रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

रजनीश कान्त की कविता - दीपावली को खास बनायें

दीपावली को खास बनायें

image

एक रावण के वध करने पर
राम की हुई थी जय जयकार
दीपों और पटाखों से
अयोध्या हुआ था गुलज़ार
राम की जीत पर
अयोध्या में
खुशियाँ मनी
पटाखे फूटे जोरदार
लेकिन
आज तो हर कदम पर
रावणों की है भरमार
रास्तों पर बैठे हैं
मासूमों की इज्ज़त
करने को तार -तार
कुछ तो हैं
ऐसे दरिन्दे
जो गर्भ में ही
मासूम बच्चियों का
कर रहे हैं क़त्ल
महंगाई का हर ओर
बज रहा है डंका
घोटालेबाजों का
देशभर में
हो रहा है आज बुलंद झंडा
दीपावली में खुशियाँ मनाएं
मिठाइयाँ खाएं
और जमकर फोड़े पटाखा
लेकिन, ये भी याद रखें
इज्ज़त के दरिंदों को भी
करना है खात्मा
महंगाई डायन को भी
है जलाना
भ्रष्टाचारियों पर भी
करना है प्रहार
इस दीपावली में
कर दो रावणों पर वार
ताकि
खास बन जाये दीपों
का यह त्यौहार


                रजनीश कान्त
rajanishk35@gmail.com

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.