रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

राजेन्द्र अविरल की होली पर दो कविताएं

कविता

-राजेन्द्र अविरल

होली मन की उमंग

होली के संग
लो मची है हु़ड़दंग
पी के चले अब भंग
छाई मृदुल तरंग
सब रंग ही रंग
भीगा सारा अंग -अंग
पिया नाचे संग -संग
डोला मन का मतंग
हो रहे है सब दंग
छोड़ो अब सारी जंग
उठी जीवन तरंग
उड़ी फिर से पतंग
होली मन की उमंग
होली मन की उमंग...

-----

आओ होली मनाएं...

होली के बहाने
देश में अब आए दिन मन रही है होली
जल रहा, किसी का घर
तो क हीं चल रही बंदूक से गोली
दीवाली भी यदाकदा मन जाती मेरे देश में
धमाकों के शोर में, सब कुछ दब सा जाता है
सनसनी तो आए दिन फैलती ही रहती है
जिस्म मे मेरे ,दहशत की
रंगों की जगह खून भी बहता रहता है
मेरे देश वासियों के जिस्म से
होली के बहाने आओ आज,
फिर से गले लग जाएं.
गोली के बहाने छोड़ ,
ह्म फिर से दीवाने बन जाएं.
माना कि दीवारें मिट्टी की
खींची है जमीं के टु़कड़े पर
दिल की दीवारें ,आज मिटाएं
आओ, गले मिलें ,फिर..होली मनाएं...

3 टिप्पणियाँ

  1. राजेंद्र अविरल जी आपकी पहली कविता की छंद बद्धता वास्तव में बहुत ही अच्छा लगा तथा दूसरी कविता तो पूर्ण रूप से ह्रदय को छूती हुयी प्रतीत हुयी । सुंदर रचना के लिए बधाई स्वीकार हो ।

    जवाब देंहटाएं
  2. बेनामी10:57 am

    राजेंद्र अविरल जी आपकी पहली कविता की छंद बद्धता वास्तव में बहुत ही अच्छा लगा तथा दूसरी कविता तो पूर्ण रूप से ह्रदय को छूती हुयी प्रतीत हुयी । सुंदर रचना के लिए बधाई स्वीकार हो ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बढिया है कविता , बधाई स्वीकारें !

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.