नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

अनीता मिश्रा की कहानी - सेक्रेटरी

 

image

'' सर, मैं इंटरव्यू के लिए कितने बजे आ जाऊं?'' जब से उन्होंने नरम और नाज़ुक-सा स्वर फोन पर सुना था, तब से बेहद खुश थे। दरअसल, कई दिन हो गये थे, विज्ञापन दिए हुए, लेकिन कोई "ढंग की" कॉल नही आई थी! आज वे तरह-तरह की कल्पनाओं में डूब गये थे। कैसी होगी? स्वर तो इतना मीठा है, शायद सामने से भी उतनी ही नाज़ुक हो! उनका ऑफिस घर में ही था, इसलिए उन्होंने यहां तक सोच लिया था कि वे ऑफिस कहीं और शिफ्ट कर लेंगे। वरना उनकी शक्की बीवी उनका जीना दूभर कर देगी। कब से वे ख्वाब देख रहे थे कि उनका बिजनस बढे और वे एक खूबसूरत-सी सेक्रेटरी रखें। आख़िर रौब भी तो बढ़ता है सेक्रेटरी होने से! स्टेटस तो बढ़ता ही है।

खैर, वे सुबह से ही तैयार होकर ऑफिस में बैठ गये थे। आज वे एक हैंडसम बॉस दिखना चाहते थे। बेशक वे छिछोरे नहीं थे, पर मर्द तो थे ही। सो, स्त्री के बारे में काल्पनिक कुलांचे तो भर ही सकते थे।

आख़िर वह पल आ ही गया जब उनके कल्पनालोक की सेक्रेटरी उनके सामने थी। उन्होंने पूछा कि वह ये नौकरी क्यों करना चाहती है?

उस लड़की ने बताया कि दो साल पहले शादी हुई थी। पति का पहले से अफेयर था, इसलिए उसने इतनी यातना दी कि घर छोड़ना पड़ा। एक साल का एक बेटा भी है। पिता भी रिटायर हो चुके हैं और अब बीमार होकर बिस्तर पर हैं। ऐसे में उसे अपने दुधमुंहे बेटे को छोड़ कर काम करना ही पड़ेगा।

एसी चालू था, लेकिन उन्होंने रूमाल से अपने माथे पर आया पसीना पोंछा। एक पल के लिए आंखें बंद कीं। पर वे कोई कल्पना नहीं कर पाए!

कुछ ही क्षण बाद उनके मन में खयाल आया कि वे अब एक और विज्ञापन फिर से निकालेंगे।

------------------------------------------------------------------------

(चित्र -  अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com फतुहा पटना की कलाकृति)

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.