रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

कान्ति प्रकाश त्यागी की कविता : दांत का दर्द

हास्य-व्यंग्य कविता

दांत का दर्द

- डॉ. कान्ति प्रकाश त्यागी

दन्त दर्द से हो रहा था बेहाल,

पहुंचा तुरन्त निकट अस्पताल I


काउन्टर पर जैसे ही पेमेण्ट किया ,

वहां खड़ी नर्सों ने तभी घेर लिया I


सर! आप हमारे पास आइये,

नहीं सर, आप इधर आइये I


एक कुर्सी पर बैठा, नहीं

जबरन बिठाया गया,


मेरे बैठने का समाचार

सबको फ़ौरन सुनाया गया I


आप शू उतार कर लेट जाइये,

क्या तकलीफ, प्लीज़ बतलाइए I


मेरे इस दांत में, ठंडा

और, गर्म पानी लगता है,


ठंडा अधिक लगता है

या गर्म अधिक लगता है I


क्या आप तम्बाकू, गुटका खाते हैं?.

धूम्रपान, खैनी, पान मसाला खाते हैं I


मैं इनमें से कुछ भी नहीं खाता हूँ,

सिर्फ़ शुद्ध शाकाहारी भोजन खाता हूँ I


समझ गई, दर्द का कारण,

मुश्किल है, इसका निवारण I


अच्छा, बड़ा सा मुंह खोलो ,

देखें, आपके मुंह में क्या है,


मुंह में दांत हैं, जबान है,

पता नहीं, और क्या है I


कृपया मुंह खोले रखिए,

तथा ज्यादा बोलिए I


उसके हाथों के अस्त्र देख कर,

मैं तो बिल्कुल घबरा गया I


आज शायद ज़िन्दा नहीं बचना,

यह अच्छी तरह जान गया I


आप के दांतों का, है बहुत बुरा हाल,

हो सकता है, करना पड़े रूट केनाल I


दांतों को कुरेदना शुरु हुआ,

धीरे धीरे दर्द बढ़ना शुरु हुआ I


एक बूढ़े प्रोफेसर को बुला लिया,

इधर उधर से तीन एकसुरे लिया I


पुरी क्लास को बुला लिया,

मुझे चारों ओर से घेर लिया I


गर्ल्स! यह मेज पर लेटी

वस्तु हमारा आब्जेक्ट है,


ठंडे और गर्म पानी का लगना,

आज का हमारा सब्जेक्ट है I


इनके मुंह में झांक कर देखो,

प्रत्येक दांत को ठोक कर देखो I


प्रत्येक नर्स, मुंह में घुसना चाहती थी ,

आँखों देखा हाल बताना चाहती थी I


हथौड़ी की मार से दर्द बढ़ रहा था,

उन सबका अनुभव बढ़ रहा था I


आप का दर्द और आप हमारे हैं ,

दर्द के कारण, आप यहां पधारे हैं I


प्लीज़ रुको, दर्द है बहुत ज्यादा ,

ज्यादा दर्द से, ही होगा फायदा I


आँखों देखा चल रहा था वर्णन ,

पीड़ा से हो रहा बहुत क्रन्दन I


चुप!, अब बोलने की नहीं कोई लिबर्टी ,

सुनो ये दांत हैं , अस्पताल की प्रापर्टी I


ये दांत तो मेरे हैं

थे, अब से नहीं,


इस से ज्यादा

अब बोलना नहीं I


चुप रहा, तो आप देखेंगी कैसे ,

परीक्षा में नम्बर पायेंगी कैसे I


डा० कान्ति प्रकाश त्यागी

----

(चित्र , साभार - पर्पल ट्विंकी . कॉम )

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.