विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका। प्रकाशनार्थ रचनाएँ इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी इस पेज पर [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री का आलेख : अबुलफजल

साझा करें:

अबुलफजल जन्‍म दिवस (14 जनवरी 1551 ई.) पर विशेष अकबर के नवरत्‍नों में शीर्ष पर रहे महान रचनाकार कुशल शासक के साथ युद्ध कौशल में महारत हासिल...

अबुलफजल

Abulphajal (Akbarnama)

जन्‍म दिवस (14 जनवरी 1551 ई.) पर विशेष

अकबर के नवरत्‍नों में शीर्ष पर रहे महान रचनाकार कुशल शासक के साथ युद्ध कौशल में महारत हासिल करने के साथ-साथ मानवीय मूल्‍यों को अपने जीवन में उतारने वाले अबुलफजल हमेशा याद आते रहेंगे। भारतीय दर्शन को पूरी तरह अपने में आत्‍मसात करके धर्मनिरपेक्षता का पाठ हकीकत की दुनिया में लाने वाले महान विचारक अबुलफजल को इतिहास के पन्‍नों में विसरा देने की साजिश का ही परिणाम है कि आज देश धार्मिक कट्टरता की आग में झुलसने के लिये विवश है। शेख अबुलफजल की तुलना हम भले ही कौटिल्‍य विष्‍णुगुप्‍त के समतुल्‍य ना करें फिर भी सकते है कि जिस तरह कौटिल्‍य ने चन्‍द्रगुप्‍त मौर्य के शासन के रूप में भारत को एकताबद्ध समृद्ध बनाने की कोशिश की यही काम अबुलफजल ने अकबर के समय भी किया था। अबुलफजल ने तत्‍कालीन समय भारत को एकता की डोर में बाँधने की कोशिश की थी जिस वक्‍त धर्म के नाम पर होते खूनी जंग का मैदान भारत भूमि बना हुआ था। अबुलफजल का जन्‍म आज से 460 वर्ष पहले 14 जनवरी 1551 ई0 में आगरा के जमुना पार रामबाग में हुआ था। पिता शेख मुबारक अद्वितीय विद्वान और अत्‍यन्‍त उदार विचारों के समर्थक थे। इस कारण तत्‍कालीन मुल्‍ले उन्‍हें काफिर कहकर हर तरह की तकलीफ देते रहते थे, क्‍योंकि उनकी धारणा थी कि वे सामवादी सय्‌यद मोहम्‍मद जौनपुरी का अनुयायी है, कभी शिया और नास्‍तिक कहते थे। इस कारण अबुलफजल का बचपन जद्‌दोजहद में बीता। अपने जीवन की कुछ बातें अकबरनामा में अबुलफजल ने इस तरह लिखी हैं- ‘‘बरस-सवा-बरस की उमर में भगवान ने मेहरबानी की और मैं साफ बातें करने लगा। पाँच वर्ष का था, कि दैव ने प्रतिभा खिड़की खोल दी। ऐसी बातें समझ में आने लगीं, जो औरों को नसीब नहीं होती। 15 वर्ष की उमर में पूज्‍य पिता की विद्या निधि का खजांची और तत्‍तवरत्‍न का पहरेदार हो गया, निधि पर पाँव जमा कर बैठ गया। शिक्षा की बातों से सदा दिल मुरझाता था और दुनिया के खटकामों से मन कोसों भागता था। प्रायः कुछ समझ ही नहीं पाता था। पिता अपने ढंग से विद्या और बुद्धि के मन्‍त्र फूँकते थे। हरेक विषय पर एक पुस्‍तक लिख कर याद करवाते। यद्यपि ज्ञान बढ़ता था, पर वह दिल को न लगाता था। कभी तो जरा भी समझ में न आता था और कभी सन्‍देह रास्‍ते को रोक लेते थे, वाणी मदद न करती थी, रूकावट हलका बना देती थी। मैं भाषण का भी पहलवान था पर जबान खोल न सकता था। लोगों के सामने मेरे आँसू निकल पड़ते थे, अपने को स्‍वयं धिक्‍कारता था। ... जिन्‍हें विद्वान! कहा जाता था, उन्‍हें मैने बेइन्‍साफ पाया, इसलिये मन चाहता था, कि अकेले में रहूँ, कही भाग जाऊँ। दिन को मदरसा में बुद्धि के प्रकाश में रहता,रात को निर्जन खंडहरों में भागता।... इसी बीच एक सहपाठी से स्‍नेह हो गया, जिसके कारण मदरसे की ओर फिर आकर्षण बढ़ा।'' ज्ञान अर्जन के बाद अबुलफजल अपने हुनर के बल पर बादशाह अकबर के निकट आया और उनका प्रधानमंत्री बना।

अबुलफजल का धर्म

अबुलफजल धर्म मानव-धर्म था। वह मानवता को धर्मों के अनुसार बाँटने के लिये तैयार नही थे। हिन्‍दू, मुसलमान, पारसी, ईसाई, उनके लिये सब बराबर थे। बादशाह का भी यही मजहब था। जब लोगों ने ईसाई इंजील की तारीफ की, तो उसने शाहजादा मुराद को इंजील पढ़ने के लिये बैठा दिया और अबुलफजल तर्जुमा करने के लिये नियुक्‍त किये गये। गुजरात से अग्‍निपूजक पारसी अकबर में पहुँचे। उन्‍होंने जर्थुस्‍त के धर्म की बातें बतलाते आग की पूजा की महिमा गाई। फिर क्‍या था, अबुलफजल को हुक्‍म हुआ-‘‘जिस तरह ईरान में अग्‍नि-मन्‍दिर बराबर प्रज्‍वलित रहते हैं, यहां भी उसी तरह हो। दिन-रात अग्‍नि को प्रज्‍वलित रक्‍खों। आग तो भगवान के प्रकाश की ही एक किरण है। अग्‍नि पूजा में हिन्‍दू भी शामिल थे, इसलिये उन्‍होंने इसकी पुष्‍टि की होगी, इसमें सन्‍देह नहीं। जब श्‍ोख मुबारक मर गये, तो अबुलफजल ने अपने भाइयों के साथ भद्र (मुंडन) करवाया। अकबर ने खुद मरियम मकानी के मरने पर भद्र कराया था। लोगों ने समझा दिया था, कि यह रस्म हिन्‍दुओं में ही नहीं, बल्‍कि तुर्क सुल्‍तानों में भी थी। यही वह बातें थी, जिनके कारण कट्‌टर मुसलमान अबुलफजल को काफिर कहते थे। पर, न वह काफिर थे और न ईश्‍वर से इन्‍कार करने वाले। रात के वक्‍त वह सन्‍तों-फकीरों की सेवा में जाते और उनके चरणों में अशर्फियां भेंट करते। बादशाह ने कश्‍मीर में एक विशाल इमारत बनवाई थी, जिसमें हिन्‍दू, मुसलमान सभ आकर पूजा-प्रार्थना करते। अबुलफजल ने इसके लिये वाक्‍य लिखा था-

‘‘इलाही, ब-हर खाना कि भी निगरम्‌, जोयाय-तू अन्‍द। व ब-हर जबाँ कि मी शुनवम्‌, गोयाय तू।'' (हे अल्‍ला, मैं जिस घर पर भी निगाह करता हूँ, सभी तेरी ही तलाश में है और जो भी जबान मैं सुनता हूँ, वह तेरी बात करती हैं।) यह भी लिखा-

‘‘इ खाना ब-नीयते इ तलाफे-कलूब मोहिदाने-हिन्‍दोस्‍तान व खसूसन्‌ माबूद्‌परिस्‍तान अर्सये-कश्‍मीर तामीर याफ्‌ता।'' (यह घर हिन्‍दुस्‍तान के एकेश्‍वरवादियों, विशेषकर कश्‍मीर के भगवत्‌-पूजा के लिये बनाया गया।)

अबुलफजल यदि आज पैदा हुए होते, तो वह निश्‍चय ही अल्‍ला और ईश्‍वर से नाता तोड़ देते। पर, अपने समय में वह यहाँ तक नही पहुँच सके थे। वह इतना ही चाहते थे, कि सभी मनुष्‍य आपसी भेद-भाव को छोड़ कर अपने-अपने ढंग से भगवान्‌ की पूजा करें।

अबुलफजल कलम ही नही तलवार का भी धनी था। अकबर के कहने पर दक्षिण में विद्रोह दबाने तथा असीरगढ़ तथा अहमद नगर की असाधारण विजय का सेहरा अबुलफजल के नेतृत्‍व को जाता है। लेकिन सन्‌ 16020 19 अगस्‍त को आगरा की ओर लौटते समय अन्‍तरी के पास ओरछा के राजा नर्ससिंह देव का बेटा मधुकर बुन्‍देला ने बगावत करके अबुलफजल का सिर काटकर शहजादा सलीम उर्फ जहांगीर को पेश किया। बुन्‍देला मधुकर शाह के क्रूर हाथों ने मानवता के उस पुजारी को असमय ही मौत की नींद सुलाकर हिन्‍दुस्‍तान से धर्मर्निपेक्षता की ज्‍योति को बुझा दिया। ग्‍वालियर से 5-6 कोस पर स्‍थित इस छोटे से कस्‍बे में आज भी हमारे इतिहास का महान राजनैतिक परमदेशभक्‍त और धर्मिनिपेक्षता की जीती जागती मिशाल गुमनामी में सो रही है। अकबर ने अबुलफजल की मौत पर अफशोस करते हुये कहा था ‘‘हाय, हाय शेखूजी, बादशाहत लेनी थी मुझे मारना था तो शेख को क्‍यों मारा'' अकबर सलीम को शेखूजी कहता था।

कृतियाँ

अबुलफजल अगर और कुछ न करते और केवल अपनी लेखनी को ही चला कर चले गये होते, तो भी वह एक अमर साहित्‍यकार माने जाते। उन्‍होंने कई विशाल और अत्‍यन्‍त महत्‍वपूर्ण ग्रंथ लिखे हैं, जो आज भी हमें उनके काल और विचारों के बारे में बहुत-सी बातें बतलाते मार्ग-प्रदर्शन करते है। ‘‘अकबरनामा'' और ‘‘आईनेअकबरी'' उनके अमर ग्रंथ हैं।

1. आईनअकबरी- ‘‘अकबरनामा'' को उन्‍हेांने तीन खण्‍डों में लिखा। इसके पहिले दूसरे खंड ही ‘‘आईनअकबरी हैं पहले खण्‍ड में तैमूर के वंश का संक्षेप में, बाबर का उससे अधिक, हुमायूँ का उससे भी विस्‍तृत वर्णन है। फिर अकबर के पहले 17 साल (1556-73 ई0) तक का हाल है। अकबर के 30 वर्ष के होने तक की बातें इसमें आई है। दूसरे खण्‍ड में अकबर के राज्‍य संवत्‌सर (सनजलूस) 18 से 46 (1574-1602 ई0) की बातें है। अबुलफजलकी मृत्‍यु के तीन साल बाद अकबर का देहान्‍त हुआ। इस वक्‍त की घटनायें ‘‘तारीख अकबरी'' में है। पहले खण्‍ड की भूमिका देहान्‍त हुआ। इस वक्‍त की घटनायें ‘‘तारीख अकबरी'' में है। पहले खण्‍ड की भूमिका में अबुल फजल ने लिखा है- ‘‘मैं हिन्‍दी हूँ, फारसी में लिखना मेरा काम नही हैं। बड़े भाई के भरोसे यह काम शुरू किया था; पर अफसोस, थोड़ा ही लिखा था, कि उनका देहान्‍त हो गया सिर्फ दस साल का हाल उन्‍होंने देख पाया था।''

2. अकबरनामा -‘‘अकबरनामा'' ही इसका तीसरा खण्‍ड है, जिसे अबुलफजल ने 1597-98 ई (हिजरी 1006) में समाप्‍त किया था। यह एक ऐसी किताब है, जिसकी जरूरत अँग्रेजों ने 19वीं सदी के अन्‍त में महसूस की और अनेक गजेटियर लिखे। अकबर सल्‍तनत का यह विशाल गजेटियर है। इसमें हरेक सूबे, सरकार (जिला) परग ने का विस्‍तृत वर्णन और आँकड़े दिये गये है। उनके क्षेत्रफल, उनका इतिहास, पैदावार, आमदनी-खर्च, प्रसिद्ध स्‍थान, प्रसिद्ध नदियाँ-नहरें-नाले-चश्‍में, लाल-नुकसान का उल्‍लेख है। सैनिक-असैनिक प्रबन्‍न्‍ध, अमीरों और उनके दर्जो की सूची, विद्वानों, पण्‍डितों, कलाकारों, दस्‍ताकारों, सन्‍त-फकीरों, मन्‍दिरों-मस्‍जिदों आदि की बातों को भ़ी नहीं छोड़ा गया है और साथ ही हिन्‍दुस्‍तान के लोगों के धर्म विश्‍वास और रीतिरवाज भी जिक्र किया है। जिस चीज की महत्‍ता को 19वीं सदी में अँग्रेजों ने समझा, उसे अबुल फजल ने साढ़े तीन सौ वर्ष पहले समझकर लिख डाला। ‘‘अकबरनामा'' में अबुलफजल अलंकारिक भाषा इस्‍तेमाल करते हैं, पर ‘‘आईन'' में उनकी भाषा प्रभावशाली होते भी बहुत सीधी-सादी हो जाती है। दोनों पुस्‍तकें बहुत विशाल है। (अबुलफजल की हरेक कृतियों का हिन्‍दी में अनुवाद होना आवश्‍यक है।)

3. मुकातिबाते अल्‍लामी- अबुलफजलको अल्‍लामी (महान पण्‍डित) कहा जाता था। इस पुस्‍तक में उनके पत्रों संग्रह है। इसके तीन खण्‍ड है। पहले खण्‍ड में वे पत्र हैं, जिन्‍हें अकबर ने ईरान और तूरान (तुर्किस्‍तान) के बादशाहों के नाम पर अबुलफजल से लिखवायें थे। इसी में बादशाही फरमान भी दर्ज है। समरकन्‍द का शासक उज्‍बक सुल्‍तान अब्‍दुल्‍ला बहुत ही प्रतापी खान और अकबर का खानदानी दुश्‍मन भी था। वह कहता था -‘‘अकरब की तलवार तो नही देखी, लेकिन मुझे अबुलफजल की कलम से डर लगता है।'' दूसरे खंड में अबुलफजल के अपने खत हैं, जो दरबार के अमीरों, अपने मित्रों और सम्‍बन्‍धियों को उन्‍होंने लिखे। तीसरे खण्‍ड में उन्‍होंने पुराने ग्रंथकारों की पुस्‍तकों के ऊपर अपने विचार प्रकट किये है। इसे साहित्‍यिक समालोचना कह सकते है।

4. ऐयारेदानिश-पंचतन्‍त्र अपने गुणों के लिये दुनिया में मशहूर है। छठी सदी में नौश्‍ोरखाँ इसका अनुवाद पहलवी भाषा में कराया था। अब्‍बासी खलीफों के जमाने में इसे अरबी में किया गया। सामानियों समय फारसी महान तथा आदिकवि रूदी की ने उसे पद्यबद्ध किया। मुल्‍ला हुसेन वायज़ने फारसी में करके इसका हिन्‍दुस्‍तान में प्रचार किया। अकबर उसे सुना। जब मालूम हुआ कि मूल संस्‍कृत पुस्‍तक अब भी मौजद है, तो कहा-कि घर की चीज है, सीधे क्‍यां न अनुवाद करो। अबुल फजलने इस पुस्‍तक को ‘‘ऐयारेदानिश'' के नाम से सन्‌ 1587-88 ई0 (हिजरी 996) में समाप्‍त किया। मुल्‍ला बदायूँनी इसको भी लेकर अकबर पर आज्ञेप किये बिना नहीं रहे और कहते हैः इस्‍लाम की हर बात से उसे घृणा है, हर इल्‍म (शास्‍त्र) से बेजारी है। जबान भी पसन्‍द नहीं, हरफ भी प्रिय नहीं। मुल्‍ला हुसेन वायजने कलीलादमना (करकट दमनक) का तर्जुमा ‘‘अनवार सुहेली'' कैसा अच्‍छा किया था। अब अबुलफजल को हुक्‍म हुआ, कि इसे साधारण साफ नंगी फारसी में लिखें, जिसमें उपमा अतिशयोक्‍ति भी न हो, अरबी वाक्‍य भी न हो।

5. रुकआते-अबुलफजल- यह अबुलफजल के रुक्‍कों (लघु-पत्रों) का संग्रह है। इसमें 46 रुक्‍कों रूप में बहुत सी ऐतिहासिक, भौगोलिक और दूसरी महत्‍व की बातें सीधी-सादी भाषा में दर्ज हैं। जिनके नाम रुक्‍के लिखे गये हैं, उनमें कुछ हैं- अब्‍दुला खान, दानियाल, अकबर, मरियम मकानी (अकबर की माँ), शेख मुबारक, फौजी, उर्फ, (मार्सिया फैजी)।

6. कश्‍कोल- कश्‍कोल फकीरों के भिज्ञा-पात्र को कहते है, जिसमें वह हर घर से मिलने वाले पुलाव, भुने चने, रोटी, दाल, सूखा तर रोटी का टुकड़ा, मिट्‌टा-सलोना-खट्‌टा कड़वा सभी कुछ डाल लेते है। अबुलफजल जो भी सुभाषित सुनते, उन्‍हें जमा करते जाते। इसको ही कश्‍कोल नाम दिया गया। इसे देखने से अबुलफजल की रुचिका पता लगता है।

आभार- इस आलेख लेखन में राहुल सांकृत्‍यायन लिखित पुस्‍तक अकबर के अंश का समावेश किया गया है।

-----

- सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री

राजसदन-120/132

बेलदारी लेन, लालबाग, लखनऊ

---

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 1
  1. बस इतना ही पढ़ा कि उस समय ख़ूनी जंग धर्म के नाम पर होती थी, इससे आगे पढने का मूड चला गया |

    जवाब देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4095,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3061,कहानी,2275,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,110,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1269,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,340,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2013,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,714,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,802,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,91,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,211,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री का आलेख : अबुलफजल
सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री का आलेख : अबुलफजल
http://lh6.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/TTwNB1RuCWI/AAAAAAAAJa8/hjhs6xc-h9s/Abulphajal%20%28Akbarnama%29%5B2%5D.png?imgmax=800
http://lh6.ggpht.com/_t-eJZb6SGWU/TTwNB1RuCWI/AAAAAAAAJa8/hjhs6xc-h9s/s72-c/Abulphajal%20%28Akbarnama%29%5B2%5D.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2011/01/blog-post_23.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2011/01/blog-post_23.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ