रचनाएँ खोजकर पढ़ें

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


राजनारायण बोहरे की कहानी : गवाही

साझा करें:

सरकारी वकील का रवैया देख मैं हतप्रभ हो गया । वे जिस तू तड़ाक वाली भाषा में मुझसे सवाल जवाब कर रहे थे, उससे लग रहा था कि वे पहले जरूर किसी पु...

सरकारी वकील का रवैया देख मैं हतप्रभ हो गया । वे जिस तू तड़ाक वाली भाषा में मुझसे सवाल जवाब कर रहे थे, उससे लग रहा था कि वे पहले जरूर किसी पुलिस थाने के दारोगा थे। न्याय की आसंदी पर विराजमान हर मजिस्ट्रेट अपने सामने हाजिर होने वाले आदमी से क्या ऐसे ही बात करते होंगे । मैं डर के मारे पसीना पसीना था, और कुछ इल्तिजा करना ही चाहता था कि गला अवरूद्ध हो गया और मैं घबरा गया फिर जाने कैसे मेरी नींद खुल गई ।

फिर तो रात के तीन बज गए। मेरी आंखों से नींद ऐसी रूठी कि हाथ-पांव गीला करने से लेकर सिर पर पानी डालने और कुछ मीठा खाकर टहलने जैसे तमाम जतन किए तो भी उसके स्पर्श को तरसता रहा । मुझे रह रह कर आने वाले कल का ध्यान आ रहा था......। कल अदालत मे गवाही थी मेरी । एक खास मुकद्दमा था ये जिस पर सारे सूबे की आंखें टिकी थीं ।

मुकदमे का ख्याल आते ही मुझे कंपकंपी हो आई....। हर बार की तरह लगा कि काश, मैं मौका-ए-वारदात हाजिर न होता.....,या फिर मैंने बहादुरी दिखाते हुऐ नीरनिधि साहब को न बचाया होता। चलो, बचा भी लिया था तो पुलिस और पत्रकारों से कुछ न कहा होता। अलबत्ता, जो कुछ हो चुका उस पर किसका वश है। दुधारी तलवार पर खड़ा हूँ मैं, इधर कुंआ तो उधर खाई है। अदालत में कल क्या कहूँगा मैं...?

...और, सारी घटना एकबार फिर मेरे जेहन में घूम जाती है।

उस दिन हम सब दफ्तर के बड़े हॉल में इकट्ठे थे कि ग्यारह बजे रोज की तरह नीरनिधि साहब अपने जूते ठकठकाते हुए आ पहुंचे थे । सामूहिक नमस्कार स्वीकारते वे अपने चैम्बर में गये तो रोज की तरह हम चुहलबाजी में लग गए। फिर उनकी ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठा और प्रेम व्यवहार के गुण की तारीफ़ करने लगे। इस तारीफ़ में हरेक के मन में एक ही भाव भी था कि काश हम ऐसे हुए होते....! नहीं हुए सो देखने दिखाने को बढ़ाई करते थे सब के सब, हालांकि हम क्या, सारा नगर जानता था कि नीरनिधि साहब एक हीरा आदमी है। गाँव की कच्ची गलियाँ हों या नगर की गन्दी बस्ती नीरनिधि साहब हर उस जगह मौजूद मिलते थे, जहां हमारे महकमे के छोटे कर्मचारी काम कर रहे होते। सारा जीवन सादे ढंग से रहने और पूरी क्षमता से काम करने में ही गुजार दिया उन्होने, सो घरवालों को भी आदत सी हो गई जमाने की हवा से विपरीत चलने वाले एक आदमी के साथ जीवन यापन करने की। हालांकि अर्दली कहते हैं कि मेम साहब भी बड़े दिल वाली हैं, और अपने पति को उनकी ईमानदारी के लिए कभी उलाहना नहीं देतीं, चाहे परेशानी में गुजर करलें।

तब बारह से कुछ कम का समय था कि दफ्तर के बाहर तेज हलचल सी दिखी। पहले लगा कि बिजली-बिल जमा करने वालों की भीड़ है। फिर जब भीड़ में खड़े एक नेता नुमा आदमी की ऊंचे स्वरों में बातचीत सुनी तो माथा ठनका कि बात कोई और है। सब अपने अपने अनुमान लगा रहे थे कि सहसा सौ एक लोग हॉल के बड़े दरवाजे से अंदर घुसते दिखे और हम चौंकते से अपनी अपनी जगह खड़े हो गए।

''कौन हैं आप ? क्या काम है?'' बड़ेे बाबू ने दफ्तरी अकड़ के साथ पूछा तो भीड़ की अगुआई करता चुस्त सफेद कुर्ता-पैजामा और कंधे पर रंगीन गमछा डाले वह गोरा और तगड़ा युवा गुर्राया, '' रूलिंग पार्टी के मैम्बरों से बात करने की तमीज नहीं है तुझे बुढ्ढे ! मैं रूलिंग पार्टी की युवा इकाई का नगर अध्यक्ष रक्षपाल हूँ।''

क्षणाश में बड़े बाबू के भीतर बैठा चौकन्ना क्लर्क जाग उठा, '' सॉरी भैया मैं पहचान नहीं पाया ।...कभी काम नहीं पड़ा ना !''

''येई तो ! ...ये ई तो गद्दारी है हमारे पार्टी वाले हुक्मरानों की। तुम जैसे दो कौड़ी के नौकर तक हमे नहीं पहचानते। ...हम तो आज एकदम चोखा हिसाब करने आये हैं कि तुम जो रोज-रोज मनमाने ढंग से बिजली की कटौती करते रहते हो उसका जिम्मेदार कौन है?...साले तुम्हारी कारगुजारियों की वजह से हमारी स्टेट पूरे देश में बदनाम हो रही है।''

''आप बैठो तो सही भैया! ...आइये आप भी बैठिए'' अपनी बेइज्जती पीते बड़े बाबू ने उसके साथ वाले लोगों से भी बैठने का इसरार किया।

'' अबे चुप कर बुढ्ढे, तेरा अफसर कहाँ है? उससे बात करने आए हैं हम। कहाँ बैठता है वो रिश्वतखोर ?'' बड़े बाबू की चिरौरी से नर्म होने के बजाय वो युवक उत्तेजित हो उठा था। डर से कांप उठे बड़े बाबू । नेता के पीछे खड़े लोग बड़े बाबू को खा जाने वाली निगाहों से घूर रहे थे। थरथराते बड़े बाबू ने कांपती उंगली से उस कमरे की तरफ इशारा कर दिया जिधर नीरनिधि साहब का चैम्बर था। हॉल में मौजूद सारे कर्मचारी नीची निगाह किए खड़े थे और कनखियों से उन लोगों की गतिविधि देख रहे थे। राजनीति में गुण्डागर्दी समावेश का पहला तमाशा था हमारे सामने।

लगा कि किसी बांध की दीवार ही टूट गई हो, हहाकर बहते पानी की तरह बाहर खड़े पचासेक आदमी और भीतर घुसे और वे सब के सब हुंकारी के साथ एक दूसरे को धकियाते नीरनिधि साहब के कमरे में घुसने लगे। उन सबकी आंखों में एक अजीब सी हिंसा की ज्वाला थी और चेहरों पर थे दर्प के भाव। जिसे देख हम सब दहशत से भर उठे थे।

पहले बड़े बाबू ने धीरे से अलमारी लॉक की और आहिस्ता से बाहरी दरवाजे की ओर बढ़ गये, फिर वर्माजी, फिर खरे-चतुर्वेदी-शर्मा वगैरह । एक-एक कर सारा स्टाफ दफ्तर से बाहर निकल गया। सिर्फ मैं अकेला भकुआता सा बैठा रह गया था इतने बड़े हॉल में जिसमें हजार से ज्यादा आदमी समा सकते थे। ...मेरी छठी इन्द्रिय ने मुझे चेताया कि अब मुझे भी खिसक लेना चाहिये, सो बिना देर किए मैं झटके साथ उठा और टेबिलों के बीच से जगह बनाता बीच की खाली जगह में आया ही था कि मेरे पांव जकड़ गए, नीरनिधि साहब के कमरे में से उनकी तेज चीख सुनाई दी मुझे और लम्बी हिलकी भी। सहसा करंट सा आ गया मुझमें, और हवा के परों पर सवार मैं ताबड़तोड़ दौड़ पड़ा था नीरनिधि साहब की दिशा में।

अंदर का दृश्य हर भले आदमी को शर्मसार कर सकता था, लेकिन मेरे लिए असह्य था वह।...हमारे दफ्तर का सम्मान्य अफसर,...बिजली विभाग का वो कर्मठ और ईमानदार इंजीनियर,...जनता की सेवा में चौबीसों घण्टे तत्पर रहनेवाला वो जनसेवक,...हम सब कर्मचारियों की निष्ठा का प्रतीक वो हमारा नुमाइंदा उस भीड़ से घिरा हुआ बेहद दयनीय हालत में उन दो कौड़ी के गुण्डों के हाथों में फुटबाल की तरह उछल रहा था। उसका सांवला चेहरा इस वक्त काले रंग से रंग चुका था जिसके बीच बीच में खून की लाल लकीरें उसे अजीब सी शक्ल प्रदान कर रही थीं। उन्मादी भीड़ के लोग उनको बेतरतीब ढंग से पीटते हुए एक भयावह अट्टहास कर रहे थे और नीरनिधि साहब गिडगिड़ाते हुए उनके हाथ जोड़ कर अपने प्राणों की भीख मांग रहे थे।

जबकि मुश्किल से पांच मिनट- बीते थे मैंने देखा कि हृष्टपुष्ट नीरनिधि साहब श्लथ हो चुके थे , और अब न उनके मुंह से चीख निकल रही थी न बचाने की गुहार । ठीक तभी भीड़ का शिकंजा ढीला हुआ, मुझे नीरनिधि साहब तक जाने का मौका मिल गया। जमीन पर औंधे पड़े थे । मैंने उन्हे सीधा किया और अपने कमजोर हाथों से उन्हे उठाने का यत्न करने लगा ताकि उनकी कुर्सी पर बैठा सकूं लेकिन वे थे कि तनिक भी सहयोग नहीं कर रहे थे, लगातार मेरे हाथों से फिसले जा रहे थे। बमुश्किल तमाम मैं घसीटकर उन्हें कुर्सी पर बैठाने में सफल हुआ तो उनका सिर धड़ाम से टेबिल पर मड़े कांच में जा टकराया । उनके सिर को सीधा करते हुए कनखियों से मैंने देखा कि हाथ की अदृश्य धूल या अछूत आदमी को छूने से पैदा हुआ छूत भाव झड़ाते वे लोग हर्षध्वनि के साथ लौटने लगे थे। दशहरे में रावण के पुतले के दहन के बाद उसपर पत्थर बरसाते लोगों की तरह।

हैल्प मांगने का उपक्रम किया तो पाया कि फोन चालू नहीं था, तार सबसे पहले तोड़े थे उस भीड़ ने ।

बाद के असंख्य क्षण पीड़ाप्रद थे, मेरे लिए भी और नीरनिधि साहब के लिए भी। मेरी तमाम सक्रियता के बाद भी नीरनिधि साहब बचाए न जा सके। डॉक्टरों की भीड़ ने पल भर में ही नीरनिधि साहब को मृत घोषित कर दिया। रात आठ बजे मैंने पुलिस कोतवाली में एफ आई आर दर्ज कर वाई, उस वक्त मीडिया के चमचमाते कैमरे मेरा एक एक शब्द टेप कर रहे थे, और मैं सारा घटनाक्रम थाना प्रभारी को अपनी ऊंची नीची सांसों के साथ सुना रहा था। इस बीच अस्पताल की दिर भर की भागदौड़ में मुझे पता लग चुका था कि हंगामेबाज लोगों में नगर के वे युवा सितारे थे जो सूबे कीरूलिंग पार्टी के भीतर अपना अस्तित्व मनवाने के लिए कोई असरकारक घटना करने को व्याकुल थे । ताज्जुब कि दिन भर में हमारे दफ्तर का कोई आदमी अस्पताल के पास पास तक न फटका । पुलिस ने मेरे प्रारंभिक बयान अगले ही दिन अदालत में करवा दिये।

अगले कई दिन मगर मच्छी आंसू बहाने के दिन थे। रूलिंग पार्टी के सदर, खिलाफी पार्टी के सदर और तमाम हुक्मरान नीरनिधि साहब घर आते रहे और उन्हे मनाते रहे कि वे खामोख्वाह पुलिस कार्यवाही में न पड़ें। इलाके में खिलाफी पार्टी के एक बड़े नेता बेहद साफ दिल के आदमी थे, उन्होने नीरनिधि साहब की पत्नी से साफ-साफ कहा, '' देखो मिसिज नीरनिधि, आप हिम्मत रखिये, भले ही हमारी सरकार न हो , आपके पति की मौत से जो नुकसान हुआ हम उसकी भरपाई करायेंगे,...आपके बेटे को हम नौकरी दिलायेंगे। ...और रहा मामला नीरनिधि साहब की मौत का सो ये तो एक हादसा था जो न चाहते हुए हो गया, ईश्वर की इच्छा थी कि नीरनिधि साहब की मौत आ गई थी, वे हमारे युवा नेता के हाथों न मरते तो रास्ता चलते ठोकर खाते और गिर कर मर जाते। अब होनी को कौन टाल सकता है जी!''

मुझे ताज्जुब हुआ कि इस हादसे की जाँच बीस दिन में हो गई और महीना बीतते न बीतते अदालत में चालान भी पेश हो गया। गवाहान तलब हुए । गवाहों में सबसे अव्वल नाम मेरा था। एक तरह से चश्मदीद गवाह।

मेरी गवाही पर सारे मीडिया की निगाहें थीं। ...वैसे इस प्रकरण के प्रति हर आदमी का अलग नजरिया था । पुलिस के लिए फालतू का लफडा, नामजद हुए लोगों की आगामी पॉलिटिक्स को आर-पार का मुद्दा, नीरनिधि साहब के परिवार की डूब गई नौका को उबारने का यत्किंचित सहारा और मेरे लिए जीवन मरण का प्रश्न!

मुझे लगता है फालतू के लफड़े में नीरनिधि साहब की जान गई । लफड़ा था बिजली कटौती का, जिसमें न नीरनिधि साहब कुछ कर सकते थे न विद्युत मंडल । बिजली का रोना अपनी जगह, लेकिन किसी की जान पर बन आये ऐसा करतब कहाँ तक जायज है, सो मैने कमर कस ली थी कि हर हालत में मुलजिमों को सजा दिलवाऊंगा। हालांकि इतना सरल न था सजा दिलवाना, क्योंकि एक पूरी राजनैतिक पार्टी जिन मुल्जिमों के पीछे खड़ी हो किसकी मजाल जो उनके खिलाफ गवाही दे।

उनके खिलाफ गवाही देने वालों में सबसे पहला नाम मेरा है, और पुलिस व मीडिया के सामने मैंने ही सारा किस्सा बयान किया है, सो मुल्जिमों का पहला निशाना मैं ही हूँ । हादसे के अगले दिन से ही मैं अनुभव कर रहा हूँ कि मेरा पीछा किया जाता है, अजनबी किस्म के गुण्डे मेरे आसपास घूमते रहते हैं। अचानक रात को मेरा फोन बज उठता है और घर का जो सदस्य रिसीव्हर उठाता है, उसे गंदी गालियों के साथ धमकी दी जाती है कि अगर अदालत में मैंने मुंह खोला तो मेरी और मेरे परिजनों की खैर नहीं । रोज-रोज के फोन से तंग आकर मेरी पत्नी आँचल पसार कर मुझसे अपने सुहाग की भीख मांगती है तो मेरे बच्चे अपने बाप की जिन्दगी ।

...लेकिन मैं सोचता हूँ कि इस तरह अपने बच्चों की खातिर सच से मुंह मोड़ लेनां तो अन्याय होगा! अन्याय, उस समस्त न्यायिक प्रक्रिया के साथ जो आदि काल से मानव की सभ्यता के विकास के साथ विकसित हुई। अन्याय, उस परिवार के साथ जो नीरनिधि साहब के बिना अनाथ हो गया, और जिनकी आशा का बहुत बड़ा स्रोत मैं हूँ। अन्याय, उन लाखोंलाख सरकारी मुलाजिमों के साथ जो निरपेक्ष भाव से अपना कर्तव्य निवाहते हुये बिना कुसूर और अकारण पिट रहे हैं, और उनके पक्ष में कोई खड़ा नहीं हो रहा- न शासन, न प्रशासन, न जनता और न ही चौथे स्तंभ का ढोल पीटता मीडिया।

...तो? .....तो क्या करूं मैं !

कदाचित अदालत में मैंने वही बयान दिया जो पहलेपहल दिया था तो संभवतः अपनी जान से हाथ धोना पड़े मुझे, पत्नी के साथ कोई अनहोनी, या किसी बच्चे का अपहरण। सुरक्षा की गारंटी देती पुलिस मुझे और परिवार को कहाँ कहाँ बचायेगी? जब एक प्रधानमंत्री को नहीं बचा सकी ? मेरे दुश्मन कोई निर्बल और असहाय नहीं है, हजार सिर और सहस्त्र्र बाहुओं वाले शत्रु हैं मेरे । प्रजातंत्र में क्यों बन जाता है कोई राजनैतिज्ञ इतना ताकतवर, इस प्रश्न का जवाब नहीं मिलता मुझे।

वैसे अदालत में अपने कहे हुए से पलट जाना उतना आसान भी तो नहीं है, जितना पहले कभी हुआ करता था । ज्यादा पुरानी बात नहीं है, गुजरात के बेस्ट बेकरी कांड की गवाह जाहिरा शेख अदालत में अपने बयान से पलटी तो देश की सबसे बड़ी अदालत ने सजा दे दी उसे, फिर वो मामला भी ज्यादा पुराना कहाँ है जब दिल्ली का जेसिकालाल हत्याकांड चर्चा में आया और अदालत में पलट जाने वाले उसके गवाहों को अदालत ने जिस तरह से सजा तजबीज की। उसके बाद मेरे जैसे आदमी में साहस ही कहाँ बचा है अपने कहे से पलटने का । फिर अदालत में पलट जाने भर से इज्जत बच जायेगी क्या मेरी! कल जब बाजार में जाऊंगा, किसी गली से निकलूंगा तो लोग कटाक्ष करेंगे मुझ पर । दुनिया भर में थू थू होगी मेरी । नीरनिधि साहब की बीबी को क्या मुंह दिखाऊंगा मै, जिन्हे पहली रात ढांढस बंधाते हुए मैंने कहा था कि जब तक नीरनिधि साहब के हत्यारों को सजा नहीं मिल जाती, तब तक नींद नहीं आयेगी मुझे । अपनी यूनियन के सामने क्या कहूँगा मैं ? जहां खूब डींगे हांकता रहा अब तक ।

...तो ? क्या करूंगा मैं?

अदालत में क्या कहना है यह बयान वकील ही तैयार करायेगा- सरकारी वकील! बाद में मुलजिमों का वकील जिरह करेगा मुझसे। हालांकि इस मामले में क्या सरकारी और क्या बचाब पक्ष का वकील-सब एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं। क्या कहूँगा मैं। यह कह सकूंगा कि मैंने देखा है इन, ...इन और इनको अपनी आंखों से नीरनिधि साहब को पीटते।

कल पत्नी कह रही थी कि तुम चिन्ता काहे करते हो, उन लोगों का वकील पहले ही बता देगा आपको कि कैसे क्या कहना है! मैंने बात कर ली है वकील से, आपको ऐसी गोलमाल बात करनी है कि पुराने बयान से पलटना भी न लगे और उन लोगों का शिनाख्त भी न करना पड़े आपको। वैसे ऐसी कोशिश चल रही है कि अदालत में आपका बयान न कराया जाय।

मैं अचंभित था कि मेरी घर-घुस्सा निहायत घरेलू हाउस वाइफ बीबी को ऐसी दुनियादारी कहाँ से आ गई कि रास्ता निकाल लिया उसने मेरे धर्मसंकट से उबरने का ।

सुबह हो रही थी, आसमान में सोने सा पीला उजाला फैलने लगा था। मै। उठा और दैनिक कर्म में लग गया । जल्दी से निवृत्त हो लूं ताकि वकील के द्वारा बताये गये संवाद ऐसे लूं और अदालत में उन्हें हू ब हू दोहरा सकूं । ...कि फोन की घण्टी बजी, मैंने लपक कर उठाया तो पाया कि उधर से नीरनिधि साहब की पत्नी की आवाज थी। वे कह रहीं थीं, ' भैया, जिसे जाना था वो चला गया, आप आज पेशी में ऐसा कुछ मत कहना कि आपके परिवार पर संकट आ जाये। अब मरने वाले के साथ मरा तो नहीं जाता न, हम लोग भी अब सजा दिलाने पर ज्यादा जोर नहीं डालेंगे।'

सुना तो मैं स्तब्ध रह गया- बल्कि भयभीत होकर जड़ सा रह गया कहना ज्यादा उचित होगा।

मन में घुमड़ रहे द्वंद्व के घनेरे बादल छंटते लग रहे थे, लेकिन जाने क्यों बाहर के वातावरण में एक अजीब सी घुटन और उमस बहुत तेजी के साथ बढ़ती सी लग रही थी।

----

-----****-----

|दिलचस्प रचनाएँ:_$type=blogging$count=5$src=random$page=1$va=0$au=0$meta=0

|समग्र रचनाओं की सूची:_$type=list$count=8$page=1$va=1$au=0$meta=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: राजनारायण बोहरे की कहानी : गवाही
राजनारायण बोहरे की कहानी : गवाही
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2009/09/blog-post_8815.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2009/09/blog-post_8815.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ