नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

हे राम !

गांधी जयंती पर विशेष।

- अविनाश वाचस्पति

आज राम के अस्तित्व पर सवाल उठाए जा रहे हैं जबकि गांधीजी ने गोली लगने पर ‘हे राम’ का तीन बार उच्चारण किया था और गांधीजी कभी झूठ नहीं बोलते थे। इसी से राम का होना सिद्ध हो जाता है। वैसे भी मान्यता है कि परलोक गमन करता व्यक्ति कभी झूठ नहीं बोलता।

यह कोई दिवास्वप्न नहीं सच्चाई है कि अगर यह देश गांधीजी के विचारों के अनुसार चलाया गया होता तो भुखमरी, विस्थापन, बेरोजगारी, कुपोषण इत्यादि बुराइयां कभी की लुप्त हो गई होतीं। पर नेताओं और सत्तानशीनों की जो फसल अब लहलहा रही है, वो भी उजड़ गई होती। जिस तेजी से आबादी बढ़ी है उससे कई गुना तीव्र गति से बेरोजगारी बढ़ी है। जब आजादी हासिल की तो भारत में नौ करोड़ लोग बेरोजगार थे, वहीं अब यह आंकड़ा तीस करोड़ के आसपास है।

‘एक सुव्यवस्थित समाज में आजीविका पाना संसार का सबसे आसान काम होना चाहिए और होता भी है।’ गांधी जी ने यह विचार सन्‌ 1916 में इलाहाबाद में एक कॉलेज में प्रकट किए थे। आजीविका तो दूर की बात है देश की कई बस्तियों में पीने का साफ पानी तक उपलब्ध नहीं हो पा रहा है जिससे कई भयानक जानलेवा बीमारियां पनप रही हैं। भूख से किसानों के मरने और आत्मदाह की लज्जित करने वाली खबरें आ रही हैं। नहीं आ रही है तो सिर्फ इन दुर्घटनाओं से भी लज्जा नहीं आ रही है और यह बेहद शर्मनाक स्थिति है।

साध्य और साधन में सदैव साधन को पवित्र मानने वाले बापूजी ने लिखा है कि ‘हर व्यक्ति को ईमानदारी से परिश्रम किए बिना भोजन करना अपना अपमान समझना चाहिए।’ जबकि आजकल अधिकांश लोग इसे धर्म समझते हैं। अगर मेहनत करके ही खाया तो क्या खाया और पचाया ? इस प्रवृत्ति के मानने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। जिससे सच्चा विकास संकट में है। सिर्फ चंद मजदूरों और अपवादस्वरूप कुछेक के इस पर अमल करने से कुछ हासिल होने वाला नहीं है। दूसरे के खून की कोई कीमत नहीं और अपना पसीना भी कीमती लगता है, चाहे वो एयरकंडीशन के अभाव में आया हो।

सच्चाई और अहिंसा की पॉवर के असली मायने से कितने परिचित हैं। आज गांव विकास की मुख्यधारा से अलग होकर हाशिये पर जाने के लिए अभिशप्त हैं, किसान भुखमरी की मौत मरा जा रहा है और सत्तानशीनों के माथे पर शिकन तक नहीं। इस दुर्दशा के लिए हम सभी जिम्मेदार हैं। जबकि शेयरों के इंडेक्स में अप्रत्याशित छलांग के साथ भारत आर्थिक गुरु बनने की ओर तेजी से अग्रसर है। इससे कुल कितनों का स्तर बढ़ रहा है या जीवन स्तर संवर रहा है। क्या पांच दस लाख लोगों के खुशहाल होने से भारत में हर दिशा और वर्ग में हरियाली छा जाएगी। जब ऐसा कुछ नहीं होना है तो शेयर सूचकांक बढ़ने अथवा आर्थिक गुरु बनने से गांववासियों और आम हिन्दुस्तानी को क्या लेना देना है ? रोजगार के अवसर बढ़ें, अहिंसा और सच्चाई का बोलबाला हो, आत्मविश्वास, स्वदेशी और अपनी भाषा का स्वाभिमान जागृत हो सके, तब देश की प्रगति को असली प्रगति माना जा सकता है।

यह सब तभी प्राप्त हो सकेगा जब हम बापूजी के आदर्शों को अपने जीवन में स्थान देंगे और यह नहीं सोचेंगे कि सिर्फ एक मेरे ही ऐसा करने से क्या होगा, जब शुरूआत ही नहीं करेंगे तो निरंतर कैसे बढ़ेंगे ? निरंतरता के लिए श्रीगणेश करना जरूरी है। बापूजी की जयंती पर देश के नेता, नायक यदि जागरूक हो सकें, जबकि ऐसा मुमकिन नहीं लगता है, तब ही सच्चा विकास संभव है।

संसद और विधानसभा में चल रही जूतम पैजार से क्या छुटकारा मिल सकता है ? भ्रष्टाचार पर लगाम कसी जा सकती है ? झूठ बोलने से मिलने वाले तात्कालिक फायदों के लालच से छुटकारा पाया जा सकता है ? अहिंसा को अपनाया जा सकता है ? सच्चाई को गले लगाया जा सकता है ? मानसिकता से बदनीयती को दूर किया जा सकता है ? बुराईयों पर जब ऐसा कुछ नहीं होना है तो हम जो कुछ कह सुन, लिख पढ़ रहे हैं, सब ढकोसला है और गांधीजी की जयंती पर एक खानापूर्ति से अधिक कुछ नहीं। इस सत्य को स्वीकारना बेहद जरूरी हो जाता है।

जबकि बातूनी और सेक्सी आइटम गर्ल अभिनेत्री राखी सावंत ने पिछले दिनों एक टी वी चैनल पर दिए गए अपने टी वी इंटरव्यू में स्वीकार किया है कि वो गांधी जी की बताई हुई राह पर चलती हैं और सदा सच बोलती हैं। उनकी इस बात में इसलिए भी सच्चाई झलकती है क्योंकि गांधीजी सदा कम कपड़े पहनने के हिमायती रहे हैं और राखी सावंत के बारे में हम सब जानते ही हैं कि उन्हें इतनी अधिक ख्याति इसी कारण मिली है। बापूजी के आदर्शों में आस्था रखने के राखी के बयान पर संदेह नहीं किया जा सकता है।

------------

संपर्क:

अविनाश वाचस्पति

साहित्यकार सदन, 195 सन्त नगर, नयी दिल्ली 110065

मोबाइल 09868166586

ई मेल : avinashvachaspati@gmail.com

2 टिप्पणियाँ

  1. अच्छा लिखा है अविनाश भाई ने.

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत खूब भाई अविनाश जी। दम भी है आपकी बात में और धार भी।

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.