नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

शंकर लाल की कविता - पर्वत, सूरज, चाँद और तारे इतने ऊँचे कैसे सारे...?

 

र्वत, सूरज, चाँद और तारे
सोचो तो कभी
ये पर्वत
ये सूरज, चाँद और तारे
इतने ऊँचे कैसे हैं
ये सारे के सारे ?
सोचो तो कभी ...

देखो तो  लगता है 
ये नि:स्वार्थ और सच्चे हैं
इसीलिए शायद
ये इतने ऊँचे हैं।

देखो तो ये पर्वत
बर्फ सीने पर सहता है
पानी मिले जीवों को
इस के लिए ये
बादल से टक्कर लेता है।

देखो तो ये चाँद और तारे
दिखते है कितने प्यारे
जीवों को गहरी नींद मिले
इस के लिए ये
रात भर पहरा देते हैं सारे।

देखो तो ये सूरज प्यारा
लगता है कितना न्यारा
जीवों को उजियारा मिले 
इस के लिए ये
कब से खुद को 
जला रहा बेचारा।

सोचो तो कभी ये सारे 
बिना शिकायत  
जनसेवा में लगे हुए हैं
अपने जन्म से 
देखो तो ये कितने
नि:स्वार्थ और सच्चे हैं
इसीलिए शायद
ये इतने ऊँचे हैं।
       ---- शंकर लाल इंदौर (मध्यप्रदेश)

..Shankar Lal Kumawat
140/4 Sukhsagar Apartment
Indore
MSc. Physics

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.