नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

सी बी श्रीवास्तव द्वारा श्रीमद् भगवत गीता का हिंदी पद्यानुवाद

पूरी पीडीएफ पुस्तक यहीँ नीचे चित्र के नीचे ओपन पब्लिकेशन (Open publication) पर क्लिक कर पढ़ें अथवा निःशुल्क पीडीएफ ईबुक फ़ाइल  डाउनलोड करें यहाँ से.

11 टिप्पणियाँ

  1. बहुत सुन्दर प्रयास जिसके लिए श्रीवास्तव जी को बधाई..

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर अति उत्तम पोस्ट,....आभार

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लू भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूबेगा , नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें है तुमने, जनता सबक सिखायेगी,

    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    जवाब देंहटाएं
  3. श्रद्धेय रवि जी ,
    सचमुच आपने पिताश्रीकृत श्रीमद्भगवत गीता को पीडीएफ ई बुक के रूप में प्रकाशित कर बहुत ही बड़ा कार्य किया है , मैं व्यक्तिगत रूप से हृदय से आभारी हूं . पिताजी भी आपको बहुत बहुत आषीश कह रहे हैं .

    जवाब देंहटाएं
  4. गीता नाम ही काफी है ,

    आपको बहुत साधुवाद,

    पर कुछ मुझे कम्पुटर का नहीं आता , अक्षरों को बड़ा करना नहीं आया,

    कृपया एक लिंक भेजे जिसमे उसे चाहे जितना बड़ा करके पढ़ सकें.

    जय श्री कृष्ण

    जवाब देंहटाएं
  5. गीता नाम ही काफी है ,

    आपको बहुत साधुवाद,

    पर कुछ मुझे कम्पुटर का नहीं आता , अक्षरों को बड़ा करना नहीं आया,

    कृपया एक लिंक भेजे जिसमे उसे चाहे जितना बड़ा करके पढ़ सकें.

    जय श्री कृष्ण
    ashok.gupta4@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
  6. उत्तम कार्य. पिता जी को प्रणाम.

    जवाब देंहटाएं
  7. हिन्‍दी प्रेमीयों के लिए उत्‍कृष्‍ट एवं प्रशंशनीय कार्य के लिए कोटि-कोटि धन्‍यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति...आभार

    जवाब देंहटाएं
  9. ये तो बहुत ही जबरदस्‍त काम है। इसे उपलब्‍ध कराने के ल‍ि‍ए आभार।

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.