370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

राजीव आनंद की कविता - इंडिया औ' भारत : गणतंत्र दिवस पर विशेष

image

इंडिया औ' भारत : गणतंत्र दिवस पर विशेष

दस करोड़ के बंगले में

कई इंडिया में रहते हैं !

आधी आबादी भारत की

इंदिरा आवास को तरसते हैं !

इंडिया के कई लोग केक औ' दूध

बिठा कर कार में कुत्‍ते को खिलाते हैं !

भारत में रहने वाले लाखों बच्‍चे

चांद को देखकर रोटी-रोटी चिल्‍लाते हैं !


पूरा शहर पी ले इतना पानी इंडिया में

हर रोज होता है बर्बाद रणवास में!

एक परिवार के पीने भर पानी

मयस्‍सर नहीं भारत के इंदिरा आवास में !

हिटरों औ' गिलाफों का ढेर लगा

इंडिया के कई बंगले औ' आवासों में !

फटे बोरों में लिपटकर ठिठुरता

मर रहा भारतीय सपूत फुटपाथों में !

 

हर वर्ष गणतंत्र दिवस

मनाने का है क्‍या अर्थ ?

गर बढ़ती जाती है

असमानता की खाई हर वर्ष !

सही अर्थों में गर मनाना है

भारत में गणतंत्र दिवस !

इंडिया औ' भारत का यह भेद

हर हाल में मिटाने को हम सब हैं विवश !

--

राजीव आनंद

प्रोफेसर कॉलोनी, न्‍यू बरगंड़ा

गिरिडीह, झारखंड़ 815301

मो. 9471765417

कविता 8132097638753360229

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव