नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

शशांक मिश्र भारती की बाल कविताएँ - पेड़

clip_image002

अनेक पेड़

मेरे घर में सुन्‍दर-सुन्‍दर

हैं अनेक पेड़,

छोटे-बड़े रंग-बिरंगे

फूलों वाले पेड़।

 

कोई छोटा कोई बड़ा है

कोई गिरा कोई पड़ा है,

हैं बहुत से पेड़

मनमाहक ये पेड़।

 

लू हो या हो जाड़ा-

हम सबसे प्रिय नाते,

ना ही हम घृणा रखते

सभी हैं मुझको भाते।

--

बड़ा या छोटा सा पेड़

अपने घर एक लगाओ

सभी प्‍यार से पेड़,

कम अधिक जगह देखकर

छोटा या बड़ा सा पेड़।

 

किन्‍तु सभी के घर में

एक अवश्‍य ही पेड़,

यह हमारे जीवन दाता हैं

ग्रीष्‍म-लू के त्राता हैं,

गरमी से राहत देकर

खुशहाली के भ्राता हैं,

 

धरा पे हरियाली लाकर

उसमें नमी बढ़ाते हैं,

मौसम को अनुकूल बना

वर्षा खूब करवाते हैं,

इनकी सुन्‍दर डाली पर है-

बनाती चिड़िया सुन्‍दर घर,

 

कोयल अच्‍छा गीत सुनाती

बैठकर इन्‍हीं पेड़ों पर,

इसीलिए प्‍यार से बच्‍चों-

लगाकर डटकर पेड़,

अपने घर में एक लगाओ

बड़ा या छोटा सा पेड़।

--

सम्‍पर्कः-हिन्‍दी सदन बड़ागांव शाहजहांपुर-242401 उ0प्र0 9410985048

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.