रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

अतुल कुमार मिश्र “राधास्वामी” की कविता - विजेता मिस्र

clip_image002

मिस्र की ताकत बने

हाथ जो सब साथ थे |

मुठ्ठियाँ सब कस सकीं,

उंगलियां सब साथ थीं ||

 

वजीफा है अब आँखों की रौनक,

रौनकें अब आसान हैं |

देखती निगाहें अब तुम्हें हैं,

बात ये मन में बसा लो |

 

जो ताकत अब तक थी हाथ में,

उसे अब पैरों में समा लो |

बिखरना अब न है यहीं पर,

कदम अब आगे बढ़ा लो |

 

चमक जो है आँखों में पैदा,

उसे सम्मुख अब सजा लो |

कदम – ब –कदम बढ़ना है आगे,

क़दमों को ताकत बना लो |

जीतते हैं जंग कैसे थोड़ा ये हमको भी सिखा दो ||

 

अतुल कुमार मिश्र “राधास्वामी”

clip_image004

atulkumarmishra007@gmail.com

http://atulkumarmishra-atuldrashti.blogspot.com/

http://www.facebook.com/?ref=home

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.