नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

आकांक्षा यादव की कविता : एक लड़की

akansha yadav

एक लड़की

न जाने कितनी बार

टूटी है वो टुकड़ों-टुकड़ों में

हर किसी को देखती

याचना की निगाहों से

एक बार तो हाँ कहकर देखो

कोई कोर कसर नहीं रखूँगी

तुम्‍हारी जिन्‍दगी संवारने में

पर सब बेकार

 

कोई उसके रंग को निहारता

तो कोई लम्‍बाई मापता

कोई उसे चलकर दिखाने को कहता

कोई साड़ी और सूट पहनकर बुलाता

पर कोई नहीं देखता

उसकी आँखों में

जहाँ प्‍यार है, अनुराग है

लज्‍जा है, विश्‍वास है।

 

21वीं सदी की बेटी

जवानी की दहलीज पर

कदम रख चुकी बेटी को

माँ ने सिखाये उसके कर्तव्‍य

ठीक वैसे ही

जैसे सिखाया था उनकी माँ ने

पर उन्‍हें क्‍या पता

ये इक्‍कीसवीं सदी की बेटी है

जो कर्तव्‍यों की गठरी ढोते-ढोते

अपने आँसुओं को

चुपचाप पीना नहीं जानती है

वह उतनी ही सचेत है

अपने अधिकारों को लेकर

जानती है

स्‍वयं अपनी राह बनाना

और उस पर चलने के

मानदण्‍ड निर्धारित करना।

---

आकांक्षा यादव

प्रवक्‍ता, राजकीय बालिका इण्‍टर कॉलेज

नरवल, कानपुर-209401

kk_akanksha@yahoo.com

3 टिप्पणियाँ

  1. जीवन में हमारे सामने कई तरह के सवाल आते हैं... कभी वो अर्थ के होते हैं... कभी अर्थहीन.. अगर आपके पास हैं कुछ अर्थहीन सवाल या दें सकते हैं अर्थहीन सवालों के जवाब तो यहां क्लिक करिए

    जवाब देंहटाएं
  2. बेनामी11:52 pm

    एक लड़की की कविता ज़्यादा अच्छी लगी

    जवाब देंहटाएं
  3. आकांक्षा जी!
    आपने नारि के विभिन्न स्वरूपों की सुन्दर विवेचना की है। नर की खान नारि के दिन जल्दी ही सँवर जायेंगे। क्योंकि वो दिन जल्दी ही आने वाले हैं। जब पुरुषों की संख्या दुनिया में अधिक होगी और स्त्रियाँ कम हो जायेंगी।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.