370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

दुर्गेश ओझा की कविता इज्जत की रखो इज्जत

image

एक निर्दोष परिन्दे को कुचल रहे थे छः वहशी दरिन्दे

बहुत हुआ अब तो उठनी चाहिए हम सबकी नींदें

बस की खिड़की पर नहीं, नराधमों पर लगे थे क्रूरता के पर्दे

कहेने को तो वो जीवित, पर वास्तव में है ये सब बदमाश मुर्दे

बस में नहीं, बलात्कारियों के अंदर जमा था घनघोर अँधेरा

हवस मिटाने नराधमों ने भोली लड़की को बड़ी निर्दयता से घेरा

हर दामिनी हैं, हमारे घर की ही वो सदस्य, उठनी चाहिए अंदर से चीख

कड़ी सज़ा,अवगणना,फटकार द्वारा हेवानों को मिलनी चाहिए कड़ी सीख

- - - - - - o o o o o o o - - - - - -

वेदनाकी कविता- ‘इज्जतकी रखो इज्जत’ – (दामिनी पर दिल्हीमें हुइ ज्यादतीके उपलक्षमे.) रचनाकार – दुर्गेश ओझा १ जलाराम नगर, नरसंग टेकरी,पोरबंदर ३६०५७५ गुजरात इ-मेल –durgeshoza@yahoo.co.in

कविता 6027805526281984043

एक टिप्पणी भेजें

  1. दुर्गेश जी, बहुत ही सही फ़रमाया आपने. ऐसे दरिंदों को तो मौत की सजा भी कम है |शंकर लाल

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय शंकरजी,टिपण्णीके लिए धन्यवाद,में कहानी और कविता लिखता हू. दिलको छू जाये,कला और अच्छा संदेश हो तो कहानी या गीत जिवंगित बन जाता है. धन्यवाद आपका और रचनाकारका.

      हटाएं
    2. प्रिय शंकरजी, धन्यवाद टिप्पणीके लिए. में कहानी और गीत लिखता हू. कला भाव और संदेश वाला .दिलको छू लेनेवाला लिखनेमे मजा आता आता है. आपका और रचनाकारका धन्यवाद.

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव