विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

राम शिव मूर्ति यादव का आलेख : जातिसूचक शब्दों की यथार्थता

साझा करें:

जातिसूचक शब्‍दों की यथार्थता राम शिव मूर्ति यादव पुराने समय की बात है। एक बार धरती पर रहने वाले सभी प्राणियों ने मेल-जोल बढ़ाने के...

जातिसूचक शब्‍दों की यथार्थता

clip_image002

राम शिव मूर्ति यादव

पुराने समय की बात है। एक बार धरती पर रहने वाले सभी प्राणियों ने मेल-जोल बढ़ाने के लिए एक आम सभा का आयोजन किया। इसमें हर प्राणी वर्ग के एक-एक प्रतिनिधि शामिल हुए पर मानव-वर्ग से कोई नहीं शामिल हुआ। बाद में पता चला कि मानव वर्ग किसी एक सर्वमान्‍य प्रतिनिधि को भेजने पर सहमत नहीं हो सका वरन उसकी माँग थी कि हर जाति और धर्म से कम से कम एक प्रतिनिधि इस सभा में शामिल होगा। नतीजन, मानव वर्ग से कोई भी प्रतिनिधि उक्‍त सभा में शामिल न हो सका और आज भी समाज में मानव अपना सर्वमान्‍य प्रतिनिधि न चुनकर जाति और धर्म के आधार पर ही प्रतिनिधि चुनता आ रहा है। यद्यपि लोकतंत्र सभी को समान अवसरों की गारण्‍टी देता है पर निहित तत्‍व अपने-अपने स्‍वार्थों के मद्‌देनजर विभिन्‍न औपचारिक एवं अनौपचारिक गुटों में बंटे नजर आते हैं।

जहाँ तक भारतीय समाज का सवाल है, यह विभिन्‍न जातियों, धर्मों, त्‍यौहारों, बोलियों, भाषाओं, पहनावों इत्‍यादि का देश है पर भारतीय समाज का आधार जाति व्‍यवस्‍था है। उत्‍तर वैदिक काल में विकसित वर्णाश्रम व्‍यवस्‍था भले ही कर्म आधारित रही हो पर कालान्‍तर में कर्म पर जन्‍म हावी हो गया और फिर जातियों व उपजातियों की एक अनन्‍त श्रृंखला बनती गई। चाहे रामायण काल में राम द्वारा शंबूक-वध का प्रकरण हो कि एक शूद्र को यज्ञ का अधिकार नहीं दिया जा सकता अथवा महाभारत काल में गुरु द्रोणाचार्य द्वारा एकलव्‍य को शूद्र होने के कारण शिक्षा देने से मना कर देना हो और कालान्‍तर में उसके हाथ का अंगूठा गुरुदक्षिणा के बहाने माँग लेना हो। दोनों घटनायें सिद्ध करती हैं कि उस समय तक वर्ण का आधार कर्म नहीं जन्‍म हो गया था। स्‍वयं गोस्‍वामी तुलसीदास ने रामायण काल के बारे में लिखा कि-‘‘ढोल, गँवार, शूद्र, पशु, नारी। ये सब ताड़न के अधिकारी॥'' ये पंक्‍तियाँ दर्शाती हैं कि समाज में जातिगत भेदभाव बढ़ गए थे अन्‍यथा शूद्रों हेतु ऐसी भाषा का इस्‍तेमाल तुलसीदास नहीं करते। वस्‍तुतः जाति भारतीय समाज के भीतर एक उत्‍पीड़नकारी व्‍यवस्‍था के रूप में उभरी और समय-समय पर ब्राह्मणवादी सत्‍ता जाति व्‍यवस्‍था को धर्म और पुराण के आधार पर न्‍यायोचित ठहराने का प्रयास करती रही और आवश्‍यकतानुसार जाति व्‍यवस्‍था को दार्शनिक आधार भी प्रदान करने की कोशिश की गयी।

राष्‍ट्रीय अनुसूचित आयोग के अध्‍यक्ष रूप में सूरजभान जी ने कहा था कि -‘‘लोगों को जातिसूचक शब्‍दों का इस्‍तेमाल अपने नाम के साथ नहीं करना चाहिए।'' जातिसूचक शब्‍दों को हटाने के लिए यह कवायद नयी नहीं थी॥ महात्‍मा गांधी ने भी दलितों को ‘हरिजन' अर्थात ‘ईश्‍वर के जन' कहकर उनकी प्रतिष्‍ठा लौटानी चाही थी पर कालान्‍तर में हरिजन शब्‍द स्‍वयं जातिसूचक बन गया। तमिलनाडु में भी इस प्रकार के प्रयास हो चुके हैं। यहाँ तक कि जयप्रकाश नारायण व राममनोहर लोहिया ने भी जाति तोड़ो एवं जातिसूचक शब्‍दों के बहिष्‍कार के द्वारा जातिविहीन समाज का आह्‌वान किया था। उस दौर में तमाम लोगों ने जिनमें बिहार के मुख्‍यमंत्री द्वय जगन्‍नाथ प्रसाद मिश्र और लालू प्रसाद यादव भी शामिल थे, ने अपने नाम के साथ जाति का उपयोग बन्‍द कर दिया था पर कालान्‍तर में उन्‍होंने पुनः इसका उपयोग आरम्‍भ कर दिया। ऐसे में यह सवाल उठना लाजिमी है कि ऐसे प्रतीकात्‍मक कदमों की व्‍यवहारिकता क्‍या है? महात्‍मा गाँधी और डॉ0 अम्‍बेडकर दोनों ने ही जाति-व्‍यवस्‍था की कुरीतियों को समाप्‍त करने की बात कही। जहाँ डॉ0 अम्‍बेडकर का मानना था कि-‘‘अछूत या अस्‍पृश्‍यता की भावना जाति व्‍यवस्‍था की उपज है। अतः जाति व्‍यवस्‍था को समाप्‍त करके ही अछूतों का उद्धार किया जा सकता है।'' वहीं महात्‍मा गाँधी के मत में-‘‘अस्‍पृश्‍यता और इसकी बुराईयों को समाप्‍त करने के लिए जाति व्‍यवस्‍था को नष्‍ट कर देना उचित नही होगा। यह उतना ही गलत है, जितना शरीर पर किसी फोड़े-फुन्‍सी के उठ आने पर पूरे शरीर को नष्‍ट कर देना या घास-पात के कारण फसल को नष्‍ट कर देना। जाति व्‍यवस्‍था को समाप्‍त करने की बजाय उसकी बुराईयों मात्र का विनाश करना उचित होगा।'' यही कारण था कि डॉ0 अम्‍बेडकर ने अन्‍ततः हिन्‍दू धर्म को छोड़ अपने अनुयायियों के साथ बौद्ध धर्म ग्रहण कर लिया। उन्‍होंने स्‍पष्‍ट शब्‍दों में कहा-‘‘मैं हिन्‍दू धर्म में पैदा न होऊँ यह मेरे वश में नहीं था पर मैं एक हिन्‍दू के रूप में मृत्‍यु का वरण नहीं करना चाहता यह मेरे वश की बात है।'' अमेरिका जैसे विकसित समाज ने भी काले लोगों के साथ किये गये रंगभेद की सामाजिक भर्त्‍सना करके, अमानुषिक अत्‍याचार के लिये माफी माँगी और उनके उत्‍थान के लिये विश्‍ोषाधिकार भी प्रदान किये, वहीं भारतीय समाज ऐसा नहीं कर पाया। वस्‍तुतः भारतीय समाज में मानवीय मानसिकता, लोकाचार, संस्‍कृति, भाषा, साहित्‍य सभी जगह जाति ने अपनी गहरी पैठ बना रखी है।

स्‍पष्‍ट है कि जाति व्‍यवस्‍था भारतीय समाज की एक मजबूत कड़ी है, जिसे तोड़ना इतना आसान नहीं। बहुजन समाज पार्टी ने दलितों को सत्‍ता में भागीदारी दिलाने के लिए ‘‘तिलक, तराजू और तलवार,-इनको मारो जूते चार'' के साथ अपनी राजनीति आरम्‍भ की और आज वही बसपा ब्राह्मण महासम्‍मेलन कराके तथा ‘‘हाथी नहीं गणेश है-ब्रह्म, विष्‍णु, महेश है'' जैसे नारों के साथ सत्‍ता में आकर सामाजिक समरसता का जाप जप रही है। विभिन्‍न चुनावों में जातियाँ वोट बैंक का काम करती हैं, यही कारण है कि विभिन्‍न राजनैतिक दल प्रत्‍याशियों के निर्धारण के समय जाति-तत्‍व का विश्‍ोष ध्‍यान रखते हैं। यहाँ तक कि मंत्रिमण्‍डल गठन के समय भी प्रमुख जातियों के प्रतिनिधियों को शामिल करने का प्रयास किया जाता है। अगर हम भारतीय राजनीति के पन्‍ने पलटें तो 1990 का दौर जातियों के हिसाब से काफी महत्‍वपूर्ण माना जाता है, जब तत्‍कालीन प्रधानमंत्री वी0 पी0 सिंह ने मण्‍डल आयोग की सिफारिशों को लागू करने की घोषणा की और तत्‍पश्‍चात 1992 में पंचायतों को संवैधानिक दर्जा देकर निम्‍न पायदानों पर भी आरक्षण की व्‍यवस्‍था की गई। रातोंरात सामाजिक और राजनैतिक धरातल पर इतने बड़े परिवर्तन हुए कि व्‍यवस्‍था का ढाँचा ही बदल गया। आरक्षण ने जहाँ एक ओर प्रशासनिक व्‍यवस्‍था में लोगों की भागीदारी तय की वहीं राजनैतिक तौर पर जाति विश्‍ोष के समीकरणों पर आधारित तमाम राजनैतिक दलों की सक्रियता बढ़ी। दक्षिण भारत में यह परिवर्तन बहुत पहले हो चुका था, पर उत्‍तर भारत में यह निश्‍चिततः नया अनुभव था। जाति आधारित इस क्षेत्रीय राजनीति का असर केन्‍द्रीय राजनीति पर भी पड़ा और केन्‍द्र सरकार राज्‍यों के क्षत्रपों पर नियंत्रण कसने की बजाय खुद क्षेत्रीय क्षत्रपों द्वारा निर्देशित होने लगी। इसका सबसे बड़ा फायदा संघात्‍मक राज्‍य की वास्‍तविक अवधारणा के रूप में सामने आया। इसी दौर में आज की तमाम प्रमुख राजनैतिक हस्‍तियों का अभ्‍युदय हुआ। यहाँ तक कि विभिन्‍न जातियों ने अपनी जाति के महापुरुषों को भी महिमामंडित करना आरम्‍भ कर दिया, जिससे इतिहास के गर्भ में छिपे तमाम जाने-अनजाने महापुरुष उभरकर सामने आए। आरक्षण व्‍यवस्‍था ने जहाँ समाज के पिछड़े वर्गों को विभिन्‍न क्षेत्रों में नेतृत्‍व का अवसर दिया और सामाजिक न्‍याय की अवधारणा को मजबूत किया, वहीं इसके चलते अगड़ों-पिछड़ों के बीच खाई भी बढ़ती गई। इस अंतर्द्वन्‍द ने निश्‍चिततः विभिन्‍न जातियों को अपने अस्‍तित्‍व के प्रति सोचने हेतु मजबूर कर दिया और फिर जन्‍म हुआ जाति आधारित सेनाओं का। बिहार में रणवीर सेना (1994) और लोरिक सेना (1995) इसी दौर की उपज थे। इसके अलावा जाति आधारित कुंवर सेना, ब्रह्मर्षि सेना, श्री राम सेना व लिबरेशन आर्मी भी सक्रिय थे। किसी जाति विश्‍ोष पर आधारित दल कुछेक समय तक तो सत्‍ता में रह सकते हैं पर एक लम्‍बे समय तक सत्‍ता में टिकने हेतु अन्‍य जातियों को भी अपनी ओर जोड़ना जरुरी होता है, नतीजन जाति आधारित रैलियों और सम्‍मेलनों का जन्‍म हुआ। यही वह दौर था जब यह कहना बहुत मुश्‍किल हो गया था कि जातियों का राजनीतिकरण हो रहा है या राजनीति का जातीयकरण हो रहा है। पर जातियों की इस संक्रमणकालीन राजनीति ने कुछ नए गुल सिखाए और विभिन्‍न दलों के शीर्ष नेतृत्‍व में टकराहट बढ़ गई। नतीजन समाजवादी पार्टी में बेनी प्रसाद वर्मा, राष्‍ट्रीय जनता दल में प्रो0 रंजन कुमार तो बसपा में आर0के0चौधरी जैसे कद्‌दावर नेता पीछे धकिया दिए गए। यहीं से राजनीति में अपने परिवार को उभारने के प्रयास, फिल्‍म जगत, उद्योग जगत और मीडिया से जुड़े लोगों को अपने दलों में शामिल करने की होड़ सी आरम्‍भ हो गई, जो विषम परिस्‍थितियों में संकटमोचक बनकर उभरे। संक्षिप्‍त में कहा जाये तो जिन लोगों ने इन राजनैतिक दलों को खड़ा करने में एड़ी-चोटी का जोर लगाया था, वे पीछे की कतार में या बाहर खड़े थे और ग्‍लैमर तथा चाटुकारिता की राजनीति करने वाले शीर्ष पायदानों के करीब खड़े थे।

ऐसा नहीं कि जातिगत राजनीति का प्रभाव सामाजिक व्‍यवस्‍था पर नहीं पड़ा वरन्‌ इसने समाज का आर्थिक ढांचा भी बदला। सकारात्‍मक रूप से जहाँ दलितों और पिछड़ों ने प्रशासनिक व अन्‍य सेवाओं में प्रवेश पाकर निर्णयों में अपनी प्रभावी भागीदारी सुनिश्‍चित की और पिछड़ों में भी एक क्रीमीलेयर का जन्‍म हुआ वहीं दूसरी ओर इसकी प्रतिक्रिया स्‍वरूप भी कई घटनायें घटीं। मसलन पंचायतें जातिगत राजनीति का अखाड़ा बन गयीं, दलित सरपंचों को कई क्षेत्रों में अधिकारों के प्रयोग से रोका गया और उन्‍हें अपमानित किया गया। यहाँ तक कि बिहार से मुसहर जाति की एक सांसद को टी0टी0 ने ट्रेन के वातानुकूलित कोच से मात्र इसलिए बाहर निकाल दिया कि वह वेशभूषा से न तो सांसद लगती थीं और न ही वातानुकूलित कोच में बैठने लायक। भंवरी देवी बलात्‍कार काण्‍ड और तत्‍पश्‍चात न्‍यायालय के निर्णय कि ब्राह्मण बलात्‍कार नहीं कर सकते, जैसी तमाम घटनाओं ने समाज में उथल-पुथल मचायी। आज भी तमिलनाडु के कई क्षेत्रों में चाय की दुकानों में दलितों हेतु अलग कप की व्‍यवस्‍था है, मध्‍य प्रदेश के छतरपुर में दलितों को बालों की कटिंग कराने से मना कर दिया जाता है, दलित दूल्‍हे को सवर्णों के घर के सामने से घोड़ी पर चढ़कर जाने हेतु मारा-पीटा जाता है, देश की राजधानी दिल्‍ली से सटे हरियाणा के गोहाना कस्‍बे में दिनदहाड़े दलित बस्‍ती को आग के हवाले कर दिया जाता है, फरीदाबाद के एक गाँव में मन्‍दिर में पूजा कर लेने के कारण दलित व्‍यक्‍ति की मूँछें काट दी जाती हैं.........ऐसे न जाने कितने उदाहरण आज भी समाज में देखने को मिल जाते हैं, जो यह दर्शाते हैं कि समाज में अस्‍पृश्‍यता और विषमता की भावना आज भी विद्यमान है।

उपरोक्‍त परिस्‍थितियों में यह सवाल तर्कसंगत हो जाता है कि क्‍या जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल पर पाबंदी अथवा कानूनी रोक से समाज में समरसता बढ़ जाएगी? भारत में जाति राजनैतिक और सामाजिक सुरक्षा का परिचायक है। कुछ लोग इसे अपने पूर्वजों की विरासत और संस्‍कृति से जोड़कर देखते हैं तो कुछ हेतु निम्‍न जाति में जन्‍म पूर्वजन्‍मों के कर्मों का संचित फल है। यदि हम आंकड़ों में देखें तो 1991 की जनसंख्‍या के अनुसार देश की कुल जनसंख्‍या में अनुसूचित जातियों और जनजातियों का प्रतिशत क्रमशः 16.54 व 8.08 था। 1 जनवरी 2002 को केन्‍द्र सरकार की सेवाओं में अनुसूचित जाति और जनजातियों का सम्‍मिलित प्रतिनिधित्‍व मात्र 6.12 प्रतिशत था। अनुसूचित जातियों में जहाँ 542, वहीं जनजातियों में करीब 550 जनजातियाँ शामिल हैं। समाज में व्‍याप्‍त विषमता के मद्‌देनजर अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्‍य पिछड़े वर्गों को क्रमशः 15, 7.5 व 27.5 प्रतिशत आरक्षण संविधान द्वारा प्रदत्‍त किया गया है ताकि वे भी प्रशासनिक निर्णयों में भागीदार बन अपना जीवन स्‍तर सुधार सकें। इसी प्रकार अनुसूचित जाति और जनजाति हेतु लोकसभा व विधानसभा में सीटें आरक्षित की गई हैं तथा इनके कल्‍याणार्थ विभिन्‍न आयोग बनाए गए हैं। जातिसूचक शब्‍दों का इस्‍तेमाल समाप्‍त करने के मायने सभी जातियों को एक ही धरातल पर खड़ा करना होगा। क्‍या आज के दौर में आरक्षण प्राप्‍त जातियाँ अपने इस अधिकार को खोकर जातिविहीन समाज की तरफ अग्रसर होंगी या जाति के नाम पर राजनैतिक रोटियाँ सेंकने वाले सभी राजनैतिक दल इसका समर्थन करेंगे? एक अन्‍य महत्‍वपूर्ण पहलू यह है कि क्‍या जाति व्‍यवस्‍था के उन्‍मूलन पश्‍चात हम पुनः कर्म आधारित वर्णाश्रम व्‍यवस्‍था की ओर लौट रहे हैं, जहाँ जन्‍मना व्‍यवस्‍था की बजाय कर्म आधारित व्‍यवस्‍था होगी? गाँधी जी का यह सपना कि सभी लोग शारीरिक श्रम करेंगे वाकई फलीभूत होने जा रहा है? क्‍या ब्राह्मण जूता पालिश करना पसन्‍द करेंगे और दलित पुरोहिती करेंगे? निश्‍चिततः जाति व्‍यवस्‍था के उन्‍मूलन से पहले इन सवालों का जवाब ढूँढ़ना होगा।

आधुनिक भारतीय सेना में भी जाति आधारित रेजिमेंट हैं- डोगरा, राजपूत, सिख, महार इत्‍यादि रेजिमेंट। सेना इसे विविधता और धर्मनिरपेक्षता के प्रतीक रूप में देखती है। अमेरिका और ब्रिटेन जैसे विकसित राष्‍ट्रों के लिए पासपोर्ट हेतु आवेदन करने पर जाति अर्थात सरनेम वाले कॉलम को भरना अनिवार्य होता है, जातिसूचक शब्‍दों के हटाने पर क्‍या होगा? क्‍या जातिसूचक शब्‍द हटने पर अन्‍तर्जातीय विवाह सम्‍पन्‍न होंगे और गोत्रों का कोई अर्थ नहीं रह जाएगा? फिर हरियाणा के झज्‍जर जिले की कोई जाति-पंचायत रामपाल दहिया और सोनिया जैसे लोगों को एक गोत्र होने के कारण पति-पत्‍नी की बजाय भाई-बहन के रूप में रहने का आदेश नहीं दे सकेगी? फिर कोई दलित धर्मान्‍तरण के लिए मजबूर नहीं होगा? फिर कोई फर्जी जाति प्रमाणपत्रों के साथ सरकारी नौकरी में प्रवेश हेतु षडयंत्र नहीं रचेगा? क्‍या फिर विभिन्‍न समाचार पत्रों के वैवाहिक विज्ञापन जो कि जाति आधारित कालमों में निर्मित होते हैं, बन्‍द हो जायेंगें? क्‍या यह पाबन्‍दी हिन्‍दुओं के साथ-साथ मुस्‍लिम, सिक्‍ख, ईसाईयों इत्‍यादि पर भी लगेगी? फिर ऐसे नामों का क्‍या होगा, जो कि धर्म विश्‍ोष का होने को इंगित करते हैं, मसलन हिन्‍दुओं में राम, श्‍याम, राधा, सीता इत्‍यादि, मुस्‍लिमों में आसिफ, जावेद, महबूब इत्‍यादि एवं ईसाईयों में जोसेफ, टोनी इत्‍यादि? क्‍या सरकार समाज के निचले स्‍तर तक यह व्‍यवस्‍था कर पायेगी कि किसी के साथ दोयम व्‍यवहार न किया जाये और प्रशासन व राजनीति में भाई-भतीजावाद, जातिवाद, क्षेत्रवाद का कोई अर्थ नहीं रहेगा? निश्‍चिततः जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल पर रोक लगाने से पहले इन सवालों का जवाब ढूँढ़ना पड़ेगा।

भारत विविधताओं का देश है। यही कारण है कि यहाँ पर लोकतंत्र को शासन प्रणाली के रुप में चुना गया है और धर्मनिरपेक्ष राष्‍ट्र होने के कारण लोगों को अपने स्‍तर पर धर्मों में विश्‍वास करने व तद्‌नुसार संस्‍कार अपनाने की स्‍वतन्‍त्रता दी गई है। क्‍या लोगों को जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल से रोककर उनकी निजता और विशिष्‍ट सामाजिक पहचान में खलल नहीं डाला जाएगा? यदि इस तर्क को किनारे भी कर दें तो फिर हर व्‍यक्‍ति की पहचान का आधार क्‍या होगा और जीवन के विभिन्‍न संस्‍कारों को वह किन रीति-रिवाजों के आधार पर अपनाएगा? यह कहना कि लोग जातिसूचक शब्‍दों की बजाय अपने व्‍यवसाय और शैक्षणिक डिग्रियों को नाम के साथ लगायें, एक नजर में आकर्षक अवश्‍य लगता है पर बेरोजगारों की लम्‍बी फौज को मात्र डिग्रियों के आधार पर पहचान देना सम्‍भव नहीं। यहाँ तक कि सरकारी दफ्‍तरों से लेकर समाज के निचले पायदान तक लोग एक-दूसरे को सम्‍बोधित करने हेतु जातिसूचक शब्‍दों का ही इस्‍तेमाल करते हैं। पुलिस भी अपराधियों में अन्‍तर हेतुु इन विशिष्‍ट जातिसूचक चिन्‍हों का इस्‍तेमाल करती है। ऐसे में यह जरुरी है कि जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल पर पाबंदी से पहले उनका समर्थ विकल्‍प भी पेश किया जाए। इसमें कोई शक नहीं कि जाति एक सामाजिक बुराई है, पर क्‍या मात्र जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल पर पाबन्‍दी से इसकी बुराईयाँ खत्‍म हो जाएंगी? जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल पर रोक और जातिवाद का उन्‍मूलन दोनों दो चीजें हैं तथा जब तक इस हेतु दृढ़ राजनैतिक-सामाजिक इच्‍छाशक्‍ति नहीं हो इसे खत्‍म करना सम्‍भव नहीं। पर यदि वाकई हम इस ओर गम्‍भीर हैं, तो निम्‍न बिन्‍दुओं को आत्‍मसात्‌ करना होगा-

q समाज में अन्‍तर्जातीय विवाहों को प्रोत्‍साहित करने की आवश्‍यकता।

q सभी राजनैतिक दलों में इस विषय पर एकरुपता की आवश्‍यकता।

q जातिवाद की बुराईयों के विरुद्ध सामाजिक संवेदना पैदा करने की आवश्‍यकता।

q मानवीय व्‍यवहार और सोच में परिवर्तन की आवश्‍यकता।

q प्रभावी शैक्षणिक पाठ्‌यक्रमों के माध्‍यम से विद्यार्थियों और युवाओं को एक नया समाज बनाने की ओर अग्रसर करने की आवश्‍यकता।

q जातिवाद के साथ-साथ भाई-भतीजावाद, सम्‍प्रदायवाद, क्षेत्रवाद इत्‍यादि के समूल उन्‍मूलन की आवश्‍यकता।

q जातिवाद के उन्‍मूलन से पहले सभी दलित और पिछड़ी जातियों को समाज के अन्‍य वर्गों के समकक्ष लाने की आवश्‍यकता।

q जातिवाद के उन्‍मूलन से पूर्व सभी जातियों और धर्मों हेतु एक समान नागरिक संहिता की आवश्‍यकता।

q नगरीकरण को बढ़ावा देने की आवश्‍यकता। डॉ0 अम्‍बेडकर भी शहरीकरण को छुआछूत और जातिगत अत्‍याचार का इलाज मानते थे।

जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल पर रोक एक आदर्श और सिद्धान्‍त रूप में प्रभावी लगता है। पर क्‍या वाकई समाज में इतनी समरसता आ गई है कि इस ओर कदम उठाये जाएं। कहीं जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल पर रोक के बहाने आरक्षण को समाप्‍त करने का षडयंत्र तो नहीं रचा जा रहा है? समाज अभी भी संक्रमण अवस्‍था में है और दलित व पिछड़े वर्ग के लोग निर्णयों में अपनी भागीदारी बढ़ाने हेतु निजी क्षेत्रों में भी आरक्षण की माँग कर रहे हैं। क्‍योंकि निजी क्षेत्र में सरकारी क्षेत्र की बजाय रोजगार के अवसर ज्‍यादा बढ़े हैं और विनिवेश के जरिए तमाम सरकारी उपक्रमों को पहले निगम और फिर निजी हाथों में सौंपा जा रहा है। शहरों में जाति व्‍यवस्‍था के कुप्रभाव भले ही कम दिखें पर ग्रामीण अंचलों में यह व्‍यवस्‍था अभी भी उतनी ही मजबूती से जड़ जमाये हुए है। समाज को डॉ0 अम्‍बेडकर से सीख लेनी चाहिए जिन्‍होंने छुआछूत और जातिवाद की बुराइयों के विरुद्ध लड़ते हुए अन्‍ततः हिन्‍दू धर्म को छोड़ बौद्ध धर्म ग्रहण करना मुनासिब समझा। डॉ0 अम्‍बेडकर इस तथ्‍य को भलीभांति जानते थे कि हिन्‍दू धर्म में जातिवाद का जो गहरा बीज बोया गया है उसे उखाड़ना इतना आसान नहीं है। इस तथ्‍य पर भी गौर करना चाहिए कि जब तक तराजू के दोनों पलड़े बराबर न हों बाहरी समता का कोई अर्थ नहीं। मात्र जातिसूचक शब्‍दों के इस्‍तेमाल पर रोक से जातिवाद की बुराइयों का उन्‍मूलन नहीं किया जा सकता। इस हेतु एक दृढ़ राजनैतिक-सामाजिक इच्‍छा शक्‍ति और एक नई जीवन श्‍ौली के इजाद की आवश्‍यकता है।

राम शिव मूर्ति यादव

स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा अधिकारी (सेवानिवृत्‍त)

तहबरपुर, पोस्‍ट- टीकापुर आजमगढ़ (उ0प्र0)-276208

rsmyadav@rediffmail.com

जीवन -वृत्‍त

नाम ः राम शिव मूर्ति यादव

जन्‍म तिथि ः 20 दिसम्‍बर 1943

जन्‍म स्‍थान ः सरांवा, जौनपुर (उ0 प्र0)

पिता ः स्‍व0 श्री सेवा राम यादव

ख्‍

शिक्षा ः एम0 ए0 (समाज शास्‍त्र), काशी विद्यापीठ, वाराणसी

लेखन ः देश की विभिन्‍न प्रतिष्‍ठित पत्र-पत्रिकाओं- अरावली उद्‌घोष, युद्धरत आम आदमी, समकालीन सोच,

आश्‍वस्‍त, अपेक्षा, बयान, अम्‍बेडकर इन इण्‍डिया, अम्‍बेडकर टुडे, दलित साहित्‍य वार्षिकी, दलित टुडे,

मूक वक्‍ता, सामर्थ्‍य, सामान्‍यजन संदेश, समाज प्रवाह, गोलकोण्‍डा दर्पण, शब्‍द, कमेरी दुनिया, जर्जर

कश्‍ती, प्रेरणा अंशु, यू0एस0एम0 पत्रिका दहलीज, दि मॉरल, इत्‍यादि में विभिन्‍न विषयों पर लेख

प्रकाशित। इण्‍टरनेट पर विभिन्‍न वेब-पत्रिकाओं में लेखों का प्रकाशन।

प्रकाशन ः सामाजिक व्‍यवस्‍था एवं आरक्षण (1990)। लेखों का एक अन्‍य संग्रह प्रेस में।

ख्‍ख्‍

सम्‍मान ः भारतीय दलित साहित्‍य अकादमी द्वारा ‘‘ज्‍योतिबा फुले फेलोशिप सम्‍मान‘‘।

राष्‍ट्रीय राजभाषा पीठ इलाहाबाद द्वारा ''भारती ज्‍योति'' सम्‍मान।

रूचियाँ ः रचनात्‍मक लेखन एवं अध्‍ययन, बौद्धिक विमर्श, सामाजिक कार्यों में रचनात्‍मक भागीदारी।

सम्‍प्रति ः उत्‍तर प्रदेश सरकार में स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा अधिकारी पद से सेवानिवृत्‍ति पश्‍चात स्‍वतन्‍त्र
लेखन व अध्‍ययन एवं समाज सेवा।

ख्‍सम्‍पर्क ः श्री राम शिव मूर्ति यादव, स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा अधिकारी (सेवानिवृत्‍त), तहबरपुर, पो0-टीकापुर,

आजमगढ ़(उ0प्र0)-276208 ई-मेल ः rsmyadav@rediffmail.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4084,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3039,कहानी,2273,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,103,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1266,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,327,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2011,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,712,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,800,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,89,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,209,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: राम शिव मूर्ति यादव का आलेख : जातिसूचक शब्दों की यथार्थता
राम शिव मूर्ति यादव का आलेख : जातिसूचक शब्दों की यथार्थता
http://lh3.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/SRXZswS-19I/AAAAAAAAFN0/99hc9uQA9hc/clip_image002_thumb.jpg?imgmax=800
http://lh3.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/SRXZswS-19I/AAAAAAAAFN0/99hc9uQA9hc/s72-c/clip_image002_thumb.jpg?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2008/11/blog-post_7350.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2008/11/blog-post_7350.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ