---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

शिरीष कुमार मौर्य की कविताएँ - 1

साझा करें:

बनारस से निकला हुआ आदमी जनवरी की उफनती पूरबी धुंध और गंगातट से अनवरत उठते उस थोड़े से धुँए के बीच मैं आया इस शहर में जहा...



बनारस से निकला हुआ आदमी

जनवरी की उफनती पूरबी धुंध

और गंगातट से अनवरत उठते उस थोड़े से धुँए के बीच

मैं आया इस शहर में

जहाँ आने का मुझे बरसो से

इन्तज़ार था

किसी भी दूसरे बड़े शहर की तरह

यहाँ भी

बहुत तेज़ भागती थी सड़कें

लेकिन रिक्शों, टैम्पू या मोटरसाइकिल-स्कूटरवालों में बवाल हो जाने पर

रह-रहकर

रूकने-थमने भी लगती थी

मुझे जाना था लंका और उससे भी आगे

सामने घाट

महेशनगर पश्चिम तक

मैं पहली बार शहर आए

किसी गँवई किसान-सा निहारता था

चीज़ों को

अलबत्ता मैंने देखे थे कई शहर

किसान भी कभी नहीं था

और रहा गँवई होना -

तो उसके बारे में खुद ही बता पाना

कतई मुमकिन नहीं

किसी भी कवि के लिए

स्टेशन छोड़ते ही यह शुरू हो जाता था

जिसे हम बनारस कहते हैं

बहुत प्राचीन-सी दिखती कुछ इमारतों के बीच

अचानक ही

निकल आती थी

रिलायंस वेब वर्ल्ड जैसी कोई अपरिचित परालौकिक दुनिया

मैंने नहीं पढ़े थे शास्त्र

लेकिन उनकी बहुश्रुत धारणा के मुताबिक

यह शहर पहले ही

परलोक की राह पर था

जिसे सुधारने न जाने कहाँ से भटकते आते थे साधू-सन्यासी

औरतें रोती-कलपती

अपना वैधव्य काटने

बाद में विदेशी भी आने लगे बेहिसाब

इस लोक के सीमान्त पर बसे

अपनी तरह के

एक अकेले

अलबेले शहर को जानने

लेकिन

मैं इसलिए नहीं आया था यहाँ

मुझे कुछ लोगों से मिलना था

देखनी थीं

कुछ जगहें भी

लेकिन मुक्ति के लिए नहीं

बँध जाने के लिए

खोजनी थीं कुछ राहें

बचपन की

बरसों की ओट में छुपी

भूली-बिसरी गलियों में कहीं

कोई दुनिया थी

जो अब तलक मेरी थी

नानूकानू बाबा की मढ़िया

और उसके तले

मंत्र से कोयल को मार गिराते एक तांत्रिक की

धुंधली-सी याद भी

रास्तो पर उठते कोलाहल से कम नहीं थी

पता नहीं क्या कहेंगे इसे

पर पहँचते ही जाना था हरिश्चंद्र घाट

मेरे काँधों पर अपनी दादी के बाद

यह दूसरी देह

वाचस्पति जी की माँ की थी

बहुत हल्की

बहुत कोमल

वह शायद भीतर का संताप था

जो पड़ता था भारी

दिल में उठती कोई मसोस

घाट पर सर्वत्र मँडराते थे डोम

शास्त्रों की दुहाई देते एक व्यक्ति से

पैसों के लिए झगड़ते हुए कहा एक काले-मलंग डोम ने-

'किसी हरिश्चंद्र के बाप का नहीं

कल्लू डोम का है ये घाट!'

उनके बालक

लम्बे और रूखे बालों वाले

जैसे पुराणों से निकलकर उड़ाते पतंग

और लपकने को उन्हें

उलाँघते चले जाते

तुरन्त की बुझी चिताओं को भी

आसमान में

धुँए और गंध के साथ

उनका यह

अलिखित उत्साह भी था

पानी बहुत मैला

लगभग मरी हुई गंगा का

उसमें भी गुड़प-गुड़प डुबकी लगाते कछुए

जिनके लिए फेंका जाता शव का

कोई एक अधजला हिस्सा

शवयात्रा के अगुआ

डॉ0 गया सिंह पर नहीं चलता था रौब

किसी भी डोम का

कीनाराम सम्प्रदाय के वे कुशल अध्येता

गालियों से नवाज़ते उन्हें

लगभग समाधिष्ठ से थे

लगातार आते अंग्रेज़

तरह-तरह के कैमरे सम्भाले

देखते हिन्दुओं के इस आख़िरी सलाम को

उनकी औरतें भी लगभग नंगी

जिन्हें इस अवस्था में अपने बीच पाकर

किशोर और युवतर डोमों की जाँघों में

रह-रहकर

एक हर्षपूर्ण खुजली-सी उठती थी

खुजाते उसे वे

अचम्भित से लुंगी में हाथ डाल

टकटकी बाँधे

मानो ऑंखो ही ऑंखों में कहते

उनसे -

हमारी मजबूरी है यह

कृपया इस कार्य-व्यापार का कोई

अनुचित

या अश्लील अर्थ न लगाएँ

गहराती शाम में आए काशीनाथ जी

शोकमग्न

घाट पर उन्हें पा घुटने छूने को लपके बी0एच0यू0 के

दो नवनियुक्त प्राध्यापक

जिन्हें अपने निकटतम भावबोध में

अगल-बगल लिए

वे एक बैंच पर विराजे

'यह शिरीष आया है रानीखेत से' - कहा वाचस्पति जी ने

पर शायद

दूर से आए किसी भी व्यक्ति से मिल पाने की

फुर्सत ही नहीं थी उनके पास

उस शाम एक बार मेरी तरफ अपनी ऑंखें चमका

वे पुन: कर्म में लीन हुए

मैं निहारने लगा गंगा के उस पार

रेती पर कंडे सुलगाए खाना पकाता था कोई

इस तरफ लगातार जल रहे शवों से

बेपरवाह

रात हम लौटे अस्सी-भदैनी से गुज़रते

और हमने पोई के यहाँ चाय पीना तय किया

लेकिन कुछ देर पहले तक

वह भी हमारे साथ घाट पर ही था

और अभी खोल नहीं पाया था

अपनी दुकान

पोई - उसी केदार का बेटा

बरसों रहा जिसका रिश्ता राजनीति और साहित्य के संसार से

सुना कई बरस पहले

गरबीली गरीबी के दौरान नामवर जी के कुर्ते की जेब में

अकसर ही

कुछ पैसे डाल दिया करता था

रात चढ़ी चली आती थी

बहुत रौशन

लेकिन बेरतरतीब-सा दीखता था लंका

सबसे ज्यादा चहल-पहल शाकाहारी भोजनालयों में थी

चौराहे पर खड़ी मूर्ति मालवीय जी की

गुज़रे बरसों की गर्द से ढँकी

उसी के पास एक ठेला

तली हुई मछली-मुर्गे-अंडे इत्यादि के सुस्वादु भार से शोभित

जहाँ लड़खड़ाते कदम बढ़ते कुछ नौजवान

ठीक सामने

विराट द्वार 'काशी हिन्दू विश्वविद्यालय' का

...

अजीब थी आधी रात की नीरवता

घर से कुछ दूर गंगा में डुबकी लगातीं शिशुमार

मछलियाँ सोतीं

एक सावधान डूबती-उतराती नींद

तल पर पाँव टिकाए पड़ें हों शायद कछुए भी

शहर नदी की तलछट में भी कहीं साफ़ चमकता था

तब भी

हमारी पलकों के भीतर नींद से ज्यादा धुँआ था

फेफड़ों में हवा से ज्यादा

एक गंध

बहुत ज़ोर से साँस भी नहीं ले सकते थे हम

अभी इस घर से कोई गया था

अभी इस घर में उसके जाने से अधिक

उसके होने का अहसास था

रसोई में पड़े बर्तनों के बीच शायद कुलबुला रहे थे

चूहे

खाना नहीं पका था इस रात

और उनका उपवास था

...

सुबह आयी तो जैसे सब कुछ धोते हुए

क्या इसी को कहते हैं

सुबहे-बनारस ?

क्या रोज़ यह आती है ऐसे ही?

गंगा के पानी से उठती भाप

बदलती हुई घने कुहरे में

कहीं से भटकता आता आरती का स्वर

कुछ भैंसें बहुत गदराए काले शरीर वाली

धीरे से पैठ जातीं

सुबह 6 बजे के शीतल पानी में

हले!हले! करते पुकारते उन्हें उनके ग्वाले

कुछ सूअर भी गली के कीच में लोट लगाते

छोड़ते थूथन से अपनी

गजब उसाँसे

जो बिल्कुल हमारे मुँह से निकलती भाप सरीखी ही

दिखती थीं

साइकिल पर जाते बलराज पांडे

रीडर हिन्दी बी.एच.यू.

सड़क के पास अचानक ही दिखता

किसी अचरज-सा एक पेड़

बादाम का

एक बच्चा लपकता जाता लेने

कुरकुरी जलेबी

एक लौटता चाशनी से तर पौलीथीन लटकाए

अभी पान का वक्त नहीं पर

दुकान साफ कर अगरबत्ताी जलाने में लीन

झब्बर मूँछोंवाला दुकानदार भी

यह धरती पर भोर का उतरना है

इस तरह कि बहुत हल्के से हट जाए चादर रात की

उतारकर जिसे

रखते तहाए

चले जाते हैं पीढ़ी दर पीढ़ी

बनारस के आदमी

अभी धुंध हटेगी

और राह पर आते-जातों की भरमार होगी

अभी खुलेंगे स्कूल

चलते चले जायेंगे रिक्शे

ढेर के ढेर बच्चों को लाद

अभी गुज़रेंगे माफियाओं के ट्रक

रेता-रोड़ी गिराते

जिनके पहियों से उछलकर

थाम ही लेगा

हर किसी का दामन

गङ्ढों में भरा गंदला पानी

अभी

एक मिस्त्री की साइकिल गुज़रेगी

जो जाता होगा

कहीं कुछ बनाने को

अभी गुज़रेगी ज़बरे की कार भी

हूटर और बत्ती से सजी

ललकारती सारे शहर को

एक अजब-सी

मदभरी अश्लील आवाज़ में

इन राहों पर दुनिया चलती है

ज़रूर चलते होंगे कहीं

इसे बचाने वाले भी

कुछ ही देर पहले वे उठे होंगे एक उचाट नींद से

कुछ ही देर पहले उन्होंने अपने कुनमुनाते हुए बच्चों के

मुँह देखे होंगे

अभी उनके जीवन में प्रेम उतरा होगा

अभी वे दिन भर के कामों का ब्यौरा तैयार करेंगे

और चल देंगे

कोई नहीं जानता

कि उनके कदम किस तरफ बढ़ेंगे

लौटेंगे

रोज़ ही की तरह पिटे हुए

या फिर चुपके से कहीं कोई एक हिसाब

बराबर कर देंगे

अभी तो उमड़ता ही जाता है

यह मानुष-प्रवाह

जिसमें अगर छुपा है हलाहल

जीवन का

तो कहीं थोड़ा-सा अमृत भी है

जिसकी एक बँद अभी उस बच्चे की ऑंखों में चमकी थी

जो अपना बस्ता उतार

रिक्शा चलाने की नाकाम कोशिश में था

दूसरी भी थी वहीं

रिक्शेवाले की पनियाली ऑंखों में

जो स्नेह से झिड़कता कहता था उसे - हटो बाबू साहेब

यह तुम्हारा काम नहीं!

...

बहुत शान्त दीखते थे बी.एच.यू. के रास्ते

टहलते निकलते लड़के-लड़कियाँ

'मैत्री' के आगे खड़े

चंदन पांडे, मयंक चतुर्वेदी, श्रीकान्त चौबे और अनिल

मेरे इन्तज़ार में

उनसे गले मिलते

अचानक लगा मुझे इसी गिरोह की तो तलाश थी

अजीब-सी भंगिमाओं से लैस हिन्दी के हमलावरों के बीच

कितना अच्छा था

कि इन छात्रों में से किसी की भी पढ़ाई में

हिन्दी शामिल नहीं थी

ज़िन्दगी की कहानियाँ लिखते

वे सपनों से भरे थे और हक़ीक़त से वाकिफ़

मैं अपनी ही दस बरस पुरानी शक्ल देखता था

उनमें

हम लंका की सड़क पर घूमते थे

यूनीवर्सल में किताबें टटोलते

आनी वाली दुनिया में अपने वजूद की सम्भावनाओं से भरे

हम जैसे और भी कई होंगे

जो घूमते होंगे किन्हीं दूसरी राहों पर

मिलेंगे एक दिन वे भी यों ही अचानक

वक्त के परदे से निकलकर

ये, वो और हम

सब दोस्त बनेंगे

अपनी दुनिया अपने हिसाब से रचेंगे

फिलहाल तो धूल थी और धूप

हमारे बीच

और हम बढ़ चले थे अपनी जुदा राहों पर

एक ही जगह जाने को

साथ थे पिता की उम्र के वाचस्पति जी

जिन्हें मैं चाचा कहता हँ

बुरा वक्त देख चुकने के बावजूद

उनकी ऑंखों में वही सपना बेहतर जिन्दगी का

और जोश

हमसे भी ज्यादा

साहित्य, सँस्कृति और विचार के स्वघोषित आकाओं के बरअक्स

उनके भीतर उमड़ता एक सच्चा संसार

जिसमें दीखते नागार्जुन, त्रिलोचन, शमशेर, धूमिल और केदार

और उनके साथ

कहीं-कहीं हमारे भी अक्स

दुविधाओं में घिरे राह तलाशते

किसी बड़े का हाथ पकड़ घर से निकलते

और लौटते

...

हम पैदल भटकते थे - वाचस्पति जी और मैं

जाना था लौहटिया

जहाँ मेरे बचपन का स्कूल था

याद आती थीं

प्रधानाध्यापिका मैडम शकुन्तला शुक्ल

उनका छह महीने का बच्चा

रोता नींद से जागकर गुँजाता हुआ सारी कक्षाओं को

व्योमेश

जो अब युवा आलोचक और रंगकर्मी बना

एक छोटी सड़क से निकलते हुए वाचस्पति जी ने कहा -

यहाँ कभी प्रेमचन्द रहते थे

थोड़ा आगे बड़ा गणेश

गाड़ियों की आवाजाही से बजबजाती सड़क

धुँए और शोर से भरी

इसी सब के बीच से मिली राह

और एक गली के आख़ीर में वही - बिलकुल वही इमारत

स्कूल की

और यह जीवन में पहली बार था

जब छुट्टी की घंटी बज चुकने के बाद के सन्नाटे में

मैं जा रहा था वहाँ

वहाँ मेरे बचपन की सीट थी

सत्तााइस साल बाद भी बची हुई

ज्यों की त्यों

अब उस पर कोई और बैठता था

मेरे लिए

वह लकड़ी नहीं एक समूचा समय था

धड़कता हुआ

मेरी हथेलियों के नीचे

जिसमें एक बच्चे का पूरा वजूद था

ब्लैकबोर्ड पर छूट गया था

उस दिन का सबक

जिसके आगे इतने बरस बाद भी

मैं लगभग बेबस था

बदल गयी मेरी ज़िन्दगी

लेकिन

बनारस ने अब तलक कुछ भी नहीं बदला था

यह वहीं था

सत्ताइस बरस पहले

खोलता हुआ

दुनिया को बहुत सम्भालकर

मेरे आगे

...

गाड़ी खुलने को थी - बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस

जाती पूरब से दूर ग्वालियर की तरफ

इससे ही जाना था मुझे

याद आते थे कल शाम इसी स्टेशन के पुल पर खड़े

कवि ज्ञानेन्द्रपति

देखते अपने में गुम न जाने क्या-क्या

गुज़रता जाता था एक सैलाब

बैग-अटैची बक्सा-पेटी

गठरी-गुदड़ी लिए कई-कई तरह के मुसाफिरों का

मेरी निगाह लौटने वालों पर थी

वे अलग ही दिखते थे

जाने वालों से

उनके चेहरे पर थकान से अधिक चमक नज़र आती थी

वे दिल्ली और पंजाब से आते थे

महीनों की कमाई लिए

कुछ अभिजन भी

अपनी सार्वभौमिक मुद्रा से लैस

जो एक निगाह देख भर लेने से

शक करते थे

छोड़ने आए वाचस्पति जी की ऑंखों में

अचानक पढ़ा मैंने- विदा!

अब मुझे चले जाना था सीटी बजाती इसी गाड़ी में

जो मेरे सामने खड़ी थी

भारतीय रेल का सबसे प्रामाणिक संस्करण

प्लेटफार्म भरा हुआ आने-जाने और उनसे भी ज्यादा

छोड़ने-लेने आनेवालों से

सीट दिला देने में कुशल कुली और टी.टी. भी

अपने-अपने सौदों में लीन

समय दोपहर का साढ़े तीन

कहीं पहँचना भी दरअसल कहीं से छूट जाना है

लेकिन बनारस में पहँचा फिर नहीं छूटता

कहते हैं लोग

इस बात को याद करने का यही सबसे वाजिब समय था

अपनी तयशुदा मध्दम रफ्तार से चल रही थी ट्रेन

और पीछे बगटुट भाग रहा था बनारस

मुझे मालूम था

कुछ ही पलों में यह आगे निकल जाएगा

बार-बार मेरे सामने आएगा

इस दुनिया में क्या किसी को मालूम है

बनारस से निकला हुआ आदमी

आख़िर कहाँ जाएगा?

...

2006

(पहल 83 में प्रकाशित)


रचनाकार परिचय -

परिचय

शिरीष कुमार मौर्य

जन्म 13 दिसंबर 1973

शैशव नागपुर, पिपरिया, इलाहाबाद और बनारस में बीता। प्राथमिक से माध्यमिक तक की शिक्षा और संस्कार उत्तरांचल के एक सुदूरवर्ती गांव नौगाँवखाल में। बी.एस-सी. तथा एम.ए. हिंदी नैनीताल के राजकीय परास्नातक महाविद्यालय रामनगर से। अभी उत्ताराखण्ड राज्य उच्च शिक्षा सेवा में प्राध्यापक तथा राजकीय स्नातकोत्तार महाविद्यालय रानीखेत में पदस्थापित।

पहल, कथ्य-रूप, वागर्थ, इरावती, विपाशा, कृतिओर, नया ज्ञानोदय, हंस, कथादेश, अक्षर पर्व, परिवेश, प्रभात ख़बर, सहारा समय, राष्ट्रीय सहारा, अमर उजाला आदि पत्र-पत्रिकाओं में कविताएँ और अनुवाद प्रकाशित। कुछ पुस्तकों ख़ासकर कविता संग्रहों पर समीक्षाएँ भी कीं। काले-सफ़ेद चित्राकंन में भी रूचि। पहल, आजकल, कथ्यरूप, उत्तार प्रदेश, पहाड़, कल के लिए आदि अनेक पत्रिकाओं में रेखांकन प्रकाशित। 1994 में एक काव्य-पुस्तिका तथा 2004 में पहला कविता-संग्रह इलाहाबाद से प्रकाशित। दूसरा संग्रह 'पृथ्वी पर एक जगह' प्रकाशन की प्रतीक्षा में।

विश्व-कविता से येहूदा आमीखाई, कू-सेंग, हंस मानूस एंजेंत्सबर्जर और टॉमस ट्राँसट्रोमर की कविताओं के अनुवाद। येहूदा के अनुवाद संवाद प्रकाशन से पुस्तक रूप में 'धरती जानती है' नाम से प्रकाशित।

2004 में प्रथम अंकुर मिश्र स्मृति पुरस्कार से सम्मानित।

सम्पर्क - अलका होटल से ऊपर, गाँधी चौक, रानीखेत- 263 645

(उत्ताराखंड) /फोन-09412963674

e-mail : shirish.mourya@rediffmail .com


Tag ,,,

Add to your del.icio.usdel.icio.us Digg this storyDigg this

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

|कथा-कहानी_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|हास्य-व्यंग्य_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|आलेख_$type=two$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|संस्मरण_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|उपन्यास_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|लोककथा_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4061,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3023,कहानी,2265,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,99,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,244,लघुकथा,1255,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,327,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2009,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,711,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,797,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,88,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,208,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: शिरीष कुमार मौर्य की कविताएँ - 1
शिरीष कुमार मौर्य की कविताएँ - 1
http://bp2.blogger.com/_t-eJZb6SGWU/Reri1KGmYMI/AAAAAAAAAdQ/rWlOB_TovE0/s400/kavita.JPG
http://bp2.blogger.com/_t-eJZb6SGWU/Reri1KGmYMI/AAAAAAAAAdQ/rWlOB_TovE0/s72-c/kavita.JPG
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2007/03/1.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2007/03/1.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ