नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

चंद्रेश कुमार छतलानी की कविता - वो तो मेरे साथ है

चंद्रेश कुमार छतलानी


वो तो मेरे साथ है

हो न हो कोई संग मेरे,

वो तो मेरे साथ है !

हर दुःख मुझसे दूर रहे,

सर पे जो उसका हाथ है !

ना कोई उंचा ना कोई नीचा,

ना कोई उससे जुदा है !

जो कुछ मेरा सब उसका है,

वो ईश्वर वो खुदा है !

आकाश धरती जिसमे बसे हैं,

निशब्द वो निराकार है !

हो न हो कोई संग मेरे......

डर कोई भी छू ना पाए,

मन में उसकी अरदास है!

प्रार्थना में जो बसता है,

सुख दुःख जिसके दास हैं!!

प्रेम जिसकी आँखे हैं और,

मीठे बोल दो हाथ हैं!

हो न हो कोई संग मेरे......

धन्यवाद |

 

चंद्रेश कुमार छतलानी, उदयपुर (राजस्थान)

http://chandreshkumar.wetpaint.com

chandresh.chhatlani@gmail.com

--
Regards,
Chandresh Kumar Chhatlani
+91 99285 44749
http://chandreshkumar.wetpaint.com

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.