रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

प्रतिभा शुक्ला की कविता - यादें

clip_image002

उनकी यादों को सीने से लगाये
लम्हा -लम्हा समेटते
दिन दोपहर शाम गुजर जाती
यादे  है कि मचल पड़ती
नींद में भी पुराने खंडहर की स्मृतियों  में
जाने को जहां कभी दो स्नेहातुर आंखों ने
घर बसाने का सपना देखा था
जानना चाहती है कि
मिलने से बिछुड़़ने तक की प्रकिया में
ऎसा क्या था जो आज भी जोड़े रखा है
दोनों को
मन आज भी भाग जाता
अकेले पाकर या कभी सभी  के बीच से
तलाश करती अपने पुराने दिन
पीले पत्तो के बीच
अटखेलियां करती दो आंखे
रिमझिम बूंदों के बीच
बजती पैजनी
और ख़ामोशी में अचानक
खिलखिला कर दौड़ पड़ती वह
और फिर किसी आशंका से काँप जाती
लिपट पड़ती सुरक्षा के लिए
उन बांहों में जो बचा सकता है उसे
आने वाले उन भयानक हवाओं से
जिसने शाख से पत्तों को
अलग करने में कोई मुश्किल नहीं होती।
प्रतिभा शुक्ला

2 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.