विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

एक शख्सियत….....हसन काज़मी : विजेंद्र शर्मा का आलेख

साझा करें:

हसन काज़मी ख़ूबसूरत हैं आँखें तेरी , रात को जागना छोड़ दे ख़ुद - ब - ख़ुद नींद आ जाएगी , तू मुझे सोचना छोड़ दे ए...

हसन काज़मी

clip_image002[4]

ख़ूबसूरत हैं आँखें तेरी, रात को जागना छोड़ दे

ख़ुद -- ख़ुद नींद जाएगी, तू मुझे सोचना छोड़ दे

एक शख्सियत….....हसन काज़मी

इसमें कोई शक़ नहीं कि मीडिया से जुड़े बहुत से लोग अदब में भी अपना दखल रखते हैं और ये भी सच है कि कुछ ने तो अदब की ख़िदमत भी दिल से की है मगर प्रतिस्पर्धा के इस दौर और ख़बर को जल्दी से जल्दी पहुँचाने की होड़ ने मीडिया से जुड़े अदीबों की तहरीर में हस्सास (संवेदना) की सियाही ज़रा कम कर दी है। शायद इसकी बड़ी वजह ये भी है कि मीडिया वाले वैसा लिखते हैं जैसा उन्हें नज़र आता है या अपनी सहूलियत के हिसाब से उसमें कुछ कम ज़ियादा कर के भी लिख देते हैं। जहाँ तक शाइरी का सवाल है शाइरी का राब्ता तो पूरा का पूरा एहसास से होता है अगर किसी दर्द को आप महसूस नहीं कर सकते तो फिर उसे काग़ज़ पे उतार भी नहीं सकते इसी लिए तो ख़बर वाले सिर्फ़ ख़बर ,सनसनी ,शौहरत ,पैसा , गैलेमर और इसकी चका-चौंध की चादर में ही लिपट के रह जाते हैं। जब से हिन्दुस्तान में टी.वी अपनी पूरी रवानी के साथ वजूद में आया तब से एक ऐसी शख्सीयत उससे जुड़ी है जो बाहर से तो अपने जिस्म पे मीडिया का चेहरा लगाये हैं मगर अन्दर से ख़ालिस शाइर है , इलेक्ट्रोनिक मीडिया की इस नामचीन शाइर मिज़ाज हस्ती का नाम है हसन काज़मी

7 अक्टूबर 1960 को हसन काज़मी साहब का जन्म गंगा के किनारे बसे उतरप्रदेश के सबसे बड़े कारोबारी शहर कानपुर में हुआ। सैयद क़मरुल हसन काज़मी का तअल्लुक़ वैसे तो इलाहाबाद से है मगर इनके वालिद सदरूल हसन काज़मी साहब कारोबार के सिलसिले में कानपुर में ही बस गये थे। हसन साहब की शुरूआती तालीम से लेकर एम्.ए तक की पढाई कानपुर में ही हुई। 1207 ईसवीं में प्रयाग के राजा कांती देव का बसाया ये तारीख़ी शहर वर्तमान में उतर प्रदेश की औद्योगिकी राजधानी है मगर कारोबार के साथ - साथ इस शहर ने अदब की ख़िदमत में भी कोई कमी नहीं छोड़ी यहाँ शाइरी की ख़ुशगवार फ़िज़ां में हसन काज़मी की तरबीयत हुई ,उनके ननिहाल में भी शाइरी का माहौल था ,जब से हसन साहब ने होश सम्हाला उन्होंने अपने इर्द-गिर्द नशिस्तें ,अदबी महफ़िलें और मुशायरे देखे। धीरे - धीरे ग़ज़ल की लय उनके ज़हन- ओ -दिल में बसने लगी ,जब हसन काज़मी कॉलेज में थे तो फ़िल्मी गानों और ग़ज़लों पे पैरोडी बनाने लगे इससे उन्हें कॉलेज में बड़े इनामात भी मिले। सत्तर के दशक के आख़िर में हसन साहब बाक़ायदा शे'र कहने लगे उनकी क़लम से निकला पहला शे'र मुलाहिज़ा करें :--

भटक गया जो कभी ज़िन्दगी की राहों में

तेरे ख़याल ने उस वक़्त रहबरी की है

1977 में जिगर अकादमी के एक कार्यक्रम में कुंवर महेंदर सिंह बेदी "सहर" कानपुर आये उन्हें हसन साहब ने फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ साहब की एक ग़ज़ल तरन्नुम में सुनाई जिसे सुनकर सहर साहब बड़े मुतासिर हुए उन्होंने कहा कि इसी ज़मीन पे मैंने भी कुछ शे'र कहें है ज़रा इन्हें भी सुनाओ हसन साहब ने उतने ही आत्म विश्वास से उनके शे'र भी पढ़ दिये सहर साहब ने उस वक़्त कहा कि इस बच्चे में मुझे शाइरी की लो नज़र आ रही है ,ये चराग़ एक दिन बड़ी रौशनी देगा।

इस वाक़ये के बाद हसन साहब को ग़ज़ल से और भी मुहब्बत हो गई और वे शायर फतेपुरी साहब के शागिर्द हो गये शायर फतेपुरी साहब का तअल्लुक़ जिगर स्कूल से था सो हसन काज़मी का भी राब्ता जिगर स्कूल से हो गया। जिगर मुरादाबादी के शागिर्द के शागिर्द होने का एज़ाज़ हसन काज़मी को क्या मिला कि उनके कहन में जिगर के अदबी कुनबे की सी महक आने लगी :---

क्या ज़माना है कभी यूँ भी सज़ा देता है

मेरा दुश्मन मुझे जीने की दुआ देता है

अपना चेहरा कोई कितना भी छुपाये लेकिन

वक़्त हर शख्स को आईना दिखा देता है

1977 में ही हसन काज़मी ने झाँसी में अपना पहला मुशायरा पढ़ा और उससे मिले 40 रुपये की क़ीमत उन्हें आज भी याद है जिसमें से 10 रुपये कानपुर से झांसी आने -जाने में और 10 रुपये ख़ाने - पीने में खर्च करने के बाद भी 20 रुपये बचा लाये थे।

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ , निदा फ़ाज़ली , अहमद फ़राज़ और कृष्ण बिहारी "नूर" की शाइरी से हसन काज़मी बड़े मुतासिर हुए , अपनी एम्. ए (उर्दू) के दौरान उन्होंने फैज़ साहब पर एक मक़ाला भी लिखा जो सहेज के रखने वाला मक़ाला है।

1982 में हसन काज़मी लखनऊ दूरदर्शन में एंकर हो गये और 1990 तक एंकर रहे उसके बाद सन 2000 तक न्यूज़ रीडर रहे। लखनऊ दूरदर्शन पे हसन साहब का "आईना" प्रोग्राम उस वक़्त बहुत मशहूर हुआ जिसमें इन्होने क़तील शिफाई , ख़ुमार बाराबंकवी ,कैफ़ी आज़मी और कृष्ण बिहारी "नूर" सरीखे शाइरों से गुफ़्तगू की। 1992 में इन्होने दूरदर्शन से अपना नाता तोड़ लिया और सहारा ग्रुप से जुड़ गये। शुरू में तो हसन काज़मी सहारा ग्रुप में वित्तीय मैनेजर रहे पर बाद में सहारा ने उनके असली किरदार को पहचान लिया और फिर से उन्हें मीडिया से जोड़ दिया गया। उनके अन्दर के शाइर की धडकनें कभी थमी नहीं यही वजह रही कि उन्होंने अपनी नौकरी के साथ - साथ शाइरी से भी रिश्ता बनाए रखा।

अब कुछ हसन काज़मी के भीतर छिपे शाइर से भी आपको मिलवा दूँ , यूँ तो आँखों के हवाले से बहुत से शे'र कहे गये मगर हसन काज़मी ने अपने महबूब को ख़ूबसूरत आँखों का ख़याल रखने का मशविरा एक ग़ज़ल के हवाले से दिया कि वो ग़ज़ल स्टेज की कामयाब ग़ज़ल हो गई तलत अज़ीज़ ने जब ये ग़ज़ल वीनस के जैन साहब को सुनाई तो उन्होंने सुनते ही इसको शूट करने का फैसला कर लिया। आज भी अगर तलत अज़ीज़ का कोई ग़ज़ल कंसर्ट हो तो ऐसा हो ही नहीं सकता कि सामईन उनसे इस ग़ज़ल की फरमाइश न करें। एक दिन ये ग़ज़ल मक़बूलियत की तमाम हदें तोड़ देगी इतना तो हसन साहब ने भी कभी नहीं सोचा होगा ,आप पहले ग़ज़ल समआत फरमाएं :---

ख़ूबसूरत हैं आँखें तेरी, रात को जागना छोड़ दे

ख़ुद -- ख़ुद नींद जाएगी, तू मुझे सोचना छोड़ दे

तेरी आँखों से कलियाँ खिलीं, तेरे आँचल से बादल उड़ें

देख ले जो तेरी चाल को, मोर भी नाचना छोड़ दे

तेरी अंगड़ाईयों से मिलीं ज़हन--दिल को नई रोशनी

तेरे जलवों से मेरी नज़र ,किस तरह खेलना छोड़ दे

तेरी आँखों से छलकी हुई जो भी इक बार पी ले अगर

फिर वो मयख़ार साक़िया जाम ही मांगना छोड़ दे

ग़ज़ल को लखनऊ अपने महबूब का घरसा लगता है। ये अवध का वो तहज़ीबी शहर है जहाँ के ज़र्रे -ज़र्रे में सलीक़ा इस तरह घुला है जैसे उर्दू ज़ुबान में मिसरी की डली घुली है। हसन काज़मी के अन्दर के शाइर को शाइरी की तमाम गहराइयों से गले मिलने का मौक़ा इसी शहर में मिला। मरहूम वाली आसी साहब अपने आप में ग़ज़ल का एक मख्तबा थे,उनकी दहलीज़ में दाख़िल भर होने से ही बदन शाइरी की ख़ुश्बू से महकने लगता था। वाली आसी साहब की सरपरस्ती में हसन काज़मी की शाइरी परवान चढ़ने लगी। वाली साहब हसन काज़मी के उस्ताद तो न थे पर उस्ताद से कम भी ना थे। दुनिया के सबसे मुक्कदस लफ़्ज़ "माँ" पे सबसे ज़ियादा शे'र कहने वाले मुनव्वर राना के उस्ताद भी वाली साहब थे ,हसन काज़मी को यहाँ मुनव्वर राना की सोहबत भी मिली और नतीजा ये हुआ कि हसन काज़मी साहब ने भी "माँ" पे बेपनाह शे'र कहे। "माँ" पर इतने ख़ूबसूरत अशआर जिस शख्स ने कहे हैं उसके लिए ये ज़मीं भी किसी जन्नत से कम नहीं है मगर ये भी सौ फीसदी तय है कि उनका एक पट्टे -शुदा प्लाट जन्नत में भी आरक्षित है। माँ से मुतालिक उनके कुछ अशआर :--

हमने सुना है नीलगगन पे कुदरत रहती है

लेकिन माँ के पाँव के नीचे जन्नत रहती है

रुखी सूखी खाकर पूरा कुनबा पलता है

माँ रहती है जब तक घर में बरकत रहती है

उनके आगे चाँद ,सितारे ,सूरज सब फीके

जिन आँखों में अपनी माँ की सूरत रहती है

माँ कि दुआ का साथ छोडो,इनही दुआओं से

दुनिया से टक्कर लेने कि हिम्मत रहती है

****

दोस्ती की कोई क़ीमत नहीं मिलने वाली

बेवफ़ा तुझसे मुहब्बत नहीं मिलने वाली

माँ के क़दमों के तले ढ़ूंढ़ ले जन्नत अपनी

वरना तुझको कहीं जन्नत नहीं मिलने वाली

हसन काज़मी की ग़ज़लों का संग्रह 1990 में मंज़रे आम पे "तेरी याद के जुगनू " की शक्ल में आया इस किताब की तमहीद (भूमिका ) कैफ़ी आज़मी साहब ने लिखी इनका दूसरा मज़्मुआ- ए -क़लाम भी बहुत जल्द आनेवाला है। अपनी मुलाज़्मत का बहुत सा वक़्त इन्होंने लखनऊ में गुज़ारा है सो लखनवी इत्र की ख़ुश्बू हसन काज़मी की ज़ियादातर ग़ज़लों में से आती है मिसाल के तौर पे उनकी ये ग़ज़ल :--

आयी रास ख़ुल्द की आबो-हवा मुझे

फिर भेज दे ज़मीन पे मेरे ख़ुदा मुझे

तौबा के अंग - अंग में होने लगी कसक

आवाज़ देने आई जो काली घटा मुझे

जब सहारा परिवार ने उन्हें लखनऊ से सहारा चैनल की बड़ी ज़िम्मेदारी देकर दिल्ली भेजा तो ज़ाहिर है कि दिल्ली में दिल का लगना मुश्किल था। उन्होंने अपनी इसी ग़ज़ल के एक शे'र में अपने दिल की बात यूँ कही :--

छाई हुई है ज़हन पे शामे अवध की याद

रास आये कैसे दिल्ली की आबो-हवा मुझे

और इस शे'र के हवाले से ये दावा, दलील में तब्दील हो जाता है कि हसन काज़मी की शाइरी ख़ुद को लखनऊ से अलग हरगिज़ नहीं कर सकती

जाने मेरे गुनाह में कैसी है सादगी

ज़ाहिद समझ रहा है अभी पारसा मुझे

हमारे मुल्क के बहुत बड़े हिस्से में जो आम बोल चाल की ज़बान बोली जाती है उसके 70 फीसदी लफ़्ज़ उर्दू के है ,हमारी फिल्मों का माज़ी और हाल भी उर्दू के सहारे है इस चाशनी जैसी मीठी ज़ुबान के बिना हिन्दुस्तान, हिन्दुस्तान नहीं वो सिर्फ़ इंडिया नज़र आता है फिर भी ये इस दौर का दुर्भाग्य ही है कि इसे बोलने वाले तो बहुत है पर लिखने -पढ़ने वालों की तादाद ऐसे कम होती जा रही है जैसे शहरों के मकानों में से आँगन कम हो रहें है ,जैसे एक इन्सान की दूसरे इन्सान से मुरव्वत कम हो रही है। ख़ुद को इशारा बना के हसन काज़मी ने मुल्क में उर्दू के इसी दर्द को जो शाइरी बनाया है ,लोग इसकी मिसाल देते हैं :--

मैं तेरी आँख में आँसू कि तरह रहता हूँ

जलते बुझते हुए जुगनू कि तरह रहता हूँ

सब मेरे चाहने वाले हैं, मेरा कोई नहीं

मैं भी इस मुल्क़ में उर्दू की तरह रहता हूं

हसन काज़मी की शाइरी की एक ख़ासियत ये भी है कि उनका क़लाम पढ़ने /सुनने वाले के दिलो - दिमाग पे तारी तो होता है मगर बोझ नहीं बनता उनका लहजा जटिल बात को आसानी से बयान करने का हुनर रखता है। हुस्न की तारीफ़ का सबसे बेहतरीन ज़रिया ग़ज़ल है इस बात की वकालत भी हसन साहब का ये मतला और शे'र सुनकर बड़ी आसानी से की जा सकती है :-

चाँद चेहरा है लब फूल है ,चाँदनी है बदन आपका

आपके नाम इक फूल क्यूँ ,है ये सारा चमन आपका

रंग सजते हैं सब आप पर ,जो भी चाहें पहन लीजिए

धानी -धानी ज़मीं आपकी नीला -नीला गगन आपका

फिलहाल हसन काज़मी आलमी सहारा चैनल के मुखिया है , शाइर बिरादरी के लिए ये बड़े फ़ख्र की बात है। हसन काज़मी सही मायने में अदब और उर्दू दोनों की ख़िदमत कर रहें है ,आठों पहर शौहरत और चका -चौंध से घिरे रहने के बावजूद भी उन्होंने अपने पाँव ज़मीन से कभी हवा में नहीं रखें है। अपने बुज़ुर्गों से आशीर्वाद के रूप में जो तहज़ीब उन्होंने सीखी उसे हमेशा ताबीज़ की तरह अपने आप से बाँध कर रखा है तभी तो हसन काज़मी ग़ज़ल के सर से रिवायत का दुपट्टा कभी उतरने नहीं देते और अपने अन्दर घूमड़ रहें जज़्बात को आसानी से शे'र के सांचे में ढाल देते हैं :--

भीगी भीगी सी तन्हाईयाँ जब महकती है बरसात में

रक्स करता है ये दिल मेरा,तेरी यादों कि बरात में

साज़ बूंदों के बजने लगे ,फूल शाखों पे खिलने लगे

चूड़ियाँ गुनगुनाने लगी, तेरी मेहंदी लगे हाथ में

ये हवा की शरारत भी है और चरागों की आदत भी है

हुस्न वालों की फितरत भी है,रूठना बात ही बात में

हम शायर फनकार हैं ,हाँ मगर बात इतनी सी है

जो भी महसूस करते हैं हम ,ढाल देते हैं नगमात में

आज मुशायरों का वक़ार गिरता जा रहा है। कुछ सुखनवरों को तो सुनाने का शऊर भी नहीं है और न ही कुछ लोग सुनने के आदाब से वाकिफ़ है। हसन काज़मी साहब का मानना है कि जिन्हें अदबी महफिलों में बैठने तक का सलीका नहीं था वे लोग आज मुशायरों में अदबी माफियाओं की वजह से अच्छा -खासा पैसा ले रहें है और ऐसे लोगों की इस बढ़ी हुई क़ीमत ने शाइरी का नुक्सान किया है। उन्हें उम्मीद है अगर सुनने वाले और सुनाने वाले दोनों खरे हो जायेँ तो मुशायरों का वही मेयार फिर से लौट आयेगा जो फिराक़ , शक़ील,ख़ुमार बाराबंकवी ,मज़रूह और कैफ़ी आज़मी के ज़माने में हुआ करता था। हसन काज़मी ये भी मानते हैं कि आज वे जिस मकाम पे है वो सिर्फ उर्दू से मुहब्बत की वजह से है उन्होंने उर्दू -अदब का परचम वहाँ भी ऊंचा रखा है जहां सिर्फ सनसनी को तवज्जो मिलती है। अदब से जुड़ी बहुत सी तंजीमों ने अदब की ख़िदमत के लिए इन्हें सम्मान भी दिया है जिसमे , उर्दू अकादमी (उतरप्रदेश) अवार्ड , उर्दू अकादमी (दिल्ली ) अवार्ड , नरेश कुमार शाद अवार्ड और हिन्दुस्तान से बाहर की भी बहुत सी अदबी संस्थाओं ने इन्हें अवार्ड से नवाज़ा है। हसन काज़मी की ग़ज़लों को हरिहरन, तलत अज़ीज़ और जगजीत सिंह ने अपनी आवाज़ दी है ,जिन दिनों जगजीत साहब के बेटे का इंतकाल हुआ था उन दिनों जगजीत साहब हसन काज़मी की ये ग़ज़ल बहुत गाते भी थे और तन्हाई में गुनगुनाते भी थे।

कोई निशान कोई नक़्शे - पां नहीं मिलता

वो आस पास है लेकिन पता नहीं मिलता

ख़बर परोसने वालों के लिए किसी भी चीज़ को सुर्खी बना देना कोई मुश्किल काम नहीं होता पर हसन काज़मी सुर्खी का इस्तेमाल सिर्फ ग़ज़ल के लबों पे लगाने के लिए करते हैं। हालांकि दो कश्तियों पे सफ़र करना आसान नहीं है पर हसन काज़मी ने मीडिया और शाइरी दोनों के साथ वफ़ा की है। हसन काज़मी नाम की किताब पढ़ने के बाद लगता है की मीडिया को अभी ऐसी और किताबों की ज़रूरत है। ख़बर को सनसनी बनाने वालों के बीच रह कर भी अपने अन्दर के शाइर को ज़िंदा रखना, अपने हस्सास को ज़िंदा रखना एक ऐसा दुश्वार्तरीन काम है जिसे सलाम करने को दिल करता है। हसन काज़मी ने टी. वी के ज़रिये ग़ज़ल को वहाँ की भी सैर करवाई है जहां ग़ज़ल कभी पहुँचने की सोच भी नहीं सकती थी इसके लिए ग़ज़ल तो क्या पूरा अदब हसन काज़मी का एहसानमंद रहेगा। आख़िर में इसी दुआ के साथ कि हसन काज़मी मीडिया और शाइरी दोनों की अपनी अलग-अलग ज़िम्मेदारियों के साथ यूँ ही इंसाफ़ करते रहें। ..आमीन।

गाँव लौटे शहर से तो सादगी अच्छी लगी

हमको मिट्टी के दिये की रौशनी अच्छी लगी

बांसी रोटी सेक कर जब नाश्ते में माँ ने दी

हर अमीरी से हमें ये मुफ़लिसी अच्छी लगी

दे पाई बाल बच्चों को जो रोटी क्या हुआ

सुनने वालों को तो मेरी शायरी अच्छी लगी

--

विजेंद्र शर्मा

विजेंद्र शर्मा

vijendra.vijen@gmail.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4086,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3040,कहानी,2274,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,105,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1267,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,327,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2011,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,713,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,801,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,89,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,209,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: एक शख्सियत….....हसन काज़मी : विजेंद्र शर्मा का आलेख
एक शख्सियत….....हसन काज़मी : विजेंद्र शर्मा का आलेख
http://lh5.ggpht.com/-Fgp09CFONRo/T5pPxuPYiRI/AAAAAAAALlM/1lOHFWb7NIA/clip_image002%25255B4%25255D%25255B2%25255D.jpg?imgmax=800
http://lh5.ggpht.com/-Fgp09CFONRo/T5pPxuPYiRI/AAAAAAAALlM/1lOHFWb7NIA/s72-c/clip_image002%25255B4%25255D%25255B2%25255D.jpg?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2012/04/blog-post_3622.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2012/04/blog-post_3622.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ