंड बकता हुआ चला गया. और भीड़ में खो गया.
चइता के जाते ही भीड़ छंटने लगी. अब वहां किसी दूसरे तमाशे की उम्मीद नहीं रही, क्योंकि शाम धीरे-धीरे उतर रही थी. इस समय पश्चिम का सारा आकाश लालिमा से भर उठा था और सूरज दूर पेड़ों के झुरमुट के पीछे छुपने की तैयारी में था.
बाज़ार की चहल-पहल धीरे-धीरे कम हो रही थी.

रामधन ने अपनी बंडी की जेब से बीड़ी निकालकर सुलगा ली. वह आराम से गहरे-गहरे कश लेने लगा. तभी सहदेव उसके पास आ गया. उसकी बीड़ी से अपनी बीड़ी सुलगाई. फिर धीरे-धीरे कहने लगा, ''ठीक किए रामधन. बिल्कुल ठीक किए. इन साले दाऊ लोगों को गाय-बैल की क्या क़दर? साला दाऊ रहे चाहे कुछु रहे_अपने घर में होगा. हम आख़िर बैल बेचने आए हैं, किसी बाम्हन को बछिया दान करने नहीं आए हैं. ठीक किया तुमने.''

सुनकर अच्छा लगा रामधन को. उसने सहदेव से विदा मांगी, ''अब जाता हूं भइया, दूर का सफ़र है. गांव पहुंचते तक रात-सांझ हो जाएगी. चलता हूं.'' और अपने बैलों को लेकर चल पड़ा.
यह लगातार तीसरा मौक़ा है जब रामधन हाट से अपने बैलों के साथ वापस लौट रहा है_ उन्हें बिना बेचे. रामधन जानता है, गांव वाले उसके इस उजबकपने पर फिर हँसेंगे. घर में पत्नी अलग चिड़चिड़ाएगी और मुन्ना फिर गुस्साएगा.

गांव के लोगों को जब से इसका पता चला है, वे अक्सर उससे पूछ लेते हैं, ''कैसे जी रामधन, तुम तो कल बैल लेकर हाट गए थे, क्या हुआ? बैल बिके के नहीं?''
वे रामधन पर हँसते हैं, ''अच्छा आदमी हो भाई तुम भी. इतने बड़े बाज़ार में तुमको एक भी मन का ग्राहक नहीं मिला!'' कुछेक अनुमान लगाते हैं, शायद रामधन को बाज़ार की चाल-ढाल पता नहीं.
प्रिय पाठको, अब आप यह दृश्य देखिए. और सुनिए भी!

रामधन अपने बैलों की रस्सी थामे, बीड़ी पीते हुए चुपचाप लौट रहा है. पैदल. सांझ ख़ूब गहरा चुकी है और अंधेरा चारों ओर घिर आया है. वह किसी गांव के धूल अटे कच्चे रास्ते से गुज़र रहा है. जब आप ध्यान से देखेंगे तो पाएंगे, वे दो बैल और रामधन नहीं, बल्कि आपस के तीन गहरे साथी जा रहे हैं. हां, तीन गहरे साथी. बैलों के गले की घंटियां आसपास की ख़ामोशी को तोड़ती हुई, उनके चलने की लय में आराम से बज रही हैं_टुन-टुन- टुन-टुन...क्या आप सिर्फ़ यही सुन रहे हैं? तो फिर ग़लत सुन रहे हैं. आप ध्यान से सुनिए, वे आपस में बातें कर रहे हैं...जी नहीं, मैं कोई कविता या क़िस्सा नहीं गढ़ रहा हूं. आपको विश्वास नहीं हो रहा होगा. लेकिन आप मानिए, इस समय सचमुच यही हो रहा है. यह तो समय की बात है कि आपको यह कोई चमत्कार मालूम हो रहा है.
उसके बैल पूछ रहे हैं, ''मान लो अगर दाऊ या महाराज तुम्हें चार हज़ार दे रहे होते तो तुम क्या हमें बेच दिए होते?''
रामधन ने जवाब दिया, ''शायद नहीं. फिर भी नहीं बेचता उनके हाथ तुमको.''
''बेचना तो पड़ेगा एक दिन!'' बैल कह रहे हैं, ''आख़िर तुम हमें कब तक बचाओगे, रामधन? कब तक?''
जवाब में रामधन मुस्करा दिया_एक बहुत फीकी और उदास मुस्कान...अनिश्चितता से भरी हुई. रामधन अपने बैलों से कह रहा है, ''देखो...हो सकता है अगली हाट में मुन्ना तुम्हें लेकर आए.''
बीड़ी का यह आख़िरी कश था और वह बुझने लगी.

रचनाकार - कैलाश बनवासी के 'लक्ष्य तथा अन्य कहानियां', 'बाज़ार में रामधन' कहानी-संग्रहों के अलावा समसामयिक विषयों पर लेख व समीक्षाएं प्रकाशित हैं तथा कई पुरस्कारों से सम्मानित हैं.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 2
  1. बहुत सुंदर कहानी है, एक बार पहले भी कभी पढ़ी थी मगर आज फिर नयी सी लगी.

    "''देखो...हो सकता है अगली हाट में मुन्ना तुम्हें लेकर आए.''
    बीड़ी का यह आख़िरी कश था और वह बुझने लगी.
    "

    धन्यवाद....

    जवाब देंहटाएं
  2. समीर भाई,

    आपने सही कहा. यह पुरानी कहानी है. हंस के विशेषांक में यह दुबारा प्रकाशित हुई थी. इसे लेखक की विशेष अनुमति से दुबारा रचनाकार पर प्रकाशित किया है. :)

    जवाब देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4099,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3063,कहानी,2275,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,112,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1271,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,340,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2014,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,714,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,803,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,92,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,212,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कैलाश बनवासी की कहानी
कैलाश बनवासी की कहानी
http://photos1.blogger.com/blogger/4284/450/320/Indian-village.0.jpg
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2006/10/blog-post_06.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2006/10/blog-post_06.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ