रचनाएँ खोजकर पढ़ें

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -


विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


प्रमोद भार्गव की कहानी : नक्टू

साझा करें:

कहानी नक्‍टू प्रमोद भार्गव    नकटू अब दस साल का हो गया था। अपने नाम के ही अनुरूप वह बेशरम था, बल्‍कि यों कहा जाए कि उसका नाम उसके...

कहानी

नक्‍टू

प्रमोद भार्गव   

pramod bhargav

नकटू अब दस साल का हो गया था। अपने नाम के ही अनुरूप वह बेशरम था, बल्‍कि यों कहा जाए कि उसका नाम उसके जन्‍म के कारण ही नकटू पड़ गया था तो ज्‍यादा व्‍यावहारिक होगा। वह अपनी विधवा मां का नाजायज पुत्र था। मां ने गांव के लोगबागों के गिले शिकवे और विष बुझे वाणों की भार से घायल होते रहने से हमेशा के लिए निजात पाने के लिए खारे कुंए में कूद कर आत्‍महत्‍या कर ली थी। घर में नकटू की नानी के अलावा और कोई था नहीं। नानी ने ही जैसे-तैसे उसे पाला पोसा, बड़ा किया। नकटू का पिता कौन है ठीक-ठीक किसी को ज्ञात नहीं है। बताते हैं एक बार उसकी मां का देवर यानि कि उसका काका अपनी विधवा भाभी भुर्रो की सुधबुध लेने के बहाने गांव आया था और अर्से तक रूका था। उसके जाने के बाद से ही भुर्रो के शरीर में परिवर्तन शुरू हो गए थे और पूरे गांव में यह काना-फूंसी होने लगी थी कि भुर्रो के पैर भारी हो गए हैं।


अवैध संतान होने के कारण ही उसे उच्‍च जाति का होने के बावजूद जाति-बिरादरी सगे-संबंधी, नाते-रिश्‍तेदारों और गांव में वह आदर नहीं मिला जिसका वह हकदार था। जैसे-जैसे वह बड़ा होता गया, नानी की पकड़ से बाहर होता चला गया था। ब्राह्मणों की बस्‍ती उपरेंटी के बच्‍चे उसके साथ इसलिए नहीं खेलते क्‍योंकि उनकी मांओं ने बच्‍चों को जता दिया था कि यह नकटू नासमिटा पाप की औलाद है। कुछ बच्‍चे उसे पाप की, औलाद कहकर चिढ़ाते भी। हांलाकि नकटू यह नहीं समझता था कि 'पाप की औलाद‘ के मायने क्‍या होते है ? लेकिन अपने प्रति हम उम्र बच्‍चों की हीनता देख उसका बाल सुलभ मन यह जरूर ताड़ गया था कि पाप की औलाद कोई बुरी बात होती है, जिसके चलते गांव के लागे उससे नफरत करते हैं और हिकारत भरी नजरों से देखते हैं। जबसे उसमें इस समझ का अंकुरन हो आया था कि पाप की औलाद होना एक तरह की गाली है, तब से उसने आक्रामक रूख अपना लिया था। अब, जब भी कोई बच्‍चा उसे पाप की औलाद कहकर चिढ़ाता, वह उसे पीटने लग जाता। उसमें बला की फुर्ती थी। शरीर में उम्र से ज्‍यादा ताकत थी। उसके स्‍वभाव में भरपूर निडरता थी। उसके द्वारा आक्रामक रूख अपनाने के बाद से बच्‍चे उससे भय खाने लगे थे। अब उनकी हिम्‍मत उसके मुंह पर पाप की औलाद कहने की न होती।


चूंकि उच्‍च वर्ग नकटू उपेक्षित था इसलिए वह सहराने के बच्‍चों में ज्‍यादा हिलमिल गया था। सुबह वह सायकल का पुराना टायर दौडा़ता हुआ तलैया पर पहुंच जाता। वहीं सहरियों के बच्‍चे आ जाते। उन्‍हीं के साथ वह गुल्‍ली-डंडा, सितोलिया, होलक-डंडा खेलता रहता। कभीकभार वे पिड़कुलए मारने, पठार से नीचे जंगल में भी उतर जाते। पिड़कुलए मारने के लिए उन्‍होंने गिलोलें बना ली थीं। नकटू की कुछ किरार के लड़कों और चमारों के लड़कों से भी दोस्‍ताना हो गया था। चूंकि इस दल का संगठक नकटू था और नकटू का कहा ही सब मानते थे इसलिए वह एक तरह से दल का अघोषित नेतृत्‍वकर्ता बन बैठा था।


उसमें बहस-मुवाहिसा करने का माद्‌दा था। प्रबल हठी था। अपने दोस्‍तों के प्रति उसका समर्पित भाव था। कोई साथी अगर गलत काम कर दे, झूठी बात कह दे तो भी वह खुलकर उसी का साथ देता। सद्‌गुणों और दुर्गुणों का उसके चरित्र में अनुपातिक सम्मिश्रण था। वह पढ़ने में भी होशियार था। स्‍कूल रोजाना जाता और सब विद्यार्थियों में पढ़ने में अव्वल रहता। पढ़ाई में अव्वल होने के कारण गांव के जो समझ रखने वाले लोग थे वे नकटू के प्रति दया और स्‍नेह का भाव रखते थे।


गर्मियों की छुटि्‌टयां हो गईं थीं। गांव की एक मात्र हवेली जो पूरे साल वीरान पड़ी रहती थी, उसकी साफ-सफाई शुरू हो गई थी। चौकीदार पहरा देने लगा था और उसने गांव के बच्‍चों को हवेली की लंबी-लंबी दहलानों में खेलते रहने पर रोक लगा दी थी। गोधूलि वेला के समय दहलानों में आइस-पाइस खेलना बच्‍चों की दिनचर्या थी। नकटू भी खेलता था पर अब वह भी वंचित हो गया था।


हवेली की रंग-बिरंगी सभी बत्‍तियां जलने लगी थीं। तीन दिन में ही हवेली राजमहल के माफिक जगमगा उठी थी। सिंधिया स्‍टेट के जमाने में अटलपुर के जमींदार की यह हवेली राजमहल सा ही वैभव भोगती थी। पर वे जमाने लद गए, अब न राजे-रजवाड़े रहे न जमीदार और जागीरें। अटलपुर के जमीदार ने जागीरें खत्‍म होने के तत्‍काल बाद ही मुंबई और इंदौर में व्‍यापार खोल लिए और अपने दोनेां लड़कों को वहीं जमा दिया। व्‍यापार अच्‍छा चल निकला जमीदारी में लखपती थे तो व्‍यापार में करोड़पति हो गए। सामंतशाही के दौर में जो रुतबा था वह लोकतंत्र में भी बरकरार रहा। जमींदारी नहीं रहने के बावजूद उनके पास बावन कमरों की हवेली थी और एक हजार बीघा का लंबा-चौड़ा कृषि फार्म था। अटलपुर वे साल में एक मर्तबा ही आते, गर्मियों में। यह पूंजीपति परिवार अपने देवताओं से बड़ा खौफ खाता था। इसलिए वे प्रत्‍येक वर्ष बेनागा देवताओं पर सत्‍य नारायण भगवान की कथा कराने के बहाने यहां आते और पंद्रह बीस दिन रूककर लौट जाते।


तीन गाड़ियों में लदकर वे अटलपुर आए। परिवार के सदस्‍य वातानुकूलित गाड़ी में थे बांकी दो गाड़ियों में सामान था। उनके आते ही गांव के लोगों की हवेली के सामने भीड़ जुट गई। बड़े बुर्जुग उन्‍हें झुककर प्रणाम करने लगे। कई ने जमींदार साहब के पैर छूते हुए अपने छोटे-छोटे बच्‍चों से भी जमींदार साहब के पैर छुलाए। नकटू भी गांव वालों के साथ था लेकिन उसने न जमींदार साहब के पैर छुए और न ही नमस्‍कार! वह उनके साथ आए उस गोरे-चिट्‌टे भरे हुए बदन वाले लड़के को देखता रहा जो उसकी ही उम्र का था। वह जमींदार साहब के छोटे लड़के का लड़का था। उसका नाम डिंपल था। कईयों ने जमींदार साहब को अन्‍नदाता और माई-बाप कहते हुए उनके चरणों में सिर रखकर आशीर्वाद लिया तो कई बेवजह जमींदारों के जमाने में सुखचैन बरपा रहने का गुणगान करते हुए उनकी तारीफों के पुल बांधने लगे। नकटू चुपचाप सब देखता-सुनता रहा। उसे जमींदार साहब को अन्‍नदाता व माईबाप कहना अटपटा लग रहा था। वह यह अच्‍छी तरह जानता था कि किसानों के अन्‍नदाता तो खेत हैं, खलिहान हैं, गाय-बैल हैं, नदी-नाले हैं। जमीदार अन्‍नदाता कैसे हो गए ?
डिंपल के गांव में आने के साथ ही अजब परिवर्तन होना शुरू हो गए थे, जो नकटू के लिए नागबार थे।

डिंपल जब भी हवेली से उतरता तो अजीबो-गरीब खेल-खिलौनों के साथ प्रगट होता। उसकी पेंट और शर्ट की जेबें तरह-तरह के बिस्‍किट्‌स और चॉकलेट पैकेटों से भरी होती। हवेली के द्वार पर उसके लिए सवारी सजी रहती। कभी वह बैटरी वाली कार, कभी तीन पहिए, दो पहिए और चार पहिए की सायकल पर सवार होकर हवेली के सामने वाले गलियारे में अपनी सवारी दौड़ाता। दौ नोकर आजू-बाजू उसके साथ होते। अटलपुर के आभिजात्‍य मौहल्‍ले के उच्‍च जातियों के बच्‍चे विस्‍मयपूर्वक डिंपल की सवारियों, कपड़ों और बिस्‍किट्‌स चॉकलेट्‌स की चर्चा करते हुए डिंपल की खुशामद-मलामद करते हुए उसे घेर लेते। इस वक्‍त उनके मुखों में लार होती और वे थूंक का घूंट गटक रहे होते। जब कुछ बच्‍चों की डिंपल से निकटता बढ़ गई तो वे उसकी सवारी में धक्‍का लगाने का अधिकार प्राप्‍त कर गए। क्रमानुसार एक-एक लड़का उसकी सायकल में धक्‍का लगाता हुआ बंसी सेठ की हवेली तक ले जाता और फिर वहां से लौटकर हवेली के दरवाजे तक छोड़ देता। धक्‍का लगाने का चांस जिस लड़के को मिल जाता वह अपने को धन्‍य समझता। अन्‍य लड़के उसे भाग्‍यशाली कहते।

डिंपल को जिस लड़के का धक्‍का लगाना सुखदायक लगता उसे वह इनाम स्‍वरूप एक-दो बिस्‍किट्‌स या एक-दो चॉकलेट दे देता। पुरस्‍कृत लड़का इनाम पाकर पुलक उठता उसका चेहरे प्रगल्‍भता से भर जाता। बहुत देर तक वह उस चीज को निहारता रहता। अपने मित्रों को दिखाता। फिर दौड़ी लगाता हुआ घर पहुंचकर मां-बहनों को दिखाता। चॉकलेट कहीं छिन न जाए इसलिए वह धीर गंभीर इत्‍मीनान के साथ उसकी पन्‍नी उतारता और पन्‍नी को संभालकर पाठ्‌य पुस्‍तक के पन्‍नों में छिपा देता। डिंपल का बिस्‍किट्‌स का डिब्‍बा जब खाली हो जाता तो वह आनंद के लिए उसे बच्‍चों के बीच उछाल देता। बच्‍चे उस डिब्‍बे को लूटने के लिए कटी पतंग की तरह झपट पड़ते। जो लड़का डिब्‍बा पा जाता वह उसे छाती से चिपकाये घर की ओर दौड़ी लगा देता। और डिंपल अपने वाहन पर उछल-उछल कर इस खेल का आनंद ले रहा होता।


यह सारा मन बहलाने का खेल नकटू दूर खड़ा तमाशे की तरह देखता और मन ही मन ईर्ष्‍यावश चिढ़ता रहता। उसके भी मुंह में कैडवरी चॉकलेट्‌ और पारले बिस्‍किट्‌ देखकर लार आ जाती। जीभ चखने के लिए मचलने लगती। ऐसा ही हाल उसका तब होता जब वह सरपंच के यहां टीवी में विज्ञापन देख रहा होता। टीवी की यह विज्ञापनी दुनिया उसे स्‍वप्‍न की तरह छलावा लगती। वह सोच ही नहीं पाता था गांव की चाहर दीवारी के बाहर वास्‍तव में ही ऐसी ही थिरकती हुई मनमौजी बच्‍चों की दुनिया है। कभी-कभी वह सोचता टीवी के पर्दे पर पत्‍थर मारे और उछलते-कूदते लड़के के हाथ से बिस्‍किट पैकेट छुड़ाकर ले भागे। लेकिन वह जानता था इस बक्‍शानुमा डिब्‍बे में लड़का-बड़का कोई नहीं होता यह तो सब पर्दे पर विज्ञान का करतब भर है। किंतु जबसे डिंपल गांव आया था तब से उसे यह विश्‍वास हो गया था कि गांव के बाहर शहरों में एक दुनिया बच्‍चों की जरूर ऐसी है जो टीवी के बच्‍चों की तरह मनमौजी है। अल्‍हड़ है। यदि नहीं होती तो यह डिंपल कहां से खा पाता कैडवरी.....पारले.......? कहां घूम पाता सायकल और बैटरी वाली गाड़ी पर.....? नकटू की तरह ही उसके सहराने और चमराने वाले मित्रों को डिंपल की शान पर विस्‍मय होता।


ऐसे ही एक दिन चम्‍पेबारी की दल्‍लान में बैठा नकटू डिंपल की सायकल का इधर से उधर, उधर से इधर आना जाना देख रहा था कि एकाएक नकटू के सामने बीच गलियारे में डिंपल ने सायकल रोक दी और धक्‍का लगाने वाले व बेवजह पीछे दौड़ते रहने वाले बच्‍चे बाडीगार्डों की तरह डिंपल के दांए-बांए खड़े हो गए। डिंपल सगर्व ललकार भरे लहजे में बोला, '' अबे.....नकटू इधर आ.....‘‘
नकटू को अव्वल तो डिंपल के बोलने का लहजा एकदम असहनीय लगा लेकिन वह डिंपल का मंतव्‍य समझने के लिए चुपचाप आगे बढ़कर डिंपल की सायकल के पास खड़ा हो गया और बोला‘‘ का......?‘‘
डिंपल का विनम्र अनुनय होता तो नकटू कुछ सोचता भी ? किंतु वह तो हुक्‍म था और नकटू यह बखूबी समझता था कि हुक्‍म का पालन एक तो नौकर करते हैं दूसरे चमचे। जबकि नकटू डिंपल का न नौकर है और न ही चमचा! फिर वह इस रईसजादे की सायकल में धक्‍का क्‍यों लगाए ?
''जल्‍दी कर वे.......‘‘ इस बार डिंपल थोड़ा गर्जा था।


नकटू को काटो तो खून नहीं। नाक पर गुस्‍सा चढ़ाए रखने वाले नकटू को इतना सहन कैसे होता ? और उसने पूरी ताकत से सायकल में एक लात दे मारी। दाएं-बाएं खड़े लड़के दूर छिटक गए और डिंपल औंधे मुंह गिरा धूल खा रहा था। सायकल उलटकर डिंपल के पैरों पर थी। डिंपल अंग्रेजी में गालियां बकता हुआ रोने लगा था। नकटू अगला मोर्चा संभालता इससे पहले हवेली के द्वार पर खड़े दरबान दौड़े-दौड़े आए और नकटू के दोनों हाथ पकड़कर हवेली की ओर घसीटते हुए ले गए। नकटू हाथ-पैर पटकता हुआ छुड़ाने का असफल प्रयास करता रहा। एक दरबान ने डिंपल को उठाया। उसके कपड़ों से धूल झड़ाई और उसे गोदी में लादकर हवेली की ओर ले गया। धक्‍का लगाने वाले लड़के पीछे-पीछे सायकल धकियाते हुए चल दिए।


डिंपल के रोने की आवाज सुनकर उसकी मम्‍मी, उसके बाबा और हवेली के सभी नौकर-नौकरानियां दौड़े-दौड़े, क्‍या हुआ ? क्‍या हुआ कहते हुए नीचे आए और डिंपल को घेरकर उसकी सुध लेने लगे। नौकरों और चाटूकारों ने सारा माजरा कह सुनाया। लड़कों ने सोचा नकटू बेटा आज बड़ी मुश्‍किल से अंटी में आया है इसलिए इसे आड़े हाथों लेकर क्‍यों न पुरानी कसर निकाल ली जाए। फिर क्‍या था, प्रतिद्वंद्वियों ने कुढ़नवश सारा दोष नकटू के सिर मढ़ दिया।
डिंपल की मम्‍मी ने आव देखा न ताव और चार-छैः चांटे नकटू के गालों पर जड़ दिए। क्रोधांध मम्‍मी और भी मारती किंतु प्रतिकार स्‍वरूप नकटू ने गालियां बकते हुए उनकी ओर लातें फेंकना शुरू कर दी थीं। और वे प्रत्‍युत्‍पन्‍न मति से काम लेते हुए नकटू कुछ ऐसी-वैसी हरकत न कर दे जिससे उनकी जग हसाई हो, इस अनुभूति के साथ चार कदम पीछे हट गई थीं।
जब मम्‍मी हट गईं तो डिंपल के बाबा नकटू के सामने आकर बोले, '' तूने क्‍यों मारा बच्‍चे को‘‘ ?
'' मैंने डिंपल को नहीं मारा। खाली सायकल में लात दी थी, वह गिर पड़ा तो मैं क्‍या करूं ?‘‘
नकटू के दोनों हाथ नौकर पकड़े हुए थे। वह अपने वजूद के पूरे रौब के साथ छाती ताने खड़ा था। उसकी आंखों में न आंसू थे और न ही पछतावा था, न भय था और न ही बेइज्‍जती हो जाने की शर्म थी।
''तूने सायकल में लात क्‍यों मारी ?‘‘
'' उसने मुझसे नौकरों की तरह क्‍यों कहा कि मेरी सायकल में धक्‍का लगा ? मैं क्‍या उसके बाप का नौकर हूं या उसका दिया खाता हूं ? मैं क्‍यों लगाऊं धक्‍का ? ‘‘
अटलपुरजागीर के भूतपूर्व जमींदार उस लड़के के दो टूक जबाव को सुनकर सन्‍न रह गए। अस्‍सी वर्ष की उम्र में उनकी इतनी बेइज्‍जती अंग्रेज अधिकारियों के अलावा किसी ने नहीं की थी। वे सोचने लगे काश आज जमींदारी का जमाना होता तो वे इस लड़के को हाथी के पैर के नीचे कुचलवाकर, लाश तलैया पर चील-कौवों को खाने डाल देते। किंतु वे विवश थे अब न अटलपुर जागीर थी और न वे जमींदार। इस बीच काफी भीड़ इकठ्‌ठी हो गई थी। बच्‍चों से लेकर किशोर, जवान प्रौढ़ और बुजुर्ग। गांव के एक प्रौढ़ शिक्षक आगे आकर बोले, ''बेटा जरा धक्‍का लगा देता तो तेरा क्‍या जाता.....बदले में बिस्‍किट, गोली खाने को मिलती.....‘‘
-'' मैं क्‍या बिस्‍कुट चॉकलेट का भूखा हूं जो धक्‍का लगाऊं....? खाने को इतनी ही जीभ लपलपा रही है तो तुम्‍हीं धक्‍का लगाओ माटसाब.....।‘‘


मास्‍टर साहब की एक झटके में ही बोलती बंद हो गई। फिर लोगों में यह खुसर-फुसर होने लगी कि वह थोड़े ही किसी की मान रहा है, वह तो नम्‍बर एक का बेशरम है तभी तो उसका नाम नकटू पड़ा। कहें भी तो किससे कहें डुकरिया भी बेचारी परेशान रहती है।
इस बीच डुकरिया (नानी) को भी खबर लग गई। वह बेचारी हाथ में खजूर की टान लिए भागी-भागी आई। उसने आते ही नकटू को नौकरों के हाथ से छुड़ाया और उसकी गालियां देते हुए सुतउअल पिटाई लगाना शुरू कर दी, ''धुआंलगे, नासमिटे, नकटा! तू का मेरे करमन में लिखो तो.....? जाने मुरहू कौन पापी को बीज जनके अपन तो चलती भई और मेरे प्राण खावे जाए छोड़ गई।‘‘


नानी जब पीटकर लस्‍त हो गई तो जमींदार साहब के पास जाकर हाथ जोड़कर बोली, ''महाराज जो तो ऐसोई पापी है, जाए माफ कर देईओ....., मैं तुमरे पांव पड़तों।‘‘ और नानी ने जमींदार के पैरों में सिर रख दिया था।
उस दिन जैसे-तैसे नानी द्वारा मिन्‍नत चिरौरी करने से मामला सुलट गया था। किंतु नकटू के अंदर आहत सर्प की तरह प्रतिहिंसा रह-रहकर प्रज्‍वलित होती रही थी। उसने अंतर्मन में संकल्‍प ले लिया था कि वह अपनी बेइज्‍जती का बदला जरूर लेगा। दूसरे दिन से ही वह मौके की तलाश मं रहने लगा कि डिंपल को कब मजा चखाया जाए ? हालांकि नकटू के पीटे जाने के बाद से डिंपल का रूतबा थोड़ा बढ़ गया था फिर भी डिंपल नकटू की सकल देखते ही सहम जाता और नकटू से दूर रहने का प्रयास करता। हालांकि उस घटना के बाद से डिंपल ने कंधे पर नकली बंदूक लटकाना शुरू कर दी थी और वह अपने दोस्‍तों में यह कहकर रौब पेलता कि अबकी मर्तबा बोलेगा तो साले में गोली मार दूंगा।
नकटू की सार्वजनिक तौहीन हो जाने की वजह से उसके सहराने और चमराने के मित्र भी उससे कन्‍नी काटने लगे थे। उन्‍हें यह भय सताने लगा था कि यदि वे नकटू का साथ देंगे तो नौकर उन्‍हें पकड़कर भी डिंपल की मम्‍मी के हाथों पिटवा सकते हैं। किंतु उन्‍हेांने अपनी असलियत नकटू पर जाहिर नहीं की थी। दिखाने को तो वे नकटू के भी दोस्‍त बने रहे

और नकटू के साथ डिंपल को पीटने की मोर्चाबंदी साधने में भागीदारी भी करते रहे। दरअसल वे कुटिल बुद्धि से काम लेते हुए नकटू के भी साथ थे और डिंपल के भी।
वह दिन भी आया जब देवताओं पर कथा हुई। आज के दिन हवेली के सभी नौकर, पंडितों और गांव के सवर्ण जाति के लोगों को खान-पान की व्‍यवस्‍था में लगे थे। बारह बजे के करीब कथा समाप्‍त हुई। कथा में डिंपल देवताओं के सामने जिजमान बनकर बैठा। उसी के हाथ से पंडित को दक्षिणा दिलाई गई और नारियल फुड़वाया गया। प्रसाद बंटने के बाद भोज संपन्‍न हुआ। डिंपल और उसके साथियों ने तुरत-फुरत भोजन किया और चुपचाप सायकल घुमाने के लिए चल दिए। आज डिंपल के हाथ में एक बड़ा बिस्‍किट्‌स का पैकेट था जो उसने अभी खोला नहीं था।


देवताओं का स्‍थान गांव से बाहर हवेली के पिछवाड़े की ओर था। वहां से थोड़ी दूर चलकर तलैया थी और तलैया के पीछे पठारी जंगल था। डिंपल ने आज अपने मित्रों से तलैया तक घूम आने की इच्‍छा प्रकट की। उसके दोस्‍त सायकल धकियाते हुए तलैया की आर चल दिए।
नकटू अपने सहराने के मित्रों के साथ बरगद के नीचे होलक-डंडा खेल रहा था। सायकल की चींची चर्र....चर्र की आवाज सुनकर एकाएक वे चौंके और कान खड़े करके गैल की तरफ देखने लगे। डिंपल की सायकल पर नजर पड़ते ही नकटू धीरे से बोला, ''छिप जाओ डिंपल का बच्‍चा इधर ही आ रहा है। नौकर भी कोई नहीं है। अब देखता हूं बकरे की अम्‍मा कब तक खैर मनाएगी।‘‘


और सभी लड़के बरगद के पीछे छिप गए। नकटू के हाथ में होलक खेलने का बांस का डेढ़ हाथ लम्‍बा तेल पिलाया डंडा था। जैसे ही सायकल बरगद क्रास करके तलैया की ओर बढ़ी कि नकटू सायकल की ओर झपट पड़ा। नकटू को देखते ही डिंपल के दोस्‍त सायकल छोड़ गांव की ओर भाग खड़े हुए। अविलंब नकटू ने डिंपल की गिरेबान पकड़कर उसे सायकल से खींच लिया। डिंपल के हाथ से बिस्‍कुट का डिब्‍बा छीनकर नकटू ने एक मित्र को दे दिया। और फिर वह डिंपल पर पिल पड़ा। डिंपल के पौदों, टखनों में दस बीस डंडे मारे जब वह रोता बिलखता मम्‍मी....मम्‍मी.... चिल्‍लाता धरती पर लोटपोट होने लगा तो उसमें लातें, घूंसे मारने लगा। नकटू के दोस्‍तेां ने जब देखा कि अब बाजी पूरी तरह नकटू के हाथ में है तो वे भी बहती गंगा में हाथ धोने के बहाने डिंपल में लाते मारने लगा। डिंपल के मुंह और नाक से जब उन्‍होंने खून बहता देखा तो वे सहम गए और वे सब डिंपल को वहीं छोड़कर पठारी जंगल की ओर भाग निकले। नकटू ने जब पीछे पलटकर देखा तो देखा गांव की तरफ से डिंपल के नौकर बेसाख्‍ता भागे चले आ रहे हैं।
नौकर डिंपल को लादकर भागे-भागे हवेली जाए। डिंपल की मम्‍मी और उसके बाबा ने नौकरेां को जलीकटी सुनाते हुए गालियां दीं, चांटे भी मारे। फिर फौरन डिंपल को कार में लिटाकर उपचार के लिए इंदौर रवाना हो लिए।


इधर नकटू और उसके मित्र पठारी जंगल पार कर सिआंखेड़ी गांव के गेंत भी पार कर गए थै यहां से भरखा का जंगल शुरू होता था। यहां रूककर वे सुस्‍ताए फिर बिस्‍किटों को चार बराबर हिस्‍सों में बांटा। बिस्‍किटों का स्‍वाद लेते ही उनकी दौड़ने की थकान जाती रही। सिआंखेड़ी के टपरों पर रहने वाले सहरिए अटलपुर के सहरियों के नातेदार थे। अतः नकटू अपने मित्रों के साथ सहरियों के टपरों में रूक गया।


जब चार दिन गुजर गए तब उन्‍होंने गांव की सुध ली। अटलपुर के पठारी जंगल में पहुंचने पर उन्‍हें अटलपुर के ग्‍यारें (ग्‍वाले) मिल गए। ग्‍यारें सब सहराने के सहरिए थे। यह सुनकर उन्‍हें तसल्‍ली हुई कि डिंपल उसकी मम्‍मी, उसकी बाबा उसके नौकर सब माल-असवाब गाड़ियों में लादकर उसी दिन अटलपुर से कूच कर गए थे। नकटू अब पूरी जिंदादिली के साथ निर्भय होकर गांव में घूमता। ब्राह्मण और बनियों के जो लड़के उससे कतराते थे वे अब डिंपल के हुए हश्र से सहमकर उसकी चिरौरी में अपनी भलमनसाहत समझने लगे। नकटू जैसे-जैसे उम्र के सौपान चढ़ रहा था, वैसे-वैसे जिंदादिली के साथ उसमें अद्‌भुत नेतृत्‍व क्षमता का उभार होता जा रहा था।

----

प्रमोद भार्गव
शब्‍दार्थ 49, श्रीराम कालोनी,
शिवपुरी (म.प्र.) पिन- 473-551

-----****-----

|दिलचस्प रचनाएँ:_$type=blogging$count=5$src=random$page=1$va=0$au=0$meta=0

|समग्र रचनाओं की सूची:_$type=list$count=8$page=1$va=1$au=0$meta=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: प्रमोद भार्गव की कहानी : नक्टू
प्रमोद भार्गव की कहानी : नक्टू
http://lh3.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/TEpxjsfOFAI/AAAAAAAAIw4/FDn1TwnjAbs/pramod%20bhargav_thumb.jpg?imgmax=800
http://lh3.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/TEpxjsfOFAI/AAAAAAAAIw4/FDn1TwnjAbs/s72-c/pramod%20bhargav_thumb.jpg?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2010/07/blog-post_8950.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2010/07/blog-post_8950.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ