---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

कुमारेन्द्र सिंह सेंगर का आलेख : मानवीय संवेदनाओं के जीवंत कवि – महेन्द्र भटनागर

साझा करें:

प्रगतिशील विचारधारा के कवि स्वीकारे जाने वाले महेन्द्रभटनागर को केन्द्र में रखकर ग्वालियर साहित्य अकादमी, ग्वालियर से प्रकाशित होने वाली ...

lokmangal

प्रगतिशील विचारधारा के कवि स्वीकारे जाने वाले महेन्द्रभटनागर को केन्द्र में रखकर ग्वालियर साहित्य अकादमी, ग्वालियर से प्रकाशित होने वाली त्रैमासिक पत्रिका ‘लोकमंगल पत्रिका’ ने अपना नवीनतम अंक ‘अप्रैल-जून 2009’ प्रकाशित किया है। कविवर महेन्द्रभटनागर की साहित्य साधना पर केन्द्रित विशेषांक में उनके बारे में विस्तार से चर्चा की गई है। डा0 भगवानस्वरूप ‘चैतन्य’ के सम्पादन में निकलती इस पत्रिका में महेन्द्रभटनागर को केन्द्र बनाकर समूचे आठ अध्याय शामिल किये गये हैं।

इस त्रैमासिक पत्रिका की सम्पादकीय में सम्पादक महोदय कहते हैं कि महेन्द्रभटनागर हिन्दी साहित्य के इतिहास में प्रगतिवादी आन्दोलन से जुड़े यशस्वी कवियों में प्रमुख हस्ताक्षर रहे हैं। महेन्द्रभटनागर ने तत्कालीन प्रगतिशील पत्रिकाओं में प्रगतिवादी कवियों केदारनाथ अग्रवाल, नागार्जुन, शिवमंगल सिंह ‘सुमन’, त्रिलोचन शास्त्री, गजानन मुक्तिबोध, शील, मलखान सिंह सिसौदिया, ललित शुक्ल, राजेन्द्र प्रसाद सिंह के साथ नियमित रूप से लिखना शुरू किया था।

महेन्द्रभटनागर को लेकर डा0 रमाकांत शर्मा, डा0 हरदयाल, डा0 शिवकुमार मिश्र ने विशेष रूप से आलेख लिखे हैं। इन आलेखों के द्वारा महेन्द्रभटनागर की काव्य क्षमता स्पष्ट रूप से परिलक्षित होती है। इसी पत्रिका के आलोक में महेन्द्रभटनागर के व्यक्तित्व को सामने लाने का एक छोटा सा प्रयास है।

26 जून 1926 को झाँसी उ0 प्र0 में अपने ननिहाल में जन्मे महेन्द्रजी का बचपन झाँसी, मुरार, ग्वालियर में बीता। बारह वर्ष की उम्र (कक्षा सात में) से ही काव्य रचना करने वाले महेन्द्रजी की पहली कविता मोहन सिंह सेंगर के सम्पादन में कलकत्ता से प्रकाशित होने वाले मासिक पत्र ‘विशाल भारत’ के मार्च 1944 के अंक में प्रकाशित हुई थी। तब से लेकर आज तक उनकी लेखनी निर्बाध रूप से चलती रही है।

लगभग छह दशक की काव्य यात्रा में अपनी पहली कविता के प्रकाशन के ठीक पाँच वर्ष बाद सन 1949 में आपकी पहली काव्य-कृति ‘तारों के गीत’ प्रकाशित हुई। इनकी विशेषता यही रही है कि वे अनवरत काव्य साधना करते रहे हैं साथ ही अपनी रचनाओं को पुस्तकाकार स्वरूप भी प्रदान करते रहे हैं।

प्रगतिवादी दौर में लिखी उनकी पहली कविता कुछ इस तरह थी-

‘‘हुँकार हूँ, हुँकार हूँ!

मैं क्रांति की हुँकार हूँ!

मैं न्याय की तलवार हूँ!

शक्ति जीवन जागरण का मैं सबल संसार हूँ!

लोक में नव द्रोह का मैं तीव्रगामी ज्वार हूँ!

फिर नये उल्लास का, मैं शान्ति का अवतार हूँ!

हुँकार हूँ, हुँकार हूँ!

मैं क्रांति की हुँकार हूँ!’’

माक्र्सवाद से प्रेरणा पाते महेन्द्रभटनागर ने मजदूरों, शोषितों के लिए विशेष रूप से अपनी लेखनी चलाई। ‘नयी सुबह’ शीर्षक से वे मेहनतकश इंसानों की दशा स्पष्ट करते हुए लिखते हैं

‘‘

जो बर्फीली रातों में

ओढ़े कुहरे का कम्बल

गठरी से बन

चिपका लेता उर से टाँगे निर्बल

अधसोये-से/कुछ खोये-खोये-से

देखा करते नयी सुबह का स्वप्न मनोरम,

कब होता है विश्वास कराहों से कम?’’

वे बस मजदूरों की बात ही नहीं करते हैं सामन्तवाद की समाप्ति की भी बात करते हैं और साम्राज्यवाद का विरोध भी करते हैं। एक जगह वे कहते हैं-

‘‘सदियों बाद हिले हैं थर-थर

सामन्ती युग के लौह महल,

जनबल का उगला बीज नवल,

धक्के भूकम्पी क्रुद्ध सबल!’’

महेन्द्रभटनागर ने अपने समय के साथ निरन्तर चलने की प्रवृति के कारण बंगाल का अकाल, नौसैनिक विद्रोह, देश के विभाजन, साम्प्रदायिक दंगे, आपातकाल, आतंकवाद, कारगिल आदि पर भी कलम चलाई है। उन्होंने इन विषयों के अतिरिक्त महात्मा गाँधी, तुलसी, निराला, प्रेमचन्द जैसे महापुरुषों पर भी कवितायें लिखीं हैं।

महेन्द्रभटनागर ने मजदूरों, शोषितों की आवाज तो उठाई साथ ही अपना लगाव स्वाभाविक रूप से प्रकृति से भी बनाये रखा। उन्होंने विभिन्न ऋतुओं, दिनरात की विविध बेलाओं आदि को लेकर अपनी काव्य-रचनायें की हैं। यद्यपि उनकी प्रकृति सम्बन्धी रचनाओं में कल्पना के ऐश्वर्य मण्डित स्वरूप के, प्रकृति के रहस्यवादी रूप के दर्शन नहीं होते वरन उस प्रकृति के दर्शन होते हैं जिसे हम सब महसूस करते हैं। ‘हेमन्ती धूप’ उन्हें भी उसी तरह आकर्षित करती है जैसे कि हम सब को करती है-

‘‘कितनी सुखद है/धूप हेमन्ती!

सुबह से शाम तक/इसमें नहा कर भी/

हमारा जी नहीं भरता/

विलग हो/दूर जाने को/

तनिक भी मन नहीं करता!

अरे, कितनी मधुर है/धूप हेमन्ती!’’

प्रकृति के साथ रची उनकी काव्य रचनाओं के साथ-साथ प्रेम के रंग भी उनकी कविताओं में देखने को मिलते हैं। उन्होंने अपनी प्रेम-कविताओं में संयोग और वियोग दोनों के चित्र दर्शाये हैं। जहाँ संयोग है वहाँ दैहिकता प्रधान है और जहाँ वियोग है वहाँ वेदना प्रधान रही है। ‘तिघिरा की एक शाम’ शीर्षक की कुछ पंक्तियाँ इसे सही सिद्ध करतीं हैं-

‘‘तिघिरा के सँकरे पुल पर/नमित नयन/

सहमी-सहमी/

तुम!

तेज हवा में लहराते केश,/सुगन्धित अंगों को/

अंकित करता/फर-फर उड़ता/

कांजीवरम की साड़ी का फैलाव/’’

इसी तरह वियोग में स्मृतियों और अभिलाषाओं की प्रधानता है। उद्दीपक वातावरण में कवि अपने अकेलेपन पर पीड़ा का अनुभव करता है-

‘‘शुष्क नीरस सृष्टि में जब,

छा गये चारों तरफ नव बौर,

भाग्य में मेरे अरे केवल

लिखा है क्या अकेला ठौर?

हो रहा बेचैन मन कुछ भेद कहने को प्रिये!

आज है बेचैन मन कुछ बात करने को प्रिये!’’

महेन्द्रभटनागर का काव्य मूलतः अभिदा काव्य है। इस कारण सउसका मुख्य गुण प्रसाद गुण रहा है। पाठको, श्रोताओं को समझने के लिए माथापच्ची नहीं करनी पड़ती है। देखा जाये तो उनकी कृतियों में काव्य अलंकरण अधिक नहीं है किन्तु अलंकारिकता का अभाव भी नहीं है। अपने काव्य में वे सटीक बिम्बों-प्रतीकों का प्रयोग करते नजर आते हैं। ऐसा कहीं भी प्रतीत नहीं होता है कि वे अपनी कविता को सायास ऐसा बना रहे हैं।

लोकमंगल पत्रिका द्वारा पूरे का पूरा अंक महेन्द्रभटनागर पर केन्द्रित करना उनकी प्रतिभा का ही सम्मान करना है। पत्रिका के एक अध्याय के अन्तर्गत उनकी प्रतिनिधि कविताओं को प्रस्तुत किया है जिन्हें पढ़कर एक अजब अनुभूति से गुजरने का एहसास होता है। उनकी 64 प्रतिनिधि कविताओं में उनके लगभग सभी काव्य-संग्रहों को छुआ गया है। कविता के प्रति उनकी दीवानगी को इन्हीं कविताओं की चन्द पंक्तियों में इस प्रकार से समझा जा सकता है-

‘‘मैं निरन्तर राह नव-निर्माण करता चल रहा हूँ

और चलता ही रहूँगा!

X X X X X X

X X X X X X

विश्व के उजड़े चमन में फूल बनकर खिल रहा हूँ

और खिलता ही रहूँगा!’’

पत्रिका में महेन्द्रभटनागर की रचनाशीलता को एकसाथ प्रस्तुत कर उनकी अदम्य लेखन क्षमता को भी नमन किया है। यह दिखाता है कि कैसे कोई कविता करने वाला व्यक्ति लगातार अपनी लेखनी को जीवित रखे है। अमूमन होता यह है कि कविता करने वाला व्यक्ति एक समय विशेष के बाद या तो संतृप्त होकर या फिर हालात से थककर काव्य-रचना करना बंद कर देता है। महेन्द्रभटनागर ने ऐसा नहीं किया। वे लगातार कविताओं की रचना करते भी रहे और उनको काव्य-संग्रहों के रूप में प्रकाशित भी करते रहे। लोकमंगल पत्रिका में उनके द्वारा लिखीं गईं, संकलित, सम्पादित और उन पर लिखी आलोचनात्मक पुस्तकों की पूरी सूची दी गई है। 72 पुस्तकों की लम्बी सूची के बाद भी 21 प्रकाशनाधीन पुस्तकों की सूची है।

उनके काव्य-संग्रहों में

1-

तारों के गीत-सन 1949 (रचना-काल 1941-42)/ 2-टूटती श्रृखलायें-सन 1949 (रचना-काल 1944-47)/ 3-बदलता युग-सन 1953 (रचना-काल 1943-52)/ 4-अभियान-सन 1954 (रचना-काल 1949-50)/ 5-अन्तराल-सन 1954 (रचना-काल 1944-49)/ 6-विहान-सन 1956 (रचना-काल 1941-45)/ 7-नयी चेतना-सन 1956 (रचना-काल 1948-53)/ 8-मधुरिमा-सन 1959 (रचना-काल 1945-57)/ 9-जिजीविषा-सन 1962 (रचना-काल 1947-56)/ 10-संतरण-सन 1963 (रचना-काल 1956-62)/ 11-संवत-सन 1972 (रचना-काल 1962-66)/ 12-संकल्प-सन 1977 (रचना-काल 1967-71)/ 13-जूझते हुए-सन 1984 (रचना-काल 1972-76)/ 14-जीने के लिए-सन 1990 (रचना-काल 1977-86)/ 15-आहत युग-सन 1997 (रचना-काल 1987-97)/ 16-अनुभव क्षण-सन 2001 (रचना-काल 1997-2000)/ 17-मृत्यु-बोध:जीवन शोध-सन 2001 (रचना-काल 2000-01)/ 18-राग-संवेदन-सन 2001 (रचना-काल 2000-01)

प्रतिनिधि काव्य-संकलनों में

1-

चयनिका-सन 1966/ 2-बूँद नेह की;दीप हृदय का-सन 1967/ 3-हर सुबह सुहानी हो-सन 1984/ 4- महेन्द्रभटनागर के गीत-सन 2001/ 5-गीति-संगीति-सन 2007/ 6-कवि श्री: महेन्द्रभटनागर-सम्वत 2027/ 7-महेन्द्रभटनागर की कवितायें-सन 1981/

आलोचना के रूप में

1-

आधुनिक साहित्य और कला-सन 1956/ 2-दिव्या: एक अध्ययन-सन 1956/ 3-दिव्या: विचार और कला-सन 1972/ 4-समस्यामूलक उपन्यासकार प्रेमचन्द-सन 1957/ 5-विजय-पर्व: एक अध्ययन-सन 1957/ 6-नाटककार हरिकृष्ण ‘प्रेमी’ और संवत-प्रवर्तन-सन 1961/ 7-पुण्य-पर्व आलोक-सन 1962/ 8-हिन्दी कथा-साहित्य: विविध आयाम-सन 1988/ 9-नाट्य-सिद्धांत और हिन्दी नाटक-सन 1992/

लघुकथा/रेखाचित्रों के रूप में-

1-लड़खड़ाते कदम-सन 1952/ 2-विकृतियाँ-सन 1958/ 3-विकृत रेखाएँ: धुँधले चित्र-सन 1966/

एकांकी/रेडियो फीचर के रूप में

1-

विद्याधर राजकुमार-सन 1957/ 2-विक्रम भोज-सन 1957/ 3-अजय-आलोक-सन 1962/ 4-अजेय-आलोक-सन 1974/

बाल-किशोर साहित्य

1-

हँस-हँस गाने गाएँ हम-सन 1957/ 2- बच्चों के रूपक-सन 1958/ 3-देश-देश की बातें-सन 1967/ 4-देश-देश की कहानी-सन 1982/ 5-जय-यात्रा-सन 1971/ 6-दादी की कहानियाँ-सन 1974/

अन्य पुस्तकों के रूप में उनकी साहित्य-साधना को निम्न रूपों में देखा जा सकता है-

1-हिन्दी-तेलुगु में - दीपान्नी वेलिगिनचु-सन 2003 (कविता संग्रह)/ 2-हिन्दी-कन्नड़ में - मृत्यु-बोध: जीवन-बोध-सन 2005 (कविता संग्रह)/ 3-तमिल अनुवाद Kaalan Maarum (2006) (कविता संग्रह)/ 4-तमिल अनुवाद Mahendra Bhatnagar Kavithaigal (2008) (कविता संग्रह)/ 5-Fourty Poems (1968)/ 6-After The Fourty Poems (1979)/ 7-Dr. Mahendra Bhatnagar’s Poetry (2002)/ 8-Poems : For A Better World (2006)/ 9-A Handful of Light (2009)/

महेन्द्रभटनागर पर केन्द्रित आलोचनात्मक पुस्तकें-

1-कवि महेन्द्रभटनागर: सृजन और मूल्यांकन (1972)/ 2-कवि महेन्द्रभटनागर का रचना-संसार (1980)/ 3-सामाजिक चेतना के शिल्पी: कवि महेन्द्रभटनागर (1997)/ 4-डा0 महेन्द्रभटनागर का कवि-व्यक्तित्व (2005)/ 5-महेन्द्रभटनागर की काव्य-संवेदना: अन्तःअनुशासनीय आकलन (2009)/ 6-महेन्द्रभटनागर की काव्य-साधना (2005)/ 7-महेन्द्रभटनागर और उनकी सर्जनशीलता (1995)/ 8-प्रगतिवादी कवि महेन्द्रभटनागर: अनुभूति और अभिव्यक्ति (2005)/ 9-डा0 महेन्द्रभटनागर के काव्य का वैचारिक एवं संवेदनात्मक धरातल (2009)/ 10-Living Through Challenges : A Study of Dr. Mahendra Bhatnagar’s Poetry (2006)/ 11-Poet Mahendra Bhatnagar : His Mind And Art (2007)/ 12-A Modern Indian Poet : Dr. Mahendra Bhatnagar (2004)/ 13-डा0 महेन्द्रभटनागर समग्र (2002)/ 14-महेन्द्रभटनागर की काव्य-गंगा (2009)/ 15-संकल्प आणि अन्य कविता (मराठी अनुवाद) (2008)/

इन पुस्तकों के प्रकाशन के अतिरिक्त महेन्द्रभटनागर के साहित्य पर शोध कार्य भी हो चुका है। इसको निम्न रूप में देखा जा सकता है-

1-

डा0 महेन्द्रभटनागर के काव्य का नव-स्वच्छंदवादी मूल्यांकन (दयालबाग डीम्ड विवि, आगरा 2008)/ 2-डा0 महेन्द्रभटनागर के काव्य में सांस्कृतिक चेतना (कानपुर विवि, कानपुर 2008)/ 3-महेन्द्रभटनागर का काव्य: कथ्य और शिल्प (मिथिला विवि, दरभंगा 2008)/ 4-डा0 महेन्द्रभटनागर: व्यक्तित्व एवं कृतित्व (कर्नाटक विवि, धारवाड़ 2007)/ 5-महेन्द्रभटनागर के काव्य का वैचारिक एवं संवेदनात्मक धरातल (सम्बलपुर विवि, सम्बलपुर 2003)/ 6-महेन्द्रभटनागर और उनकी सृजनशीलता (नागपुर विवि, नागपुर 1990)/ 7-हिन्दी प्रगतिवादी काव्य के परिप्रेक्ष्य में डा0 महेन्द्रभटनागर का विशेष अध्ययन (जीवाजी विवि, ग्वालियर 1986)/ (इनमें से क्रमांक 5, 6 तथा 7 के शोध प्रबन्ध प्रकाशित भी हो चुके हैं।)

लोकमंगल पत्रिका ने महेन्द्रभटनागर के काव्य-संसार को सिरे से देखकर उसे पाठकों के सामने रखा है। हिन्दी तथा अंग्रेजी में समान रूप से काव्य रचनायें करने वाले महेन्द्रभटनागर की कविताओं का अनुवाद देशी भाषाओं के अतिरिक्त तमाम विदेशी भाषाओं-फ्रेंच, जापानी, नेपाली आदि-में भी हो चुका है, साथ ही हो भी रहा है। इंटरनेट की तमाम बेबसाइटों पर आपका साहित्य हिन्दी, अंग्रेजी, फ्रेंच, नेपाली, जापानी भाषा में उपलब्ध है। महेन्द्रभटनागर की कविताओं को कई राज्यों की पाठ्यपुस्तकों में भी समाहित किया गया है।

निसंदेह रूप में महेन्द्रभटनागर का काव्य-संसार वृहद है और उनकी काव्य-साधना स्तुत्य है। इसी क्रम में ग्वालियर साहित्य अकादमी ने लोकमंगल पत्रिका के अपने अंक को महेन्द्रभटनागर की साहित्य साधना को केन्द्रित कर उनकी कविता सम्बन्धी जिजीविषा को, चेतना को तथा उनके काव्य के द्वारा सामने आये उनके मानस रूप को, सरस्वती-पुत्र को वास्तविक रूप में नमन किया है। महेन्द्रभटनागर आज के युवा कवियों, लेखकों के लिए प्रेरणास्त्रोत हो सकते हैं जो दो-चार कविताओं अथवा रचनाओं के बाद स्वयं को अन्तरराष्ट्रीय स्तर का रचनाकार समझने लगते हैं।

CRITICAL STUDY OF MAHENDRA BHATNAGAR'S POETRY

[1]The Poetry of Mahendra Bhatnagar : Realistic & Visionary Aspects Ed. Dr. O.P. Budholia

[2]Living Through Challenges : A Study of Dr.Mahendra Bhatnagar's Poetry By Dr. B.C. Dwivedy.

[3] Poet Dr. Mahendra Bhatnagar : His Mind And Art / (In Eng. & French) Ed. Dr. S.C. Dwivedi & Dr. Shubha Dwivedi

Translations :

In French : A Modern Indian Poet : Dr. Mahendra Bhatnagar : UN POÈTE INDIEN ET MODERNE / Tr. Mrs. Purnima Ray

In Tamil : Kaalan Maarum, Mahendra Bhatnagarin Kavithaigal.

In Telugu : Deepanni Veliginchu.

In Kannad & In Bangla : Mrityu-Bodh : Jeewan-Bodh.

In Marathi : Samkalp Aaani Anaya Kavita

In Oriya : Kala-Sadhna.

In Malyalam, Gujrati, Manipuri, Urdu. In Czech, Japanese, Nepali,

Links :

HINDI www.blogbud.com/author 5652

ENGLISH-FRENCH www.poetrypoem.com/mpb1

ENGLISH (1) www.poetrypoem.com/mpb2 [Selected Poems 1,2,3]

(2) www.poetrypoem.com/mpb4 [‘Exuberance and other poems’ / ‘Poems : For A Better World / Passion and Compassion]

(3) www.poetrypoem.com/mpb3 [‘Death-Perception : Life-Perception’ / ‘A Handful Of Light’]

(4) www.poetrypoem.com/mpb [‘Lyric-Lute’]

(5)www.anindianenglishpoet.blogspot.com [‘…A Study Of Dr. Mahendra Bhatnagar’s Poetry’]

(6)www.mahendrabhatnagar.blogspot.com [ Critics & Mahendra Bhatnagar’s Poetry]

सम्प्रति शोध-निर्देशक — हिन्दी भाषा एवं साहित्य।

सम्पर्क :

डा. महेंद्रभटनागर,

सर्जना-भवन,

११० बलवन्तनगर, गांधी रोड,

ग्वालियर — ४७४ ००२ [म. प्र.]

फ़ोन : ०७५१-४०९२९०८ / मो. ९८ ९३४ ०९७९३

E-Mail : drmahendra02@gmail.com; drmahendrabh@rediffmail.com

--------------------------------------------

डा0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

सम्पादक-स्पंदन

उरई (जालौन) उ0प्र0

http://shabdkar.blogspot.com

http://kumarendra.blogspot.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4024,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,111,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2987,कहानी,2242,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,535,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,344,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,66,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,14,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1245,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2002,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,706,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,790,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,80,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,201,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कुमारेन्द्र सिंह सेंगर का आलेख : मानवीय संवेदनाओं के जीवंत कवि – महेन्द्र भटनागर
कुमारेन्द्र सिंह सेंगर का आलेख : मानवीय संवेदनाओं के जीवंत कवि – महेन्द्र भटनागर
http://lh5.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/Sl9TgVLAGRI/AAAAAAAAGTg/jTfi8OSd0rQ/lokmangal%5B2%5D.jpg?imgmax=800
http://lh5.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/Sl9TgVLAGRI/AAAAAAAAGTg/jTfi8OSd0rQ/s72-c/lokmangal%5B2%5D.jpg?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2009/07/blog-post_16.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2009/07/blog-post_16.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ