---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

भाऊसाहेब नवनाथ नवले का आलेख : नारी-विमर्श का बेबाक बयान : विष्णु प्रभाकर

साझा करें:

नारी-विमर्श का बेबाक बयान : विष्णु प्रभाकर प्रा. डॉ .भाऊसाहेब नवनाथ नवले अधिव्याख्याता, स्नातकोत्तर हिंदी विभाग, श्री शिवाजी महाविद्या...

नारी-विमर्श का बेबाक बयान : विष्णु प्रभाकर

प्रा. डॉ .भाऊसाहेब नवनाथ नवले

अधिव्याख्याता, स्नातकोत्तर हिंदी विभाग,

श्री शिवाजी महाविद्यालय,बार्शी

जिला-सोलापुर -413411 (महाराष्ट्र)

विष्णु प्रभाकर जी को बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी कहना न्यायोचित होगा। यह वह व्यक्तित्व है जो साहित्यिक एवं सामाजिक योगदान के लिए अपने-आप में आजीवन बेजोड़ रहा है। हिंदी साहित्य की विभिन्न विधाओं (उपन्यास, कहानी, नाटक, एकांकी, रेखाचित्र, जीवनी, रिपोर्ताज) में विष्णु प्रभाकर जी का लेखन उच्चतम सीमा में अभिव्यक्त हुआ है, जो विषय वैविध्य के साथ प्रस्तुत होने पर भी अंततः नारी अस्मिता की पुरजोर हिमायत करता नजर आता है। उनका व्यक्तित्व आजीवन तत्वनिष्ठता में बंधा रहा है। माँ के आधुनिक विचारों की गहरी छाप विष्णु प्रभाकरजी के व्यक्तित्व पर रही है। परिवार में माँ का स्थान अनन्यसाधारण होता है। उनकी माँ की अनन्यसाधारणता पर ही परिवार की धूरा ठीक-ठाक संचलित होती थी। वह आधुनिक विचारों की सुशिक्षित महिला होने के कारण ही उनका सामाजिक कुप्रथाओं का पर्दाफाश किया और नारी अस्मिता एवं उसमें संघर्षशील होने का एहसास दिलाया।

परिवार की अभावग्रस्त स्थिति में भी विष्णु प्रभाकरजी को उनकी माँ ने शिक्षा के विविध सोपानों तक पहुँचाने के लिए अथक कष्ट सहे। अभावों के कारण वे उच्च शिक्षा से वंचित रहे। लेकिन शिक्षा की इस अधूरी इच्छा को हर किसी प्रकार का कष्ट सहकर ही हिंदी की विभिन्न उपाधियाँ प्राप्त की। अपने स्कूली जीवन से ही साहित्य के प्रति एवं लेखन के प्रति लगाव था। उनकी पहली कहानी सन् 1937 के ‘मिलाप’ मंे छपी। यही से उनका लेखन के प्रति अत्यधिक लगाव बढ़ता गया और वे हिंदी साहित्य में अपनी अमिट और स्मरणीय छाप छोड़कर विभिन्न मान-सम्मानों के अधिकारी बन गए। नाट्य साहित्य में व्यावसायिक स्तर पर भी लिखते थे। ‘हत्या के बाद’ नाटक से आपकी नाट्ययात्रा आरंभ हुई। उनका बाल नाटक ‘पानी आ गया’ बच्चों की दृष्टि से काफी पसंदीदा नाटक है। प्रस्तुत नाटक में बच्चों की चालाकी, बहाना बनाने की प्रवृत्ति तथा झूठ बोलने की प्रवृत्ति को अभिव्यक्ति मिली है। हिंदी नाट्य जगत् में मनोवैज्ञानिक एकांकीकार के रूप में भी विष्णु प्रभाकर जी की विशेष पहचान रही है। बच्चों के लिए शिक्षाप्रद एकांकियों की उन्होंने रचना की है।

कथा साहित्य में आपका व्यक्तित्व अपनी अनूठी शैली एवं एक ही केंद्रीय विषय को विभिन्न धरातलों पर प्रस्तुत करने की कला के कारण बेजोड़ रहा है। विष्णु प्रभाकर जी का पहला उपन्यास ‘ढलती रात’ सन् 1951 में प्रकाशित हुआ, जो आगे चलकर 1955 में ‘निशिकांत’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ। इसके पश्चात् 1955 में ‘तट का बंधन’, ‘स्वप्नमयी’(1969), ‘कोई तो’ (1980), ‘अर्धनारीश्वर’ (1992), ‘संकल्प’ (1993), परछाई तथा दरपण का व्यक्ति आदि रचनाएँ प्रकाशित हुई। ‘स्वप्नमयी’ तथा ‘दरपण का व्यक्ति’ को कुछ लोग लंबी कहानियाँ मानते हैं। प्रो. गोपाल राय मानते हैं कि ‘‘विष्णु प्रभाकर के उपन्यास में विषय का वैविध्य न के बराबर है। नारी नियति की बहुआयामी त्रासदी ही उनके उपन्यासों का केंद्रीय कथ्य है। (गोपाल राय- हिंदी उपन्यास का इतिहास, पृष्ठ-234) कहना सही होगा कि विषय वैविध्यता में अभाव होने के बावजूद वे ‘नारी विमर्श’ की पुरजोर हिमायत वे विभिन्न रचनाओं के जरिए और विभिन्न धरातलों पर करते रहे। विषय वैविध्य चाहे जो भी हो, लेकिन उनकी हर रचना मानवतावाद की हिमायत करती है, इस बात को स्वीकार करना होगा। उनके उपन्यास वर्गीय भेदाभेद, मध्यवर्गीय समाज की अनैतिकता तथा आर्थिक वैषम्य को अभिव्यक्ति अवश्य देते हैं। विष्णु प्रभाकर जी सदा नए के प्रति आग्रही रहे हैं। वे नयी मूल्य व्यवस्था चाहते हैं। मूल्यों की हिफाजत उनका स्थायीभाव एवं सकारात्मक पक्ष है। नए के प्रति असीम आस्था के संस्कार उन्हें अपनी माँ से विरासत के रूप में मिले हैं। इन्हीं संस्कारों की पूँजी को वे समाज के लिए आजीवन बाँटते रहे। ‘संघर्ष’ उनके स्थायीभाव का पहूल है। उनका साहित्य जीवन के प्रति आस्थावान तथा अन्याय के विरूद्ध आवाज उठाने की क्षमता देकर चेतना जागृति का प्रयास करता है। उनके उपन्यास साहित्य का मुख्य स्वर नारी जीवन के अंतस एवं बाह्य संघर्षों को अभिव्यक्ति देना है। उनके उपन्यासों में बाह्य संघर्ष की अपेक्षा आंतरिक संघर्ष, व्याकुलता, पीड़ा एवं उसकी बहुआयामी त्रासदी का हृदयद्रावक चित्रण हुआ है। उनकी रचनाओं में विभिन्न समस्याओं में त्रसित नारी का चित्रण पर्याप्त मात्रा में हुआ है। परित्यक्ता, विधवा, दहेज, अनमेल विवाह, यौन वासना, बलात्कार, पति की बेमन चाह आदि की सशक्त अभिव्यक्ति मिलती है।

‘ढलती रात’ उपन्यास जो बाद में ‘निशिकांत’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ, मानवतावाद की बेबाकी के साथ हिमायत करता है। प्रस्तुत उपन्यास के पात्रों में संघर्ष के बीज विद्यमान है। मानवता के लिए समर्पण इनके केंद्र में है। इस उपन्यास में निम्नमध्यवर्गीय युवक का आत्मसंघर्ष चित्रित हुआ है। यह युवक जाति-धर्मों के बीच की दीवारों को तोड़ते स्वाधीनता आंदोलन में भाग लेने संबंधी द्वंद्व को प्रस्तुत करता है। लेखक विष्णु प्रभाकर जी अपने पात्रों को निरंतर गतिशील एवं संघर्षरत रखने में माहिर रहे हैं-‘‘नदी मुक्त है, तभी उसमें पवित्रता होती है, तालाब बंद है, तभी वह सड़ता है, समय और काल में अंतर है। नियम के प्रति अनियमितता विद्रोह नहीं। अनाचार पाप है, पर आचार को जाने बिना उसके नियमों का पालन करना अनाचार से भी बुरा है। (विष्णु प्रभाकर-निशिकांत, पृष्ठ-146) द्रष्टव्य कथन से विदित होता है कि लेखक अपने पात्रों को स्वतंत्रता के साथ प्रस्तुत करते है। तालाब का बहुत अच्छा-सा उदाहरण देकर गतिशिलता के नियम तथा उसके परिणाम को रेखांकित किया है। विष्णु प्रभाकर जी का मानना है कि यदि युवा पीढ़ी को, उनके स्वच्छंद विचारों को रोकने का प्रयास किया जाता है, उन्हें अभिव्यक्ति स्वातंत्र्य से उपेक्षित रखा जाता है तो निश्चित हमारी अवस्था भी तालाब के बंद पानी जैसी होगी। कहीं अन्याय होता है तो वे पात्रों को अन्याय के विरूद्ध लड़ने की सलाह देते हैं और मानते हैं कि अधिकारों की प्राप्ति के लिए लड़ी गई लड़ाई विद्रोह नहीं है बल्कि वह न्याय की लड़ाई है।

पुरानी विवाह व्यवस्था पर भी लेखक ने तीखा व्यंग्य-प्रहार किया है। वे परंपरागत विवाह के बदले प्रेमविवाह की महत्ता बताते हुए उसकी हिमायत करते हैं। लेखक चाहते हैं कि प्रेमविवाह से ही जातिगत जकड़नों को तोड़ा जा सकता है और दोनों की दूरियों को कम किया जा सकता है। प्रस्तुत उपन्यास का नायक जाति-पांती एवं धार्मिक बंधनों से मुक्ति की तलाश के लिए संघर्ष करता है। कांत कहता है -‘‘सुरैया, सुरैया रहकर मेरी पत्नी होगी, अन्यथा नही। सुमित्रा और सावित्री मेरी जाति से कम नहीं।’’ (विष्णु प्रभाकर- निशिकांत, पृष्ठ 193) कहना आवश्यक नहीं कि कांत माता-पिताओं के अनावश्यक बंधनों को खारिज करना चाहता है। वह हमारी पुरानी मानसिकता में बंधी सुमित्रा-सावित्री की पुरूषाधीन संस्कृति का विरोध करते हुए जातिगत दूरियों को कम करने के लिए वह अंतर्जातीय प्रेमविवाह को महत्त्व देता है। डॉ. मोहनलाल रत्नकर कहते हैं -‘‘निशिकांत का मूल स्वर मानवतावादी रहा है।’’(डॉ. मोहनलाल- हिंदी उपन्यास द्वंद्व एवं संघर्ष, पृष्ठ-201) इससे स्पष्ट होता है कि कांत के जरिए लेखक जातीय भेदाभेद की नीति में परिवर्तन की कामना करता है। अंतर्जातीय विवाह को स्वीकार कर धार्मिक बुरी प्रथा-परंपराओं को तिलांजलि देने में ही उसका मानवीय पक्ष उभरकर आता है।

‘तट के बंधन’ अमानवीय नारी बंधनों से मुक्ति की तलाश है। इसमें नारी विषयक विभिन्न समसामयिक एवं प्रासंगिक पक्षों को उठाया है। विभिन्न समस्याओं को वर्तमान परिदृश्य में प्रस्तुत करना लेखक विष्णु प्रभाकर जी की दूरदर्शिता का उत्कृष्ट नमूना है। प्रस्तुत उपन्यास की मालती, नीलम, शीला एवं सरला विभिन्न स्तरों पर संघर्ष करती है। ये सभी नारी पात्र हमारी आधुनिक नारी का प्रतिनिधित्व करते हैं। प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करना उनका स्थायीभाव बना है। नीलम-डाकू प्रसंग, मालती-दहेज पीड़ा, शीला को उसका पति नहर में धकेल देता है। सरला को पति की हत्या में जबरन अपराधी बनाया जाता है। ये नारी पात्र अपनी दुर्गा शक्ति का परिचय देते हैं। कथा नायक गोपाल नारी शक्ति का परिचय देते हुए कहता है-‘‘कोई क्या कल्पना कर सकता था कि वह छुई-मुई नीलम एक दिन इतनी शक्ति पा लेगी आदमी के अंदर ही सब कुछ है, केवल उसे इस तथ्य को जानना है। तब उससे शक्तिशाली इस संस्था में कोई नहीं, विधाता भी नही।’’ (विष्णु प्रभाकर- तट के बंधन, पृष्ठ-189) कहना गलत न होगा कि पुरूष प्रधान संस्कृति में भी विष्णु प्रभाकर जी ने गोपाल की उक्त अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है, जो निश्चित ही प्रशंसनीय बात है। लेकिन नारी को लेखक एक सुझाव अवश्य देना चाहता है कि उन्हें अपनी शक्ति का एहसास होना जरूरी है। यदि नारियाँ अपनी शक्ति से भली-भाँति परिचित होती है तो वे हर कसी संकट का निडरता के साथ सामना कर सकती है।

विष्णु प्रभाकर जी का ‘कोई तो’ यह वह उपन्यास है जो नारी प्रधानता की चरम सीमा है। प्रस्तुत उपन्यास में लेखक पुरानी मान्यताओं का विरोध करता है। लेखक मध्यवर्गीय समाज की रूढ़िवादी एवं पुरानी मान्यताओं को अपने विकास में रोड़ा मानते है। आज भी भारतीय समाज पुरानी रूढ़ियों की जकड़नों से मुक्त नहीं है। ‘कोई तो’ में लेखक ने ऐसे पात्रों की सृष्टि की है जो पुरानी मान्यताओं के खिलाफ बेबाकी के साथ लड़ती है। विष्णु प्रभाकर जी ने सुमिता, विभा, राजमती, ‘यामला, शाहिदा, रमा तथा किरण आदि नारी पात्रों में वह शक्ति भर दी है जो पुराने मूल्यों को तिलांजलि तथा नए मूल्यों को सहर्ष स्वीकार करने की क्षमता रखती है। ये नारी पात्र परिवर्तनशील समाज की कामना करते हैं। साथ ही ये धर्म, जाति-व्यवस्था, पुरूष प्रधान मानसिकता, सड़ी गली व्यवस्था, पुरूषों की भोगवादी दृष्टि, स्त्री के साहस का अभाव, गर्भधारणा तथा बलात्कार आदि समस्याओं का उद्घाटन हुआ है। इन समस्याओं के समाधान के लिए उक्त नारी पात्र संघर्षरत दिखाई देते हैं। नारी पात्र विद्रोही बनते नहीं बल्कि उन्हें परिस्थिति के कारण विद्रोही बनना पड़ता है। मध्यवर्गीय समाज के बिचैलियों एवं ठेकेदारों की कुप्रवृत्तियों कारण ये लड़किया क्रांतिकारी एवं संघर्षशील बन जाती है।

उपन्यास की नायिका वर्तिका है जो लेखक के क्रांतिकारी विचारों का प्रवर्तन करती है। वह अपने पिताजी के साथ काम करनेवाले मुस्लिम जाति के सहकर्मी के बेटे असद के साथ परीक्षा फीस जमा करने हेतु देहरादून से ग्वालियर तक की यात्रा करती है। वस्तुतः वर्तिका और असद का एक साथ यात्रा करना कोई अनुचित बात नहीं है। लेकिन हिंदू समाज के क्रूर ठेकेदार हिंदू लड़की को मुसलमान लड़के के साथ देखकर खौफनाक बन जाते हैं और दोनों केा एक-दूसरे से अलग कर देते हैं। साथ ही यही हिंदू समाज मुस्लिम व्यक्ति के साथ भागने का आरोप करता है और उसके निर्मल चरित्र पर कलंक पोतता है। वर्तिका के माता-पिताओं का कहना था कि वह यह बात किसी से न कहे और विवाह कर ले। लेकिन वर्तिका इस कलंक को छिपाना नहीं चाहती, वह इस कलंकित धब्बे के आरोप का पर्दाफाश करना चाहती है। यहीं से उसका संघर्ष शाश्वत रूप से शुरू होता है। नारी-अस्मिता एवं स्वाभिमान को तिलांजलि देकर किसी पुरूष का प्यार पाना वह नहीं चाहती है। वर्तिका द्वारा नारी मुक्ति के लिए उठाया गया यह कदम उस दीपक के समान है, जो खुद जलता है और दूसरों को प्रकाश देता है।

वह असह्य दुखों को सहते हुए समाज की कड़वी मानसिकता का विरोध करते हुए कहती है-‘‘ मैं पुरान पंथी नहीं हूँ। नारी मुक्ति का पूर्ण समर्थन करती हूँ, उसे छिपाना नहीं चाहती। समाज के जड़ नीति-नियमों पर आघात करने के लिए यह आवश्यक है।’’(विष्णु प्रभाकर- कोई तो, पृष्ठ-58) कहना सही होगा कि वर्तिका आम युवतियों का प्रतिनिधित्व करते हुए मध्यवर्गीय समाज के उन ठेकेदारों को सचेत करना चाहती है कि नारी अब अबला नहीं, सबला बनी है, उसने दुर्गा का रूप धारण किया है। डॉ. रामदरश मिश्र का कहना सही है कि ‘‘इसमें समाज और पुरूष से प्रताड़ित अनेक नारियों की व्यथा-कथा है और उसके माध्यम से पुरूष समाज के कुरूप चेहरे पर से नकाब हटाया है।’’ (रामदरश मिश्र- हिंदी उपन्यास ः एक अन्तर्यात्रा,पृष्ठ-174 ) उपन्यास की नायिका वर्तिका को उक्त आरोपों के कारण वर की खोज करनी पड़ती है, वह दक्षिणी नारायण से शादी करती है, जिसका जीवन भी त्रासदीपूर्ण गुजरा था। डॉ. राजलक्ष्मी नायडू कहती है-‘‘मुसलमान युवक असद के साथ भाग जाने के झूठे अफवाह के कारण वर्तिका को जीवनभर जीवन साथी की खोज में भटकना पड़ता है। ’’(डॉ.राजलक्ष्मी नायडू- विष्णु प्रभाकर : व्यक्तित्व एवं कृतित्व, पृष्ठ-103) द्रष्टव्य कथन से स्पष्ट होता है कि वर्तिका की आजीवन भटकन उसके अंतद्र्वंद्व को उजागर करती है। एक ओर वह मध्यवर्गीय समाज के ठेकेदारों का शिकार बन जाती है तो दूसरी ओर उसे अंतःसंघर्ष भी पर्याप्त मात्रा में सहना पड़ता है।

संक्षेप में कहना सही होगा कि विष्णु प्रभाकर जी ने वर्तिका के माध्यम से जाति-भेद, वर्गीय मानसिकता, परंपरागत रूढ़ मान्यताएँ एवं मध्यवर्ग की खोखली मानसिकता के खिलाफ संघर्ष करने की चेतना जागृत की है। लेखक नए समाज का सृजन चाहता है। वह चाहता है कि उक्त रूढ़ मान्यताएँ समाज विकास में बहुत बड़ा अवरोध है। नए मानवीय मूल्यों के प्रति समाज में आस्था जगाने का प्रयास भी विष्णु प्रभाकर जी ने किया है। वर्तिका और नारायण से यह बात उभरकर आती है।

‘‘अर्द्धनारीश्वर’ का प्रकाशन सन् 1992 में हुआ। यह वह रचना है जो व्यक्तिमन, समाजमन एवं अंतर्मन के विविध स्तरों को अभिव्यक्ति देते हुए स्त्री-पुरूष समानता की अपिल करती है। प्रस्तुत ग्रंाि के प्रकाशक ने ‘अद्र्धनारीश्वर’ के अभिप्रेत के बारे में कहा है कि ‘‘अर्द्धनारीश्वर का अभिप्रेत नारी और नर की समान सहभागिता को प्राप्त करना है।’’(विष्णु प्रभाकर- ‘अर्द्धनारीश्वर, ब्लर्प मैटर से उद्धृत) विष्णु प्रभाकर जी की रचनागत केंद्रीय भूमि नारी-संवेदना मानी जा सकती है। उनकी हर रचना, चाहे वह किसी भी विधा से संबंधित क्यों न हो नारी की बेबाक हिमायत करती है। प्रस्तुत उपन्यास के बारे मे आलोचकों में काफी मत-भिन्नता परिलक्षित होती है। कुछ समीक्ष कइस रचना को उपन्यास कहने के पक्ष में नहीं है लेकिन अपने समीक्षागत अध्ययन के दौरान उसे उपन्यास के अंतर्गत ही ले लेते हैं।

निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि यह वह रचना नहीं है जो बनी-बनाई है। इसमें अनुभव की पूँजी को संजोया है। नारी संवेदना को केंद्र में रखते हुए विष्णु प्रभाकर जी ने अपनी गांधीवादी दृष्टि का परिचय अवश्य दिया है। मधुरेश लिखते है-‘‘विष्णु प्रभाकर ‘‘अर्द्धनारीश्वर’ में अपने जीवनभर की संचित गांधीवादी दृष्टि लेकर स्त्री उत्पीड़न एक प्रमुख पक्ष का साक्षात्कार करते हैं। अपने अनुभव और सर्जनात्मक कल्पना को जोड़कर वे इस साक्षात्कार को भरसक, व्यापक और समग्र बनाने का प्रयास भी करते हैं।’’(मधुरेश - हिंदी उपन्यास ः सार्थक की पहचान, पृष्ठ-23) लेखक का उद्देश्य है, बलात्कार जैसी समसामयिक घृणित समस्या पर प्रकाश डालना और इस समस्या की पोल खोलना। कुछ आलोचक इस रचना को एक थीसिस मानते हैं। लेकिन यह वह थीसिस है जो वस्तुनिष्ठ एवं वैज्ञानिक है जो समाजशास्त्र के जरिए समाज मन को अभिव्यक्ति देता है।

प्रस्तुत उपन्यास की नायिका सुमिता है जो प्रश्नों के घेरे में उलझ जाती है। उसके मन में वे प्रश्न उपस्थित होते हैं जो हर पीड़ित नारी अनुभव करती है। स्वयं के साथ घटे भयावह प्रसंगों ने ही सुमिता को चुप रहने नहीं दिया। वह बलात्कार पीड़ित नारियों पर अनुसंधान करती है। इस रचना को ‘कोई तो’ की अगली कड़ी कहा जा सकता है। उपन्यास के कहानी की शुरूआत सुमिता के पति अजित और ननद विभा के साथ रात्रि के शो में पिक्चर देखने के लिए जाने से होती है। शो के खत्म हो जाने के पश्चात् घटित भयंकर प्रसंग ही कल्पित फिल्म के बदले सुमिता के जरिए यथार्थ पिक्चर बन जाता है। उपन्यास की केंद्रीय घटना के रूप में सुमिता द्वारा अपनी कुँवारी ननद को भयंकर एवं भीषण प्रसंग में बचाने से होता है।

सिनेमा खत्म होने पर युवकों द्वारा सुमिता और विभा में से किसी एक की माँग की जाती है। लेकिन विभा की भाभी सुमिता अपनी कुँवारी ननद के बजाय खुद को उस भयावह प्रसंग का शिकार बनाती है। लेकिन घर आने पर अजित और विभा भी सुमिता पर आरोप और संदेह करते हैं। लेकिन सुमिता इस प्रसंग को चुपचाप बर्दाश्त नहीं करती बल्कि यहीं से उसकी नारी मुक्ति की तलाश की योजना बनती है। वह अपने संपर्क के दौरान धर्म, प्रांत तथा जाति की सीमा को लांघकर अपने शोध में बलात्कार की शिकार महिलाओं के साक्षात्कार लेती है।

प्रकाश मनु का कहना है कि ‘‘अर्द्धनारीश्वर’ एक उपन्यास कम, बलात्कार पर लिखा गया ‘कच्चा चिट्ठा’ ज्यादा है।’’ (प्रकाश मनु- बीसवीं शताब्दी के अंत में उपन्यास, पृष्ठ-24) कहना गलत न होगा कि विष्णु प्रभाकर जी के सृजन केंद्र में मूलतः बलात्कार पीड़ित महिलाओं की व्यथा-कथा है। ध्यातव्य बात यह कि उपन्यास लेखन की कसौटी पर न कसने के बाद भी ‘‘अर्द्धनारीश्वर’ विचारणीय तथा चिंतनीय रचना प्रतीत होती है। कुछ लोग इस रचना को प्रबंधात्मक लेखन मानते हैं। इसे प्रकाश मनु दूसरे शब्दों में सच्चाई एंव उसके स्तरीय एवं प्रासंगिक होने का प्रमाण प्रस्तुत करते हैं-‘‘यह शोध उसके लिए वैसा नीरस और मुर्दा शोध नहीं है, जैसे आजकल यूनिवर्सिटियों में होते हैं।’’(प्रकाश मनु- बीसवीं शताब्दी के अंत में उपन्यास, पृष्ठ-24) अपने शोध के दौरान सुमिता इस बात से अवश्य परिचित हो जाती है कि समाज का सर्वहारा तथा निम्नवर्ग रोजी-रोटी की तलाश में नगरों तथा महानगरों की ओर बढ़ जाता है। इसी वर्ग में यौन-शुचिता के अत्यधिक उदाहरण मिल जाते हैं।

राजकली बंबई पुलिस के अत्याचारों का शिकार बन जाती है। सुमिता राजकली पर हुए अत्याचारों की जानकारी पाती है। त बवह राजकली के प्रति उसके माँ-पिता तथा परिवारवालों ने दी हुई प्रतिक्रियाओं को प्रस्तुत करती है-‘‘मैंने उन्हें सब कुछ बताया। अस्पताल भी ले गई, लेकिन किसी ने कुछ नहीं किया। आप भी कुछ नहीं करेंगी। लेकिन मैं करूँगी। बंबई लौट आने दो, फिर बताऊँगी उस कुत्ते को...।’’ (विष्णु प्रभाकर- अद्र्धनारीश्वर, पृष्ठ-57) वह सुमिता के सामने पुलिस की काली करतूतों को बेबाकी के साथ प्रस्तुत करती है। उसे सुमिता के कहने पर भी विश्वास नहीं होता है। क्योंकि उसे लगता है कि माँ तथा परिवारवालों से इस अत्याचार को लेकर कुछ नहीं हुआ तो सुमिता कैसे हल पा लेगी

उपन्यास की मार्था ईसाई तथा किरण बलात्कार का शिकार हो जाती है। साथ ही शाहिदा अंतर्जातीय विवाह करना चाहती है। लेकिन परिवार के सदस्य उसका विरोध करते हैं। तब सुमिता की थीसिस से काम निपट जाता है।

संक्षेप में कहा जा सकता है कि विष्णु प्रभाकर जी ने अर्द्धनारीश्वर’ के जरिए विविध समस्याओं की पोल खोलकर बलात्कार पीड़ित महिलाओं को बेबाक अभिव्यक्ति दी है। कहना आवश्यक नहीं कि ये पीड़ित महिलाएँ ही बलात्कार कर्ताओं को सही दिशा दिखाती है।

निष्कर्ष -

अंततः कहा जा सकता है कि विष्णु प्रभाकर जी का व्यक्तित्व बहुआयामी तथा कृति पक्ष बेजोड़ रहा है। परिवेश एवं अनुभव जगत् का लेखा-जोखा ही उनका व्यक्तित्व है। समाज के दलित, पीड़ित तथा अभावग्रस्त पात्रों को अभिव्यक्ति देकर उनमें नई चेतना जागृति की है। उनके अत्याचार तथा बलात्कार पीड़ित पात्र अन्याय को सहने की मानसिकता में नहीं है। बल्कि नए सिरे से लड़ने का साहस जुटाते हैं। लेखनगत तथा विषयगत वैविध्य होने के बावजूद कहना न्यायोचित होगा कि विष्णुप्रभाकर जी ने नारी अस्तित्व, अस्मिता तथा नारी मुक्ति की कामना को केंद्र में रखकर हिंदी साहित्य में अपनी अमिट छाप छोड़ी है, जो हिंदी दुनिया के लिए महत्त्वपूर्ण उपलब्धि माननी होगी। उनकी हर रचनाएँ विभिन्न समस्याओं की यथार्थ प्रस्तुति के साथ किसी न किसी रूप में नारी विमर्श की बेबाक पहल करती है।

संदर्भ -

1. गोपाल राय - हिंदी उपन्यास का इतिहास, पृष्ठ-234

2. विष्णु प्रभाकर- निशिकांत, पृष्ठ-146

3. वही, पृष्ठ-193

4. डॉ. मोहनलाल रत्नाकर- हिंदी उपन्यासः द्वंद्व एवं संघर्ष, पृष्ठ-201

5. विष्णु प्रभाकर- तट के बंधन, पृष्ठ-189

6. विष्णु प्रभाकर- कोई तो,पृष्ठ-58

7. डॉ. रामदरश मिश्र- हिंदी उपन्यास ः एक अन्तर्यात्रा, पृष्ठ-174

8. डॉ. राजलक्ष्मी नायडू- विष्णु प्रभाकर व्यक्तित्व एवं कृतित्व, 103

9. विष्णु प्रभाकर- अद्र्धनारीश्वर, बल्र्प मैटर से, 57

10. मधुरेश - हिंदी उपन्यास ः सार्थक की पहचान, पृष्ठ-23

11. प्रकाश मनु - बीसवीं शताब्दी के अंत में उपन्यास, पृष्ठ-24

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4041,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3005,कहानी,2255,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,541,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,96,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,345,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,67,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1249,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2006,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,709,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,794,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,84,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,205,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: भाऊसाहेब नवनाथ नवले का आलेख : नारी-विमर्श का बेबाक बयान : विष्णु प्रभाकर
भाऊसाहेब नवनाथ नवले का आलेख : नारी-विमर्श का बेबाक बयान : विष्णु प्रभाकर
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2010/06/blog-post_1307.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2010/06/blog-post_1307.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ