---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

जाहिद खान का आलेख – बीच बहस में : संघी मानसिकता के पहलू

साझा करें:

बीच बहस में   हंस में प्रकाशित शीबा असलम फहमी के लेख से शुरु हुई बहस अभी थमी नहीं है। अप्रेल 2010 अंक में मोहतरम कृष्‍ण बिहारी ने एक...

image

बीच बहस में

 हंस में प्रकाशित शीबा असलम फहमी के लेख से शुरु हुई बहस अभी थमी नहीं है। अप्रेल 2010 अंक में मोहतरम कृष्‍ण बिहारी ने एक बार फिर मुसलमानों के जानिब अपना प्‍यार' उड़ेला है। अपने जबाव में कृष्‍ण बिहारी ने वही सब कुछ दोहराया है, जो वे पहले कह चुके हैं। हां, कुछ अपनी ओर से सफाई भी पेश की है। लेकिन जैंसे कमान से निकले तीर और मुंह से निकले अल्‍फाज वापिस नहीं आते, कुछ इसी तर्ज पर कृष्‍ण बिहारी अपने इस लेख से पूरी तरह बेनकाब हो गए हैं। अब वे जो भी काम करेंगे, वह सब लीपा-पोती ही होगा। खैर ! रचनाकार के पाठकों के लिए पेश है, मेरा जनवरी अंक में आया लेख। जो न जाने किस वजह से हंस में पूरा प्रकाशित नहीं हुआ। मुझे यकीन है, गर यह लेख पूरा प्रकाशित होता तो मोहतरम कृष्‍ण बिहारी ओर भी लाजबाव हो जाते। बहरहाल, अब तय पाठक करेंगे, कि क्‍या सही है और क्‍या झूठ। साथियों मुझे आपके रद्‌दे अमल का इंतजार रहेगा।

संघी मानसिकता के पहलू

-जाहिद खान

हंस के अक्‍टूबर अंक में शीबा असलम फहमी के मई अंक में प्रकाशित लेख की एक लाईन से नाइत्‍तेफाकी जताते हुए प्रवासी हिंदी साहित्‍यकार कृष्‍ण बिहारी का हिंदुस्‍तानी मुस्‍लिम समाज को लगभग खिताब करता हुआ लेख पढ़ने को मिला। लेख को पढ़कर ताज्‍जुब हुआ, कि ये वही कृष्‍ण बिहारी हैं, जिनकी कहानियां प्रगतिशील और जनवादी पत्रिकाओं में अहमियत के साथ शाया होती हैं। कृष्‍ण बिहारी के नाम की बजाय अगर इस लेेख पर तरुण विजय, बलवीर पुंज या अरुण शौरी का नाम चस्‍पां होता तो शायद इतना रंजो मलाल न होता। क्‍योंकि इन संघी बौद्धिकों की पूरी सियासत खुली किताब है। लेकिन कृष्‍ण बिहारी जैसा लेखक जब संघी तर्कों से हिंदोस्‍तानी मुसलमानों को जांचता हैं, तो बेहद अफसोस होता है। अफसोस इसलिए भी होता है कि ये सब जनचेतना के प्रगतिशील कथा मासिक हंस में छपता है। उस हंस में, जिसके पन्‍नों पर पत्रिका के संपादक राजेन्‍द्र यादव सांस्‍कृतिक राष्‍ट्रवादियों और कट्‌टर तालिबानियों से एक साथ लोहा लेते हैं। हां, राजेन्‍द्र जी ये बात पक्‍की मानिए कि अगर ये लेख हंस की जगह ओर कहीं छपता तो ये जबाव के काबिल भी नहीं था।

खैर ! कृष्‍ण बिहारी ने शीबा असलम फहमी के लेख के जिस खास नुक्‍ते ‘हिंदु साम्‍प्रदायिकता और हेट-क्राइम' से अपना लेख उठाया है। गोया कि उनका पूरा लेख भी हिंदू साम्‍प्रदायिकता और हेट-क्राइम का घटिया नमूना बनकर रह गया है। मुस्‍लिम समाज के अंदर जेंडर जिहाद पर काबिले तारीफ और क्रांतिकारी कलम चलाने वाली शीबा फहमी के लेख की महज एक लाईन की बिना पर कृष्‍ण बिहारी ने जो ‘सद्‌वचन' उगले हैं, उससे उनकी मुसलमानों की जानिब मानसिकता का परिचय मिलता है। कृष्‍ण बिहारी के लेख को पढ़कर ऐसा अहसास होता है, कि उन्‍होंने शीबा के पूरे लेख को सही तरह से पढ़ा ही नहीं है। और यदि पढ़ा भी है तो, उस पूरी लाईन को संदर्भ से काटकर। जाहिर है कि जब हम किसी बात को संदर्भ से काटकर इस्‍तेमाल करते हैं, तो उसको मनचाहे तरीके से व्‍याख्‍यायित कर सकते हैं।

शीबा के जिस लेख संविधान और कबीला' की एक लाईन पूज्‍यनीय कृष्‍ण बिहारी को नागवार गुजरी है। आईए, उस लाइन को पूरे पैराग्राफ के साथ पढ़ें और आगे इसका विश्‍लेषण करें ‘‘सवाल यह है कि भारत में मुस्‍लिम महिलाएं सामाजिक, राजनीतिक जीवन के प्रति उदासीन क्‍यों रहीं ? इसका एक कारण यह भी रहा कि आजादी की पूर्व संध्‍या और फिर उसके बाद लगातार साम्‍प्रदायिकता का जो जहर समाज में घुला उसका शिकार गरीब व निचला तबका तो हुआ ही लेकिन ऊंचे-नीचे हर तबके की सभी मुसलमान महिलाएं इसका शिकार हुंई। हिंदू साम्‍प्रदायिकता व हेट-क्राइम ने न सिर्फ इन्‍हें घर व पर्दे में सुरक्षा लेने पर मजबूर किया बल्‍कि, पुरुष वर्ग के आगे अपने सभी अधिकार भी डालने पर मजबूर किया। महिलाओं के हिस्‍से के सारे फैसले पुरुष लेते रहे, परिवार के मर्द की मर्जी ही पूरे परिवार की मर्जी मानी गई। कालांतर में उसे यह पट्‌टी पढ़ा दी गई कि परिवार के पुरुषों के हित में ही स्‍वयं उसका हित है। औरत की अपनी न कोई जरुरत है न उसका कोई स्‍वतंत्र अस्‍तित्‍व। उसका फायदा-नुक्‍सान, उसके अधिकार सब मर्द के व्‍यक्‍तित्‍व में समाहित हो गए।''

लेख के इस छोटे से हिस्‍से को पढ़कर आसानी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि शीबा ने हिंदुस्‍तान में मुस्‍लिम महिलाओं की मौजूदा बदहाली के लिए जिम्‍मेदार तमाम वजहों में से एक वजह हिंदु साम्‍प्रदायिकता और हेट क्राइम को भी माना है। कौन नहीं जानता कि आजादी के पूर्व हुए साम्‍प्रदायिक दंगो से लेकर गुजरात दंगो तक, यदि इन दंगो का सबसे ज्‍यादा बुरा असर पड़ा, तो वह है औरत जात। हर साम्‍प्रदायिक दंगा औरत के ऊपर कई नासूर छोड़ जाता है। वह पहले से और कहीं ज्‍यादा अपने आप को गैर महफूज समझने लगती है। और जाने-अनजाने वह मर्द के साये में पनाह ले लेती है। जाहिर है शीबा जब ये लिखतीं हैं तो उनका ये इशारा कतई नहीं है कि मुस्‍लिम महिलाओं की दुर्गति सिर्फ और सिर्फ हिंदु साम्‍प्रदायिकता व हेट-क्राइम की वजह से है। बल्‍कि वे अपने पूरे लेख में औरत की बदहाली के लिए मुस्‍लिम समाज और उसमेें भी मर्दों को सबसे बड़ा जिम्‍मेदार मानती हैं। अपनी बात का खुलासा करते हुए, वे एक जगह साफ-साफ लिखती हैं ‘‘एक तरफ भारतीय संविधान में समान अधिकार दिए गए तो, दूसरी तरफ अल्‍पसंख्‍यकों की संस्‍कृति के संरक्षण के नाम पर मुसलमान पुरुषों को औरतों पर हुकूमत करने के अधिकार प्राप्‍त हो गए। अतः भारतीय मुस्‍लिम महिलाएं पहले अपने मर्दों के अधीन हैं, बाद में संविधान के। और यही कारण है कि संविधान प्रदत्‍त अधिकारों का उपयोग कर ससम्‍मान नागरिक जीवन जी पाना मुसलमान महिलाओं के लिए संभव नहीं हो पा रहा।'' यानी शीबा हिंदुस्‍तान में महिलाओं के पिछड़ेपन को मर्दों की मानसिकता से जोड़ती हैं। और ये पुरुषवादी मानसिकता ही है, जो आज भी औरतों को उनका हकीकी दर्जा नहीं देना चाहती। शीबा के मुताबिक औरतों की बदहाली के लिए मर्द गुनहगार हैं, जो उनके सारे हक छीने बैठे हैं। जबकि हिंदुस्‍तानी संविधान ने मुस्‍लिम औरत को उनके बिना मांगे दीगर औरतों की तरह ही सारे नागरिक अधिकार प्रदान कर दिए हैं। शीबा अपने लेख में हिदुस्‍तानी मुस्‍लिम समाज में पितृसत्‍ता के खिलाफ औरतों को एकजुट होने, संघर्ष करने का आहवान करती हैं। यही नहीं वे बड़ी बहादुरी से इस्‍लाम में घर कर गई, कबीलाई व्‍यवस्‍था की मुखालफत भी करती हैं। शीबा के मुताबिक ये कबीलाई व्‍यवस्‍था इस्‍लाम या पैगम्‍बर हजरत मोहम्‍मद साहब ने नहीं बनायी बल्‍कि बाद में मर्दों ने अपने फायदे के लिए बनायी, जिससे औरतों को उनके हक से महरुम किया जा सके।

जाहिर है, शीबा ने अपनी एक उंगुली यदि साम्‍प्रदायिकता व हेट-क्राइम की ओर उठाई है, तो बाकी सारी उंगुलियां मुस्‍लिम समाज की तरफ की हैं। लेकिन कृष्‍ण बिहारी की दिक्‍कत ये है कि वे बाकी सब बातें छोड़कर इस नुक्‍ते का इस्‍तेमाल इस्‍लाम व मुसलमानों को गरियाने के लिए करते हैं। शीबा को समझाईश देते हुए कृष्‍ण बिहारी अपने लेख में इतने लाउड हो गए हैं कि उनके मुसलमानों के जानिब, जो पूर्वाग्रह हैं वो सरे आम हो गए हैं। लेख में उन्‍होंने जो चुन चुनकर दलीलें दी हैं, वे उन्‍हें खुद-ब-खुद हिंदु राष्‍ट्रवादियों के पाले में ला खड़ा कर देती हैं। खास तौर पर जब, वे संघ के अहम सिद्धांतकार गुरु गोलवलकर की इस थ्‍योरी को मुसलमानों पर जबरन थोपने की कोशिश करते हैं कि ‘‘भारत मुसलमानों की जन्‍मभूमि नहीं है, वे विदेशी हैं, लिहाजा उनका देश से भावनात्‍मक संबध नहीं है।''कृष्‍ण बिहारी यहीं नहीं रुक जाते बल्‍कि संघी अंदाज में वंदे मातरम्‌ गीत के बहाने मुुसलमानों की वतनपरस्‍ती को कटघरे में ला खड़ा कर देतें हैं। यहां तक की भारत-पाक विभाजन के लिए भी मुसलमानों को जिम्‍मेदार करार देतें हैं।

कृष्‍ण बिहारी और उनके संघी जमाती भले ही आज भी मुसलमानों की हिन्‍दोस्‍तानियत और उनकी वतनपरस्‍ती पर सवाल उठाएं लेकिन हिंदुस्‍तानी मुसलमानों ने गुजिश्‍ता 60 सालों में ये साबित कर दिखाया है कि वे उतने ही हिंदुस्‍तानी हैं, जितने कि हिंदुस्‍तान में दीगर कौमें। हिंदुस्‍तानी सरहदों पर मुस्‍लिम नौजवान फौजी भी उतना ही लहु बहाते रहें हैं, जितना कि दीगर। कृष्‍ण बिहारी ने साहित्‍य सिद्धांतो से इतर यदि दीगर समाज विज्ञान भी पढ़े होते, तो उन्‍हें ये अच्‍छी तरह से मालूम होता कि पाकिस्‍तान किसने मांगा था ? लेकिन अफसोस ! पांचजन्‍यी साहित्‍य विचार पढ़ने से तो इसी तरह के ख्‍याल उपजेंगे। यहां हंस के पाठकों को एक बात और वाजेह करना जरुरी है कि शीबा ने अपना लेख हिंदुस्‍तानी मुस्‍लिम समाज को टारगेट कर लिखा था, जबकि कृष्‍ण बिहारी हिंदुस्‍तानी मुस्‍लिम समाज को अरब मुल्‍कों और पाकिस्‍तान, बांग्‍लादेश से जोड़कर अपनी बात करते हैं। जाहिर है हिंदुस्‍तानी मुस्‍लिम समाज और अरब मुस्‍लिम समाजों के बीच जमीन-आसमान का फर्क है। जिसे जान बूझकर हिंदुस्‍तानी मुस्‍लिम समाज पर नहीं थोपा जा सकता। कृष्‍ण बिहारी, सऊदी अरब की एक खातून जो मूलतःहिंदुस्‍तान की हैं, कि मिसाल से अपने लेख में यह साबित करते हैं कि भारतीय मुसलमान परिवारों में हिंदी को हिंदुओं की भाषा समझा जाता है। बीते 25 साल से लगातार अरब मुल्‍कों में निवास करने पर ऐंसा लगता है कि कृष्‍ण बिहारी भी अल्‍पसंख्‍यक ग्रंथी से जूझ रहे हैं। वरना वे बिना सोचे समझे हिंदुस्‍तानी मुस्‍लमानों पर ये बेबुनियाद इल्‍जाम नहीं लगाते, कि मुसलमान हिंदी को हिंदुओं की भाषा समझते हैं। दरअसल, कृष्‍ण बिहारी का सामान्‍य ज्ञान इतना कमजोर है कि उनकी दलीलों का जबाव देते हुए मुझे उनकी अक्‍ल पर तरस ज्‍यादा आता है। कृष्‍ण बिहारी जी आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि हिंदुस्‍तान के स्‍कूल-कॉलेजों में हिंदी और दीगर मातृ भाषाओं के जरिए ही फिलवक्‍त 50 फीसद मुसलमान तालीमयाफता हुए हैं। शीबा और मेरे जैसे लाखों मुस्‍लिम परिवार अपने घरों में जो भाषा बोलतें हैं, वह हिंदी ही है न कि ओर कोई।

कृष्‍ण बिहारी अपने लेख में बड़ी बड़ी बातें करते हुए कई हास्‍यास्‍पद बातों पर उतर आते हैं। और ये बातें करते हुए उनका अंदाजे बयां बिल्‍कुल मीनमेख निकालने वाली उस औरत जैसा होता है जो, छोटी-छोटी बातों पर झगड़ने लगती है। वे कहते हैं कि ‘‘मुसलमान हिंदुस्‍तान में शुक्रवार की नमाज के लिए 2 घंटे का अवकाश ले लेतें हैं, जबकि इस्‍लामी हुकूमतों में दूसरे धर्मों के संबध में बात करने तक की इजाजत नहीं है। आदरणीय बिहारी जी, पहली बात तो आप ये जान लीजिए कि हिंदुस्‍तान में ऐंसा कोई अॉफिस-कार्यालय नहीं है, जो मुसलमानों को शुक्रवार की नमाज की वास्‍ते 2 घंटे की छुट्‌टी देता हो। दूसरी बात, आप जिन मुल्‍कों की तुलना हिंदुस्‍तान से कर रहे हैं, उनमें कहीं भी जम्‍हूरियत नहीं है। आप जिस मुल्‍क के जजिया वसूलने के किस्‍से को बड़ी तल्‍खी से बयां करते हैं वहां भी तानाशाह सरकारें हुकूमत करती रहीं हैं। जहां तक मजहबी कट्‌टरता का सवाल है, ये कट्‌टरता आज हर मजहब में दिखाई देती है और इस कट्‌टरता का कोई भी तरक्‍कीपसंद इंसान हिमायत नहीं कर सकता। मजहबी कट्‌टरता आज इस्‍लाम के मानने वालों में ही नहीं घर कर गई है, बल्‍कि दीगर मजहबों में भी पैर पसार रही है। तस्‍लीमा नसरीन यदि मजहबी कट्‌टरता का शिकार हुई हैं, तो एम.एफ. हुसैन भी 94 साल की उम्र में उसी कट्‌टरता का शिकार होकर अपने मुल्‍क से दूर रहने को मजबूर हैं। फिर शीबा असलम फहमी भी इस लेख और अपने दीगर लेखों में कहीं भी मजहबी कट्‌टरता की हिमायत नहीं करतीं।

कृष्‍ण बिहारी , लेख में अपना पूरा जोर इस बात पर लगाने की नाकाम कोशिश करते हैं, कि ‘‘हिंदुस्‍तान में मुसलमान हिंदु साम्‍प्रदायिकता या हेट-क्राइम के शिकार नहीं हुए हैं। मुसलमानों के आज जो भी हालात हैं, वे सब उन्‍हीं के बनाए हुए हैं। मुसलमानों की बदहाली के लिए मुसलमान ही जिम्‍मेेदार हैं।''हिंदुस्‍तानी मुसलमानों पर बिना सोचे समझे कोई भी तोहमत लगाने से पहले, आबूधावी में कयाम करने वाले कृष्‍ण बिहारी को मुसलमानों की सामाजिक, आर्थिक और श्‍ौक्षणिक दशा को बयान करने वाली सच्‍चर कमेटी की रिपोर्ट को जरुर देख लेना चाहिए। जिसमें, हिंदुस्‍तानी हुकूमत द्वारा नियुक्‍त कमेटी ने मुसलमानों के साथ हर विभाग में भेद-भाव होने की बात को माना है। फिर कृष्‍ण बिहारी जी आप तो खुद एक इस्‍लामिक मुल्‍क में रहते हैं, जहां मुसलमान बहुसंख्‍यक हैं और दीगर कौम अल्‍पसंख्‍यक। शीबा जिस हेट-क्राइम की बात करती हैं, उसे आपने भी तो खुद खाड़ी मुल्‍कों में झेला-भोगा होगा। इस्‍लाम और हिंदुस्‍तानी मुसलमानों को नसीहत देने की बजाय अगर आप अल्‍पसंख्‍यकों की आवाज वैश्‍विक परिपेक्ष्‍य में उठाते तो उसका हर जगह समर्थन मिलता। लेकिन आपने लेख में अपनी सारी ऊर्जा मुसलमानों को गरियाने में लगा दी। हिंदुस्‍तानी मुसलमानों पर इससे बड़ा कोेई इल्‍जाम हो नहीं सकता, कि ‘वे लोकतंत्र को पसंद नहीं करते।' कृष्‍ण बिहारी जी, हिंदुस्‍तानी मुसलमानों को आपके सामने ये साबित करने की बिल्‍कुल जरुरत नहीं है कि वे लोकतांत्रिक मूल्‍यों में यकीन रखते हैं। हिंदुस्‍तानी मुसलमान और तरक्‍कीपसंद, धर्मनिरपेक्ष बहुसंख्‍यक ही हैं जिनकी वजह से हिंदुस्‍तान में अभी तक तानाशाही स्‍थगित है। वरना कभी के आप और आप जैसी सोच की संघी जमात मुल्‍क में भगवा लहरा देती।

कुल मिलाकर बरसों से पिछड़े हिंदुस्‍तानी मुस्‍लिम समाज में आज जो आत्‍मावलोकन प्रक्रिया की शुरुआत हुई है, उसका स्‍वागत किया जाना चाहिए। औरत के लिए चारों तरफ से बंद माने जाने वाले मुस्‍लिम समाज में यदि शीबा असलम फहमी जैसी लेखिका आवाज उठा रही है तो ये अच्‍छा संकेत है। कृष्‍ण बिहारी जैसे वरिष्‍ठ साहित्‍यकार को शीबा की इस मुहिम की हिमायत करना चाहिए, न कि बिला वजह ही किसी कौम पर जहर उगलना चाहिए। कृष्‍ण बिहारी का पूरा लेख इस्‍लाम और मुसलमानों के जानिब उनकी तंग नजर सोच को दर्शाता है। मुसलमानों के बारे में कृष्‍ण बिहारी ने कुछ पूर्वाग्रह बना रखे हैं, जो उन्‍हें लगातार परेशान करते हैं। अच्‍छा है, ये लेख लिखने के बाद कृष्‍ण बिहारी अपने को कुछ हल्‍का महसूस करेंगे। कृष्‍ण बिहारी जी आपके तमाम इल्‍जामों के बावजूद दर हकीकत हिंदुस्‍तानी मुस्‍लिम समाज उतना ही तरक्‍कीपसंद है जितने कि मुल्‍क के दूजे समाज। हिंदुस्‍तान में समरस समाज की संरचना में मुस्‍लिम समाज बटवारे का दर्द भुलाकर आज उतना ही योगदान दे रहा है, जितने कि दीगर समाज। फिर आप इस बात से इत्‍तेफाक रखें या न रखें।

----

संपर्क:

महल कॉलोनी, शिवपुरी मप्र

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 4
  1. (1) साम्प्रदायिकता दो प्रकार की होती है: हिन्दू और ग़ैर हिन्दू।
    हिन्दू साम्प्रदायिकता से मुस्लिम औरतों को बहुत नुकसान हुआ और वे पर्दे में शरण लेने लगीं (पहले वे बिना बुरके के घूमती थीं। :)


    ग़ैर हिन्दू साम्प्रदायिकता से हिन्दू औरतों को कोई नुकसान न हुआ और न होता है।
    (2) औरतों के भी दो प्रकार होते हैं - हिन्दू और मुस्लिम। दोनों की समस्याएँ इस बात पर निर्भर करती हैं कि साम्प्रदायिकता हिन्दू है या ग़ैर हिन्दू।

    (3) 25 करोड़ की संख्या अल्पसंख्यक होती है। तब तक रहेगी जब तक आधे मार्के से 1 कम रहेगी।
    (4)एम.एफ. हुसैन नामक एक मनचले ने भोलेपन और उदारता के साथ हिन्दू देवियों और देवों को नग्न चित्रित किया। हिन्दू कट्टर हैं क्यों कि कुछ ने उसका विरोध किया और वह न्यायालय को झेलने के डर से भाग खड़े होने पर मज़बूर हो गया। बेचारा 94 साल का भोला भाला मासूम बच्चा जिसे हिन्दू देवियाँ नंगी नज़र आती हैं और ग़ैर हिन्दू औरतें कपड़े पहने हुई। बहुत नाइंसाफी है।
    (5) @ हिंदुस्‍तान में ऐंसा कोई अॉफिस-कार्यालय नहीं है, जो मुसलमानों को शुक्रवार की नमाज की वास्‍ते 2 घंटे की छुट्‌टी देता हो। - उसकी ज़रूरत ही क्या है जब सामने वाला ऐसे ही पा जाता हो और छीन लेता हो।
    (6)@मुसलमानों के साथ हर विभाग में भेद-भाव होने की बात - राष्ट्रपति तक बना दिया। गैर हिन्दू देशों में किसी हिन्दू के वहाँ तक पहुँचने की नौबत आएगी तो हम भी सेकुलर हो जाएँगे। अभी तो ये बातें कह कर साम्प्रदायिक हो ही चुके हैं।
    (7)@शीबा के मुताबिक ये कबीलाई व्‍यवस्‍था इस्‍लाम या पैगम्‍बर हजरत मोहम्‍मद साहब ने नहीं बनायी बल्‍कि बाद में मर्दों ने अपने फायदे के लिए बनाया - इस 'खोज' के लिए तो उन्हें कोई पुरस्कार मिलना चाहिए। हमारा भी ज्ञानवर्धन हो गया।

    आभार।

    जवाब देंहटाएं
  2. गिरिजेश जी की टिप्पणी को दुहराता हूं...
    लीगी मानसिकता क्या भारत के लिये अधिक अच्छी है???
    कमी यह है कि हिन्दू दुष्प्रचार करना तो दूर जवाब देना भी नहीं जानता..

    जवाब देंहटाएं
  3. मुस्लिम महिलाओं को जागना ही होगा। उन्हें पता नहीं है कि आज वे जिस स्थिति में जी रही हैं वे समाज का बहुत बड़ा नुकसान कर रही हैं।

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह गिरिजेश जी ।छा गये हो आप ।लेख बहुत और बहुत पुराना है पर टिप्पणी किए बिना नहीं रह सका।पर गलती शीबा जी जैसों की नहीं है।इन्हें अपनी गलती भी गैरों के सर मढना तो खुद हामारे हिंदू सेकुलर भाईयों ने ही सिखाया है।

    जवाब देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

|कथा-कहानी_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|हास्य-व्यंग्य_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|आलेख_$type=two$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|संस्मरण_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|उपन्यास_$type=list$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

---प्रायोजक---

---***---

|लोककथा_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$h=100$d=0

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4061,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3023,कहानी,2265,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,99,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,244,लघुकथा,1255,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,327,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2009,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,711,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,797,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,89,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,209,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: जाहिद खान का आलेख – बीच बहस में : संघी मानसिकता के पहलू
जाहिद खान का आलेख – बीच बहस में : संघी मानसिकता के पहलू
http://lh3.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/S7s-3CKPYkI/AAAAAAAAHrg/JVBHXws8DJw/image_thumb.png?imgmax=800
http://lh3.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/S7s-3CKPYkI/AAAAAAAAHrg/JVBHXws8DJw/s72-c/image_thumb.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2010/04/blog-post_06.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2010/04/blog-post_06.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ