नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

उमेश कुमार चौरसिया की दो कविताएँ

Image003 (Mobile)

कविताएं

प्‍यार

प्‍यार स्पर्श है अहसास है

चलती-रूकती एक श्‍वास है।

प्‍यार मिलन है, जुदाई भी

प्‍यार अमन है, खुदाई भी।

प्‍यार पूजा है इबादत है

कभी बैचेनी कभी राहत है।

प्‍यार हकीकत है सपना भी

कुछ पराया है तो अपना भी।

प्‍यार कुदरत का करिश्मा है

टंगारों में लिपटा सर्द चश्मा है।

 

 

अनछुआ मन

जब जन्‍मी तो सबने कहा

लड़का होता तो अच्‍छा होता

शाला जाने लगी तो टोका

रहने दे, घर का काम सीख

युवा सपनों ने हर बार कचोटा

उमंगें नहीं विवशता बुन

कहने का हक नहीं है तेरा

जो कहें, सबकी सुन

घर-ससुराल-समाज

भोगा सभी ने तन

नारी देह के भीतर

अनछुआ रह गया मन।

----

---उमेश कुमार चौरसिया

http://umeshkumarchaurasia.blogspot.com

4 टिप्पणियाँ

  1. अनछुआ रह गया मन्……………नारी जीवन और मन का बहुत ही सुन्दर चित्रण्।

    जवाब देंहटाएं
  2. उमेश बाबू
    आपकी दूसरी रचना ही सार्थक लगी. कुछ जबरदस्त आवाज़ के साथ है.बाकी पहली के बारे में कुछ नहीं कहना चाहता......
    सादर,

    माणिक
    आकाशवाणी ,स्पिक मैके और अध्यापन से जुड़ाव
    अपनी माटी
    माणिकनामा

    जवाब देंहटाएं
  3. anchhua kahaan rahaa mere man ne kahaa,
    dil kee har dhadakan men hai
    dil ne hee mujhse kaha . harendra singh rawat

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.