नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

सत्यवान वर्मा सौरभ के दोहे

दोहे-

1- तू भी पाएगा कभी फूलों की सौगात।

धुन अपनी मत छोड़ना सुधरेंगे हालात।

 

2- बने विजेता वो सदा ऐसा मुझे यकीन।

आँखों आकाश हो पांवों तले जमीन।।

 

3- जब तुमने यूँ प्यार से, देखा मेरे मीत।

थिरकन पांवों में सजी, होंठों पे संगीत।।

 

4- तुम साथी दिल में रहे, जीवन भर आबाद।

क्या तुमने भी किया, किसी वक्त हमें याद।।

 

5- लिख के खत से तुम कभी,भेजो साथी हाल।

खत पाए अब आपका, बीते काफी साल।।

 

6- हिन्दी हो हर बोल में,हिन्दी पे हो नाज।

हिन्दी में होने लगे,शासन के सब काज।।

 

7- हिन्दी भाषा है रही,जन-जन की आवाज।

फिर क्यों आंसू रो रही,राष्ट्रभाषा आज।।

 

8- मन रहता व्याकुल सदा,पाने माँ का प्यार।

लिखी मात की पातियां,बांचू बार हजार।।

 

9- बना दिखावा प्यार अब, लेती हवस उफान।

राधा के तन पे लगा, है मोहन का ध्यान।।

 

10-आपस में जब प्यार हो, फ ले खूब व्यवहार।

रिश्तों की दीवार में, पड़ती नहीं दरार।।

 

11-चिट्ठी लायी गांव से, जब राखी उपहार।

आँखें बहकर नम हुई,देख बहना का प्यार।।

 

12-लोकतंत्र अब रो रहा,देख बुरे हालात।

संसद में चलने लगे, थप्पड़-घूंसे-लात।।

 

13-नहीं रहे मुंडेर पे, तोते-कौवे-मोर।

डूब मशीनी शोर में, होती अब तो भोर।।

 

14-सूना-सूना लग रहा, बिन पेड़ों के गांव।

पंछी उड़े प्रदेश को, बांधे अपने पांव।।

 

15-ख़त वो पहले प्यार का, देखूं जितनी बार।

महका-महका-सा लगे, यादों का गुलजार।।

 

16-बन के आंसू बह चले, जब हृदय की पीर।

तनवा काशी-सा लगे, मनवा बने कबीर।।

 

17-अपना सब कुछ त्याग के, हरती नारी पीर।

फिर क्यों आँखों में भरा,आज उसी के नीर।।

 

18-कलयुग के इस दौर में, ये कैसा बदलाव।

सगे-संबंधी दे रहे, दिल को गहरे भाव।।

 

19-मात-पिता के वेश में, जानो तुम रे राम।

पाएगा तू क्या भला, जाकर काशी-धाम।।

 

20-आजादी के बाद भी,देश रहा कंगाल।

जेबें अपनी भर गए, नेता और दलाल।।

----

3 टिप्पणियाँ

  1. बेनामी10:51 pm

    [सूना-सूना लग रहा, बिन पेड़ों के गांव।
    पंछी उड़े परदेस को, बांधे अपने पांव।। ]
    अच्छे दोहे हैं।

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर अतिसुन्दर ब्यूटीफुल वर्मा जी welldan sir

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.